रायपुर

15 दैवेभो कर्मियों की सेवाएं खत्म
27-Nov-2021 6:07 PM (52)
15 दैवेभो कर्मियों की सेवाएं खत्म

1 तक आदेश वापस न होने पर मिशन संचालक का घेराव करेगें कर्मचारी

 ‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 27 नवम्बर। छत्तीसगढ़ के छत्तीसगढिय़ा मुख्यमंत्री भूपेश बधेल द्वारा प्रदेश के अनियमित कर्मचारियों, दैनिक वेतन भोगी, कलेक्टर दर पर कार्यरत अल्प वेतन भोगी कर्मचारियों के नियमितिकरण करने की दिशा में भागीरथी प्रयास कर रहे है। किंतु लोक स्वास्थ यॉत्रिकी विभाग के अधीन जल जीवन मिशन योजना नीर भवन रायपुर के कर्मचारियों को नियमित करने की बजाय 14 कलेक्टर दर पर कार्यरत् दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी गई है। इनके बदले प्लेसमेंट के माध्यम से अपने साला-साली की नियुक्ति रायपुर व दुर्ग में की गई है। छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ ने जल मिशन योजना में मुख्यमंत्री की भावना के विपरित किए जा रहे कृत्य की निंदा करते हुए व्यापक भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।

संघ के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार झा एवं जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खॉन ने बताया है कि प्रदेश के मुखिया नियमितिकरण का आश्वासन देकर सत्तासीन हुए है तथा वे इस दिशा में प्रयास भी कर रहे है। किंतु पूर्ववर्ती सरकार के कुछ चाटुकार अधिकारी योजनाबद्व तरीके से छत्तीसगढिय़ा सरकार को बदनाम करने में तुले हुए है।

लोक स्वास्थ यॉत्रिकी विभाग के अधीन जल जीवन योजना का संचालन केन्द्र व राज्य सरकार की महती योजना है, जिसमें 5 सौ करोड़ केन्द्र सरकार व 5 सौ करोड़ राज्य सरकार के द्वारा व्यय की जाती है।

अधिकारियों ने प्लेसमेंट के भर्ती कर लाखों रूपये बेरोजगारों से ऐंठे है। ऐसे अधिकारी अपना स्थांनातरण कराकर सुरक्षित हो गए है। मिशन के अधिकारी 6 माह से अधिक कलेक्टर दर पर कार्य कर चुके मात्र 10,810/-रू. में अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे थे। इनकी सेवाएं समापत करने कोई नोटिस व आदेश जारी नहीं किया गया है, अपितु कार्य पर आने हेतु मौखिक रूप में आदेशित किया गया है।

अधिकारियों ने जल मिशन में सुरक्षा गार्ड लोगों को आदेशित कर ताला लगावा दिया था कि इन कर्मचारियसों को प्रवेश न दिया जाए। मिशन में 6 माह से कार्यरत् इन छत्तीसगढिय़ों के साथ तालीबानी जैसा व्यवहार किया गया है। यदि 1 दिसंबर तक इनकी सेवाएं वापस बहाल नहीं की जाती है, तो मिशन कार्यालय का घेराव किया जाएगा।

आज सेवामुक्त हुए इन कर्मचारियों ने कलेक्टोरेट गार्डन में नारेबाजी कर प्रदेशाअध्यक्ष विजय कुमार झा, जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खॉन, कार्यकारी अध्यक्ष अजय तिवारी, महामंत्री उमेश मुदलयिार, संभागीय अध्यक्ष संजय शर्मा, प्रांतीय सचिव सुरेन्द्र त्रिपाठी, विमलचंद्र कुण्डू, संभागीय उपाध्यक्ष आलोक जाधव, संयुक्त अनियमित कर्मचारी संध प्रदेश अध्यक्ष बजरंग मिश्रा, के नेतृत्व में प्रदर्शन कर कलेक्टर, मुख्य अभियंता, मिशन संचालक, पुलिस अधीक्षक आदि को ज्ञापन सौपा।

कर्मचारी नेताओं ने सत्तासीन होने के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बधेल, स्वास्थ मंत्री टीएस सिहदेव द्वारा अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने संबंधी चुनावी धोषणा पत्र का पालन करने व दोषी व भ्रष्ट अधिकारियों को बस्तर नक्सली क्षेत्र में पदस्थ करने की मांग की है। सेवामुक्त दानवीर साहू, वैभव कुमार, प्रवीण रजवाड़े, संजीव चैहान, कांशी साहू, भोजराज वर्मा, दुलीचंद महानंद विद्या चैबे, नेहा बाध, वेद सिन्हा आदि ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया।

अन्य पोस्ट

Comments