दुर्ग

डेंगू नियंत्रण में शानदार सफलता, अक्टूबर में एक भी केस नहीं
24-Oct-2020 4:57 PM 25
  डेंगू नियंत्रण में शानदार सफलता, अक्टूबर में एक भी केस नहीं

डेढ़ लाख घरों तक पहुंचा स्वास्थ्य अमला

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भिलाईनगर/दुर्ग, 24 अक्टूबर। दो साल पहले डेंगू के दंश ने पूरे जिले को हिलाकर रख दिया था। भिलाई-खुर्सीपार के कई वार्ड आक्रांत थे, प्रशासन ने डेंगू नियंत्रण को लेकर व्यापक मुहिम चलाई थी। इसके बाद दो सालों में डेंगू के नियंत्रण के लिए व्यापक रोकथाम कार्यक्रम किये गए। अब इसकी सफलता पूरी तरह मुकम्मल हुई है। अक्टूबर महीना जाते हुए मानसून का वक्त होता है। पानी छोटे-छोटे गड्ढों में जमा होता है, गर्मी की वजह से लोग कूलर चलाते हैं और इसका नतीजा होता है कि डेंगू के लार्वा को पनपने के लिए अवसर मिलता है। इस बार व्यापक अभियान की सफलता इस मायने में है कि अक्टूबर महीने में डेंगू का एक भी मामला 23 अक्टूबर तक नहीं आया है।

सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने बताया कि पिछले साल अक्टूबर महीने में भी डेंगू नियंत्रण पर प्रभावी कार्य हुआ था और केवल 18 मामले आये थे। इस बार कोई मामला नहीं आया। यदि पूरे साल के आंकड़े लें तो पिछले साल एलिजा टेस्ट में  115 मामले डेंगू के आये थे। इस बार डेंगू के 12 मामले सामने आये। इनमें मई महीने में 10 मामले सामने आये थे। मई महीने में डेंगू के मरीज के चिन्हांकित होते ही तेजी से टेमीफास वितरण एवं फागिंग की कार्रवाई शुरू की गई। साथ ही कूलर आदि खाली कराने का व्यापक अभियान छेड़ा गया। इसका अच्छा असर हुआ और जून महीने में केवल एक ही डेंगू का केस सामने आया।

सीएमएचओ ने बताया कि कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने हाटस्पाट एरिया में विशेष टीम लगाई थी जिन्होंने लगातार सक्रिय रूप से काम किया, इसका असर हुआ और नियमित रूप से टेमीफास के वितरण, छिडक़ाव से काफी लाभ हुआ। इसमें भिलाई नगर निगम की भूमिका भी अहम रही। भिलाई निगम टीम ने इस अवधि में लगभग सोलह हजार कूलर चेक किये और टेमीफास का छिडक़ाव किया। इसके अलावा मेलाथियान और स्प्रेयर पंप से सोडियम हाइपो क्लोराइड घोल का छिडक़ाव भी किया गया।

इस साल निगम एवं स्वास्थ्य विभाग एक लाख पैंतालीस हजार घरों में पहुंचा। एक लाख पंद्रह हजार कूलर एवं पानी टंकी का निरीक्षण किया गया। चौवालीस हजार कूलर एवं पानी टंकी से पुराना पानी खाली कराया गया। लगभग पचास हजार घरों में टेमीफास का वितरण किया गया। साथ ही 71 हजार घरों में पैंपलेट वितरण भी किया गया, जिसमें डेंगू के पनपने के कारणों एवं इससे बचाव के उपायों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई थी।

अन्य पोस्ट

Comments