कोरबा

नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी से आर्थिक विकास की कहानी पहुंच रही गांव-गांव तक
07-Mar-2021 6:56 PM (55)
नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी से आर्थिक विकास  की कहानी पहुंच रही गांव-गांव तक

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 7 मार्च। शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी गांव-गांव तक पहुँच रही है। जनसंपर्क विभाग द्वारा आयोजित किए जा रहे सूचना शिविर के माध्यम से ग्रामीण इलाकों में जनहितकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। विकास फोटो प्रदर्शनी के माध्यम से सभी योजनाओं को शिविर में प्रदर्शित किया जा रहा है।

 जनकल्याणकारी योजनाओं से संबंधित पुस्तिका संबल, जनमन एवं किसान गाईड का वितरण भी ग्रामीण जनों में किया जा रहा है। आज विकासखण्ड पोड़ी-उपरोड़ा के ग्राम पंचायत भांवर में विकास फोटो प्रदर्शनी सह सूचना शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में ग्राम भांवर के अलावा आसपास के ग्राम सीपत, नगोईबछेरा तथा महोरा के ग्रामीण बड़ी संख्या में आकर विकास फोटो प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

ग्रामीणों ने शिविर में आकर विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी ली। शिविर में आए हुए समस्त ग्रामीणों को शासकीय योजनाओं की प्रचार पुस्तिका का वितरण भी किया गया। आयोजित शिविर में ग्राम भांवर के किसान श्री शिवनारायण सिंह ने आकर योजनाओं की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि सूचना शिविर के माध्यम से गांव के लोगों तक योजनाओं की जानकारी पहुंच रही है। योजनाओं की जानकारी होने से ग्रामीणजन योजनाओं का लाभ भी ले सकेंगे। उन्होंने अन्नदाता की चिंताएं दूर शीर्षक से जारी प्रचार पुस्तिका जनमन को पढ़ा। श्री शिवनारायण ने कहा कि पुस्तिका में जनहितैशी योजनाओं के बारे में विस्तार से दिया गया है जो कि किसानों को निश्चित तौर पर प्रोत्साहित करेगा। उन्होंने पुस्तिका में छपे राजीव गांधी किसान न्याय योजना से लाभार्थी किसानों को हुए लाभ के बारे में सफलता को भी पढ़ कर जाना।

ग्राम पंचायत भांवर में आयोजित शिविर में गांव की उप सरपंच श्रीमती राजेश्वरी टेकाम सहित अन्य महिलाएं श्रीमती साधमति, श्रीमती रेखा देवी एवं श्रीमती रमणिया बाई ने भी शिविर में आकर योजनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की। उप सरपंच ने कहा कि शासन द्वारा महिलाओं के लिए नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी योजना के अंतर्गत विभिन्न आर्थिक स्वावलंबन के कार्य संचालित किए जा रहे हैं। गौठानों में महिलाएं विभिन्न आर्थिक गतिविधियों में लगी हुईं हैं। गौठानों के माध्यम से विभिन्न प्रकार के आजीविका संवर्धन के कार्य महिलाओं द्वारा संचालित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गौठानों के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को रोजगार के साधन अपने गांव में ही मिल रहे हैं। उप सरपंच श्रीमती राजेश्वरी ने कहा कि सूचना शिविर के माध्यम से शासन की महत्वकांक्षी योजना नरवा-गरवा-घुरवा-बाड़ी के आर्थिक विकास की कहानी ग्रामीण इलाकों तक पहुंच रही है। शिविर में छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बारी के क्रियान्वयन, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना, आदर्श गौठान, बिजली बिल हाफ योजना, मनरेगा, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, राम वन गमन पथ, अल्पकालीन कृषि ऋण माफ, स्वास्थ्य, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास विभाग, पीडीएस, कृषि विभाग के विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं को छायाचित्र के माध्यम से प्रदर्शित किया गया। आठ मार्च को विकास फोटो प्रदर्शनी सह सूचना शिविर का आयोजन विकासखण्ड पाली के ग्राम पंचायत ईरफ में किया जाएगा।

अन्य पोस्ट

Comments