सरगुजा

तीन नए सहित 41 उपार्जन केंद्रों में होगी धान खरीदी
29-Nov-2021 4:45 PM (42)
तीन नए सहित 41 उपार्जन केंद्रों में होगी धान खरीदी

इस वर्ष 25 हजार टन अधिक धान उपार्जन का अनुमान

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अम्बिकापुर, 29 नवम्बर।
खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य में धान खरीदी हेतु जिले में तीन नए खरीदी केंद्र स्वीकृत किये गए है जिससे इस  वर्ष 41 खरीदी केंद्रों में धान की खरीदी होगी। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 25 हजार 333 टन अधिक धान उपार्जन का अनुमान है। पिछले वर्ष 181108 मीट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी, जबकि इस बार 2 लाख 6645 मीट्रिक टन उपार्जन का अनुमानित लक्ष्य है ।

कलेक्टर संजीव कुमार झा के मार्गदर्शन में जिले में 1 दिसम्बर 2021 से धान खरीदी की तैयारी पुराने केंद्रों में पूरी कर ली गई है। तीन नए केंद्रों में युद्धस्तर पर तैयारी जारी है। खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 के लिए धान कॉमन का समर्थन मूल्य 1940 रुपये प्रति क्विंटल, धान ग्रेड-ए का समर्थन मूल्य 1960 रुपये प्रति क्विंटल तथा मक्के का समर्थन मूल्य 1870 रुपये प्रति क्ंिवटल निर्धारित किया गया है।  किसानों से धान की नगद व लिकिंग सहित खरीदी 1 दिसम्बर 2021 से 31 जनवरी 2022 तक तथा मक्का की खरीदी 1 दिसम्बर 2021 से 28 फरवरी 2022 तक की जाएगी। धान खरीदी की अधिकतम सीमा 15 क्ंिवटल प्रति एकड़ तथा मक्का खरीदी की अधिकतम सीमा 10 क्ंिवटल प्रति एकड़ लिकिंग सहित निर्धारित किया गया है।

धान खरीदी केन्द्रों में धान क्रय के समय नमी 17 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए। खरीफ वर्ष 2021-22 हेतु किसानों से प्राप्त पुराने जूट बारदानों का दर 18 रुपये प्रति नग निर्धारित किया गया है। मक्का की खरीदी पुराने बारदानों में ही की जाएगी। बारदाने में स्टेंसिल लगाने, स्टेकिंग करने, रिकार्ड बनाए रखने, क्लेम करने का कार्य विगत वर्ष की भांति उपार्जन एजेंसियों यथा समिति, मार्कफेड एवं चावल उपार्जन एजेंसी के द्वारा किया जाएगा।

समितियों एवं उनके कर्मचारियों को इन्सेंटिव के रुप में 5 रुपये प्रति क्ंिवटल प्रोत्साहन राशि 2.50 रुपये समिति हेतु एवं 2.50 रुपये खरीदी कार्य में नियोजित कर्मचारियों के लिए प्रदान किया जाएगा। धान उपार्जन का कार्य सहकारी समितियों के माध्यम से ही किया जाएगा। किसानों को धान एवं मक्का विक्रय की राशि का भुगतान डिजिटल मोड से उनके बैंक खाते में सीधा अंतरित किया जाएगा।
 

अन्य पोस्ट

Comments