बिलासपुर

संक्रमण में तेजी जारी, बिलासपुर में 1258 नये मरीज, 39 मौतें, 10 हजार से ज्यादा एक्टिव केस
22-Apr-2021 12:31 PM (53)
संक्रमण में तेजी जारी, बिलासपुर में 1258 नये मरीज, 39 मौतें, 10 हजार से ज्यादा एक्टिव केस

अवैध वसूली करने पर डायग्नोस्टिक सेंटर सील, आज से नये 85 बिस्तर शुरू हुए पर स्टाफ नहीं बढ़े

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर 22 अप्रैल।
जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। कल 1258 नये मरीज मिले। इस बीच विभिन्न अस्पतालों में उपचार करा रहे 39 मरीजों की मौत भी हो गई। इनमें 31 बिलासपुर जिले के हैं।

जिले में बीते दस दिनों से हर दिन एक हजार से ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं केवल बीच के दो दिनों में यह संख्या आठ नौ सौ के आसपास रही। इसके चलते इस समय एक्टिव केस की संख्या बढक़र 10 हजार पहुंच चुकी है। संक्रमण के मामलों में दुर्ग और रायपुर के बाद बिलासपुर तीसरे स्थान पर आ चुका है।

नये संक्रमित शहर के लगभाग सभी इलाकों से हैं। इसके अलावा बाहरी इलाके चकरभाठा, देवरीखुर्द, बेलतरा, मल्हार आदि से भी नये संक्रमित मिले हैं। इस बार देखा जा रहा है कि परिवार के एक सदस्य के संक्रमित होते ही दूसरे सदस्यों पर भी इसका संक्रमण तुरंत फैल रहा है। इसलिये हर दिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या नये संक्रमित होने वालों से कम बनी हुई है। बुधवार को 629 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद आइसोलेशन व अस्पताल से छुट्टी दी गई।

डायग्नोस्टिक सेंटर सील, एम्बुलेंस वालों ने लूट मचाई
कोरोना पीडि़त मरीज और उनके परिजनों से लगातार अवैध रूप से मनमानी राशि वसूलने की शिकायत आ रही है। तेलीपारा स्थित मान्या डायग्नोसिस सीटी स्कैन सेंटर को कल स्वास्थ विभाग ने सील कर दिया और संचालक को फटकार लगाई। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर के पास शिकायत आई थी कि चेस्ट स्कैनिंग के लिए निर्धारित 1870 से 2354 रुपये शुल्क की जगह यहां पर 4600 रुपये लिए जा रहे थे। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने यहां छापा मारा। आरोपों की पुष्टि होने पर टीम के डॉ. अनिल श्रीवास्तव और प्रवीण शर्मा ने डायग्नोसिस सेंटर को सील करने का आदेश दिया।

दूसरी तरफ कोरोना पीडि़तों के लिये एंबुलेंस की भी बड़ी संख्या में जरूरत पड़ रही है। इन्होंने भी मनमाना रेट लेना शुरू कर दिया है। ज्यादातर एंबुलेंस निजी अस्पतालों के हैं। घर से अस्पताल ले जाने के लिए तीन से छह हजार रुपये मांगे जा रहे हैं। शहर के बाहर से मरीज लाने के लिए 25000 रुपये तक का किराया मांगा जा रहा है। सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन ने बताया है कि उन तक शिकायत पहुंची है, एंबुलेंस संचालकों ने मनमानी बंद नहीं की तो उनके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी। ज्ञात हो कि शासन ने इलाज के लिये दर तो तय किये हैं पर एम्बुलेंस किराया जैसी चीजों को इसमें शामिल नहीं किया गया है।

टीकाकरण रफ्तार नहीं पकड़ रहा
लोगों में टीकाकरण के लिए उत्साह लगातार घटता ही जा रहा है। इस बीच 22 हजार टीकों की जगह लक्ष्य घटाकर 16 हजार कर दिया गया है। इसके बावजूद शहर में जिले के 130 टीकाकरण केंद्रों में केवल 2165 लोगों ने बुधवार को टीका लगवाया। इनमें से 1270 लोगों ने पहला और 895 ने दूसरा डोज लगवाया। 45 से 60 वर्ष के बीच के 827 ने पहला और 272 ने दूसरा डोज लगवाया। बुजुर्गों में 365 ने पहला और 554 ने दूसरा डोज लगवाया। इसके अलावा फ्रंटलाइन वारियर्स हेल्थ वर्कर्स ने भी टीके लगवाए। नगर निगम के क्षेत्र में टीकाकरण संतोषजनक बताया गया है। शहर के 80 फ़ीसदी लोगों ने टीकाकरण करा लिया है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में रफ्तार कम है।

85 ऑक्सीजन बेड बढ़े  
लगातार बढ़ते मरीजों के साथ-साथ नए कोविड उपचार सेंटर और बिस्तर की संख्या में वृद्धि के प्रयास किए जा रहे हैं। अभी तक सिम्स चिकित्सालय में केवल आपात स्थिति में मरीजों की भर्ती की जाती थी। आज से यहां पर 45 ऑक्सीजन युक्त बेड शुरू कर दिए गए हैं और मरीजों की भर्ती शुरू कर दी गई है। संभागीय कोविड अस्पताल में 100 बिस्तर पहले से थे और 40 अभी तैयार हुए हैं। इन्हें भी आज शाम तक चालू किया जायेगा। इसकी क्षमता भी 200 तक ले जाने की है। नए सभी बिस्तर ऑक्सीजन युक्त होंगे इसके अलावा 28 आईसीयू बेड भी होंगे।

सिम्स स्टाफ के बड़ी संख्या मे संक्रमित होने लगातार जांच के लिये कोरोना संदिग्धों के पहुंचने के कारण वैसे भी स्टाफ की कमी चल रही थी। सिम्स में आज से नये बिस्तर लगाये गये हैं पर स्टाफ नहीं बढ़ाया गया है। डीन ने स्टाफ की कमी को देखते हुए डीएमई को पत्र लिखा है लेकिन उसका जवाब नहीं आया है।

18 साल से अधिक लोगों के लिए तैयारी
आगामी एक मई से 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को कोरोना का टीका लगवाने की घोषणा के बाद प्रशासनिक स्तर पर इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। जिले में 18 वर्ष से 45 वर्ष के बीच लोगों की संख्या 8 लाख 83 हजार होने का अनुमान है। जिले की जनसंख्या लगभग 19 लाख है। 18 वर्ष से अधिक लोगों को टीकाकरण में शामिल करने के बाद करीब 15 लाख लोगों का टीकाकरण लक्ष्य पूरा करना होगा।  

अनुग्रह राशि के लिये खोली ट्रेजरी
लॉकडाउन के चलते सभी शासकीय कार्यालयों में अवकाश चल रहा है। इस बीच शिक्षक संगठनों ने जिला प्रशासन और शिक्षा अधिकारियों से मांग की कि कोरोना संक्रमण के चलते हाल के दिनों में 7 शिक्षकों की मौत हो चुकी है। इन्हें अनुग्रह राशि प्रदान की जाये। शिक्षकों की मांग पर आज कुछ घंटों के लिये जिला कोषालय को खोला गया है। मृत शिक्षकों के परिजनों के लिये 50-50 हजार रुपये की तत्कालिक सहायता स्वीकृत की गई है। इसके अलावा कोविड संबंधी बिलों के भुगतान व अनुग्रह राशि की अन्य राशि भी कोषालय से जारी की जायेगी।

स्टेशन पर जांच की रफ्तार बढ़ी
रेलवे स्टेशन में उतरने वाले यात्रियों की कोरोना जांच में कड़ाई शुरू की गई है। पहले भी यह जांच चल रही थी लेकिन रफ्तार धीमी थी। अप्रैल के 20 दिनों में यहां उतरने वाले 878 यात्री संक्रमित मिले हैं। इस दौरान 5633 का एंटिजन और 1265 का आरटीपीसीआर सैंपल लिया गया। इनमें से सिर्फ 22 मरीजों की हालत ऐसी थी जिन्हें अस्पतालों में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। शेष 856 होम आइसोलेशन पर हैं।

अन्य पोस्ट

Comments