बलरामपुर

7 नाबालिग व 8 बालिग मजदूरों को पुलिस ने दिगर प्रांतों से छुड़वाया, 2 हिरासत में
20-Sep-2020 9:19 PM 9
 7 नाबालिग व 8 बालिग मजदूरों को पुलिस ने दिगर प्रांतों से छुड़वाया, 2 हिरासत में

रामानुजगंज, 20 सितंबर। बंधुआ मजदूरी कराने ले गए सात नाबालिग व 8 बालिग मजदूरों को पुलिस ने दिगर प्रांतों से छुड़वाया। पुलिस ने मामले में गांव के दो लोगों के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कर हिरासत में ले लिया है।

बलरामपुर रामानुजगंज जिला के चुमरा से 10-12 नाबालिग बच्चों को काम कराने के नाम प्रलोभन देकर बनारस ले जाया गया था, जहां से बच्चों को हरियाणा दिल्ली गाजियाबाद मेरठ में बंधुआ मजदूरी कराई जा रही थी। इसकी सूचना रामानुजगंज थाने में दी गई जिसके बाद इसकी जानकारी पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू को दी गई, जिनके द्वारा दूसरे प्रदेशों में बच्चों को जाकर मजदूरी करवाई जाने की जानकारी पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी को दी। आईजी के निर्देश के बाद यहां से दूसरे ही दिन टीम रवाना कर दी गई जिनके द्वारा 7 नाबालिग बच्चों सहित आठ बालिका मजदूर को सकुशल वापस लाया गया जिसकी जानकारी पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने आज पत्रकार वार्ता के दौरान दी। 

इस संबंध में पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने बताया कि ग्राम सिमरा से 10-12 बच्चों के काम करने के बहाने बनारस ले जाए जाने की सूचना 10 सितंबर को प्राप्त हुई। जिसके बाद तत्काल विजय नगर चौकी प्रभारी विनोद पासवान एवं त्रिकुंडा थाना प्रभारी रजनीश सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर बच्चों की बरामदगी हेतु विशेष पुलिस बल 50-35 सीटर बस से टीम को भेजा गया। टीम ने दिल्ली,गुडग़ांव फरीदाबाद,गाजियाबाद,मेरठ एवं अन्य जगहों पर पतासाजी एवं छापेमारी कर कुल 7 नाबालिग बच्चों सहित आठ बालिक मजदूर बरामद कर वापस लाया गया। 

पुलिस ने ग्राम चुमरा के विचारण यादव एवं बंसी गुण जिनके द्वारा बच्चों को प्रलोभन देकर काम करने के लिए ले जाया गया था, उनके विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कर हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने कहा कि टीम में सम्मिलित सभी पुलिसकर्मियों को इनाम दिया जाएगा, जिन्होंने कोरेना संक्रमण काल की विपरीत परिस्थिति में अपने फर्ज का बखूबी निर्वहन किया।

10 दिन के मेहनत के बाद मिली सफलता-

पुलिस सूचना पर पहले बनारस गई परंतु पता चला कि सभी बच्चों को अलग-अलग जगह पर काम करने के लिए भेजा गया है जिसके बाद पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती थी कि सभी स्थानों से बच्चों को बरामद करें। पुलिस के द्वारा लगातार छापामारी करते हुए दिल्ली गुडग़ांव फरीदाबाद गाजियाबाद मेरठ एवं अन्य जगहों से बच्चों को बरामद किया।

एक राय हो भागने का नहीं करें प्रयास इसलिए सभी को अलग-अलग काम पर लगवाया

हरियाणा के दलाल के द्वारा पहले तो बच्चों के साथ मारपीट की गई वहीं सभी बच्चे एक राय होकर कहीं भागने का प्रयास ना करें इसलिए सभी को अलग-अलग काम पर लगाया गया। कुछ बच्चों को कंट्रक्शन काम में तो कुछ को क्रेशर में काम पर लगाया गया था।

पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने बताया कि शामली पाठ के दो बच्चों को जम्मू कश्मीर के पुलवामा ले जाया गया था जहां से उन्हें सकुशल वापस ले आया गया है।

अन्य पोस्ट

Comments