राजनांदगांव

नौकरी का झांसा, आरएचओ ने की 10 लाख की ठगी, एफआईआर
30-Oct-2020 12:28 PM 68
नौकरी का झांसा, आरएचओ ने की 10 लाख की ठगी, एफआईआर

चंदन मेश्राम

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 30 अक्टूबर। स्वास्थ्य महकमे के एक रूरल हेल्थ अफसर (आरएचओ) के खिलाफ दो बेरोजगार युवकों को नौकरी का झांसा देकर लाखों रूपए ऐंठने के मामले में पुलिस ने धोखाधड़ी के तहत जुर्म दर्ज किया है। 

डोंगरगढ़ ब्लॉक के कोठीटोला सेक्टर प्रभारी चंदन मेश्राम पर नांदगांव के शांतिनगर के रहने वाले दुर्गाकांत चंदेल और श्यामकुंवर ने सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर 10 लाख रूपए लिए। आरोपी मूलरूप से राजनांदगांव शहर के स्टेशनपारा मुहल्ले का निवासी है। 

पुलिस शिकायत में बताया कि आरोपी ने दोनों युवकों को बकायदा फर्जी नियुक्ति-पत्र देकर ज्वाईनिंग के लिए चार माह तक टालता रहा। बताया जाता है कि जनवरी 2020 में आरोपी ने दोनो से 10 लाख रूपए लिए। पुलिस शिकायत में शिकायतकर्ताओं ने बताया कि आरोपी ने किस्तों में रकम लेकर नौकरी लगाने का दावा करता रहा। आरोपी ने चालकी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। 

फर्जी नियुक्तिपत्र देने के बाद दोनों युवकों चारभाठा उप स्वास्थ्य केंद्र में ले जाकर चार माह तक काम भी करवाता रहा। इसके बाद एकाएक भर्ती रद्द होने की जानकारी देकर उन्हें घर जाने कह दिया। इस हरकत से दोनों का माथा ठनका और रकम वापस करने के लिए आरोपी पर दबाव बनाना शुरू किया। कुछ माह तक आजकल में रूपए देने के लिए आरोपी हीलहवाला करता रहा। 

आखिरकार पीडि़त युवकों ने इस मामले की चिखली पुलिस चौकी में शिकायत की। पुलिस अब आरोपी की सरगर्मी से तलाश कर रही है। उधर स्वास्थ्य महकमें के आलाधिकारी भी आरोपी के ठगी किए जाने की मामले में हैरानी में पड़ गए है।
 
इस संबंध में सीएमएचओं डॉ. मिथलेश चौधरी ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि पुलिस विभाग की ओर से जानकारी आने के बाद आरोपी कर्मी के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। डोंगरगढ़ बीएमओ के अधीन कार्यरत चंदन मेश्राम पर विभाग में कई मामलो की शिकायत भी है। हालांकि आज पर्यन्त विभाग ने पूर्व की शिकायतों पर ठोस कार्रवाई नहीं की। लिहाजा आरोपी के हौसलें बढ़ते गए।

अन्य पोस्ट

Comments