रायपुर

शरद पूर्णिमा पर गोपाल मंदिर में सजेगी रास की झांकी
29-Oct-2020 7:51 PM 29
शरद पूर्णिमा पर गोपाल मंदिर में सजेगी रास की झांकी

दूधाधारी मठ, राधा कृष्ण मंदिर में होगा खीर वितरण 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 29 अक्टूबर।
सोलह कलाओं से युक्त शरद पूर्णिमा के अवसर पर शुक्रवार को जवाहरनगर स्थित राधा कृष्ण मंदिर, गोपाल मंदिर, दूधाधारी मठ सहित अन्य मंदिरों में उल्लासपूर्वक शरद पूर्णिमा मनाई जाएगी। इस अवसर पर राधा कृष्ण मंदिर में भगवान को 101 किलो दूध की खीर का भोग लगाया जाएगा तथा रात 12 बजे के बाद भक्तों में इसका वितरण किया जाएगा। 

आश्विन मास की पूर्णिमा के दिन सोलह कला से युक्त चंद्रमा से अमृत बरसने की मान्यता के कारण शरद पूर्णिमा के दिन मंदिरों में हर साल की तरह शरद पूर्णिमा का आयोजन किया जा रहा है।

महंत रामसुंदर दास ने बताया कि शरद पूर्णिमा के दिन शुक्रवार रात को बालाजी भगवान और शालिग्राम को गर्भगृह से लाकर मंदिर परिसर में बने सुसज्जित मंडप में विराजित किया जाएगा। रात साढ़े 11 बजे   भगवान को खीर और मिष्ठान का भोग लगाया जाएगा। रात 12 बजे प्रभु की महाआरती की जाएगी तत्पश्चात भक्तों को प्रसाद वितरित किया जाएगा। इस दौरान निर्बाध रुप से मंदिर में भजन कीर्तन चलता रहेगा।

जवाहरनगर स्थित राधा कृष्ण मंदिर पुजारी पं.मलैया महाराज ने बताया कि शरद पूर्णिमा के अवसप पर मंदिर में शुक्रवार को 101 कि.दूध की खीर बनाई जाएगी। रात 12 बजे विधिविधान से पूजा उपरांत  खीर वितरित किया जाएगा। गोपाल मंदिर में शरद पूर्णिंमा के अवसर पर ठाकुरजी का विशेष श्रृंगार किया जाएगा तथा रास की झांकी सजाई   जाएगी। रात 7 बजे से साढ़े सात बजे तक शरद उत्सव के दर्शन होगें। 

गायत्री शक्ति पीठ समता कॅलोनी में शरद  पूर्णिमा के अवसर पर औषधि युक्त खीर बनाई  जाएगी लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए खीर का वितरण नहीं किया जाएगा। मीडिया प्रभारी राजेश शुक्ला ने बताया कि पिछले साल शरद पूर्णिमा के अवसर  पर 51 कि.दूध  की औषधियुक्त खीर बनाई गई थी।
जिसका दूसरे दिन वितरण किया गया गया था लेकिन इस बार कोरोना के कारण खीर का वितरण नहीं किया जाएगा।
 

अन्य पोस्ट

Comments