कोरिया

दस माह बाद खुले स्कूल-कॉलेज
15-Feb-2021 6:12 PM 55
दस माह बाद खुले स्कूल-कॉलेज

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 15 फरवरी।
लगभग 10 माह के बाद नये शिक्षा सत्र के आखिर दौर में 15 फरवरी से उ़़च्च विद्यालयों के बंद पट खुल गये। प्रदेश कैबिनेट के निर्णय के बाद  15 फरवरी से कक्षा  9 वी से कक्षा  12 तक  विद्यालय खोलने के निर्देश देने के बाद सोमवार से जिले के सभी हाई व हायर सेकेण्डरी स्कूल खुल गए हैं। हालांकि पहले दिन विद्यालयों में विद्यार्थियों की उपस्थिति बेहद कम रही। इस बात की जानकारी विद्यार्थियों को नहीं मिल पाई थी लेकिन शिक्षक समय पर विद्यालय पहुंच गए। 
कोरोना संक्रमण के चलते बंद स्कूल परिसरों में फिर से रौनक लौट गयी। धीरे धीरे विद्यालयों में विद्यार्थियों की उपस्थिति बढऩे लगेगी।

जानकारी के अनुसार इस बार बोर्ड कक्षाओं के अलावा कक्षा 9 वी व 11 में भी जनरन प्रमोशन न देकर परीक्षा लेने का निर्णय लिया गया।  अभी कक्षा 9 वी से 12 तक की कक्षाओं में पढ़ाई नहीं हो पाई है। यदि विद्यालय नही खुलता तो विद्यार्थी बिना पढे ही परीक्षा देने को मजबूर हेाते ऐसे समय में अब विद्यालय खुल गये है तो विद्यार्थियों को बडी राहत मिल गयी। जानकारी के अनुसार अप्रेल मई में उक्त कक्षाओं की परीक्षा आयोजित होने वाली है ऐसे में विद्यार्थियों को पढाई कराने  के लिए ज्यादा समय नही बचा है। ऐसे में खुले विद्यालयों में उक्त सभी कक्षाओं में पढाई निरंतर व गंभीरता पूर्वक कराना होगा। 

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण के चलते बीते शैक्षणिक सत्र के अंतिम समय मार्च से ही विद्यालयों के पट बंद हो गये थे जिसके कारण कक्षा 9 वी व 11 कक्षाओं के विद्यार्थियों को बीते सत्र में जनरल प्रमोशन दे दिया गया था। नये शिक्षा सत्र में भी कोरोना संक्रमण के चलते विद्यालय नहीं खुल पाये अंतिम सत्र के दौरान अब जाकर विद्यालय खुले है। ऐसी स्थिति में अब पढ़ाई की गति तेजी से बढ़ाने की जरूरत है। अब तक ऑन लाईन व ऑफ लाईन कक्षाएॅ संचालित की जा रही थी लेकिन दोनो मोड में विद्यार्थियों को पूरा लाभ नही मिल रहा था। कई विद्यार्थी दोनो मोड का लाभ नहीं ले पा रहे थे।

प्राथमिक विद्यालय खुलने को लेकर निर्णय नहीं
जानकारी के अनुसार कक्षा  1 ली से लेकर कक्षा  8 वी तक विद्यालय खोलने को लेकर अभी निर्णय नही लिया जा सका है।  जानकारी के अनुसार उक्त कक्षाओ का असेसमेंट निरंतर बीते कुछ माह से किया जा रहा है जिसके आधार पर प्रगति पत्र तैयार कर विद्यार्थियों को देना है। साथ ही कक्षा पहली से ऑठवी तक के किसी भी विद्यार्थी को शिक्षा के अधिकार अधिनियम एवं न्यू एजुकेशन पालिसी के तहत किसी विद्यार्थी को कक्षा में रोकना नही है। 

ऐसे में यह उम्मीद कम ही लग रही कि प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की कक्षाएॅ चालू सत्र में खुल सकेंगी। अब नये शिक्षा सत्र से ही प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय खुलने की संभावना लग रही है।

कक्षा संचालन में निर्देशों का पालन जरूरी  
सरकार के निर्णय के बाद सोमवार से हाई हाईयर सेकेण्डरी स्कूल के साथ कालेज व अन्य इंस्टीट्यूट तो खुल गये है लेकिन विद्यालयों व संस्थानों को कोविड  19 की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों का पालन करना अनिवार्य किया गया है।  कक्षा में सर्दी जुकाम व बुखार व अन्य लक्षण वाले विद्यार्थियों को कक्षा में बैठने की अनुमति नही होगी ऐसे विद्यार्थियों को लक्षण सामने दिखाई देने पर कोरोना जॉच कराना होगा। साथ ही आवश्यक समस्त प्रकार के दिशा निर्देशों का कडाई से पालन करने की जिम्मेदारी संस्था प्रमुखों को दी गयी। निर्देशों का पालन नही करने पर कडी कार्यवाही की चेतावनी भी दी गयी है।
 

अन्य पोस्ट

Comments