कोरिया

खडग़वां के दो दर्जन गांवों के ग्रामीण कुआं और ढोढ़ी से पानी पीने मजबूर
10-Apr-2021 5:47 PM (48)
खडग़वां के दो दर्जन गांवों के ग्रामीण  कुआं और ढोढ़ी से पानी पीने मजबूर

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 10 अप्रैल।
कोरिया जिले के खडग़वां जनपद पंचायत क्षेत्र के ज्यादातर ग्रामीण कुंआ और ढोढ़ी के भरोसे पेयजल का उपयोग करने को मजबूर है, कुछ तो बाहरमासी नदी से पानी पी रहे है। 
‘छत्तीसगढ़’ ने कोरिया जिले के खडगवां तहसील में गांव स्तर पर पीने के पानी को लेकर पड़ताल की है। ‘छत्तीसगढ़’ की पड़ताल में यह बात सामने आई है कि खडग़वां तहसील के दो दर्जन गांवों से ज्यादा के ग्रामीण कुआं और ढोढ़ी से अपना प्यास बुझा रहे है। वहां के निवासियों को पीढिय़ों से शुद्ध पेयजल नहीं मिल पा रहा है। 

29 गांवों के ग्रामीण पी रहे है कुंआ से पानी
‘छत्तीसगढ़’ ने पाया कि जनपद पंचायत खडगवां के जिल्दा के सडक़पारा में 2 घर, मुगुम के खैरबहरा में 20 घर, बचरा के तुर्रापारा में 12 घर, पोडी के ठिहाईपारा में 5 घर, कोडांगी के बीचपारा में 10 घर, खडग़वां के गडहीपारा मे 5 घर, छोटेकलुआ के बर्सदापारा में 10 घर, पैनारी के गिरदापारा में 5 घर, फुनगा के सरईझरिया में 7 घर, बेलबेहरा के कंटहियापारा में 5 घर, कोटेया के पटेलपारा में 18 घर, बोडेमुढा के दर्रीपारा में 2 घर, धवलपुर के सेमरपारा में 10 घर के साथ दुबछोना के नवापारा में 16 और बडकापारा में 10 घर, दुग्गी के स्कूलपारा में 2, जिलीबांध के पटेलपारा में 10 घर, बैगापारा में 5, पीपरबेहरा के माझापारा में 10 घर, सैंधा के टिमहीपारा में 5, धरमपुर के खाटपारा मे 7 और झापीमहुआ में 4 घर के लोंग कुंए का पानी पीने को मजबूर है।

 4 सौ से ज्यादा परिवार ढोढ़ी पर आश्रित
भरतपुर जनपद पंचायत क्षेत्र अंतर्गत कई गांवों में आदिवासी परिवार ढोढ़ी के पानी पर आश्रित है। उधनापुर के नदियापरा में 5, इंद्ररपुर के लोहाटपारा मे 2 घर, कटकोना के सरहनारा में 4 घर, भुलसीपारा में 3 घर, जरौधा के बैगापारा में 20, बरदर के बिबसपुर में 6 घर के ग्रामीण आज भी ढोढ़ी का दूषित जल पीने को मजबूर हैं। आज तक शुद्ध पेयजल नसीब नहीं हो पायी है। दूषित जल के सेवन से लोगों को कई तरह की बीमारियां होने की आशंका बनी रहती हैं। उक्त गांवों के परिवार अपने पीढिय़ों से ढोढी के पानी पर आश्रित है। बरसात के दिनों में तो उन्हे और भी दूषित जल का सेवन करना पड़ता है।  
 

अन्य पोस्ट

Comments