कोरिया

तबादला आदेश के 3 माह बाद भी पुराने पंचायतों में जमे हैं दो दर्जन सचिव
28-Mar-2021 3:30 PM (24)
तबादला आदेश के 3 माह बाद भी पुराने पंचायतों में जमे हैं दो दर्जन सचिव

अध्यक्ष के कड़े तेवर के बाद पदभार ग्रहण करने सीईओ ने दी 3 दिनों की मोहलत

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
मनेन्द्रगढ़, 28 मार्च।
चार दिसंबर 2020 को स्थानांतरण आदेश जारी होने के बाद भी जनपद पंचायत मनेंद्रगढ़ अंतर्गत 24 सचिवों के द्वारा नवीन पंचायतों में आज पर्यंत पदभार ग्रहण नहीं किया गया है। जनपद अध्यक्ष डॉ. विनय शंकर सिंह ने सचिवों के पुराने पंचायतों में डटे रहने को गंभीरता से लिया है। अध्यक्ष के कड़े तेवर को देखते हुए जनपद सीईओ ने पदभार ग्रहण नहीं करने वाले 24 सचिवों को 3 दिनों की मोहलत दी है। अन्यथा की स्थिति में 1 अप्रैल 2021 से वित्तीय एवं प्रशासनिक प्रभार से सचिवों को भारमुक्त कर दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायतों के व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए सचिवों के पंचायत प्रभार को कम किया गया था। कई सचिवों के पास तीन से चार पंचायत का प्रभार था, इससे ग्राम पंचायतों के कार्य प्रभावित हो रहे थे। इसके लिए जनपद अध्यक्ष डॉ. विनय शंकर सिंह ने कलेक्टर को पत्र लिखा था जिसके बाद दिसंबर 2020 में सचिवों को पंचायत प्रभार का आदेश हुआ। इसके तहत एक सचिव के पास दो से ज्यादा पंचायत नहीं दिया जाना है। आदेश के बाद भी सीईओ के नोटिसों को नजरअंदाज करते हुए 24 सचिव अभी भी अपने मूल पंचायतों में जमे हुए हैं। चूंकि अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष प्रारंभ हो रहा है। जनपद अध्यक्ष ने इस बात को गंभीरतापूर्वक लिया और सचिवों को शीघ्र अपने नए पंचायतों में ज्वाइन कराने के लिए जनपद सीईओ को निर्देशित किया। इसके बावजूद भी यदि कोई सचिव ज्वाइन नहीं करते हैं तो उनके वित्तीय एवं प्रशासनिक अधिकार समाप्त करते हुए उनके वेतन आहरण पर संपूर्ण रोक लगाने की कार्रवाई की जाएगी। जनपद अध्यक्ष डॉ. सिंह के द्वारा ग्रामीण जनता के प्रति संपूर्ण जवाबदेही से कार्य करने से ग्रामीणों में खुशी और संतुष्टि है। निश्चित ही इसके पूर्व में भी वर्षों से एक ही पंचायत में जमे तकनीकी सहायकों को पंचायत बदलने की कार्रवाई जनपद अध्यक्ष के निर्देश पर किया गया। जनपद अध्यक्ष डॉ. सिंह ने कहा कि उनकी प्राथमिकता भ्रष्टाचार को समाप्त कर पारदर्शी तरीके से जनता के संवैधानिक हितों के लिए कार्य करना है।

ये हैं स्थानांतरण आदेश की अवहेलना करने वाले सचिव
मुकेश कुमार सिंह, ग्राम पंचायत बुलाकीटोला/डोडक़ी, परशुराम, ग्राम पंचायत बिछियाटोला, श्यामकुंवर, ग्राम पंचायत तिलोखन, अनिल कुमार ठाकुर, ग्राम पंचायत डुगला, गंगाराम, ग्राम पंचायत डांड़हंसवाही, विश्वनाथ सिंह, ग्राम पंचायत बडक़ाबहरा/केराबहरा, रनिया, ग्राम पंचायत बिरौरीडांड़, तेजभान यादव, ग्राम पंचायत पहाड़हंसवाही/शिवगढ़, पल्लवी जायसवाल, ग्राम पंचायत तेंदूडांड़, शिव कुमार यादव, ग्राम पंचायत सोनहरी/बाला, धनेश्वर राय, ग्राम पंचायत सेमरा, भुनेश्वर सिंह पैकरा, ग्राम पंचायत नागपुर, ननकूराम, ग्राम पंचायत मोरगा, पूर्णिमा राजवाड़े, ग्राम पंचायत हर्रा, निरंजन कश्यप, ग्राम पंचायत उजियारपुर/सोनवर्षा, राजेंद्र तिवारी, ग्राम पंचायत मुख्तियारपारा, चंडिकेश्वर पंकज, ग्राम पंचायत बौरीडांड़/चौघड़ा, रामसुभाग बंजारे, ग्राम पंचायत लालपुर, विक्रम राम, ग्राम पंचायत पिपरिया/हस्तिनापुर, सीताराम यादव, ग्राम पंचायत डंगौरा, बबन सिंह, ग्राम पंचायत परसगढ़ी, गोपाल बेलवंशी, ग्राम पंचायत मुसरा, दिलीप राय, ग्राम पंचायत नारायणपुर, कपिलदेव चौधरी, ग्राम पंचायत कठौतिया/शंकरगढ़।
 

अन्य पोस्ट

Comments