राजनांदगांव

नए सियासी पारी में नवाज ने दिखाई ताकत
25-Jul-2021 1:31 PM (44)
नए सियासी पारी में नवाज ने दिखाई ताकत

 

सहकारी बैंक अध्यक्ष शपथ ग्रहण समारोह में उमड़ा जनसैलाब

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 25 जुलाई।
जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के नवनियुक्त अध्यक्ष नवाज खान ने नई सियासी पारी की शुरूआत धमाकेदार रूप से की है। अरसे बाद कांग्रेस के किसी कार्यक्रम में उमड़ी जनसैलाब से यह साफ हो गया कि राजनांदगांव की सियासी समीकरण अगले कुछ महीनों में नए सिरे से बदलेंगे।

युवाओं के बीच लोकप्रिय माने जाने वाले नवाज खान को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की बागडोर सौंपी है। उनकी राजनीतिक नियुक्ति को मुख्यमंत्री का एक बड़ा संदेश माना जा रहा है। वहीं पूर्व प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर के भी वह इस नियुक्ति के जरिये काफी नजदीक हुए हैं। बताया जा रहा है कि नवाज खान ने शपथ ग्रहण समारोह में बेहद सटीक और गंभीर उद्बोधन में किसानों के हितों को सर्वोपरि मानकर कार्य करने का भरोसा दिया है। किसानों की योजनाओं के क्रियान्वयन में सहकारी बैंक की एक अहम भूमिका रहेगी। प्रशासनिक रूप से नवाज को शासन के महत्वकांक्षी योजनाओं को मूर्तरूप देने की चुनौती से पार पाना होगा।

बताया जा रहा है कि नवाज खान ने शपथ ग्रहण समारोह में अपनी राजनीतिक वजूद को बखूबी सामने रखा है। जिलाध्यक्ष रहते नवाज ने सरकार के हितों के साथ समझौता करने का कभी भी इरादा जाहिर नहीं किया। कांग्रेस सरकार के ढाई साल के कार्यकाल में सत्ता से जुडऩे के लिए भले ही अभी लंबी फेहरिस्त है, पर हकीकत यह है कि भाजपा सरकार के दौरान नवाज की अगुवाई में कई कार्यक्रम कांग्रेस के बैनर तले सफल हुए।

प्रदेश अध्यक्ष रहते मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के लिए तमाम विपरीत परिस्थितियों में साधन-संसाधन जुटाने के लिए भी नवाज ने पूरा दमखम लगाया। बताया जा रहा है कि सरकार के लिए संघर्ष करने वालों को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवाज को बैंक अध्यक्ष का एक बेहतर विकल्प माना है। इस बीच नवाज समेत राजनांदगांव में राजनीतिक नियुक्तियों को सरकार ने संघर्ष का एक सकारात्मक परिणाम बताया है। खुले तौर पर वन मंत्री अकबर ने स्पष्ट कहा कि संघर्ष करने वालों को सरकार ने सम्मान के तौर पर ओहदे दिए हैं।

इस बीच स्थानीय  गोविंदराम निर्मलकर आडिटोरियम में बरसों बाद पहुंची भीड़ के लिए पैर रखने के लिए जगह नहीं थी। युवाओं का जोश नवाज के समर्थन में बढ़-चढक़र दिखाई दिया। यह तय है कि राजनांदगांव की सियासत में नवाज का कद स्वभाविक रूप से बढ़ा है। पार्टी आलाकमान और सरकारी नजरिये से नवाज को मिली जिम्मेदारी सोच-समझकर मिली है। ऐसे में अगले कुछ महीनों में कांग्रेस की राजनीति में नवाज का परोक्ष और अपरोक्ष रूप से सीधा दखल रहेगा।

अन्य पोस्ट

Comments