बालोद

अंतरराज्यीय गांजा तस्करी, 4 बंदी, 2 फरार
25-Nov-2021 3:18 PM (42)
अंतरराज्यीय गांजा तस्करी, 4 बंदी, 2 फरार

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

 

बालोद, 25 नवंबर। अंतरराज्यीय गांजा तस्करी के मामले में साईबर सेल टीम बालोद एवं थाना गुरूर ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि आरोपी ओएलएक्स के माध्यम से ऑनलाईन खरीदे वाहन से तस्करी कर रहे थे। वे ओडिशा से गांजा खरीदकर भिलाई एवं गाजियाबाद एनसीआर यू.पी.में खपत करते थे। पुलिस से बचने के लिए फर्जी सिम का प्रयोग करते थे। आरोपी दिल्ली सहित मांडला, दुर्ग के अंजोरा एवं केशकाल से गांजा तस्करी मामले में पूर्व में जेल जा चुके हैं।  गिरोह में शामिल सदस्यों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी जाती थी।  

पुलिस के अनुसार 16 नवंबर को टोल प्लाजा के पास एनएच-30 रोड जगतरा पुलिस चौकी पुरूर थाना गुरूर द्वारा एम.सी.पी. लगाकर वाहन चेकिंग के दौरान वाहन क्रमांक सी.जी.04 एच.ए.9097 फोर्ड फ्यूजन वाहन में अवैध मादक पदार्थ गांजा 22 किलो 500 ग्राम प्लास्टिक की बोरी में भरे हुए कुल कीमती 2,25,000 रू जब्त किया गया था। मौके से चेकिंग के दौरान आरोपी फरार हो गए थे। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही थी।

आरोपियों की तलाश हेतु पुलिस अधीक्षक सदानंद कुमार द्वारा प्रभारी साईबर सेल बालोद निरीक्षक रोहित मालेकर के नेतृत्व में एक विशेष  टीम तैयार किया गया। टीम द्वारा वाहन घटना में प्रयुक्त वाहन के दस्तावेज एवं तकनीकी विश्लेषण के आधार पर गांजा तस्करी के मामले में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिसमें भिलाई के जितेन्द्र सिरमोर निवासी सेक्टर 07, थानेश्वर उर्फ राजा विश्वकर्मा सेक्टर 07 भिलाई एवं अर्जुन मंडल, सनातन विश्वास दोनों निवासी कांकेर शामिल हंै।

आरोपियों ने बताया कि ओडिशाा के मलकानगिरी के पास कदमगुड़ा क्षेत्र से विगत वर्षों से गांजा खरीदकर अवैध परिवहन कर भिलाई, एम.पी. के मण्डला एवं एनसीआर दिल्ली एवं गाजियाबाद में खपाई जाती है। आरोपियों द्वारा अवैध रूप से गांजा परिवहन के लिए ओ.एल.एक्स के माध्यम से वाहन क्रमांक सी.जी. 04 एच.ए. 9097 को खरीदकर उसे अवैध परिवहन में प्रयुक्त किया गया। दूसरे व्यक्तियों के नाम से जारी किए गए सीम कार्ड का प्रयोग आरोपी करते थे। तस्करी के लिए प्राय: 2 वाहनों का इस्तेमाल किया जाता था। एक वाहन का प्रयोग पेट्रांलिंग के लिए रोड क्लीयरेंस के लिए किया जाता था, जबकि दूसरे वाहन में गांजा रखकर मोबाईल के माध्यम से रोड क्लीयरेंस की जानकारी लेकर ही आगे बढ़ाया जाता था।

प्रकरण में गिरफ्तार आरोपी सनातन विश्वास से घटना में पेट्रोलिंग के लिए प्रयुक्त कार को जब्त किया गया है।

अन्य पोस्ट

Comments