कोरिया

42 हाथियों की खडग़वां वन परिक्षेत्र में मौजूदगी
25-Nov-2021 7:25 PM (89)
42 हाथियों की खडग़वां वन परिक्षेत्र में मौजूदगी

फसलें रौंदी, मकान तोड़े, रतजगा कर रहे ग्रामीण

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर (कोरिया) 25 नवम्बर।
कोरिया जिले के हाथी प्रभावित वन परिक्षेत्र खडग़वां में 42 सदस्यीय हाथियों का दल विचरण कर रहा है। जिससे प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीण रतजगा कर रहे है। हालांकि वन विभाग की टीम हाथियों की आवाजाही पर नजर बनाये हुए है और कोशिश की जा रही है कि रहवासी क्षेत्र में हाथियों का दल प्रवेश नहीं कर पाये लेकिन कई ग्रामीण क्षेत्र के किनारे तक हाथियों का दल पहुंच रहा है जिसे लेकर लोगों में डर का माहौल बना हुआ है।

ंमिली जानकारी के अनुसार 25 नवम्बर की स्थिति में हाथियों का दल वन परिक्षेत्र खडग़वां के बीट बेलबहरा के कक्ष क्रमांक 598 क्षेत्र में विचरण करते देखे गये। इस क्षेत्र के कारीमाटी नामक जंगल क्षेत्र में हाथियों की मौजूदगी बनी हुई है। इस क्षेत्र से हाथियों के दल को मरवाही या मनेंद्रगढ़ वन मण्डल क्षेत्र में जाने की संभावना वन विभाग लगा रहा है।

उल्लेखनीय है कि बेलबहरा व कोडा बीट क्षेत्र में बीते तीन चार दिनों से 42 सदस्यीय हाथियों का दल घुम रहा है जो दो दलों में बंटकर घूम रहे हैं। जिसके कारण क्षेत्र के लोग दिन के साथ रात में भी हाथियों से सतर्क होकर रह रहे हैं। प्रभावित क्षेत्र के लोग रात में भी चैन की नींद नहीं सो पा रहे हैं। इन क्षेत्रों के लोगों का कहना है कि कब किसी गॉव में हाथी चला जाये कोई भरोसा नही उन्हें वन विभाग पर भी भरोसा नही है जिस कारण कई ग्रामीण मशाल जलाकर रात काट रहे हैं। अपनी जांन के साथ ग्रामीणों केा अपने फसल केा लेकर भी चिंता सताते रहती हैै।

वन परिक्षेत्र खडगवां के बेलबहरा बीट अंतर्गत एक गांव में हाथियों के दल द्वारा 24 नवम्बर को एक ग्रामीण के स्कूटी को पटकर कर नुकसान पहुंचाया गया। इस दिन किसी भी क्षेत्र में फसल नुकसान की जानकारी नहीं है लेकिन इसके पूर्व क्षेत्र के 15 किसानों के खड़ी व कटी फसल केा हाथियों के दल द्वारा नुकसान पहुंचाया गया तथा क्षेत्र में दो ग्रामीणों के घर को तोड़े जाने की भी खबर है।  

डर-डर कर कर रहे कटाई व मिसाई
हाथी प्रभावित खडग़वॉ वन परिक्षेत्र के कोडा व बेलबहरा बीट क्षेत्र अंतर्गत कई गॉवों के लोग हाथियों के डर के बीच में अपने खेतों से धान की कटाई कर खलिहानों तक पहुंचा रहे हैं, वही खलिहानों में कटाई कर रखे गये धान की मिसाई का भी डर के साये में करते हुए अनाज को घर में सुरक्षित रख रहे हैं।
 

अन्य पोस्ट

Comments