दन्तेवाड़ा

पोषण माह में विविध आयोजन
23-Sep-2020 11:05 PM 3
पोषण माह में विविध आयोजन

दंतेवाड़ा, 23 सितम्बर। जिले में कलेक्टर दीपक सोनी के मार्गदर्शन में पोषण माह के तहत महिला एवं बाल विकास के अधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं द्वारा विविध प्रकार के ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें चित्रकला, मेहंदी, रंगोली जिसमें कोविड -19 से कैसे बचें थीम और पोषण की थीम 1000 डे आदि प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। भोज्य पदार्थों से रंगोली बनाकर पोषण का संदेश दिया गया। महिलाओं व किशोरियों को स्वस्थ जीवन के लिए उपयोगी खाद्य-पदार्थों के बारे में जानकारी दी गई।

रंगोली बनाने में अनाज, दाल व सब्जियों का उपयोग हुआ। साथ ही संतुलित आहार पर चर्चा की गई। स्वस्थ रहने के लिए अनाज, दाल, सब्जी, हरी पत्तेदार सब्जी आदि की उपयोगिता बताई गई। अलग-अलग भोज्य पदार्थों में होने वाले पोषक तत्वों के बारे में भी जानकारी दी गई। हाथ धोने के सही तरीके को भी कार्यकर्ताओं द्वारा समझाया जा रहा है।

गौरतलब है कि सितम्बर को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। कोविङ-19 विश्व महामारी के कारण उत्पन्न आपदा की स्थिति के कारण इस वर्ष राष्ट्रीय पोषण माह को डिजिटल जन-आंदोलन के रूप में मनाया जा रहा है। कलेक्टर दीपक सोनी ने सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों को राष्ट्रीय पोषण माह के डिजिटल जनआंदोलन में सक्रिय सहयोग देने के लिए निर्देशित किया है।

महिला एवं बाल विकास अधिकारी ब्रजेंद्र सिंह ठाकुर ने बताया कि बच्चों में कुपोषण एवं एनीमिया एक गंभीर समस्या है। कुपोषण के स्तर में कमी लाने के उद्देश्य से वर्ष 2018 से पोषण अभियान का आयोजन किया जा रहा है। आयोजन में तकनीक एवं समन्वय के लिए वर्चुअल बैठक, मीडिया के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाएगा। पोषण माह के दौरान सही पोषण-छत्तीसगढ़ रोशन की अवधारणा को मूर्त रूप देने के लिए जन प्रतिनिधियों, त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों, नगरीय निकाय के प्रतिनिधियों क्षेत्रिय अमले एवं जनसमुदाय का सहयोग महत्वपूर्ण है। राष्ट्रीय पोषण माह 2020 का प्रमुख उद्देश्य गंभीर कुपोषित बच्चों की शीघ्र पहचान कर शासन की योजना का लाभ देकर सामान्य श्रेणी में लाना है।

पोषण स्तर के सुधार हेतु बच्चों को स्तनपान के साथ-साथ समय पर ऊपरी आहार दिया जाना एक महत्वपूर्ण रणनीति है। जन्म के समय से 6 माह की आयु तक संपूर्ण स्तनपान को बढ़ावा दिया जाना है। पोषण माह के दौरान घर की बाडिय़ों, सामुदायिक बाडिय़ों, रिक्त भूमि में पौष्टिक सब्जियां, फलदार पौधों को रोपण किया जा रहा है।

कार्यक्रम के तहत नारा लेखन, गंभीर कुपोषित बच्चों का चिन्हांकन एवं प्रबंधन पर ऑनलाईन प्रशिक्षण, गृहभेंट एवं परामर्श, स्कूली छात्रों द्वारा निबंध, चित्रकारी, स्लोगन, रंगोली प्रतियोगिता का ऑनलाईन आयोजन, पोषण वाटिका का निर्माण, स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस का आयोजन किया जा रहा है। पंचायत एवं नगरीय निकाय के प्रतिनिधियों के साथ पोषण संवाद, पोषण माह में पुरूषों की सहभागिता विषय पर गतिविधिया, पोषण अभियान संबंधी पुस्तिका का डिजिटल विमोचन, कृमि मुक्ति दिवस का शुभारंभ, पोषण के 5 सूत्रों पर वेबीनार, स्वास्थ्य केन्द्र पर एनीमिया परीक्षण व अन्य गतिविधियां की जा रही है।

 

 

अन्य पोस्ट

Comments