कोण्डागांव

बुराई पर हुई अच्छाई की जीत, कोरोना के चलते सादगी से मनी विजयादशमी
26-Oct-2020 9:40 PM 24
 बुराई पर हुई अच्छाई की जीत, कोरोना के चलते सादगी से मनी विजयादशमी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोण्डागांव, 26 अक्टूबर। असत्य पर सत्य की विजय के प्रतीक का पर्व कोण्डागांव और आसपास के क्षेत्रों में बड़ी ही सादगी के साथ मनाया गया। इतना ही नहीं इस वर्ष रावण दहन कार्यक्रम स्थल का बदलाव करते हुए मुख्य कार्यक्रम कोण्डागांव के शीतला माता मंदिर प्रांगण के समीप स्थित बाजार मैदान में 26 अक्टूबर को आयोजित किया गया।

कोरोना संकट के बीच मनाए गए पर्व पर लोगों ने रावण का पुतला दहन भी परंपरागत तरीके से किया। कोरोना महामारी को देखते हुए शारीरिक दूरी का पालन करते हुए आयोजन किया गया। वहीं रावण को भी मास्क पहनाया गया। जिसके बाद आतिशबाजियों के बीच बुराई पर अच्छाई का विजय त्यौहार मनाया गया।

बाल रामायण मंडली रोजगारी पारा के द्वारा रामलीला का मंचन किया गया। इस दौरान सर्वप्रथम मातागुड़ी शीतला मंदिर से रावण अपने सेना के साथ बाजार मैदान में पहुंचा। वहीं श्रीराम अपने वानर सेना के साथ बाजार मैदान पहुंचे, जहां उपस्थितों के समक्ष रामलीला का मंचन किया गया। इसके बाद रावण का 10 फीट का पुतला दहन किया गया। इस दौरान आतिशबाजी हुई।

कोरोना महामारी के चलते गत वर्षों की तुलना में इस वर्ष दर्शकों की संख्या बहुत कम रही। रावण दहन होते ही जलती लकड़ी को लूटने के लिए लोग टूट पड़े। बस्तर में मान्यता है, कि रावण की हड्डी घर में रखने से सुख-समृद्धि बढ़ती है। पूर्व वर्षों में जलती लकड़ी को लूटते हुए कई लोग झुलस गए। जिसके चलते पुलिस की तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था थी। जिसके कारण कोई दुर्घटना नहीं हुई। इस दौरान समुचित सामाजिक दूरी का पालन स्वयं अनुविभागिय दंडाधिकारी राजस्व बीआर धु्रव की देखरेख में हुआ। व्यवस्था बनाने में तहसीलदार, पुलिस निरीक्षक, शीतला माता दशहरा समिति के पदाधिकारियों का विशेष योगदान रहा।

बफना में रावण दहन

1985 से प्रतिवर्ष होने वाले रावण दहन का कार्यक्रम इस वर्ष भी बफना में संपन्न हुआ। परन्तु कोरोनाकाल को ध्यान में रखते हुए दशहरा मैदान में बाजार व दुकानों की अनुपस्थिति रही और जगह-जगह में कोरोनाकाल के नियमों का पालन करने संबंधी निर्देश लगे हुए थे। वहीं कई जगहों पर टेबल रखकर सेनिटाइजर की व्यवस्था देखने को मिली।

खास बात यह रही कि, आमजनों ने भी शासन-प्रशासन का सहयोग करते हुए नियमों का पालन कर लगातार 35 वर्षों से आयोजित होने वाले रावण दहन के कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग किया। रावण दहन के कार्यक्रम में आयोजक रामलीला समिति बफना व ग्राम पंचायत बफना के लोग उपस्थित रहे। साथ-साथ आसपास से आये सभी ग्रामीणजनों ने कार्यक्रम का लुफ्त उठाया।

अन्य पोस्ट

Comments