महासमुन्द

अप्रत्याशित घटना से निपटने एनडीआरएफ टीम की मॉक ड्रिल
03-Dec-2021 4:59 PM (48)
अप्रत्याशित घटना से निपटने एनडीआरएफ टीम की मॉक ड्रिल

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 3 दिसंबर।
हैलो कंट्रोल रूम..हैलो कंट्रोल रूम...रायकेरा में एक मोटर बोट पलट गई है और बोट में सवार दो पर्यटक डूब रहे हैं, उन्हें तत्काल मदद की जरूरत है। इस सूचना के मिलते ही डूबने वालों को बचाने के लिए एनडीआरएफ  टीम के जवान अपनी मोटरबोट में डूबते लोगों को बचाने के लिए पहुंच गए। दोनों डूबते लोगों में से एक को बचाव दल ने लाइफ  जैकेट फेंक कर दिया, एक एनडीआरएफ  के जवान ने दूसरे पर्यटक को बचाने के लिए बोट से छलांग लगा दी और दोनों को सुरक्षित तालाब से बाहर निकालकर चिकित्सकीय सुविधा मुहैय्या कराई।

यह नजारा किसी घटना का नहीं बल्कि किसी अप्रत्याशित घटना से निपटने के लिए एनडीआरएफ  टीम द्वारा किए जा रहे मॉक ड्रिल का रहा। यह मॉक ड्रिल आजादी के अमृत महोत्सव के तहत देश के 75 ऐतिहासिक स्थलों पर किए जा रहे मॉक ड्रिल के तौर पर किया गया। जिसमें से एक स्थल महासमुंद जिले में स्थित प्रदेश की ऐतिहासिक नगरी सिरपुर का रायकेरा तालाब भी शामिल रहा। इस मॉक ड्रिल को देखने जिला प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारियों के साथ सिरपुर के लोग भी बड़ी संख्या में मौजूद थे। उपस्थित तमामजनों को एनडीआरएफ  की टीम ने आपदा से निपटने के लिए उठाए जाने वाले स्टेप्स के बारे में विस्तार से बताया।

इस एक्सरसाइज को थर्ड एनडीआरएफ  बटालियन, मंडलई कटक ओडिशा के अधिकारी राजेश साहू ने आयोजित कराया। जिले के अधिकारियों ने भी मॉक ड्रिल के माध्यम से आपदा की स्थिति में अधिकारियों व कर्मचारियों को अपनी जिम्मेदारियों से अवगत कराया, ताकि भविष्य में ऐसी किसी भी आपदा के समय जान.माल के नुकसान को कम किया जा सके।  उन्होंने कहा कि हमें आपदा प्रबंधन की शुरुआत स्वयं से करना होगा। उसके बाद लोगों को आपदा प्रबंधन के बारे में जागरूक करना होगा।

इस मौके पर अपर कलेक्टर ओपी कोसरिया, एसडीएम भागवत जायसवाल, डिप्टी कलेक्टर डा. नेहा कपूर, एसके टंडन के साथ अन्य उपस्थित थे।
 

अन्य पोस्ट

Comments