राजनांदगांव

रेल मंत्री से सतत संवाद का नतीजा है सिकंदराबाद-रायपुर एक्सप्रेस और 500 करोड़ - पांडे
रेल मंत्री से सतत संवाद का नतीजा है सिकंदराबाद-रायपुर एक्सप्रेस और 500 करोड़ - पांडे
Date : 14-Feb-2020

रेल मंत्री से सतत संवाद का नतीजा है सिकंदराबाद-रायपुर एक्सप्रेस और 500 करोड़ - पांडे

छत्तीसगढ़ संवाददाता

राजनांदगांव, 14 फरवरी। सांसद संतोष पांडेय ने बताया कि जारी लोकसभा सत्र सहित पूर्व में रेल मंत्री पीयूष गोयल व डीआरएम नागपुर से सतत संपर्क कर क्षेत्र में रेल सुविधाएं बढ़ाने, गाडिय़ों के ठहराव तथा विस्तार के लिए पद ग्रहण करते ही सक्रिय हो गए थे। जिसमें दैनिक रेल यात्री संघ, रेलवे सलाहकार समिति के सदस्यों, रेल कर्मचारी कल्याण समिति व डोंगरगढ़ विकास मंच का भरपूर सहयोग रहा।

श्री पाण्डेय ने बताया कि 28 सितंबर 2019 को डीआरएम नागपुर में संसद सदस्यों की मंडल स्तर की बैठक आयोजित  की थी। जिसके लिए 23 सितंबर के पूर्व सुझाव तथा मांगें मंगाई गई थी। मेरे द्वारा पत्र क्रमांक 1035 दिनांक 9-9-2019 के माध्यम से रेलों के ठहराव, विस्तार तथा डोंगरगढ़ व राजनांदगांव में रेल सुविधा बढ़ाने के सुझाव दिए गए थे। उक्त तिथि के पूर्व मानसून लोकसभ सत्र के जुलाई माह में रेल मंत्री पीयूष गोयल से व्यक्तिगत मुलाकात कर हैदराबाद-रक्सौल गाड़ी नं. 17005-06, नांदेड-संतरागाछी गाड़ी नं. 12767-68, गांधीधाम-पुरी गाड़ी नं. 12993-94 का राजनांदगांव में ठहराव तथा दुर्ग से छूटने वाली साउथ विहार व सारनाथ एक्सप्रेस का विस्तार गोंदिया तक करने के लिए पत्र दिया था। जिसका जवाबी पत्र रेलमंत्री द्वारा भेजी गई है। वहीं डीआरएम नागपुर को भेजे गए पत्र में अंबिकापुर-दुर्ग, अमरकंटक एक्सप्रेस, बेतवा एक्सप्रेस, दुर्ग-नौतनवा, दुर्ग-अजमेर सहित अनेक रेलों के गोंदिया अथवा डोंगरगढ़ तक तथा पश्चिम दिशा से गोंदिया तक आने वाली रेलों के दुर्ग तक विस्तार की मांग रखी गई थी। इसके अतिरिक्त डोंगरगढ़-कवर्धा-कटघोरा हेतु स्वीकृत लाइन शीघ्र आरंभ करने के लिए अधिग्रहण का मुआवजा जो लोकसभा क्षेत्र के अछोली-बेलगांव के कृषको का है, के शीघ्र निराकरण का उल्लेख पत्र में किया गया है।

सांसद संतोष पांडेय के अनुसार हैदराबाद-रक्सौल के स्टॉपेज की मांग के कारण ही सिकंदराबाद-नागपुर 12771-72 को रायपुर तक विस्तार करने के साथ ही राजनांदगांव स्टॉपेज दिया गया है। जिसमे वे मरीजों व विद्यार्थियों को सीधे हैदराबाद तक सुविधा के लिए प्रतिबद्ध थे। मुआवजे व नौकरी के लिए डोंगरगढ़-कटघोरा भूमि अधिग्रहण से प्रभावित 50 से भी अधिक कृषकों से उन्होंने मुलाकात की थी। जिनकी परेशानी को उन्होंने जुलाई माह में ही मंत्री समक्ष रखा था। जिसका परिणाम है कि छत्तीसगढ़ रेल परियोजना के लिए मंत्रालय ने 500 करोड़ की स्वीकृत प्रदान की, वरन बिलासपुर से नागपुर के मध्य 160 किमी की गति की सेमी हाईस्पीड ट्रेन भी स्वीकृत की है। राजनांदगांव सहित छत्तीसगढ़ को प्राप्त सुविधाओं के लिए सांसद प्रधानमंत्री मोदी व रेलमंत्री का आभार जताते लंबित मांगों के लिए भी भविष्य मे तत्पर रहने की बात कही है।

Related Post

Comments