महासमुन्द

ओडिशा से महासमुंद के रास्ते 3 वाहनों में 40 लाख की गांजा तस्करी
ओडिशा से महासमुंद के रास्ते 3 वाहनों में 40 लाख की गांजा तस्करी
01-Aug-2020 6:04 PM

दो नाबालिग समेत 6 पकड़ाए

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुंद, 1 अगस्त।
महासमुंद के रास्ते हो रहे 40 लाख के गांजे की तस्करी करते 6 लोगों को पकड़ा है। आरोपियों में दो नाबालिग भी शामिल हैं। इस खेप के साथ पुलिस को इस बात की जानकारी मिली है कि गांजे की यह खेप मूलत: कहां-कहां से आ रही है। तीनों वाहनों में पुलिस ने 400 किलो गांजा बरामद किया है। 

शनिवार दोपहर डेढ़ बजे आयोजित एक पत्रकार वार्ता में जिला पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर, एएसपी मेघा टेम्बुरकर, बागबाहरा एसडीओपी लितेश सिंह ने मामले का खुलासा किया। उनके मुताबिक बीती रात थाना प्रभारी बागबाहरा वाहन चेकिंग कर रहे थे कि एक कार वहां पहुंची। उसमें दो लोग कैलाश सेठी और एक नाबालिग बैठे थे। कार के भीतर पांच-पांच किलोग्राम के 10 पैकेट मिले जिसमें गांजा भरा हुआ था। ठीक इसके बाद वहां एक और संदिग्ध चारपहिया वाहन ओडिशा की ओर से तेज रफ्तार से पहुंची। उसे भी चेकिंग पाईंट पर रोका गया। जिसमें दो व्यक्ति रंजन खोरा बारनीपुर ओडिशा और एक नाबालिग सवार थे। वाहन की तलाशी लेने पर उसमें 5.5 किग्रा के 10 पैकेट में भरा वजनी 50 किग्रा अवैध गांजा डिक्की में रखा हुआ मिला।

इस वाहन में बैठे आरोपियों ने बताया कि वे भी आगे वाली कार के साथ-साथ हैं और उनके पीछे भी एक कार आने वाली है जिसमें भी गांजा भरा हुआ है। पूछताछ जारी थी कि एक पिकअप तेज रफ्तार में वहां से गुजरी। पुलिस ने उसका पीछा किया और महासमुन्द जिला मुख्यालय के पास खरोरा में डिवाइडर पर टकारने से वाहन रुकी। इसमें बैठे संतोष दोरा बारनीपुट ओडिशा, जयसिंह बाघ ओडिशा को गिरफ्तार किया गया। इस वाहन में मिर्च से भरी बोरियां थी जिसमें 15 सफेद प्लास्टिक बोरियों में 300 किलो गांजा भरा था।  

आरोपी संतोष दोरा ने पुलिस को जानकारी दी है कि पिकअप और बाकी दोनों कार में गांंजे को ओडिशा कोरापुट से दीगर प्रांत खपाने ले जा रहा था। सभी आरोपी आपस में दोस्त हैं। नाबालिगों को सिर्फ आते जाते वाहनों को देखने के लिए टीम में रखा गया है। तीनों प्रकरण में कुल 4 क्विंटल गांजा कीमती 40 लाख रुपए बरामद कर 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। 

पकड़े गए आरोपियों के मास्टर माइंड संतोष दौरा ने पुलिस को बताया है कि कोरामुरा, चित्रकुंडा और मलकानगिरी जगदलपुर-कोंटा इलाके से भारी तादात में गांजे की सप्ताई अन्य प्रांतों को की जाती है। हर बार ये रूट बदल बदल कर गांजे की तस्करी करते हैं। 
 

अन्य पोस्ट

Comments