छत्तीसगढ़ » कांकेर

27-Aug-2020 8:16 PM

मनेन्द्रगढ़, 27 अगस्त। स्नातक प्रथम वर्ष के नियमित परीक्षार्थी जिन्होंने असाइनमेंट की उत्तर पुस्तिका ऑनलाइन ई-मेल के माध्यम से जमा किया है, वे समस्त संबंधित विषयों की हार्डकॉपी (असाइनमेंट की हस्तलिखित प्रति) 31 अगस्त तक कार्यालय में जमा कर सकते हैं। उक्ताशय की जानकारी देते हुए शासकीय विवेकानंद स्नातकोत्तर महाविद्यालय की प्राचार्या ने कहा कि जिन परीक्षार्थियों ने पूर्व मे ही डाक के माध्यम से या व्यक्तिगत तौर पर स्वयं महाविद्यालय आकर जमा कर दिया है, उन्हें पुन: जमा करने की आवश्यकता नहीं है।


25-Aug-2020 7:25 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बैकुंठपुर, 25 अगस्त।
कोरिया जिले के भरतपुर जनपद क्षेत्र में अवैध रेत खुदाई के विरोध में अब महिलाएं भी सडक़ों पर उतर आई हैं।  

जानकारी के अनुसार हाल में भरतपुर जनपद क्षेत्र की नदियों से अवैध रेत उत्खनन कार्य में लगे ट्रैक्टरों व अन्य वाहनों को महिलाओं के समूह ने सडक़ों पर रोक कर विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान दोनों पक्षों से जमकर बहस भी हुई। इतना सब कुछ होने के बावजूद प्रशासनिक कार्रवाई नहीं होने पर क्षेत्र के लोगो में नाराजगी है। 

उल्लेखनीय है कि भरतपुर जनपद क्षेत्र के प्रमुख नदियों से हर मौसम में नदियों से अवैध तरीके से रेत निकालने का काम जारी रहता है। नियम कानूनों को दरकिनार कर भारी मात्रा में रेत उत्खनन कर बड़ी-बड़ी गाडिय़ों से ले जाया जाता है। 

जानकारी के अनुसार इस क्षेत्र की नदियों से निकाली गयी रेत मप्र के अलावा उप्र के कइ्र शहरों तक सप्लाई की जाती है। सूत्रों के अनुसार जिस व्यक्ति द्वारा अवैध तरीके से भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान रेत उत्खनन किया जा रहा था उसी व्यक्ति द्वारा इस दौरान भी रेता का अवैध उत्खनन भरतपुर जनपद क्षेत्र की नदियों से किया जा रहा है। 

नेउर नदी से कई जगहों से निकाली जा रही रेत
भरतपुर जनपद क्षेत्र के प्रमुख नदियों में से एक नेउर नदी है। इस नदि के कई प्रवास क्षेत्रों से रेत माफियाओं द्वारा नियम विरूद्ध तरीके से प्रतिदिन रेत का उत्खनन पोकलेन के माध्यम से किया जा रहा है और प्रतिदिन बड़ी मात्रा में रेत का उत्खनन कर हाईवा व ट्रैक्टरों के माध्यम से परिवहन किया जा रहा है। 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भरतपुर जनपद क्षेत्र के ग्राम घुघरी व हरचौका जो कि मप्र के सीमावर्ती गॉव है। इन गांव क्षेत्र से होकर बहने वाली क्षेत्र की प्रमुख नेउर नदी में प्रतिदिन पोकलेन की सहायता से रेत का उत्खनन अवैध तरीके से किया जा रहा है और बड़ी बडी वाहनों में बडी मात्रा में यहां का रेत निकाल कर परिवहन किया जा रहा है। यहां से निकाली गयी रेत को मप्र के कई शहरों के अलावा उप्र के कई शहरों तक पहुंचाया जा रहा हैं। इसके अलावा भरतपुर जनपद क्षेत्र के ग्राम पंचायत कोटाडोल क्षेत्र से लगे नेउर नदी से भारी मात्रा में रेत प्रतिदिन निकाली जा रही है। बावजूद इसके अवैध रेत उत्खनन को रोकने की कोई ठोस प्रशासनिक कार्यवाही नही की जा रही है। 

प्रतिबंध के बावजूद रेत खुदाई, न्यायालय के निर्देशों की अवहेलना
जानकारी के अनुसार नदियों के अस्तित्व को बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने आगामी 30 सितंबर तक नदियों से रेत खुदाई पर पूरी तरह से रोक लगाने के आदेश जारी किये गये थे बावजूद नदियों से प्रतिबंधित काल में भी धड़ल्ले से निर्देशों की अवहेलना करते हुए रेत खुदाई व परिवहन लगातार जारी है। कोरिया जिले के भरतपुर जनपद क्षेत्र में इस दौरान भी लगातार बे रोक टोक क्षेत्र की नदियों से अवैध तरीके से रेत खुदाई व परिवहन लगातार जारी है लेकिन प्रशासन मौन है।

नायब तहसीलदार कार्यालय से कुछ दूर पर अवैध उत्खनन
भरतपुर जनपद पंचायत अंतर्गत कोटाडोल में स्थित नायब तहसीलदार कार्यालय से महज पांच सौ मीटर की दूरी पर अवैध तरीके नदी से अवैध तरीके से रेत निकाली जा रही है। इसके लिए अवैध खुदाई कर्ता द्वारा नदी तक बकायदा रोड बना दी गयी है। सडक़ निर्माण के लिए जंगल की गिट्टी का उपयोग किया गया। जबकि पास में ही वन विभाग का कार्यालय भी स्थित है।  
 


22-Aug-2020 8:55 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

भानुप्रतापपुर, 22 अगस्त। कांकेर जिले के केवटी से अन्तागढ़ रेलवे लाइन का सीआरएस निरीक्षण रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में सशस्त्र सीमा बल एसएसबी की पूर्ण सुरक्षा में सफलतापूर्वक संपन्न हो गया।

बहुप्रतीक्षित परियोजना पूर्ण होते देख आसपास क्षेत्र के ग्रामीण बहुत खुश दिखे और एसएसबी के जवानों को सेल्यूट किया। ज्ञात हो कि भारतीय रेल सामाजिक आर्थिक विकास की गति को निरंतर बढ़ाते हुए दुर्गम एवं विषम परिस्थितियों वाले क्षेत्रों में आर्थिक व सामाजिक विकास को बढ़ाने जा रही है।

दल्लीराजहरा - रावघाट -जगदलपुर परियोजना कुल 235 किलोमीटर तक रेल लाइन बिछाने का कार्य रेलवे, छत्तीसगढ़ शासन, स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड एनएमडीसी के संयुक्त प्रयास से बनाया जा रहा है। जिसके प्रथम चरण में रायपुर रेल मंडल ने दल्लीराजहरा -रावघाट नई रेल लाइन 95 किलोमीटर तक ले जाने का लक्ष्य रखा है जिसके तहत दल्लीराजहरा से अंतागढ़ तक लगभग 59 किमी नई रेल लाइन बिछाने में सफलता प्राप्त की एवं दल्लीराजहरा से केवटी तक लगभग 42 किमी यात्रियों को रेल सुविधा दी जा रही है।

इसी रेल लाईन का विस्तार केवटी से अंतागढ़ तक (16.941किमी) 17 किम और कर दिया गया है। इस रेलवे पटरी पर पहली बार इंजन रोलिंग की जांच सफलतापूर्वक 30 जुलाई, 2020 को किया गया एवं इंजन रोलिंग जांच के उपरांत सम्पूर्ण कार्य पूरा होने के पश्चात् आयुक्त रेलवे सेफ्टी द्वारा निरीक्षण किया जाता है।

21 अगस्त को इसी संदर्भ में एसई सर्कल के आयुक्त, रेलवे सेफ्टी ए.के.राय द्वारा केवटी-अंतागढ़ नई ब्रॉड गेज लाइन का निरीक्षण करने निरीक्षण दल के साथ विशेष गाड़ी से केवटी स्टेशन पहुंचे।  केवटी से अंतागढ़ के मध्य नई लाइन का मोटर ट्राली द्वारा परिचालन एवं सुरक्षा से जुढ़े सभी पहलुओं का गहन निरीक्षण किया गया। अंतागढ़- केवटी  के बीच नई ब्रॅाड गेज लाइन का डीजल लोको के साथ 100 से 110 किलो मीटर प्रति घंटा का स्पीड ट्रायल भी जांचा परखा गया।

आयुक्त, रेलवे सेफ्टी से अनुमति के बाद नई रेल लाइन पर गाडियों का परिचालन प्रारंभ किया जाता है। जल्द ही रायपुर को रेल मार्ग द्वारा अंतागढ़ से यात्री सुविधाओं के साथ माल परिवहन की दिशा में भी दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल अपनी सेवाएं प्रदान करेगा। 

रेल अधिकारियों के साथ 33 वीं वाहिनी के कमांडेंट विजय सिंह और डिप्टी कमांडेंट गौतम सागर भी सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए रेलवे पटरी के आसपास जवानों के साथ लगातार लगे रहे। साथ ही मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण), मंडल रेल प्रबंधक, रायपुर श्याम सुंदर गुप्ता  सहित मुख्यालय बिलासपुर तथा रायपुर मंडल एवं रेल विकास निगम लिमिटेड के अधिकारी शामिल थे।


18-Aug-2020 4:32 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भानुप्रतापपुर, 18 अगस्त।
कांकेर जिले के भानुप्रतापपुर के नयापारा में मंगलवार को एक ही परिवार के चार सदस्य कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। स्थानीय प्रशासन के द्वारा उन सभी संक्रमित मरीज को उपचार हेतु हायर सेंटर भेजने की तैयारियां की जा रही है। वहीं नयापारा वार्ड को सील की जा रही है। नगर में दहशत का माहौल बना हुआ है।

कोरोना मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या से अब कांकेर जिला भी अछूता नहीं रहा है। आज मंगलवार को भानुप्रतापपुर के नयापारा में एक ही परिवार के चार सदस्य तेज बुखार, सर्दी खांसी के लक्षण होने पर उपचार हेतु परिवार के सभी सदस्य सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे जहां जांच के बाद सभी पॉजिटिव पाए गए। 

इस संबंध में बीएमओ एच एल ठाकुर ने बताया कि ओपीडी में फीवर क्लिनिक बनाया गया है, जहां उन सभी का लक्षण पाए जाने पर कोरोना टेस्ट किया गया। रिपोर्ट में सभी चारों पॉजिटिव पाये गए हंै, जिन्हें कोविड-19 हॉस्पिटल उपचार हेतु भेजे जाने की तैयारी की जा रही है। 

वही संक्रमण के रोकथाम के उद्देश्य से नयापारा वार्ड को चारों तरफ से सील करने की तैयारियां की जा रही है व संपर्क में आये लोगों का भी कोरोना टेस्ट किया जाएगा।