दुर्ग

रेडी टू ईट की गुणवत्ता पर सदस्यों ने उठाए सवाल, जनपद पंचायत की बैठक में कई प्रस्ताव पारित
29-Oct-2020 7:14 PM 24
रेडी टू ईट की गुणवत्ता पर सदस्यों ने उठाए सवाल, जनपद पंचायत की बैठक में कई प्रस्ताव पारित

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

दुर्ग, 29 अक्टूबर। जनपद पंचायत दुर्ग की आयोजित बैठक में मध्यान्ह भोजन में कम सूखा राशन दिए जाने का मामला गरमाया रहा। वहीं रेडी टू ईट के तहत दी जा रही सामग्रियों की गुणवत्ता पर भी सदस्यों ने सवाल उठाए। मामले में बैठक में जांच कराए जाने का निर्णय लिया गया।

सदस्य रूपेश देशमुख ने कहा कि अगस्त से अक्टूबर तक का मध्यान्ह भोजन का सूखा राशन जो वितरण किया जा रहा है इसमें कई स्कूलों में इसे कम मात्रा में दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि दाल का वजन एक पाव कम है। इसी प्रकार तेल भी 125 एमएल कम है। इसमें संबंधित जिम्मेदार शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी करने का प्रस्ताव लिया गया। महिला बाल विकास विभाग के सभापति हीरामणि वर्मा ने कहा कि कई ग्रामों में महिला समूह द्वारा रेडी टू ईट का संचालन किया जा रहा है, जिसके तहत दी जा रही सामग्रियों की गुणवत्ता पर उन्होंने सवाल उठाया, जिस पर सदस्यों ने जांच कराने की मांग की। स्वच्छ भारत मिशन के तहत विभिन्न ग्रामों में 7 लाख 30 हजार रुपये की मच्छरदानी वितरण के मामले में भी जांच कराने का प्रस्ताव लिया गया। इसी प्रकार जनपद अध्यक्ष देवेंद्र देशमुख ने कहा कि कई ग्रामों में लोग टीडीएस ज्यादा होने के बावजूद भी पानी पी रहे हैं। उन्होंने कहा कि रेड जोन के पंप बंद नहीं किए गए हैं। कर्मचारियों को भी पता नहीं है कि कौन सा हैंडपंप का पानी पीने योग्य है। इस पर पीएचई विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पानी की टेस्टिंग के लिए किट पंचायतों को उपलब्ध करा दी गई है। उनके इस कथन पर सदस्यों ने कहा कि हर नलकूप की जांच की जाए। इस संबंध में पंचायतों में भी ट्रेनिंग दी जाए। वहीं रेड जोन वाले हैंडपंप को बंद रखा जाए, साथ ही समान खरीदी के मामले में भी जांच का निर्णय लिया गया। सदस्य हरेंद्र कुमार ने कहा कि पुलगांव ओव्हर ब्रिज से अंजोरा तक नेशनल हाईवे 53 में 1000 पेड़ों को चिन्हित कर काटे जा रहे हैं। उन्होंने सवाल उठाया कि इन पेड़ों को किनके कहने पर काटे जा रहे हैं, जो पेड़ काटे जा रहे हैं उसकी लकड़ी कहां जा रहा है. उन्होंने यह भी पूछा कि जो पेड़ काटे जा रहे हैं उसकी जगह पर कहां पौधरोपण किया जाएगा। सदस्य ज्ञानेश्वर मिश्रा   ने जिला पंचायत विभाग के कर्मचारियों द्वारा अपने वाहनों की पार्किंग जनपद परिसर में किए जाने का मामला उठाते हुए कहा कि जिला पंचायत के कर्मचारियों के लिए जिला पंचायत द्वारा पार्किंंग की व्यवस्था की जाए।

 

अन्य पोस्ट

Comments