सरगुजा

कोरोना से निपटने केंद्र ने सौ करोड़ दिए राज्य ने खर्चे सिर्फ 41 करोड़-रेणुका
12-May-2021 4:35 PM (451)
कोरोना से निपटने केंद्र ने सौ करोड़ दिए राज्य ने खर्चे सिर्फ 41 करोड़-रेणुका

सीएम पर आरोप 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अम्बिकापुर, 12 मई।
केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव पर एक बार फिर से बड़ा हमला बोला है। बुधवार को वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से अंबिकापुर के पत्रकारों से चर्चा करते हुए रेणुका सिंह ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के बीच कुर्सी की लड़ाई है।

केंद्रीय राज्य मंत्री ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री चाहते हैं कि स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव स्वास्थ्य के क्षेत्र में फेल हो जाए। मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के बीच खींचतान का असर है कि गांव-गांव में कोरोना का फैलाव तेज हुआ है।
अस्पताल में अव्यवस्थाओं को लेकर केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि हमने राज्य सरकार को महामारी से निपटने 109 करोड़ रुपए दिए, उसमें से राज्य सरकार ने सिर्फ 41 करोड़ ही खर्च कर पाई है। सरकार को चाहिए था कि केंद्र से भेजे हुए रुपए का उपयोग करें और स्टाफ नर्स की कमी व जो भी सामग्री की कमी हो उसे दुरुस्त करें पर सरकार ने ऐसा नहीं किया। हम लोग राशि उपलब्ध करा सकते हैं बाकी जिम्मेदारी प्रदेश के मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री की बनती है कि वह जनता की सेवा के लिए किस तरह प्रयासरत हैं। जब केंद्र ने इतनी राशि दी है तो अव्यवस्था नहीं होनी चाहिए थी

रेणुका सिंह ने आगे बताया कि जुलाई के बाद से सभी प्रदेशों को केंद्र सरकार नगद राशि दे रही है। छत्तीसगढ़ को 109 करोड़ रुपए दी गई जिसमें 41 करोड़ ही सरकार ने खर्च कर पाई। 64 लाख 16 हजार 550 डोज वैक्सीन के लिए दिए हैं। दो लाख से अधिक रेमडेसीवीर इंजेक्शन दिए जा चुके हैं।ऑक्सीजन की आपूर्ति आवश्यकतानुसार पूरा कर रहे हैं।केंद्र पूरी इमानदारी से राज्य सरकार से मिलकर जीवन बचाने में लगी है।

पिछले सप्ताह भर से कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी भाजपा पर कई आरोप लगा रहे हैं कभी कहते हैं लॉकडाउन बढ़ाया जाए और कभी कहते हैं कि लॉकडाउन से देश को पीछे धकेला जा रहा है। 
रेणुका सिंह ने कहा कि महामारी से निपटना है तो आरोप प्रत्यारोप से काम नहीं चलेगा, समन्वय बनाकर काम करना होगा। नया लोक सभा भवन बनाने को लेकर रेणुका सिंह ने कहा कि यह कांग्रेस की सोच थी पीएम मोदी इसे पूरा कर रहे हैं तो आपत्ति नहीं होना चाहिए। वैक्सीनेशन को लेकर भी देश में कांग्रेस भ्रम की स्थिति पैदा कर रही है।

रेणुका के अंदर वही धार वही तेवर अभी भी है
वर्चुअल मीटिंग में अंबिकापुर के पत्रकारों द्वारा केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह से पूछा गया कि वह जनता की भलाई के लिए लड़ाई नहीं लड़ रही,क्या उन्हें सरगुजा से प्रेम खत्म हो गया है या सेंट्रल रास आ गया है? प्रश्न के संदर्भ में रेणुका सिंह ने कहा कि प्रदेश में हमारी सरकार नहीं है,अंबिकापुर के विधायक स्वयं प्रदेश में स्वास्थ्य मंत्री हैं,हम पूरा विश्वास करते हैं कि वह क्षेत्र का ख्याल रखेंगे।

30 अप्रैल को केंद्र में बैठक हुई थी, मैंने प्रधानमंत्री को छत्तीसगढ़ की स्थिति से अवगत कराया है। मेरा काम है छत्तीसगढ़ के हित में पैसा भिजवाना जो मैं पूरी ईमानदारी से भिजवा रही हूं। समय-समय पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन सिंह से बात करती रहती हूं,जब भी मौका मिलता है प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखती हूं। लड़ाई वाली बात नहीं है रेणुका सिंह के अंदर वही धार वही तेवर अभी ही है।

सूरजपुर में स्वास्थ्य की लचर व्यवस्था को लेकर रेणुका सिंह ने कहा कि सूरजपुर सीएमएचओ से बात करते रहते हैं, लेकिन सीएमएचओ के ससुर खेलसाय है,यहां परिवारवाद जमकर हावी है। ससुर कांग्रेस के इतने बड़े नेता हैं तो सीएमएचओ को काहे की चिंता होगी। सरगुजा के भी हालात खराब हैं,सरकार को पूरी ईमानदारी के साथ स्वास्थ्य क्षेत्र में अच्छा काम करना चाहिए।प्रेस वार्ता को सरगुजा के वरिष्ठ भाजपा नेता अनिल सिंह मेजर ने भी संबोधित किया।
 

अन्य पोस्ट

Comments