राजनांदगांव

 नांदगांव में 3 माह में कोरोना के 5 सौ तक बढऩे की आशंका, स्वास्थ्य विभाग तैयारी में जुटा
नांदगांव में 3 माह में कोरोना के 5 सौ तक बढऩे की आशंका, स्वास्थ्य विभाग तैयारी में जुटा
23-May-2020

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 23 मई। राजनांदगांव जिले में विस्फोटक रूप ले रहे कोरोनाग्रस्त मरीजों की बढ़ती तादाद के बीच स्वास्थ्य अमले की जमीनी रिपोर्ट में अगले तीन-चार माह में कठिन चुनौती का सामना करना पड़ेगा। बताया जाता है कि जिस तरह से प्रदेश में कोरोनाग्रस्त मरीजों की संख्या तेजी बढ़ी है, उसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने राजनांदगांव में सर्वे के जरिए आंकलन जुटाना शुरू कर दिया है।

बताया जाता है कि अकेले राजनांदगांव जिले में आगामी 3-4 माह में कोरोना के 500 से अधिक मामले सामने आ सकते हंै। इसके पीछे महाराष्ट्र-गुजरात के हॉटस्पॉट शहरों से बड़े पैमाने में लौटे प्रवासी मजदूर एक मुख्य कारण माने जा रहे हैं। बताया जाता है कि बीते पांच दिन के भीतर राजनांदगांव जिले में कोरोनाग्रस्त मरीजों में मजूदर ही हैं। सभी मजदूर हाल ही में मुंबई-सूरत जैसे महानगरों से लौटे थे।

बताया जाता है कि अप्रवासी मजदूरों की घर वापसी की मुहिम के बाद राजनांदगांव जिले में बीते 10 दिन के भीतर करीब दो लाख से ज्यादा मजदूर झारखंड और ओडिशा के लिए गुजरे। इन मजदूरों में 30 फीसदी छत्तीसगढ़ के मजदूर हंै। बाघनदी बार्डर छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा चेकपोस्ट है। लिहाजा इस चेकपोस्ट के रास्ते मजदूरों का लौटने का सिलसिला चल रहा है। बताया जाता है कि लॉकडाउन के दौरान इन मजदूरों को हॉटस्पॉट शहरों में लंबा समय रहना पड़ गया। इस दौरान मजदूर कोरोनाग्रस्त मरीजों के संपर्क में रहे। दीगर प्रांत से वापसी के बाद घर लौटे मजदूरों में अब यह संक्रमण सामने आने लगा है।

मिली जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य अमले ने लगातार पॉजिटिव केस के सामने आने के बाद यह आंकलन लगाया है कि जुलाई और अगस्त के महीने में कोरोना एक बम की तरह विस्फोटक रूप में सामने आ सकता है। इस अनुमान के आधार पर राजनांदगांव जिले में स्वास्थ्य अमले ने तैयारी शुरू कर दी है। स्वास्थ्य विभाग को प्रारंभिक सर्वे में ही कोरोना के चरम में पहुंचने की भनक लग गई है। बताया जाता है कि कोरोनो से जंग लडऩे के लिए स्वास्थ्य अमले ने योजनाबद्ध तरीके से संक्रमण को रोकने के लिए अभियान भी छेड़ दिया है।

इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी ने ‘छत्तीसगढ़’ से चर्चा में कहा कि एम्स जैसी अन्य मेडिकल संस्थाओं ने पहले से ही चेतावनी जारी कर दी है। राजनांदगांव में आने वाले महीनों में कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी का अनुमान है। इस आधार पर विभाग तैयारी कर रहा है।

अन्य खबरें

Comments