दुर्ग

दुर्ग की 4 जिलों से लगी सीमाएं सील, बाजार में सन्नाटा
06-Apr-2021 4:23 PM (25)
दुर्ग की 4 जिलों से लगी सीमाएं सील, बाजार में सन्नाटा

पुलिस एवं निगम की टीम करती रही मॉनिटरिंग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भिलाईनगर,6 अप्रैल।
जिले में आज से लगाए गए लॉकडाउन का असर सुबह से ही ग्रामीण एवं शहरी दोनों ही क्षेत्रों में दिखना शुरू हो गया। पुलिस के द्वारा सख्ती दिखाते हुए बेमेतरा बालोद एवं रायपुर जिले से बिना इमरजेंसी के नागरिकों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।  ग्यारह स्थानों पर पॉइंट लगाकर जिले की सीमा को सील किया गया है। चाक-चौबंद व्यवस्था के लिए 1110 पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों की 24 घंटे ड्यूटी लगाई गई है। 75 पेट्रोलिंग पार्टियां कार्य कर रही है। शहर में कुल 26 चेकिंग पॉइंट बनाए गए हैं, ताकि कोरोना गाइडलाइन का पूर्णता पालन कराया जा सके। गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले को सजा के तौर पर 4 घंटे तक धूप में खड़ा किया जाएगा। सुबह से ही शहर के सारे महत्वपूर्ण बाजारों में पूरी तरह से सन्नाटा बना रहा। इसके साथ ही शहर के सारे महत्वपूर्ण चौक-चौराहों पर पुलिस की टीम मॉनिटरिंग करती रही। 

कोरोना के बढ़ते प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए जिलाधीश डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे के द्वारा 6 से 14 अप्रैल तक पूर्णता लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। इसी के क्रियान्वयन में आज दुर्ग जिले की पूरी सीमा को सील कर दिया गया है। इसके लिए अमलेश्वर, पाटन, धमधा, कुम्हारी, नंदिनी, अंजोरा से लगने वाले दिगर जिलों की सीमा पर 11 पॉइंट बनाकर सीमाएं सील कर दी गई है। पड़ोसी जिले राजनांदगांव बालोद बेमेतरा एवं रायपुर से आने वाले को दुर्ग जिले में प्रवेश नहीं दिया जाएगा इमरजेंसी की स्थिति में ई-पास के जरिए ही प्रवेश प्राप्त होगा।
 जिले की पुलिस टीम लॉकडाउन को लेकर मुस्तैद है। लॉकडाउन के लिए 1110 पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों की तैनाती पूरे जिले में की गई है। 75 पेट्रोलिंग पार्टियां लगातार पूरे जिले की मॉनिटरिंग कर रही है। शहर में 26 पॉइंट जांच के लिए बनाए गए हैं। ताकि कोरोना का उल्लंघन करने वाले लोगों को रोका जा सके। इसके अलावा पुलिस प्रशासन ने तय किया है कि कोरोना का पालन नहीं करने वाले को दंड स्वरूप 4 घंटे तक धूप में खड़ा किया जाएगा। पुलिस एवं निगम की मोबाइल टीम पूरे शहर भर में घूम-घूम कर यह देख रही है कि कहीं लॉकडाउन का उल्लंघन तो नहीं हो रहा लेकिन नागरिकगण स्वत: स्फूर्त कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने की दिशा में भागीदारी निभाने घर से नहीं निकल रहे हैं। केवल मेडिकल इमरजेंसी, टेस्टिंग, वैक्सीनेशन के लिए ही लोग बाहर निकल रहे हैं। दवा दुकानों, चश्मा दुकान को छोडक़र अन्य सभी दुकानें बंद हंै।  

दुर्ग जिले में आज लॉकडाउन का असर सुबह से ही दिखना शुरू हो गया। केवल मेडिकल इमरजेंसी, टेस्टिंग, वैक्सीनेशन और बैंक वर्क के लिए ही लोग बाहर निकले। औद्योगिक क्षेत्र के अनेक उद्योग अब भी कर्मचारियों से काम ले रहे हैं जिसके चलते कुछ फौजी नगर, छावनी व खुर्सीपार की कुछ कम्पनियों में काम चालू रहा। श्रमिकों ने बताया कि पारिश्रमिक काट लेने की वजह से उन्हें मजबूरन काम पर जाना पड़ रहा है, मुख्य चौक चौराहों को छोड़ अन्य रास्तों से वो कंपनियों तक पहुंच रहे हैं। 

कुम्हारी पुलिस के द्वारा लॉकडाउन से निपटने के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। कुम्हारी टोल प्लाजा पर नागरिकों को लॉकडाउन की जानकारी देने के लिए यातायात नियंत्रण के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले स्टॉपर पर पंपलेट चस्पा कर नागरिकों को अलर्ट किया गया है। इन पंपलेट पर दुर्ग में पूर्णता लॉकडाउन लिखकर चस्पा किया गया है। बिना पास वह बिना अनुमति के जिले में प्रवेश वर्जित है। जैसे कैप्शन चस्पा किए गए हैं। ताकि लॉकडाउन का पूर्णता पालन करवाया जा सके।

अन्य पोस्ट

Comments