राजनांदगांव

नफीस प्रणाली में 1622 संदेहियों का फिंगरप्रिंट अपलोड
10-Jun-2024 4:42 PM
नफीस प्रणाली में 1622 संदेहियों का फिंगरप्रिंट अपलोड

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 10 जून। फिंगरप्रिंट सर्च स्लिप नफीस प्रणाली में 1622 आरोपियों सहित गुंडा-बदमाश एवं संदेहियों के फिंगरप्रिंट अपलोड किए गए। फिंगरप्रिंट के माध्यम से आरोपियों को पकडऩे में सहयोग मिलेगा। 01 जनवरी 2024 से 7 जून 2024 तक 1622 आरोपियों एवं संदिग्धों का फिंगरप्रिंट ऑनलाइन डाटाबेस तैयार कर एनसीआरबी सर्वर में संग्रहण किया गया।

अलग-अलग थाना क्षेत्रों में निवासरत आपराधिक तत्वों को तस्दीक कर फिंगरप्रिंट ली गई। गिरफ्तार संदेहियों एवं निगरानी बदमाशों के दोनों हाथों की आदर्श अंगुली चिन्हपर्णी का फिंगरप्रिंट लिया गया।

पुलिस मुख्यालय नवा रायपुर के फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट अधिकारी द्वारा प्रशिक्षण दिया गया था। ऑनलाइन फिंगरप्रिंट मिलान कर त्वरित आरोपी के बारे में जानकारी मिलेगी। फिंगरप्रिंट मिलान कर साक्ष्य के आधार पर आरोपियों को सजा दिलाया जाएगा। जिले के समस्त थाना व चौकी के लगभग 257 अधिकारी-कर्मचारियों को फिंगरप्रिंट ऑनलाइन डाटाबेस तैयार करने का प्रशिक्षण दिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार अपराधों की रोकथाम, आपराधियों पर नकेल कसने व सुरक्षा व शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए एसपी मोहित गर्ग के निर्देशन पर एएसपी ऑप्स मुकेश ठाकुर, एएसपी राहुल देव शर्मा के मार्गदर्शन में डीसीआरबी शाखा के अधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा नफीस प्रणाली के माध्यम से जिले के समस्त थाना व चौकी में गिरफ्तार आरोपियों सहित गुंडा बदमाश, निगरानी बदमाश, संदेहियों पर विशेष अभियान चलाकर चेक कर उनकी दैनिक गतिविधि की जानकारी लेकर उनके फिंगरप्रिंट लेने निर्देशित किया गया।

01 जनवरी से 7 जून तक जिलेभर में अभियान चलाकर कुल 1622 लोगों के दोनों हाथों की आदर्श अंगुली चिन्हपर्णी लेकर फिंगरप्रिंट ऑनलाइन डाटाबेस तैयार कर एनसीआरबी सर्वर में संग्रहण किया गया है।

इस योजना से विवेचना के दौरान गिरफ्तार आरोपियों एवं संदेहियों की पहचान आसानी से की जा सकती है। नफीस (राष्ट्रीय स्वचालित फिंगरप्रिंट पहचान प्रणाली) का महत्व एवं उपयोग के संबंध में जिले के समस्त थाना व चौकी के अधिकारी व कर्मचारी को पूर्व में एक दिवसीय कार्यालय का आयोजन कर प्रशिक्षण दिया गया था। जिसमें फिंगरप्रिंट के संबंध में विस्तार व तकनीकी पहलुओं के बारे में बताया गया था। यह अपराध विवेचना एवं आरोपियों की पहचान व गिरफ्तारी में अत्यंत लाभदायक है। साथ ही साक्ष्य के रूप में अपराधियों को सजा दिलाने में भी इसकी अहम भूमिका होगी।

अन्य पोस्ट

Comments

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news