कोण्डागांव

कोंडागांव में दुष्कर्म-फांसी के मामले ढीली प्रशासनिक व्यवस्था से बढ़े-केदार
26-Oct-2020 8:20 PM 29
कोंडागांव में दुष्कर्म-फांसी के मामले ढीली प्रशासनिक व्यवस्था से बढ़े-केदार

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोण्डागांव, 26 अक्टूबर। छत्तीसगढ़ राज्य में लगातार एक के बाद एक कोण्डागांव जिले में हो रहे दुष्कर्म व फांसी लगाने वाले मामले को लेकर पूर्व मंत्री केदार कश्यप ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

इस विषय में केदार कश्यप ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि, राज्य सरकार की ढीली प्रशासन व्यवस्था व नाकामी इसका सबूत है। जहां एक महीने के अंदर जिला कोण्डागांव के धनोरा थाना क्षेत्र अंतर्गत 4 फांसी के मामले व दुष्कर्म के मामले सामने आए हैं। साथ ही आदिवासी बुुजुर्ग से पुलिस थाना प्रभारी विश्रामपुरी द्वारा 1 लाख की रकम की मांग की गई। जिसको लेकर आज सर्व आदिवासी समाज के माध्यम से अपने मांगों को लेकर सडक़ पर उतरने को मजबूर हुए हैं। भूपेश सरकार में प्रदेश भर में घोटाले सहित पुलिस प्रशासन के इस घटिए रवैए की तीखी आलोचना की है। साथ ही लगातार हो रहे इन घटनाओं में संलिप्त अधिकारी-कर्मचारियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। केदार कश्यप ने कहा कि, कांग्रेस के बड़े नेताओं को छत्तीसगढ़ की ओर भी देखना चाहिए। पिछले 9 महीने में 1500 से ज्यादा बलात्कार छत्तीसगढ़ में हुए। राहुल गांधी को छत्तीसगढ़ की ओर ध्यान देना चाहिए।

इस बीच भाजपा मंडल अध्यक्ष रामेश्वर उसेण्डी ने भी नाबालिक खुदकुशी मामले में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। साथ ही 3 दिन पूर्व थाना विश्रामपुरी में एक आदिवासी भोले भाले व्यक्ति से 1 लाख की वसूली करने वाले थाना प्रभारी को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है।

अन्य पोस्ट

Comments