महासमुन्द

किसान आंदोलन को आतंकवाद, नक्सल कहना और दूसरी तरफ किसानों के लिए आंदोलन करना भाजपा का दोहरा आचरण-डॉ. रश्मि
22-Jan-2021 4:29 PM 27
किसान आंदोलन को आतंकवाद, नक्सल कहना और दूसरी तरफ  किसानों के लिए आंदोलन  करना भाजपा का दोहरा आचरण-डॉ. रश्मि

महासमुन्द, 22 जनवरी। कांग्रेस जिलाध्यक्ष डॉ. रश्मि चंद्राकर ने भाजपा द्वारा आयोजित कलेक्टोरेट घेराव को लेकर एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि एक तरफ  किसान आंदोलन को आतंकवाद, नक्सल कहना और दूसरी तरफ  किसानों के लिए आंदोलन करना भाजपा का दोहरा आचरण है। 

छत्तीसगढ़ में 15 सालों से सत्ता में बैठी रही भाजपा बोनस के वादे भूलकर तो कभी समर्थन मूल्य पर किसानों के विश्वास को तोड़ा। और आज भाजपा के नेतागण स्वयं बिना परेशानी धान बेच कर किसानों के लिए आंदोलन का नाटक कर रहे हैं। डॉ रश्मि चंद्रकार का कहना है कि भाजपा घडिय़ाली आंसू बहा रही है। उनका मकसद ऐसे आंदोलन के बहाने अपनी राजनीति चमकाना है। भाजपा ने जो वादे सत्ता में रहते किया, उन्हें क्यों पूरा नहीं किया? आज क्यों किसान हितैषी बन रहे हैं। कांग्रेस जिलाध्यक्ष डॉ रश्मि चंद्रकार का कहना है कि जब भाजपा कार्यकाल में किसान आत्महत्या कर रहे थे तब ये कहां सोए हुये थे? तब भाजपा 2100 समर्थन मूल्य का वादा कर मुकरी थी। तब इन्हें किसानों की पीड़ा का अहसास नहीं हुआ। आंदोलन भाजपा के लिए राजनीति का जरिया है। 
 

अन्य पोस्ट

Comments