रायपुर

सिंहदेव की सीएम को लिखी चिट्ठी बंटवाने सरगुजा भाजपा तैयार नहीं
04-Dec-2022 6:28 PM
सिंहदेव की सीएम को लिखी चिट्ठी बंटवाने सरगुजा भाजपा तैयार नहीं

नाराज कार्यकर्ता प्रदेश नेतृत्व से बात करेंगे

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

रायपुर, 4 दिसंबर। भाजपा में सरकार के मंत्री टीएस सिंहदेव की चिट्ठी को पंचायतों तक पहुंचाने के फैसले पर गदर मच गया है। सरगुजा जिला भाजपा की बैठक में कई पदाधिकारियों ने इस पर कड़ी आपत्ति की है, और संभागीय प्रभारी को इस पर पुनर्विचार के लिए कहा गया है। बताया गया कि पार्टी नेतृत्व ने सिंहदेव की उस चिट्ठी को हर पंचायतों तक पहुंचाना चाहती है, जिसमें उन्होंने पीएम आवास योजना पर काम नहीं होने पर पंचायत विभाग छोडऩे का फैसला लिया था।

प्रदेश नेतृत्व प्रधानमंत्री आवास योजना पर काम नहीं होने का सबूत के तौर पर  चिट्ठी को गांव-गांव तक पहुंचाना चाहती है। इसके लिए सभी जिलों को बैठक कर निर्देशित भी किया गया है। मगर टीएस सिंहदेव के गृह जिले सरगुजा में प्रदेश नेतृत्व के फरमान पर विवाद खड़ा हो गया है। जिले के कई भाजपा नेता इससे सहमत नहीं है।

सूत्र बताते हैं कि दो दिन पहले जिले के लखनपुर के डैम के प्रांगण में बैठक हुई थी। इस बैठक में संभागीय प्रभारी ज्योतिनंद दुबे प्रमुखता से मौजूद थे। बैठक में सिंहदेव के पंचायत विभाग से खुद को अलग करने की चिट्ठी को पंचायतों में वितरित कराने पर भी चर्चा हुई। इस पर कई नेताओं ने असहमति जताई। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि चिट्ठी वितरित करने से सिंहदेव हीरो बन जाएंगे। सरगुजा में भाजपा को अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए सिंहदेव, और कांग्रेस के खिलाफ लड़ाई लडऩा जरूरी है।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में संभागीय प्रभारी दुबे ने कहा बताते हैं कि प्रदेश नेतृत्व ने चिट्ठी वितरित करने के लिए कहा है। इस फैसले को वो अपने स्तर पर नहीं बदल सकते हैं। पदाधिकारियों ने संभागीय प्रभारी को प्रदेश नेतृत्व से चर्चा करने की नसीहत दी है।

हालांकि ज्योतिनंद दुबे ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, गिरिराज सिंह, और पंचायत मंत्री के तौर पर सिंहदेव के पत्र को पंचायतों तक पहुंचाने पर चर्चा हुई थी। इससे केंद्र सरकार की योजनाओं की प्रामणिकता भी साबित हो सके। इसको लेकर सभी से सुझाव लिए गए थे।

उन्होंने आगे कहा कि सिंहदेव की चिट्ठी को लेकर आशंका थी कि कहीं सिंहदेव के प्रति सहानुभूति न उमड़ जाए। बहुत सारे विषयों में यह भी एक था। दुबे ने कहा कि सभी पत्रों को पंचायतों तक पहुंचाया जाएगा। इसको लेकर पार्टी के भीतर विवाद की स्थिति नहीं है।

चर्चा है कि कई पदाधिकारी इस सिलसिले में भानुप्रतापपुर उपचुनाव निपटने के बाद प्रदेश नेतृत्व से चर्चा करेंगे, और सिंहदेव की चिट्ठी बंटवाने के फैसले पर पुनर्विचार का आग्रह भी करेंगे।

उल्लेखनीय है कि सिंहदेव ने पंचायत विभाग छोड़ते समय सीएम को चिट्ठी लिखी थी, जिसमें उन्होंने योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं होने की बात कही थी। उन्होंने सीएम को संबोधित करते हुए लिखा था कि पीएम आवास योजना के अंतर्गत आवास विहीन लोगों को घर बनाकर दिया जाना था जिसके लिए मैंने कई आपसे चर्चा कर राशि आवंटन का अनुरोध किया लेकिन इस योजना में राशि उपलब्ध नहीं कराई जा सकी। इसलिए प्रदेश के 8 लाख लोगों के लिए आवास नहीं बनाए जा सके।

सीएम बघेल को लिखी चि_ी में टीएस सिंहदेव ने कहा, जनघोषणा पत्रों में किए वादों में पंचायत प्रतिनिधियों के अधिकारों को पूर्ण रूप से लागू करना भी है जिसके लिए मैंने आपसे कई बार चर्चा की और विभागीय तौर पर पहल की लेकिन यह निराशा के साथ कहना पड़ रहा है कि इस पर कोई सहमति नहीं बन पाई।

बहरहाल, चिट्ठी को लेकर विवाद शांत होने के आसार नहीं दिख रहे हैं।

अन्य पोस्ट

Comments

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news