महासमुन्द

जिला चिकित्सालय ओपीडी में इलाज कराने आ रहे लोगों को ई कार्ड बनाकर दिया जा रहा
23-Jan-2021 3:53 PM 26
जिला चिकित्सालय ओपीडी में इलाज कराने आ रहे लोगों को ई कार्ड बनाकर दिया जा रहा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुन्द, 23 जनवरी।
महासमुन्द जिला चिकित्सालय के पंजीयन काउंटर में ओपीडी में इलाज कराने आ रहे लोगों को योजना के तहत ई कार्ड बनाकर दिया जा रहा है। इस कार्ड के माध्यम से अब लोग मुफ्त में इलाज करा सकते हैं। हालांकि यह कार्ड पहले भी बन रहा था, लेकिन मरीज के एडमिट होने के बाद कार्ड को जारी किया जाता था। 

अब नए आदेश के बाद 15 जनवरी से यह नियम में सरकार ने बदलाव करते हुए सभी को पूर्व में ही ई.कार्ड जारी करने के निर्देश दिए हैं। अब ओपीडी में आ रहे मरीज अपना ई.कार्ड बना रहे हैं। कार्ड से अब वे कभी भी किसी भी अस्पताल में अपना निर्धारित रुपए तक इलाज करा सकते हैं। सरकार ने आयुष्मान भारत व डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत गरीबी रेखा कार्डधारी परिवारों को नि:शुल्क इलाज की सुविधा दी जा रही है । ई-कार्ड प्रभारी ओमकार धुरंधर ने बताया कि नि:शुल्क इलाज के लिए सकरार द्वारा जारी ई-कार्ड दिया जा रहा है। पूर्व में एडमिट होने वाले को ही ई-कार्ड दिया जाता था। अब ओपीडी में आने वाले मरीजों को भी ई.कार्ड बनाकर दिया जा रहा है। जिसका लाभ लोग ले रहे हैं। अभी तक 69334 ई.कार्ड जिले में जारी हो चुका है।

केंद्र सरकार द्वारा जनगणना 2011 के अनुसार पात्र राशन कार्डधारी परिवारों को पांच लाख रुपए तक के नि:शुल्क हेल्थ बीमा की सुविधा दी गई है। वहीं राज्य सरकार ने डॉ.खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत गरीबी रेखा कार्डधारी परिवारों को 5 लाख और अन्य कार्डधारी परिवारों को 50 हजार तक नि:शुल्क सुविधा का ऐलान किया है। इसके तहत बागबाहरा में 8077 ई.कार्ड, बसना में 10857, महासमुन्द में 13727, पिथौरा में 11575, सरायपाली  में 9328 ई कार्ड जारी किए गए हैं। जनवरी से 31 दिसंबर 2020 तक 16 हजार से अधिक लोगों ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे योजना का लाभ लिया है। 5763 लोगों ने सरकारी अस्पताल और 4037 लोगों ने जिले के निजी अस्पतालों में अपना इलाज ई.कार्ड के माध्यम से कराया है। इसी तरह 7 हजार से अधिक लोगों ने राजधानी के अस्पतालों में इलाज कराकर योजना का लाभ लिया है।
 

अन्य पोस्ट

Comments