कोरबा

कोरबा जिला स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में होगा अग्रणी-जयसिंह
07-Feb-2021 6:31 PM 50
 कोरबा जिला स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में होगा अग्रणी-जयसिंह

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
कोरबा, 7 फरवरी ।
राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल ने गत दिनों नये तहसील हरदीबाजार का लोकार्पण किया। 
उन्होंने हरदीबाजार तथा आसपास के ग्रामवासियों को नये तहसील की बधाई देते हुए कहा कि नये तहसील के बन जाने से आसपास के किसानों को निश्चित तौर पर लाभ मिलेगा। राजस्व संबंधी बंटवारा, सीमांकन, नामांकन जैसे मामलों के लिए अब हरदीबाजार तथा आसपास के ग्रामीणों को पाली नहीं जाना पड़ेगा। राजस्व मामलों का निपटारा कम समय और दूर जाए बिना हरदीबाजार में ही हो जाएगा। राजस्व मंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि सप्ताह में एक दिन एसडीएम का लिंक कोर्ट हरदीबाजार में लगेगा। राजस्व मामलों के लिए ग्रामीणों को पाली एसडीएम कार्यालय भी नहीं जाना पड़ेगा। 

श्री अग्रवाल ने जनप्रतिनिधियों की मांग पर हरदीबाजार के आसपास के कुछ समीपस्थ गांवो को भी हरदीबाजार तहसील क्षेत्र में शामिल करने की घोषणा की। राजस्व मंत्री ने ग्रामीणों की सहूलियतों के लिए पाली से लगे गांव जो हरदीबाजार में आते हैं उन्हें पाली तहसील में शामिल करने की घोषणा भी की। इस अवसर पर राजस्व मंत्री ने कहा कि कोरबा जिला स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में अग्रणी होगा। उन्होंने कहा कि जिले के सभी स्कूलों में मूलभूत सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के लिए स्कूलों का बाउंड्री वॉल, शौचालय, शाला भवनों, पेयजल की सुविधाओं आदि का विस्तार किया जा रहा है। कोरबा शहर में लोगों के लिए मुफ्त डायलिसिस की सुविधा की तर्ज पर जिले के बालको, एनटीपीसी और एसईसीएल के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो पर दो-दो बिस्तर युक्त डायलिसिस सेंटर की सुविधा की व्यवस्था की जाएगी। नये तहसील हरदीबाजार के लोकार्पण समारोह में कटघोरा विधायक एवं मध्यक्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष पुरूषोत्तम कंवर, कटघोरा के पूर्व विधायक बोधराम कंवर, नगर निगम कोरबा के सभापति श्याम सुंदर सोनी, जनप्रतिनिधिगण सुरेन्द्र प्रताप जायसवाल, अजय जायसवाल, श्री गणराज सिंह कंवर, ग्राम पंचायत हरदीबाजार की सरपंच अनुसुईया कंवर सहित पाली एसडीएम अरूण खलखो, तहसीलदार पंचराम सलामे एवं भारी संख्या में हरदीबाजार और आसपास के ग्रामीणजन मौजूद रहे।
 कटघोरा विधायक पुरूषोत्तम कंवर ने कहा कि नए तहसील के बन जाने से लोगों को 30-40 कि.मी. दूरी तय करने से राहत मिलेगी। राजस्व मामलों के निपटारे में ग्रामीणों को सहूलियत मिलेगी। श्री कंवर ने नए तहसील में प्रशासनिक व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए नये तहसील भवन तथा तहसील कार्यालय में कर्मचारियों की पर्याप्त व्यवस्था करने की मांग की। उन्होंने कहा कि तहसील कार्यालय में वाहन की भी व्यवस्था होनी चाहिए जिससे ग्रामीणों की समस्याओं का निपटारा तहसीलदार द्वारा मौके पर पहुंच कर किया जा सके। 
विधायक की मांग पर राजस्व मंत्री ने योजना बनाकर नये तहसील में सभी व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने का आश्वासन दिया। विधायक श्री कंवर ने खनन प्रभावित क्षेत्र के लोगों के पुनर्वास, मुआवजा आदि मामलों को सीमित समय में निपटारा करने एसईसीएल को निर्देशित करने की मांग राजस्व मंत्री से की। राजस्व मंत्री ने इस बात पर आश्वासन देते हुए कहा कि एसईसीएल से संबंधित ग्रामीणों की सभी समस्याओं पर महाप्रबंधकों की बैठक बुलाकर चर्चा की जाएगी और समस्याओं का हल निकाला जाएगा।
 कटघोरा के पूर्व विधायक श्री बोधराम कंवर ने हरदीबाजार तहसील के लोकार्पण समारोह में कहा कि क्षेत्र की जनता की सहुलियत के लिए मेरे तीन सपनों में से दो सपने पूरे हो गये हैं। 
उन्होंने कहा कि हरदीबाजार में तहसील तथा कॉलेज बनने का सपना पूरा हो गया है जिससे क्षेत्र की जनता लाभान्वित होगी। श्री कंवर ने क्षेत्र के विकास के लिए हरदीबाजार को विकासखण्ड बनाने की इच्छा राज्य शासन के समक्ष रखी। उन्होंने लम्बे समय से तहसील की मांग को पूरा करने पर राजस्व मंत्री का आभार जताया। उन्होंने आसपास के गांवो को हरदीबाजार तहसील में शामिल करने की मांग की। साथ ही कहा कि नये कॉलेज भवन की बिल्डिंग को जल्द पूरा किया जाए जिससे क्षेत्र के बच्चे अपनी पढ़ाई गांव के पास ही पूरा कर पाएंगे। श्री कंवर ने हरदीबाजार में अधिकारियों के लिए सर्किट हाउस बनाने की मांग की। राजस्व मंत्री ने श्री कंवर की मांग पर सर्किट हाउस बनाने लोक निर्माण विभाग को प्रस्ताव भेजने की बात कही। उल्लेखनीय है कि हरदीबाजार को सन् 2000 में उपतहसील का दर्जा मिला था। राज्य शासन द्वारा बनाये गये 23 नवीन तहसीलों में हरदीबाजार का नाम भी शामिल है। तहसील हरदीबाजार के अंतर्गत् कुल 48 ग्राम शामिल हैं। तहसील के अंतर्गत 35 ग्राम पंचायत सहित 19 पटवारी हल्का शामिल हैं। हरदीबाजार और तिवरता दो राजस्व निरीक्षण मंडल है। तहसील हरदीबाजार में सीमांकन, बंटवाना, नामांतरण, भूमि बंटन, भूमि अर्जन, खदानों और खनिज पदार्थों से संबंधित 806 प्रकरण निराकृत किये जा चुके हैं।

अन्य पोस्ट

Comments