रायगढ़

बाजारों में भीड़, सडक़ों पर लोगों का हुजूम, तीसरी लहर को जल्द आने दे रहे दावत
28-Jul-2021 10:16 PM (73)
बाजारों में भीड़, सडक़ों पर लोगों का हुजूम, तीसरी लहर को जल्द आने दे रहे दावत

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 28 जुलाई।
कोरोना संक्रमण ने पूरे देश और दुनिया में जिस तरह तबाही मचाई उससे लोग त्राहि-त्राहि हो चुके हैं। वहीं अब जब कोरोना की दूसरी लहर ढलान पर है तब इस वायरस की तीसरी लहर चिंता का कारण बनी हुई है। ऐसे में सतर्क रहना जरूरी है, लेकिन लॉकडाउन से ऊब चुके लोग मानो हालातों को समझने को तैयार ही नहीं और कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर कम होते ही शहर के लोग एक बार फिर से लापरवाही बरतते हुए बगैर मास्क के घुमते व दुकान संचालन करते हुए आसानी से देखे जा रहे हैं।  

दरअसल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ढलान पर पहुंचते ही लॉकडाउन में ढील मिलते ही लोग बेवजह बेखौफ घरों से बाहर निकलकर घुमने फिरने लगे हैं। शहर के मछली मार्केट, बस स्टैण्ड, सब्जी मार्केटों में जहां लोगों की भीड देखी जा रही है वहीं शहर की सडक़ों में लोगों का हुजुम उमड़ रहा है जिसमें से लगभग 40 प्रतिशत लोग लापरवाही बरतते हुए बगैर मास्क के घुमते दिखाई देते हैं। कभी-कभी शहर में भीड़ इस कदर हो जाती है कि सडक़ों में घंटो-घंटो तक टै्रफिक जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। ये लापरवाही कोरोना की तीसरी लहर को और भी खतरनाक बना सकती है।

दिनचर्या में सुधार करने की जरूरत- अशोक
युवा नेता एवं जिला कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता अशोक अग्रवाल का कहना था कि कोरोना की दूसरी लहर से मिली शांति पश्चात लोग लापरवाह हो गए है। शासन-प्रशासन की लाख समझाइस पश्चात भी लोगो मे दिन प्रति दिन लापरवाही बढ़ती जा रही है।बाजारों में बढ़ती भीड़,सोशल डिस्टेंस का पालन ना करना, मास्क ना लगाना कोरोना की तीसरी लहर को न्यौता है। यदि जल्द ही आम नागरिक कोरोना के प्रकोप से निपटने अपने दिनचर्या में सुधार नही करता, तो पूरे देश मे फिर से संकट के बादल आ सकते है।

लापरवाही पड़ेगी महंगी-राहुल
रायगढ़ के युवा राहुल यादव का कहना था कि शहर के बाजारों में उमडऩे वाली भीड़ और लोगों में कोरोना संक्रमण के प्रति भय कम हो गया है नतीजन लोग न तो सेनेटाईजर का उपयोग कर रहे और न ही मास्क का, सोशल डिस्टेंश की भी धज्जियां उड़ाई जा रही है, आलम यह है कि शहर की सडक़ों में हुजूम व बाजारों में लोगों की भीड देखी जा रही है। इस तरह की लापरवाही का खामियाजा निश्चय ही रायगढ़ वासियों को भुगतना पड़ सकता है।

शराब दुकानों में नहीं होता सोशल डिस्टेंस का पालन  
लॉकडाउन खुलते ही शराब की दुकानों पर भारी भीड़भाड़ देखने को मिली रही है। आबकारी विभाग शराब दुकानों में लोगों को कोविड प्रोटोकाल दिशा निर्देशों का पालन कराने में असफल रहा है। शहर के शराब दुकान खुलने से लेकर बंद होते तक इन दुकानों में लोग सोशल डिस्टेंशन नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए आसानी से देखे जा सकते है। मदिरा प्रेमियों की इस लापरवाही का खामियाजा तीसरी लहर उठाना पड़ सकता है।

पुलिस चालान करे इससे पहले लोग हों जागरूक- एएसपी
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता ने इस संबंध में जब कार्रवाई बाबत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा से चर्चा की तो उनका कहना था कि रायगढ़ पुलिस के द्वारा समय-समय पर शहर के चौक-चौराहों पर बिना मास्क लगाए आने-जाने वालों पर चालानी की कार्रवाई की जाती है। मगर लोग पुलिस या चालानी कार्रवाई के डर से मास्क पहनें इससे अच्छा यह होगा कि लोग कोरोना के भयावह संक्रमण को महसूस करें और स्वयं जागरूक होकर न केवल मास्क पहनें बल्कि घर से निकलते ही सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करें। इसी सामाजिक जागरूकता से कोरोना को मात देना संभव हो सकता है।
 

अन्य पोस्ट

Comments