गरियाबंद

नवापारा-राजिम, कोरोना का कहर, हरी सब्जियों के दाम आसमान पर, मुफ्त में भी चिकन का लेनदार नहीं
नवापारा-राजिम, कोरोना का कहर, हरी सब्जियों के दाम आसमान पर, मुफ्त में भी चिकन का लेनदार नहीं
Date : 20-Mar-2020

कोरोना का कहर, हरी सब्जियों के दाम आसमान पर, मुफ्त में भी चिकन का लेनदार नहीं

छत्तीसगढ़ संवाददाता

नवापारा-राजिम, 20 मार्च। कोरोना वायरस का भय लोगों में इस कदर बैठ गया है कि चारों तरफ लोग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। इसके चलते मंदिर, न्यायालय, बाजारों और यात्री बसों में भी अब भीड़ कम दिखने लगी है। कोरोना वाइरस ने लोगों को ऐसा युग दिखा दिया है कि आज की स्थिति में बाजार में 50 रुपए किलो में बिकने वाली भाजियां दो सौ रुपए किलो तो 150 से 200 रुपए बिकने वाला चिकन 10 रुपए किलो में बिक रहा है। इसके बाद भी लोग कोरोना वाइरस के डर से चिकन खाने से हिचक रहे हैं।

गुरुवार-शुक्रवार को शहर के सब्जी बाजार में लोग भाजियों की कीमत सुनकर दंग रह गए। बाजार में 50 रुपए किलो में बिकने वाले भाजी, 200 रुपए किलो में बिकी तो वही 150 से 200 रुपए किलो में बिकने वाला चिकन 10 रुपए किलो में बिका। चर्चा है कि पोल्ट्री फार्म वाले मुफ्त में भी चिकन बांट रहे हैं।

सब्जी खरीदने बाजार पहुंची महिलाओं ने बताया कि ये कैसा दिन देखने को मिल रहा है। एक तरफ चिकन 10 रुपए किलो में मिल रहा है। वहीं भाजियों के दाम 200 रुपए किलो चढ़ गए हैं। जिस हिसाब से कोरोना वाइरस के कारण अलर्ट जारी हुआ है। उस हिसाब से हरी सब्जियों के दाम अभी कम होने का कोई अनुमान नहीं है।

गुरुवार को कोरोना वाइरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। जिसमें कोरोना वाइरस के संपर्क से पीडि़त या संदेही से दूर रहने सख्त हिदायत दी गई है। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा यह भी निर्देशित किया गया है कि इससे बचने के सभी संभावित उपाय अमल में लाया जाए। प्रशासन भीड़भाड़ वाले होटल, रेस्टोरेंट, बार को तो बंद करा रहे हैं, लेकिन देशी व अंग्रेजी शराब दुकानों में मेला लगा हुआ है।

कोरोना वायरस को लेकर प्रशासन सावधान

राजिम एसडीएम जीडी वाहिले एवं तहसीलदार ओपी वर्मा ने गुरुवार दोपहर बस स्टैंड पहुंचकर बस ऑपरेटरों को बताया कि बसों में सैनिटाइजर का प्रयोग करें और यात्रियों के हाथ धुलवाएं। लोगों से अपील की गई है कि कोई व्यक्ति बाहर से आ रहा है तो वे अपने निकट के अस्पतालों में प्रारंभिक जांच करा लें।

नगर का प्रसिद्ध एवं प्राचीन मंदिर श्रीराजीव लोचन का पश्चिम दिशा में मुख्य प्रवेश द्वार के गेट पर बुधवार से ताला लगा दिया गया है और पूर्व दिशा के प्रवेश द्वार के छोटे से गेट को खोला गया है। इसके कारण सीमित श्रद्धालु ही पहुंच रहे हैं और बाहर से श्रद्धालुओं का आना-जाना कम हो गया है। स्थानीय लोग ही दर्शन-पूजन कर जल्दी वापस लौट जाते हैं। इससे मंदिरों की चढ़ौत्री में भी कमी आई है। मंदिरों के आसपास पूजन सामग्री की दर्जनों दुकानें खुली हुई हैं, लेकिन श्रद्धालुओं के नहीं आने से दुकानों में सन्नाटा पसरा हुआ है। ग्राहकी नहीं होने से दुकानदार चिंतित हैं कि इस आर्थिक संकट से कैसे निकलेंगे।

पूजन सामग्री दुकान के विक्रेता राजू ठाकुर ने बताया कि कोरोना वायरस के भय से दर्शन-पूजन करने बाहर से लोग नहीं आ रहे हैं, जिससे बिक्री नहीं हो रही है। श्री राजीव लोचन मंदिर ट्रस्ट कमेटी के मैनेजर अभिषेक मिश्रा एवं मंदिर के सरवराकार भूषण सिंह ठाकुर ने बताया कि संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए 31 मार्च तक मंदिर का मुख्य प्रवेश द्वार बंद रहेगा। प्रवेश द्वार पर इस आशय को लिखित में चस्पा किया गया है।

कोर्ट में भी पेशी की तारीखें बढ़ी

मंदिर के साथ हाईकोर्ट बिलासपुर के आदेश पर व्यवहार न्यायालय एवं राजस्व न्यायालय में भी निर्देशों को चस्पा किया गया है तथा 31 मार्च तक की पेशी की तारीख बढ़ा देने की जानकारी मिली है। न्यायालय में पक्षकारों को भी कोर्ट के अंदर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। व्यवहार न्यायालय में गुरुवार को सिविल प्रकरण 10 एवं दांडिक प्रकरण 72 प्रस्तुत किए गए, जिनके 100 से अधिक पक्षकार न्यायालय में पहुंचे हुए थे। वे सभी न्यायालय के बाहर खड़े हुए थे। इन लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं दी गई। इनके वकील कोर्ट के अंदर जाकर पेशी की तारीख लिए। आवश्यक मामलों को छोडक़र शेष प्रकरणों में पेशी दे दी गई है। अधिवक्ता संघ के सचिव अनुशासन साहू ने कहा कि सभी वकील इस आदेश का पालन कर सहयोग कर रहे हैं। राजस्व न्यायालय में उक्त आदेश जारी हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते गरियाबंद और रायपुर दोनों जिला में धारा-144 लागू कर दी गई है। इसके साथ ही जिले में सभा, धरना, रैली, जुलूस, धार्मिक सांस्कृतिक एवं राजनितिक कार्यक्रम के आयोजन पर प्रतिबंध लग गया है।

Related Post

Comments