कोरिया

अंजनी जलाशय के स्लूस गेट के पास का हिस्सा बहा
30-Sep-2020 9:46 PM 7
अंजनी जलाशय के स्लूस गेट के पास का हिस्सा बहा

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

बैकुंठपुर, 30 सितंबर। कोरिया जिले के जनपद बैकुंठपुर के खाड़ा जलाशय बांध के फूटने के बाद अब खडग़वां जनपद क्षेत्र में करोड़ों की लागत से बने अंजनी जलाशय स्लूस गेट के पास का हिस्सा बह गया। इसके पूर्व ग्रामीणों के द्वारा अंजनी जलाशय बांध से पानी के रिसाव होने की सूचना विभागीय अधिकारियों को दी गयी थी तथा कई जगहों पर दरारें आने की भी सूचना दी गयी। जिसके बाद जल संसाधन विभाग के अधिकारी के साथ राजस्व विभाग के अधिकारी मौका निरीक्षण करने के बाद बांध के स्लूस गेेट के पास हो रहे पानी रिसाव को रोकने के लिए मरम्मत कार्य शुरू किया गया उसके बाद भी स्लूस गेट का एक हिस्सा पानी के तेज दबाव के कारण क्षतिग्रस्त हो गया।

कोरिया जिले के खडग़वां तहसील के कमदबेहरा के अंजनी नाले पर बनाए गए अंजनी जलाशय के स्लूस गेट जाने के सीमेंट के बना रास्ता बीच से टूट कर क्षतिग्रस्त हो गया। इसके पूर्व वर्ष 2017 में बांध की मिट्टी धंसने को लेकर मामला सामने आया था, जिसे स्थान पर टूट फूट हुई है वहां की पिचिंग के धंसने की जानकारी प्रशासन को दी थी।

इसके पूर्व ग्रामीणों की शिकायत पर विभागीय अधिकारियों द्वारा स्लूस गेट के पास मिट्टी फिलिंग कार्य कराने के पूर्व बांध से पानी नहर के माध्यम से भारी मात्रा में छोड़ा गया ताकि बांध पर पानी का दबाव कम हो। मरम्मत कार्य शुरू होने के कुछ घंटों बाद ही स्लूस गेट क्षतिग्रस्त हो गया। हालांकि इससे ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है लेकिन सही तरीके से मरम्मत कार्य कर दिया जाता है तो बिगडने वाली स्थिति को संभाला जा सकता है। इधर ग्रामीणों को चिंता लग रही थी कि कही बांध फूट न जाये जिससे कि उनकी खड़ी फसलों को नुकसान हो जाये लेकिन ऐसी किसी तरह की आशंक को विभागीय अधिकारियों ने खारिज कर दिया।

प्राक्कलन से अधिक राशि निर्माण में खर्च

जानकारी के अनुसार खडग़वां क्षेत्र के अंजनी जलाशय निर्माण कार्य की स्वीकृति वर्ष 2013 में दी गयी थी और इसके लिए प्राक्कलन पश्चात 22 करोड़ रूपये की राशि स्वीकृत की गयी थी। इतनी राशि में भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया और विभाग के द्वारा 24 करोड़ की राशि खर्च कर दी गयी इसके बाद भी निर्माण कार्य पूरा करने के लिए और राशि की मांग हेतु शासन को लिखा गया था।

निर्माण कार्य में जमकर अनियमितता

अंजनी जलाशय निर्माण कार्य शुरू से ही विवादों में रहा है। बांध को लेकर क्षेत्र. के ग्रामीण न्यायालय तक चले गये थे। जानकारी के अनुसार अंजनी जलाशय निर्माण कार्य में ठेकेदार द्वारा विभागीय अधिकारियों की मिली भगत से जमकर अनियमितता बरती गयी। जानकारी के अनुसार जहां डेम बनाया गया स्थल पर एक ओर प्राकृतिक रूप से पहाड़ीनुमा टीला है, उसे मिट्टी डाल कर दिखाया है कि उसे भी विभाग ने ही बनाया है। बांध में लगे पत्थर धंस गए थे, भुसभुसी मिट्टी होने के कारण बांध में शुरूआतीर दौर में ही बडी बडी दरारें आ चुकी थी। जिससे यह संभावना बन गयी थी कि यदि बांध बना तो कुछ ही दिनों में इसके बह जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। आखिरकार वही हुआ जिसकी संभावना शुरूआती दौर में लग रही थी। बांध बनने के कुछ ही साल में बांध में कई जगहों पर दरारें आनी शुरू हो गयी मरम्मत कार्य कराते रहे और अभी तक बंाध में दरार आने का क्रम जारी है। यह सब  बांध निर्माण कार्य में बरती गयी भारी अनियमितता का ही नतीजा सामने आ रहा है।

विवादों में रहा बांध निर्माण

अंजनी बांध निर्माण कार्य अपने निर्माण काल के दौरान विवादों में रहा। यहां तक कि बांध निर्माण कार्य में बरती जा रही लापरवाही व भ्रष्टाचार को लेकर क्षेत्रीय ग्रामीण बांध पर रोक लगाने के लिए कोर्ट चले गए थे जिसके बाद कोर्ट ने निर्माण पर स्टे लगा दिया इसके बाद भी ठेकेदार के द्वारा विभागीय अधिकारियों से मिलकर बांध का निर्माण कार्य अधुरा छोड़कर पूरी राशि निकाल ली गयी और वह काम बंद कर दिया था। घटिया निर्माण कार्य के कारण ही अंजनी जलाशय की स्थिति दिनों दिन खराब होती गयी और आज हालत सबसे सामने है। स्लूस गेट का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया और बांध में कई जगहों पर दरारें आ गयी है।

विभागीय सचिव ने दौरा कर अधिकारियों को दिए थे निर्देश

खडग़वां के अंजनी जलाशय के निर्माण को लेकर तत्कालीन विभागीय सचिव सोनमणी वोरा बांध का निरीक्षण करने खडग़वां आये और बंाध का निरीक्षण पश्चात कार्यपालन अभियंता व इंजीनियरों के साथ ठेकेदार को जमकर फटकार लगाते हुए काम रूकवा कर जांच के निर्देश दिये थे।

अन्य पोस्ट

Comments