कांकेर

अन्याय के विरोध में शांतिपूर्ण जनआंदोलन होता है सफल- शिशुपाल
20-Nov-2021 9:47 PM (46)
अन्याय के विरोध में शांतिपूर्ण जनआंदोलन होता है सफल- शिशुपाल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कांकेर, 20 नवंबर। केन्द्र की भाजपा सरकार के द्वारा असंवैधानिक तरीके से लोकसभा में बिना चर्चा किये किसान विरोधी तीन काले कानून बनाया गया था, उसे किसानों के लगातार आन्दोलन के सामने झुकना पड़ा और प्रकाश पर्व के दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उक्त कानून वापस लेने की घोषणा की है। संसदीय सचिव व कांकेर विधायक शिशुपाल शोरी ने उक्त बातें कही।

तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के उपरांत आयोजित प्रेसवार्ता में श्री शोरी ने केन्द्र सरकार के इस निर्णय को देश की जनता और अन्नदाताओं की जीत बताया। उन्होंने कहा कि प्रजातंत्र में किसी भी अन्याय के विरोध में किया जाने वाला शांतिपूर्ण जनआंदोलन जरूर सफल होता है और अन्यायी शासक को झुकना पड़ता है।

इस संबंध में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने इन कानूनों के खिलाफ न सिर्फ किसानों के आंदोलन का समर्थन किया था, कांग्रेस पार्टी ने राहुल गांधी के नेतृत्व में देशभर इन काले कानूनों का विरोध किया। राहुल गांधी ने कहा था मोदी सरकार से कि एक दिन इस कानून को वापस लेने बाध्य होना पड़ेगा क्योंकि यह कानून देश के किसानों के हितों के खिलाफ है।

अंतत: केंद्र ने एक साल से अधिक समय की हठधर्मिता के बाद कानून को वापस लेने की मंशा से यह स्पष्ट होता है कि केन्द्र की मोदी सरकार किसानों के सामने झुक गयी और अपने मनसूबों पर कामयाब नहीं हो पाये। इस प्रकार इस पूरे आन्दोलन से भाजपा का किसान विरोधी चेहरा भी सामने आया है। एक सवाल कि यह तो किसानों का मुद्दा था  कांग्रेस क्यों इसका श्रेय लूट रही है। इस पर श्री शोरी ने कहा कि किसानों की खुशी में हम शामिल हैं।
 
प्रदेश किसान कांग्रेस उपाध्यक्ष जनकनंदन कश्यप ने कहा कि जिन किसानों को आतंकवादी, खालिस्तानी समर्थक न जाने क्या क्या कहा गया, अंतत: उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के सामने मोदी सरकार को झुकना पड़ गया।
 
इन काले कानूनों को पहले ही वापस ले लेते तो इन कानूनों के विरोध के कारण चलाये जा रहे आंदोलन में देशभर में 600 से अधिक किसानों की जानें नहीं जाती। उन्होंने आन्दोलन के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले किसानों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष सुभद्रा सलाम ने कहा कि जिस कानून की विसंगतियों और दुष्प्रभाव को समझने में किसानों और देश की जनता को तीन घण्टे भी नहीं लगे उन काले कानूनों के बुरे प्रभावों को समझने में मोदी सरकार को एक साल से भी अधिक समय लग गया। अब देश की जनता एवं किसान भाजपा के किसान विरोधी चेहरा को पूरी तरफ समझ गयी है।

 पत्रकारवार्ता के दौरान जिला कांग्रेस महामंत्री सुनील गोस्वामी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पुरूषोत्तम पाटिल, जनपद सदस्य राजेश भास्कर, महेन्द्र यादव, गफ्फार मेमन, राघवेन्द्र राजपूत सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के पदाधिकारी उपस्थित थे।

अन्य पोस्ट

Comments