गरियाबंद

50 बर्खास्ती की निंदा, सामूहिक इस्तीफे की पेशकश
23-Sep-2020 7:15 PM 3
50 बर्खास्ती की निंदा, सामूहिक इस्तीफे की पेशकश

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजिम, 23 सितंबर।
एनएचएम प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर नियमितीकरण की मांग को लेकर फिंगेश्वर और राजिम ब्लॉक के 2 सौ संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी मंगलवार को चौथे दिन भी सीएचसी में नारेबाजी कर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर डटे रहे। इस दौरान सरकार द्वारा 50 कर्मचारियों की बर्खास्तगी की निंदा करते हुए प्रदेश के 13 हजार कर्मचारियों ने सामूहिक त्याग पत्र देने की पेशकश की है। 

इस अवसर पर एनएचएम संघ के बीपीएम सौरभ विरमानी ने आंदोलनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आंदोलन के हर कदम पर सामने खड़ा होकर हम साथ देंगे। ज्ञात हो कि कांग्रेस सरकार ने चुनावी जन घोषणा पत्र में प्रदेश के सभी अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने का वायदा किया था। सरकार बनने के करीब 2 साल बाद भी नियमितीकरण की कोई प्रक्रिया तक शुरू नहीं की हैं, जिसे लेकर रोष है। एनएचएम में कार्यरत प्रदेश के 13 हजार एवं गरियाबंद जिले से दो सौ कर्मियों की हड़ताल से प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह ठप हो गई हैं। प्राइवेट हॉस्पिटल का खर्चा वहन ना कर सकने वाली आम जनता इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हो रही है। खासकर पीएचसी, सीएचसी के कोविड सेंटर्स, जहां पर संविदा कर्मियों का पूरा अमला तैनात है। यहां कोरोना रोगी का चिह्नांकन करना, उनके सैंपल एकत्र करना, मैनेजमेंट सर्विलांस कार्य, अस्पताल हस्तांतरण या स्थानांतरण करवाना, कंटेनमेंट जोन के साथ-साथ ओपीडी, आईपीडी की सेवाएं बुरी तरह से चरमरा गई हैं। 

हड़ताल में एनएचएम कर्मचारी संघ फिंगेश्वर ब्लॉक इकाई से डॉ. शिल्पा हरिमानी, डॉ. देवेंद्र बंजारे, डॉ. स्वाति मिश्रा, मदन मिश्रा, संतोष साहू, गोविंद यादव, घनश्याम साहू, डिगेश्वरी साहू, हेमंत ठाकुर, धरम साहू, धनेश्वरी साहू, रवि विश्वकर्मा, चंचल गोस्वामी, विजय लक्ष्मी टंडन, सुरेश निषाद, पूर्णिमा गजेंद्र, पूनम सोनी, डॉ. मनोज कुमार, चंचल गोस्वामी सहित सभी कर्मचारी शामिल रहे।

 

अन्य पोस्ट

Comments