कांकेर

चारामा, सब्जी फसलों में कीट का प्रकोप, लॉकडाउन से खाद और दवाईयां नहीं मिल रही, हफ्ते में दो-तीन दिन कुछ घंटे खोलने की मांग
चारामा, सब्जी फसलों में कीट का प्रकोप, लॉकडाउन से खाद और दवाईयां नहीं मिल रही, हफ्ते में दो-तीन दिन कुछ घंटे खोलने की मांग
Date : 26-Mar-2020

सब्जी फसलों में कीट का प्रकोप, लॉकडाउन से खाद और दवाईयां नहीं मिल रही

हफ्ते में दो-तीन दिन कुछ घंटे खोलने की मांग

चारामा, 26 मार्च। कोरोना वायसर के चलते नगर की सभी दुकानें बंद है, कुछ शासकीय संस्थानों के अलावा बैंकों को आम जनता के लिए खोला गया है, वहीं इस लॉकडाउन की स्थिति में हर वर्ग को आर्थिक क्षति हो रही है। हाट बाजार खुले हैं, इसी हाट बाजार में बैठने वाले सब्जी विक्रेता अपनी फसलों केा लेकर चिंतित नजर आ रहे हंै।

सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि खेतों और बाडिय़ों में सब्जी लगी हुई है, खड़ी सब्जी फसलों में कीट का प्रकोप भी हो रहा है। बीते दिनों बेमौसम बारिश ने कई सब्जी की फसलों पर कीट का प्रकोप बढ़ा लिया है।  लॉकडाउन के चलते कृषि दुकानें बंद है। किसानो को उचित खाद और दवाईयां उपलब्ध नहीं हो पा रही है एवं शासन की उघानिकी विभाग मे वर्तमान मे सब्जियो के लिए केाई भी खाद या दवा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में सब्जी फसलों के नुकसान होने का अंदेशा है। सब्जी की फसल नुकसान होगी तो सब्जियों के दाम भी बढ़ेगे,जिसका नुकसान आम जनता केा भी उठाना पड़ेगा।

 सब्जी विक्रेताओ का कहना है कि शासन प्रशासन सब्जी किसानों के हित में प्रतिदिन या सप्ताह में दो-तीन दिन कुछ घंटे ही सही दवाई लेने हेतु कृषि दुकानों को खोले, ताकि किसानों की सब्जी की फसल केा खराब होने से बचाया जा सके।  शासकीय उद्यानिकी विभाग की ग्रामीण विस्तार अधिकारी मेघा ठाकुर ने बताया कि शासन की ओर से समय समय पर सब्जियों के लिए दवा का वितरण किया जाता है, जो कि वितरण पहले किया जा चुका है,वर्तमान में विभाग में कोई भी कीटनाशक दवा या खाद उपलब्ध नहीं है। किसान निजी कृषि दुकानों से कीट की दवा ले सकते हंै।

Related Post

Comments