राजनांदगांव

राजनांदगांव, कांग्रेस ने केंद्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के किसानों का चावल नहीं खरीदने के विरोध में आयोजित एक दिनी धरना में जमकर हमला बोला, कांग्रेसी नेताओं ने आरोपों की झड़ी लगा दी
राजनांदगांव, कांग्रेस ने केंद्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के किसानों का चावल नहीं खरीदने के विरोध में आयोजित एक दिनी धरना में जमकर हमला बोला, कांग्रेसी नेताओं ने आरोपों की झड़ी लगा दी
Date : 09-Nov-2019

कांग्रेस ने केंद्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के किसानों का चावल नहीं खरीदने के विरोध में आयोजित एक दिनी धरना में जमकर हमला बोला, कांग्रेसी नेताओं ने आरोपों की झड़ी लगा दी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
राजनांदगांव, 9 नवंबर।
कांग्रेस ने शनिवार को केंद्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के किसानों का चावल नहीं खरीदने के विरोध में आयोजित एक दिनी धरना में जमकर हमला बोला। केंद्र सरकार पर जिलेभर के कांग्रेसी नेताओं ने आरोपों की झड़ी लगा दी।

 स्थानीय कलेक्टोरेट के सामने फ्लाई ओवर के नीचे आयोजित जिला स्तरीय धरना में कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि किसानों को प्रदेश सरकार द्वारा 2500 रुपए प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य पर धान खरीदी करने तथा बोनस दिए जाने से नाराज होकर केंद्र ने छत्तीसगढ़ सरकार का चावल नहीं खरीदने का निर्णय लिया। जिसका हर स्तर पर कांग्रेस सरकार द्वारा विरोध किया जाएगा।

 स्थानीय नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार की पूर्व में चल रही तमाम योजनाएं असफल हो गई है। उज्जवला गैस योजना का हाल बुरा है। वहीं छोटे व मंझोले व्यवसायियों की सुध नहीं ली जा रही है। केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए योजनाएं धरातल में मूर्त रूप नहीं ले सकी। देश में नौकरियां बड़े पैमाने पर खत्म हो रही है। जिससे बेरोजगारी बढ़ी है। अर्थव्यवस्था का हाल खराब है। कांग्रेसियों ने कहा कि  छत्तीसगढ़ सरकार के धान खरीदने के निर्णय को लेकर एक तरह से केंद्र सरकार ने राजनीतिक दुर्भावनावश चावल नहीं खरीदने का निर्णय लिया। 
धरना को जिलाध्यक्ष नवाज खान ने भी संबोधित किया। उन्होंने भी केंद्र सरकार के खिलाफ लड़ाई लडऩे  के लिए कांग्रेसियों को एकजुट होने की अपील की। धरना में शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलबीर सिंह छाबड़ा, पूर्व महापौर सुदेश देशमुख, पूर्व शहर अध्यक्ष जितेन्द्र मुदलियार, राजगामी संपदा अध्यक्ष विवेक वासनिक, पूर्व शहर अध्यक्ष दिनेश शर्मा, राजगामी संपदा के सदस्य रमेश खंडेलवाल, शहर महिला कांग्रेस अध्यक्ष हेमा देशमुख, रूपेश दुबे, प्रवीण मेश्राम,  मोतीलाल साहू, शशिकांत अवस्थी, कुतबुद्दीन सोलंकी, प्रशांत तिवारी,  पदम कोठारी, विपिन गोस्वामी, गोवर्धन देशमुख, राकेश जोशी, चेतन भानुशाली, शकील रिजवी, राजिक सोलंकी, विप्लव शर्मा समेत बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता व पदाधिकारी शामिल थे।

 

 

Related Post

Comments