सरगुजा

विजयादशमी हर्षोल्लास के साथ मनाया गया, पहली बार सादे कार्यक्रम में 10 फीट के रावण का दहन
27-Oct-2020 10:09 PM 30
विजयादशमी हर्षोल्लास के साथ मनाया गया, पहली बार सादे कार्यक्रम में 10 फीट के रावण का दहन

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

अम्बिकापुर, 27 अक्टूबर। बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजयादशमी सरगुजा जिले में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। विजयादशमी के मौके पर इस बार सादे कार्यक्रम में सिर्फ दस फीट के रावण के पुतले का दहन किया गया। कला केंद्र मैदान में आयोजित विजयादशमी कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। इस दौरान जमकर आतिशबाजी की गई। इसके साथ ही भक्ति गीतों का भी आयोजन किया गया। वहीं इस कार्यक्रम को अतिथियों ने भी संबोधित करते हुए सरगुजा वासियों को बधाई व शुभकामनाएं दी।

कोरोना संक्रमण के प्रकोप का असर हर त्यौहार व पर्व पर पड़ रहा है। संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए पूर्व में जिले में रावण दहन कार्यक्रम को नहीं करने का निर्णय लिया गया था, लेकिन बाद में सरगुजा सेवा समिति, नागरिक सेवा समिति व जिला प्रशासन द्वारा प्रतीकात्मक रूप से सिर्फ रावण के पुतले का दहन करने का निर्णय लिया गया था। हालांकि प्रतिवर्ष विजयादशमी के अवसर पर भगवान राम, लक्ष्मण, हनुमान की झांकी के साथ भव्य शोभा यात्रा निकाली जाती थी, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए थे।

 कला केंद्र मैदान में महापौर डॉ. अजय तिर्की, पूर्व विधायक  रजनी रविशंकर त्रिपाठी, 20 सूत्रीय सांख्यिकी के उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, जेपी श्रीवास्तव, राजीव अग्रवाल, राहुल गोयल, भारत सिंह सिसोदिया, ओमप्रकाश जायसवाल, विद्यानंद मिश्रा, आलोक दुबे की उपस्थिति में भगवान राम, लक्ष्मण, माता सीता, भगवान हनुमान की पूजा की गई। इसके साथ ही सभी अतिथियों ने कार्यक्रम को संबोधित किया व लोगों को विजयादशमी की बधाई दी। इसके साथ ही मंच से लोगों को कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की और अगले वर्ष पुन: भव्य कार्यक्रम आयोजित करने की बात कही।

विजयादशमी के मौके पर कला केंद्र मैदान में आयोजित रावण दहन कार्यक्रम में भक्ति गीतों का भी आयोजन किया गया। कलाकारों मनमोहक भक्ति गीतों की प्रस्तुति दी गई। इन भक्ति गीतों का लोगों ने खूब आनंद लिया।

 रावण दहन के पूर्व भव्य आतिशबाजी की गई, जिसे देखने के लिए भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे। आतिशबाजी के बाद भगवान राम, लक्ष्मण व हनुमान रूप बच्चों द्वारा रावण का दहन कर विजयादशमी का पर्व मनाया गया।

अन्य पोस्ट

Comments