राजनांदगांव

बीमाकर्मियों ने 11 सूत्रीय मांगों को लेकर किया प्रदर्शन
26-Nov-2020 3:33 PM 35
बीमाकर्मियों ने 11 सूत्रीय मांगों को लेकर किया प्रदर्शन

मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी 21 हजार तय करने की मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 26 नवंबर।
भारतीय जीवन बीमा निगम के कर्मियों ने गुरुवार को केंद्रीय ट्रेड यूनियनों व कर्मचारी संघोंके आह्वान पर केंद्र व राज्य सरकार की मजदूर/कर्मचारी किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ एक दिवसीय हड़ताल किया। इस दौरान एलआईसी कर्मियों ने नारेबाजी भी की।

रायपुर रीजन इंश्योरेंस एम्पलाई यूनियन इकाई राजनांदगांव के प्रवीण मेश्राम ने कहा कि आज अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन संगठनों के द्वारा पूरे भारत वर्ष में एक साथ एक सूत्रीय मांग रखा गया है। 11 सूत्रीय मांगें है। इसमें सबसे प्रमुख मांग है कि देश में काम करने वाले मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी 21 हजार रुपए सरकार को तय करना चाहिए। यह हमारी मांग है कि भारतीय जीवन बीमा निगम जैसे देश के सार्वजनिक संस्थान है वो सार्वजनिक संस्थानों को निजीकरण की ओर धकेल रहे हैं, उसका हम विरोध करते हैं और हम चाहते हैं कि बैंक, बीमा, रेल्वे ये सभी संस्थान देश के विकास में बड़ा योगदान दिया है। इसको लगातार मजबूत करने का प्रयास किया जाना चाहिए। 

हमारे देश में जो किसान है उसको सही मजदूरी नहीं मिल पाती है। उन मजदूरी के खिलाफ आज भी किसान आंदोलनरत हैं। ये आंदोलन कब तक चलेगा, उनको अपने उपज का सही मूल्य मिलना चाहिए, आज के आंदोलन की प्रमुख मांग है। साथ ही भारतीय जीवन बीमा निगम में एक अगस्त 2017 से  हमारा वेतन पुनरनिर्धारण लंबित है और उस पुनरनिर्धारण को लंबित हुए लगभग 40 माह हो गया है। 

उन्होंने कहा कि सरकार और प्रबंधन के साथ वार्ता होती है, लेकिन अभी तक सरकार ने किसी तरह से ठोस कार्य नहीं किया है। हमारी मांग है कि 40 प्रतिशत वेतन बढ़ोत्तरी की, उसे जल्द पूरा करें। देश में आईपीयू के माध्यम से निजीकरण करने का प्रयास कर रही है उसका विरोध करते हैं।

अन्य पोस्ट

Comments