राजनांदगांव

पानाबरस संरक्षित वन भूमि में अतिक्रमण, 50 ग्रामीणों पर प्रकरण दर्ज
25-Sep-2020 8:11 PM 4
 पानाबरस संरक्षित वन भूमि में अतिक्रमण,  50 ग्रामीणों पर प्रकरण दर्ज

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

अंबागढ़ चौकी, 25 सितंबर। पानाबरस संरक्षित वन भूमि में करीब 50 ग्रामीणों ने अतिक्रमण किया है।  पानाबरस मोहला रेंज के प्रभारी रेंजर  ने बताया कि वनभूमि में अतिक्रमण करने वाले कब्जाधारियों को नोटिस जारी की गई है। एक सप्ताह के अंदर कब्जा हटाने का निर्देश दिया गया है।

ब्लॉक मुख्यालय मोहला चारों तरफ से संरक्षित वन से घिरा हुआ है। इन वनों की सुरक्षा व संवर्धन की जवाबदेही वन विकास निगम पानाबरस डिवीजन के हाथों में है। पिछले कुछ वर्ष में ब्लॉक मुख्यालय में वनभूमि में अवैध कब्जा की बाढ़ आ गई है।  अतिक्रमणकारी ऐसी जगह व वनभूमि पर कब्जा कर रहे हैं, जो मुख्य मार्ग के किनारे लगी हुई है और इनका बाजार मूल्य लाखों में है और यह स्थान आवासीय व व्यवसायिक दोनों दृष्टि से सर्वसुविधायुक्त है।

संरक्षित वनभूमि व पानाबरस वन विकास निगम के कपांटमेंट नंबर 482 व 483 में 50 ग्रामीणों ने लगभग 5 हेक्टेयर जंगल जमीन को कब्जा कर लिया है। पानाबरस मोहला रेंज के प्रभारी रेंजर जागेश गोड ने बताया कि वनभूमि में अतिक्रमण करने वाले कब्जाधारियों को नोटिस जारी की गई है। एक सप्ताह के अंदर कब्जा हटाने का निर्देश दिया गया है। प्रशासन से जुड़े अधिकारियों को सूचना दी गई है और उनसे मार्गदर्शन व सहयोग मांगा गया है। रेंजर श्री गोड ने बताया कि कब्जाधारियों की झोपडियों व मकानों में नोटिस चस्पा करा दी गई है। समय-सीमा में कब्जा नहीं हटाया गया तो वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। श्री गोड ने अतिक्रमणकारियों को संरक्षण देने के आरोपों को गलत बताया।

डिप्टी डीएम डीएल उईके ने कहा कि वर्षा ऋतु व कोरोना संक्रमण के चलते अतिक्रमणकारियों पर कार्रवाई लंबित थी। शीर्ष अधिकारियों एवं प्रशासन को जानकारी दी गई है। कब्जा हटाने के लिए नोटिस जारी की गई है।

अन्य पोस्ट

Comments