रायपुर

कैट के छत्तीसगढ़ बंद का मिला-जुला असर
26-Feb-2021 5:13 PM 53
कैट के छत्तीसगढ़ बंद का मिला-जुला असर

जीएसटी के नए-कड़े प्रावधानों का विरोध 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायपुर, 26 फरवरी।
कॉन्फ्रेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राजधानी रायपुर समेत छत्तीसगढ़ बंद का मिला-जुला असर रहा। जीएसटी के नए और कड़े प्रावधानों के विरोध में आयोजित भारत बंद के दौरान छोटे-बड़े बाजार बंद रहे। कैट का दावा है कि चेंबर ऑफ कॉमर्स के समर्थन न देने के बाद भी कारोबारी उनके साथ रहे और समर्थन में उनकी दूकानें बंद रही। 

केंद्र सरकार द्वारा ई-वे बिल सहित छोटे व्यापारियों के लिए ई-इनवाइस जैसे प्रावधान किए गए हैं, जिससे कारोबारी परेशान हैं। इसके विरोध में कैट द्वारा आज भारत बंद का आव्हान किया गया था, जिसे छत्तीसगढ़ के अलावा अन्य राज्यों के व्यापारियों का समर्थन रहा। 
आज सुबह कैट के पदाधिकारी-कार्यकर्ता यहां सडक़ों पर उतरे, तो मालवीय रोड, एमजी रोड, गोलबाजार, सदर बाजार, कपड़ा मार्केट, दवा मार्केट समेत कई जगहों पर खुली दुकानें भी समर्थन में बंद कर दी गई। कारोबारियों ने कैट के प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि वे सभी उनकी परेशानी को मुद्दा बनाकर उठाने वालों के साथ हैं। 

इसी तरह धमतरी, महासमुुंद, भिलाई-दुर्ग, नांदगांव, बिलासपुर, जगदलपुर, कोरबा समेत अन्य जगहों से भी कैट के समर्थन में कारोबार बंद रहने की खबर मिलती रही। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी का बंद दावा करते हुए कहना है कि कोरोनाकाल के बाद से व्यापार जगत कई दिक्कतों का सामना कर रहा है। इस मुश्किल हालात में केंद्र सरकार द्वारा एक बार फिर व्यापारियों पर जीएसटी के नए प्रावधानों का बोझ लाद रही है। 

जीएसटी के अंतर्गत नए प्रावधान किए गए हैं, जिससे यह अब और भी जटिल हो गया है। इसके चलते व्यापारियों को अब और ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कैट का बंद विफल - चैम्बर 
छत्तीसगढ़ चैम्बर ऑफ कॉमर्स के कार्यकारी अध्यक्ष ललित जैसिंघ का कहना है कि कैट का बंद विफल रहा। पूरा छत्तीसगढ़ खुला रहा।  कैट के भारत बंद को भी समर्थन नहीं मिला। छत्तीसगढ़ के सभी व्यापारियों ने बता दिया कि पूरा व्यापारी वर्ग चैम्बर के साथ है। कैट को अब समझना चाहिए कि आज भी पूरा व्यापारी वर्ग चैम्बर ऑफ कॉमर्स के साथ है।
 

अन्य पोस्ट

Comments