छत्तीसगढ़ » महासमुन्द

Previous123456789...110111Next
03-Aug-2021 6:03 PM (21)

महासमुंद, 3 अगस्त। संसदीय सचिव व विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर ने ग्राम पंचायत खैरा में गौठान निर्माण के लिए भूमिपूजन किया। इस दौरान ग्रामीणों की मांग पर भवन निर्माण के लिए उन्होंने साढ़े छह लाख रुपए देने की घोषणा की। जिस पर ग्रामवासियों ने संसदीय सचिव श्री चंद्राकर का आभार जताया।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संसदीय सचिव व विधायक श्री चंद्राकर थे। कार्यक्रम की जनपद अध्यक्ष यतेंद साहू ने की। विशेष 


03-Aug-2021 6:03 PM (19)

महासमुंद, 3 अगस्त। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार एवम कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए  2 अगस्त को संकुल केन्द्र तुमगांव में कक्षा 1 से 5, कक्षा 8 एवं 10 और 12 की कक्षाएं लगी। इसमें 50 प्रतिशत बच्चों की उपस्थिति रही। विद्यालय लगने से पूर्व पंचायत, वार्ड स्तर पर बैठक लेकर सहमति प्राप्त की गई थी और शाला खोलने हेतु अनुशंसा प्राप्त की गई थी। 

 


03-Aug-2021 4:46 PM (21)

महासमुंद, 3 अगस्त। आस्था साहित्य समिति महासमुंद द्वारा कहानी एवं उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की 141वीं जयंती के अवसर प्रेमचंद का साहित्य संसार विषय पर उ.मा वि.महासमुंद में साहित्यकार एस चंद्रसेन की अध्यक्षता में परिचर्चा का आयोजन किया गया। 
इस अवसर पर साहित्यकार एवं आस्था साहित्य समिति अध्यक्ष आनंद तिवारी पौराणिक ने कहा कि समकालीन साहित्यकारों में प्रेमचंद अकेले ही देदीप्यमान प्रकाशपुंज थे। उनकी रचनाएं सदैव प्रासंगिक रहेगी। डा.्साधना कसार ने कहा कि हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ साहित्यकार एवं युग प्रवर्तक रचनाकार प्रेमचंद जी कोहिनूर हीरे की तरह चमकदार थे। उन्होंने आदर्शोन्मुख यथार्थवाद का चित्रण किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये एस् चंद्रसेन ने परिचर्चा को आगे बढ़ाते हुये कहा कि प्रेमचंद समाज के द्वारा प्रताडि़त वर्गों एवं निष्क्रिय माने जाने वर्गों को मुख्य पात्र मानकर साहित्य सृजन में रत् रहे। उनकी रचनाएं आज भी प्रासंगिक है ।

सभा का संचालन करते हुये साहित्यकार टेकराम सेन चमक ने प्रेमचंद की कविता का पाठ करते उनके प्रसिद्घ उपन्यास सेवासदनए प्रेमाश्रय, निर्मला, रंगभूमि, गबन, गोदान एवं कहानी संग्रह नमक का दरोगा, प्रेमतीर्थ, पांच फूल, सप्त सुमन को समाज का धरोहर निरुपित किया । साहित्यकार एसआर बंजारे, सुरेन्द्र अग्निहोत्री एवं कमलेश पाण्डेय ने कहा कि मुंशी प्रेमचंद ने भारतीयता एवं कृषि संस्कृति पर अपनी लेखनी चलाई है। उनके पात्र की व्यथा पाठक की व्यथा सी लगती है ।
 


03-Aug-2021 4:45 PM (21)

नांदगांव राज मरार समाज के प्रमुख व किसान मिले अग्नि चंद्राकर से, की चर्चा

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
नांदगांव राज मरार समाज के प्रमुखों व किसानों ने बीज निगम अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर से उनके निवास में भेंटकर खेती-बाड़ी, सामाजिक उत्थान व जनसमस्याओं को लेकर चर्चा की। उन्होंने अधूरी पड़ी निसदा-लवन नहर को पूरा कराने और बेलटुकरी में एनीकट की मांग भी की।

निसदा-समोदा बैराज से बलौदाबाजार लवन तक जाने वाली नहर वटगन पलारी तक ही पहुंच पाई है। बीच-बीच में भी कई जगह अधूरी है। नहर का निर्माण अटका हुआ। किसान बाट जोह रहे हैं कि नहर निर्माण पूरा हो तो उनके खेतों को पानी मिले।
 इसी प्रकार महासमुंद जिला विकासखंड महासमुंद के ग्राम बेलटुकरी में कोडार नाला पर एनीकट बनाने की मांग ग्रामीणों द्वारा लंबे समय से की जा रही है। प्रारंभिक सर्वे भी हो चुका है, लेकिन बात इससे आगे नहीं बढ़ पाई। 

उक्त बातें नांदगांव राज मरार पटेल समाज के प्रतिनिधिमंडल में शामिल किसानों ने छग राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम के अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर से कही। चार जिलों महासमुंद, गरियाबंद, रायपुर व भाटापारा-बलौदाबाजार के 53 गांवों वाले नांदगांव राज मरार समाज के अध्यक्ष त्रिपुरारी पटेल, उपाध्यक्ष बिहारी पटेल, संगठन महामंत्री तुकाराम पटेल, सचिव गोविंद पटेल, पंजीयन सचिव शिव कुमार पटेल के नेतृत्व में समाज प्रमुखों ने श्री चंद्राकर से उनके निवास में भेंटकर खेती-बाड़ी, सामाजिक उत्थान व जनसमस्याओं को लेकर चर्चा की। 
वरिष्ठ कांग्रेस नेता अग्नि चंद्राकर ने किसानों को उचित पहल करने का भरोसा दिलाया। प्रतिनिधिमंडल में मरार समाज के प्रभारी कोषाध्यक्ष मंगल पटेल,वरिष्ठ सलाहकार परदेशी राम पटेल, बहुर पटेल महासमुंद, सदाराम पटेल पारागांव, उभेराम पटेल नांदगांव भी शामिल थे। 
 


03-Aug-2021 4:44 PM (21)

महासमुंद, 3 अगस्त। राष्ट्रीय राजमार्ग 53 सरायपाली स्थित एक ढाबा में जुआ खेल रहे चार लोगों को पुलिस ने पकड़ा है। इनके पास से 12,050 रुपए जब्त किया गया है। एनएच 53 शिवनी ढाबा में जुआ खेल रहे ग्राम केना निवासी अलेख प्रधान 52, पतेरापाली निवासी प्रकाश साहू 40, बानीगिरोला निवासी डमरूधर पटेल 43, कोकड़ी निवासी प्रशांत मांझी 36 साल को पकड़ा है। टीम ने आरोपियों से 5,100 एवं फ ड़ से 6950 कुल 12050 रुपए जब्त किया गया है। 
 


03-Aug-2021 4:43 PM (16)

महासमुंद, 3 अगस्त। जनपद पंचायत सरायपाली के परिसर से अज्ञात चोरों ने लिपिक की बाइक 29 जुलाई को चुरा लिया है। आसपास पता करने के बाद जब बाइक नहीं मिली तो थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई। जनपद पंचायत सरायपाली में पदस्थ सहायक ग्रेड 3 सच्चिदानंद साव 29 जुलाई को सुबह साढ़े दस बजे अपनी बाइक क्रमांक सीजी 06 जीके 0282 में ड्यूटी आए और सरपंच सदन के पोर्च में खड़ी कर दफ्तर के अंदर चले गए। दोपहर डेढ़ बजे जब दफ्तर से बाहर आए तो देखा कि बाइक उक्त स्थल पर नहीं थी। 

 


03-Aug-2021 4:43 PM (16)

दोपहर 3 बजे तक इंतजार करते रहे, फिर भूखे ही लौट आए बच्चे 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
महासमुंद जिले के आंगनबाडिय़ों में गर्म भोजन के वितरण पर आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता व सहायिकाओं ने रोक लगा दी है। सोमवार को जिले के 1685 आंगनबाड़ी केंद्र से 33700 बच्चे बिना गर्म भोजन खाए भूखे पेट वापस लौटे। ये बच्चे सुबह 9 से दोपहर 3 बजे तक भोजन का इंतजार करते रहे, लेकिन आंदोलन के चलते किसी भी केंद्रों में गर्म भोजन नहीं बना था, इसलिए वितरण नहीं हुआ। 

कहा जा रहा है कि जब तक कार्यकर्ता व सहायिकाओं की मांगें पूरी नहीं होंगी, तब तक गर्म भोजन के वितरण पर रोक लगा रहेगा। जिला पंचायत सीईओ आकाश छिकारा ने भी इनसे चर्चा में परीक्षण होने के बाद ही भुगतान के संबंध में कहा है। 

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि शनिवार को कलेक्टर के नाम अपर कलेक्टर जोंगेदर नायक को इस संबंध में पहले ही अवगत करा दिया गया था। समय रहते मांगों पर विचार नहीं किया गया है, इसलिए फिलहाल गर्म भोजन वितरण पर रोक रहेगा। इनकी मांगों में रुकी हुई राशि मानदेय वितरण की मांग प्रमुख है। 

गौरतलब है कि जिले के 1780 आंगनबाड़ी केंदों में चार महीने से लटक रहे ताले सोमवार 26 जुलाई से खुल गए हैं। आंगनबाड़ी केन्द्रों को शासन ने केवल बच्चों के कुपोषण को दूर करने के लिए खोला है। कोविड-19 के कारण 22 मार्च 2021 से आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन बंद कर दिया गया था। आंगनबाड़ी केंद्र बंद होने से कुपोषण में बढ़ोतरी हो सकती है, जिसे देखते हुए शासन ने कोविड 19 के दिशा-निर्देश का पालन करते हुए 26 जुलाई से आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन शुरू कर दिया है। तीन से 6 वर्ष के अधिकतम 15 बच्चों की उपस्थिति भवनों में है।
 


03-Aug-2021 4:42 PM (16)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
कोरोना संक्रमण के चलते सालभर से बंद पड़ी स्कूलें सोमवार से गुलजार हो गई। स्कूलों में फिर से कक्षाएं लगीं। हालांकि कोरोना गाइडलाइन के तहत स्कूलों में सिर्फ 50 फीसदी क्षमता के साथ स्टूडेंट्स को प्रवेश दिया गया। जिला मुख्यालय स्थित स्कूलों में विद्यार्थियों का तापमान मापने के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया गया। इस दौरान स्कूलों में पढ़ाई से पहले होने वाले प्रार्थना के साथ किसी भी प्रकार की गतिविधियां नहीं हुई। स्कूलों में बच्चों के विषय को ही पढ़ाया गया।

जानकारी के अनुसार जिले में लगभग 45 फीसदी स्कूलों को खोलने पर सहमति नहीं मिली। जिसके कारण छोटे क्लास के बच्चों को मोहल्ला क्लास के माध्यम से ही शिक्षा प्रदान की जा रही है। स्कूलों को खोलने के लिए स्थानीय पालक व जनप्रतिनिधियों की सहमति जरूरी है। इसलिए सोमवार को स्कूल पहुंचने वाले छात्र अपने पालकों से सहमति पत्र साथ लेकर पहुंचे और स्कूलों में जमा किया। सहमति पत्र सभी छात्रों के लिए अनिवार्य रखी गई थी।

जिला मुख्यालय के समीप ग्राम बेलसोंडा में भी सोमवार को स्कूलें खुलीं, जहां 50 फीसदी संख्या के साथ ही विद्यार्थी पहुंचे। लंबे समय बाद स्कूल खुलने पर शिक्षकों ने विद्यार्थियों का स्वागत तिलक लगाकर किया। वहीं बेलसोंडा में भी कोरोना के सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए विद्यार्थियों को प्रवेश दिया गया और कक्षाएं संचालित की गई। वहीं विद्यार्थियों ने भी इस दिन को विशेष दिन की तरह ही सेलिब्रेट किया।

कोरोना संक्रमण काल को देखते हुए सभी कक्षाओं में 50 फीसदी स्टूडेंट्स को ही पढ़ाने का गाइडलाइन जारी किया गया है। इसके तहत आज मंगलवार को वे छात्र नहीं आएंगे, जिन्होंने सोमवार की कक्षाएं अटेंड की हैं। इसके लिए स्कूलों में रोस्टर सिस्टम से विद्यार्थियों का चयन कर बैठने की व्यवस्था बनाई गई है।

जिला मुख्यालय के शासकीय आदर्श उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में 50 फीसदी उपस्थिति के साथ 10वीं और 12वीं की कक्षाएं संचालित हुईं। इस दौरान एक बेंच पर सिर्फ एक ही विद्यार्थी को बैठाया गया। साथ ही स्कूल में प्रवेश तापमान मापने के बाद ही दिया गया। जिसके बाद विद्यार्थियों को सेनेटाइजर मशीन से हाथ साफ करने कहा गया। 

प्राचार्य एस.चंद्रसेन ने बताया कि सभी गाइडलाइन का पालन करते हुए विद्यार्थियों को पढ़ाया जा रहा है, जिसमें हर एक प्रोटोकॉल का बहुत ही बारीकी से ध्यान रखा जा रहा है।
 


03-Aug-2021 4:40 PM (17)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
सावन के दूसरे सोमवार पर शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखने को मिली। कोराना के तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए क्षेत्र की बम्हनी से सिरपुर के लिए होने वाली प्रसिद्ध कांवर यात्रा आयोजित नहीं की जा रही है, लेकिन शिव भक्त अपनी सुविधानुसार व स्वयं की व्यवस्था में टुकडिय़ों में कांवर यात्रा कर रहे हंै। सिरपुर के गंधेश्वर मंदिर में करीब 100 कांवरियों ने जलाभिषेक किया, वहीं श्रद्धालु भी दिन भर दर्शन करने पहुंचते रहे।

गंधेश्वर नाथ ट्रस्ट कमेटी के अध्यक्ष दाऊलाल चंद्राकर ने बताया कि कोरोना गाइडलाइन के अनुसार मंदिर में दर्शनार्थियों की व्यवस्था की गई है। गर्भगृह में प्रवेश प्रतिबंधित है। जलाभिषेक के लिए बाहर में जलपात्र में पाईप लगाकर व्यवस्था की गई है। सीमित मात्रा में दर्शन करने श्रद्धालु पहुंच रहे हंै। यहां प्रतिदिन दोपहर में श्रावणी पूजा श्रृंगार आरती किया जा रहा है।

इसी तरह बम्हनी स्थित बम्हनेश्वर महादेव में भी दर्शन करने दिन भर श्रद्धालु पहुंचते रहे। श्रावणी पूजा के जजमान होरीलाल पांडेय ने बताया कि दूसरे सावन सोमवार को बम्हनेश्वर महादेव का सवा सात लीटर दूध से दूग्धाभिषेक किया गया। यहां श्रावणी पूजा आचार्य धनेश्वर तिवारी चारभाठा वाले द्वारा कराई जा रही है। 

सोमवार को अभिषेक में मंदिर पुजारी कीर्तनदास वैष्णव, गिरधर अग्रवाल बागबाहरा, डा.  विकास अग्रवाल राजनांदगांव, डॉ.संतोष अग्रवाल आरंग, सुखीराम साहू बम्हनी, गोपाल साहू,  सूर्यमणी साहू, योगेश्वर दास वैष्णव शामिल हुए। नगर सहित दलदली, चंडी मंदिर समेत खरोरा स्थित स्वयं.भू शिव लिंग के दर्शन करने भी लोग पहुंचते रहे। संसदीय सचिव विनोद सेवनलाल चंद्राकर ने राम मंदिर स्थित शिव मंदिर में शिवाभिषेक किया। वहीं बीज निगम के अध्यक्ष अग्रि चंद्राकर ने कनेकेरा स्थित कनेश्वर मदादेव में दर्शन व शिव पूजन किया।

कल ऐतिहासिक सिरपुर के गंधेश्वर महादेव में भगवान गंधेश्वर महादेव को दोपहर जलाभिषेक के बाद फूलों से श्रृंगार किया गया है। सावन के दूसरे सोमवार को श्रद्धालुगण व कांवर यात्री जलाभिषेक के लिए गंधेश्वर मंदिर सिरपुर पहुंचे थे,जहां कोविड गाइडलाइन के साथ दर्शन कराया गया और जलाभिषेक कराया गया। 

मालूम हो कि इस मंदिर में प्रत्येक सावन सोमवार को अल सुबह चार बजे से जलाभिषेक के लिए कतार लगी रहती थी, जो दोपहर तीन बजे तक होती थी। यानी 10 हजार से अधिक श्रद्धालुगण जलाभिषेक के लिए मंदिर पहुंचते थे। सावन के तीसरे व चौथे सोमवार को करीब 15 से 20 हजार श्रद्धालुगण मंदिर में जलाभिषेक के लिए पहुंचते थे लेकिन पिछले दो सालों से मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की संख्या एकदम कम हो गई है। 
 


03-Aug-2021 4:33 PM (20)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
शासकीय महाप्रभु वल्लाभाचार्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय में छात्राओं की सुविधाओं के लिए दस लाख रुपए की लागत से गल्र्स कॉमन रूम का निर्माण किया जाएगा। कल सोमवार को संसदीय सचिव व जनभागीदारी प्रबंधन समिति के अध्यक्ष विनोद सेवनलाल चंद्राकर की अध्यक्षता में हुई जनभागीदारी प्रबंधन समिति की बैठक में इसके लिए स्वीकृति दी गई। शासकीय महाप्रभु वल्लाभाचार्य स्नातकोत्तर महाविद्यालय के जनभागीदारी प्रबंधन समिति की बैठक प्रबंधन समिति के अध्यक्ष व संसदीय सचिव श्री चंद्राकर की अध्यक्षता में आयोजित हुई। सर्वप्रथम पिछली बैठक में स्वीकृत विकास संबंधी कार्यों की पूर्णता के बारे में प्रभारी डॉ जया ठाकुर ने जानकारी दी। बाद इसके प्रभारी प्राचार्य डॉ अनुसूईया अग्रवाल व राजेश शर्मा द्वारा प्रस्तावित विभागों की साज सज्जा व शोध केंद्र हिंदी व राजनीति शास्त्र के उन्नयन के लिए प्रस्तावित मांग पर अध्यक्ष श्री चंद्राकर ने सहर्ष स्वीकृति प्रदान की। 

उइस दौरान महाविद्यालयीन समस्याओं के निराकरण संबंधी विभिन्न एजेंडा पर चर्चा की गई। छात्र हित में सभी प्रस्तावों को उपस्थित सदस्यों द्वारा अनुमोदित कर विभिन्न कार्य कराए जाने के लिए सहमति प्रदान की गई। जिसमें प्रमुख रूप से गल्र्स कामन रूम निर्माण के लिए दस लाख रुपए की स्वीकृति, रिक्त सहायक प्राध्यापकों के स्थान पर अध्यापन व्यवस्था के लिए जनभागीदारी मद से नियुक्ति, जनभागीदारी मद से कार्यरत अधिकारियों-कर्मचारियेां की वेतनवृद्धि, टेबल-चेयर फर्नीचर क्रय के लिए स्वीकृति, विज्ञान संकाय के प्राणीशास्त्र, जंतुशास्त्र एवं भौतिकी स्नातकोत्तर विभाग के लिए प्रायोगिक सामाग्री एवं पुस्तकें क्रय के लिए स्वीकृति, जनभागीदारी मद का अंकेक्षण चार्टर्ड एकाउंटेट से कराए जाने की स्वीकृति, पुराने भवन में चौकीदार की नियुक्ति शामिल हैं।

इसके अलावा महाविद्यालय में नवीन ट्रांसफार्मर स्थापना, जनपद पंचायत से ओपन जिम निर्माण संबंधी कार्यों को भी अध्यक्ष श्री चंद्राकर ने स्वयं के निर्देशन में पूरा कराने अपनी सहमति प्रदान की। बैठक में सदस्य अनुविभागीय अधिकारी बीपी जायसवाल, संजय शर्मा, हरिकृष्ण भार्गव, गौरव चंद्राकर,ए सन्नी लुनिया, योगेश गंडेचा, किशन देवांगन, प्रितेश चंद्राकर, अमन चंद्राकर के साथ ही कॉलेज की प्रभारी प्राचार्य डा अनुसूइया अग्रवाल, जनभागीदारी प्रभारी डॉ जया ठाकुर, सदस्य डॉ नीलम अग्रवाल, डॉ ईपी चेलक, एसआर मन्नाडे व राजेश शर्मा मौजूद थे।


03-Aug-2021 4:23 PM (16)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
महासमुंद, 3 अगस्त।
भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश संगठन के आह्वान पर जिले के सभी 18 मंडलों में किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेश की कांग्रेस के किसान विरोधी नीतियों के विरोध में धरना-प्रदर्शन आयोजित किया गया। इसी के तहत भाजपा किसान मोर्चा ग्रामीण मंडल महासमुंद द्वारा ग्राम शेर में धरना.प्रदर्शन आयोजित किया गया। 

इस दौरान मुख्य वक्ता जिला महामंत्री प्रदीप चंद्राकर ने कहा कि छग का अन्नदाता किसान गंगाजल की पवित्रता और महत्व को जानता है। इसलिए हाथों में गंगाजल लेकर किसान हित में अनेक वादों के पूरा होने की उम्मीद में रहे। आज ढाई साल बीतने के बाद किसानों का मोह कांग्रेस सरकार से भंग हो गया है और गंगाजल के साथ स्वयं किसान भी अपने आप को अपमानित महसूस कर रहा है। किसानों को खाद और पानी के लिए बिजली की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। वहीं मुख्यमंत्री जो स्वयं किसान होने का दावा करते हैं, उन्हें किसानों की समस्याओं की जानकारी नहीं होना समझ से परे है।

किसान मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रेम चंद्राकर ने कहा कि गांव में बनाए गए गोठानों में कोई सुविधा नहीं होने से पशुधन खुले में घूमकर दुर्घटनाओं का शिकार हो रहे हैं। सोसायटियों में किसानों को खाद नहीं मिल रहा है। वहीं वर्मी कंपोस्ट खाद जिसे लेना कांग्रेस सरकार ने अनिवार्य किया है उसकी गुणवत्ता निम्न स्तर की है। दो रुपए किलो में गोबर खरीद कर खाद के नाम पर 10 रुपए किलो वसूली कर ये सरकार व्यापार कर रही है। केंद्र सरकार की योजना किसान सम्मान निधि योजना के तहत भी प्रदेश सरकार गलत डाटा देकर किसानों को योजना से वंचित करने का अपराध कर रही है 
 


03-Aug-2021 3:45 PM (45)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 3 अगस्त।
जिले में दंतैल ने फिर एक बुजुर्ग ग्रामीण को पटककर मार डाला। घटना बागबाहरा वन परिक्षेत्र के ग्राम कुरुभाठा व धौराभाठा के बीच बगनई नदी के किनारे की है। सोमवार शाम पांच बजे धौराभाठा की ओर जा रहा था, उसी समय दंतैल ने उसे पकड़ा और पटककर मार डाला। बुजुर्ग के शरीर के कई हिस्से दंतैल ने कर दिए हैं। 

बताया जा रहा है कि यह दंतैल पिछले दो-तीन दिनों से क्षेत्र में घूम रहा है। ग्रामीण को विभाग की ओर से अलर्ट किया गया था, लेकिन लापरवाही व मनमानी ने उसकी जान ले ली। सरपंच के द्वारा उसके रोकने के बावजूद बुजुर्ग उस क्षेत्र में गया था। 
डिप्टी रेंजर कमलनारायण नामदेव ने बताया कि दंतैल ने ग्राम कुरुभांठा निवासी दीनदयाल साहू (70) को पटक-पटककर मार डाला। घटना शाम पांच बजे के बीच की है। उन्होंने बताया कि मृतक कुरुभांठा से शाम पांच बजे धौराभांठा की ओर जा रहा था। उसी समय रास्ते में उसका सामना दंतैल से हो गया। दीनदयाल वहां से भाग पाता, इतने में दंतैल ने उसे अपने सूंड में लपेट लिया और उठाकर जमीन पर पटक दिया। इसके बाद उसके पैर व हाथ को कुचल दिया। मृतक का एक पैर व हाथ शरीर से अलग हो गया है। सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और शव को घटना स्थल से हटाया।

 डिप्टी रेंजर ने बताया कि कुरुभांठा के सरपंच मन्नू दीवान ने साढ़े पांच बजे मृतक को धौराभांठा जाने वाले मार्ग की ओर जाने से मना किया था। उसे बताया था कि एक दंतैल उस क्षेत्र में घूम रहा है। बगनई नदी के पास उसे देखा गया है, लेकिन बुजुर्ग उसके बात को नहीं माना और नदी की ओर होते हुए धौराभांठा जाने रवाना हो गया। उन्होंने बताया कि पिछले तीन दिन से लगातार वन विभाग की ओर से गांव सहित आसपास के गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है और दंतैल का लगातार लोकेशन ग्रामीणों को दिया जा रहा था।

गरियाबंद से वापस लौटा एक दंतैल
वन विभाग का कहना है कि बार दल के तीन दंतैल पिछले एक महीने से छुरा क्षेत्र में घूम रहे हैं। ये लगातार आमाकोनी, कुरुभांठा व बगनई नदी के पास आकर वापस फिर छुरा क्षेत्र चले जाते हैं। अभी दो-तीन दिन से एक दंतैल वापस आकर आमाकोनी क्षेत्र में घूम रहा था, इसकी जानकारी ग्रामीणों को भी थी। हादसे के बाद अभी दंतैल कक्ष क्रमांक 148 आमाकोनी के कानाभैरा पहाड़ी के पास घूम रहा है। रोहांसी दल का एक दंतैल चोरभट्टी की ओर आ गया है। क्षेत्र में दहशत का माहौल है।



02-Aug-2021 5:39 PM (22)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 2 अगस्त।
महासमुंद जिले में पोषण बाड़ी योजना के तहत इस वर्ष 3922 पोषण बाडिय़ों को चिन्हित कर योजना का क्रियान्वयन किया गया है। इनमें महासमुंद सहित विकासखंड बागबाहरा और सरायपाली में 785.785 पोषण बाड़ी का चयन किया गया, वहीं पिथौरा ब्लॉक में 783 तथा बसना में 784 पोषण बाडिय़ां चयनित की गई। 

ग्रामीण अर्थव्यवस्था के सुदृढ़ीकरण करने घर के समीप उपलब्ध भूमि पर फल, सब्जी एवं पुष्प की खेती कृषकों द्वारा कराया जाना ही सुराजी गांव योजना अंतर्गत बाड़ी की परिकल्पना का मुख्य आधार है। योजनान्तर्गत महिलाओं, महिला स्वसहायता समूह को तथा ग्राम के गरीब तबके और कमजोर वर्गों के परिवारों को जिनके घर पर बाड़ी के लिए जगह हैं, किन्तु बाड़ी की गतिविधि नहीं कर रहे हैं। उन्हें इस योजना का लाभ दिये जाने हेतु महासमुंद जिले में पोषण बाडिय़ों का चिन्हित कर योजना बनाई गयी। इन बाडिय़ों में सब्जी भाजी के साथ लगभग 58 हज़ार फलदार पौधे भी रोपे जा रहे हैं। कृषि की दृष्टि के कम विकसित क्षेत्रों में नई तकनीक के उपयोग को बढ़ावा देने और कृषि उत्पादन में वृद्धि के उपायों से जुड़े विभिन्न विषयों पर कृषि से जुड़े विभागों के जिला अधिकारियों द्वारा किसानों से चर्चा भी की जा रही है। 

जिला उद्यानिकी द्वारा खऱीफ सीजन को ध्यान रखते हुए चयनित ग्राम पंचायतों की पोषण बाड़ी योजना के तहत 15-15 फलदार पौधे दिए जा रहे हैं। सब्ज़ी बीज मिनीकिट किसानों को दिए जा रहे हंै। इन बाड़ी से ग्रामीण परिवारों के अतिरिक्त आय में वृद्धि हो रही है। भूमिहिनों को रोजगार के अवसर मिल रहे तथा कृषक परिवार का भोजन संतुलित भी हो रहा है। पोषण बाड़ी विकास योजना में स्थानीय विभिन्न प्रजातियों के पौधों को बढ़ावा देना भी शामिल हैं। जिसमें भाजी की स्थानीय प्रजातियों को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जा रहा हैं। इसका प्रमुख कारण भाजियों में उपलब्ध पोषक तत्व हैं। भाजी के अधिकाधिक उपयोग से आयरन एवं आयोडीन की कमी को दूर किया जा सकेगा। सामान्य के  साथ यह आदिवासी परिवारों का पर्यावरण से जुड़ते हुए आजीविका उपार्जन करने का सशक्त माध्यम यह योजना बन रही है। ग्रामीण परिवेश में आत्मनिर्माण लाने के लिए एवं कुपोषण मुक्ति में यह योजना कारगार साबित हो रही है।

स्व उत्पादित फसल का उपयोग यह सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य है। बाजारों या कही अन्य जगह से खरीदी गई सब्जियां महंगी होती हैं, राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन का मुख्य उद्देश्य है कि किसान स्वयं की खाली पड़ी जमीन बाड़ी में सब्जियों की फसल उगाएं और ताजे रूप में इसका सेवन करें। सब्जी की फसल बाड़ी में उगाकर स्वयं के उपयोग के पश्चात किसान शेष उत्पाद का विक्रय स्थानीय बाजारों में कर रहे हैं। इससे उन्हें अतिरिक्त आय की प्राप्ति हो रही है। ग्रामीण अब घर की बाड़ी से आत्मनिर्भर बन रहे हंै और अधिक आय अर्जित कर रहे हैं। हरी, ताजी साग-सब्जी उत्पादन के साथ फलदार ताजे-रसीले फलों से ग्रामीण क्षेत्रों में कुपोषण में भी कमी लाने का सार्थक और सकारात्मक प्रयास भी है। 

सहायक संचालक उद्यानिकी एसएन कुशवाह की माने तो इस वर्ष जिले में किसानों के घर के समीप 3922बाडिय़ां चयनित की गयी है। यहां स्थानीय जलवायु वातावरण पानी की उपलब्धता मिट्टी और मौसम के अनुरूप उन्नत किस्म की साग-सब्जियों, फल लेने के लिए किसानों को प्रेरित किया जा रहा है। इसमें अपेक्षित सफलता मिल रही है। किसानों को विभिन्न प्रजातियों के फलदार पौधों नीबू, आम, करोंदा, अमरूद, मुनगा, पपीता और कटहल आदि का वितरण किया जा रहा है। यह काम 5 अगस्त तक चलेगा।

 


02-Aug-2021 4:41 PM (26)

महासमुंद, 2 अगस्त। आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष भूपेन्द्र चन्द्राकर और व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक जैन ने संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए नक्सल समस्या और शराबबंदी पर केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा है। 
भूपेन्द्र चन्द्राकर ने कहा कि हाल ही में केंद्र सरकार ने राज्य में विगत तीन वर्षों में नक्सल वारदातों की संख्या और उन वारदातों में मारे जाने वाले नागरिकों की संख्या के आंकड़े जारी किए हैं, जिस पर राज्य के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू का बयान आया है कि केंद्र सरकार ने जब आंकड़े जुटा लिया है तो अब समस्या का समाधान निकाले। 

इनका कहना है कि गृहमंत्री का यह बयान दुर्भाग्य जनक है। एक ओर निर्दोष आदिवासी नक्सलियों और सुरक्षाबलों के बीच आम लोग पिसकर मारे जा रहे हैं तो दूसरी ओर केंद्र और राज्य सरकार आंकड़ों और आरोप-प्रत्यारोप पर उलझे हुए हैं। नक्सल समस्या को हल करना केंद्र और राज्य दोनों की संयुक्त जिम्मेदारी है, जिससे वे भाग नहीं सकते। ताम्रध्वज जी के पास भी 15 साल की रमन सरकार के भी आंकड़े होंगे। उन्हें वो भी निकाल लें और केंद्र सरकार से भिड़ जाएं। 
 


02-Aug-2021 4:39 PM (30)

महासमुंद, 2 अगस्त। अध्यक्ष तेलीघानी बोर्ड छग एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ संदीप साहू का नदी मोड़ घोड़ारी में भव्य स्वागत उनके खल्लारी प्रवास के दौरान किया गया। इस दौरान मुख्य रूप से महासमुंद जनपद अध्यक्ष यतेन्द्र साहू, विधायक प्रतिनिधि मानिक साहू, जनपद सभापति दिग्विजय साहू, भूपेंद्र साहू, अनिल साहू, पोखन साहू, जनपद सदस्य प्रतिनिधि तुला साह,ू राहुल साहू एवं युवा प्रकोष्ट साहू समाज उपस्थित थे।

 


02-Aug-2021 4:38 PM (25)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 2 अगस्त।
संसदीय सचिव व विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर की अगुवाई में सफाई अभियान के तहत लगातार दूसरे सप्ताह रविवार को जिला चिकित्सालय परिसर में साफ.सफाई कर स्वच्छता का संदेश दिया। इस कार्य में डॉक्टर, नर्स तथा हॉस्पिटल स्टॉफ  के साथ स्काउट गाइड के पदाधिकारियों व नागरिकों ने अपनी सहभागिता दी। 

जिला चिकित्सालय परिसर में संसदीय सचिव श्री चंद्राकर के आह्वान पर डॉक्टरों, नर्स, स्काउट गाइड के पदाधिकारियों व नागरिकों सहित सफाईकर्मियों ने श्रमदान कर साफ सफाई की। आयुष विंग आयुर्वेद एवं पंचकर्म चिकित्सा केंद्र की ओर जााने के रास्ते को समतल किया गया। यहां कुछ जगहों पर गड्ढे में भरे बरसाती पानी को पाटा गया। 

इसी तरह मर्चुरी परिसर में भी सफाई अभियान चलाया गया। संसदीय सचिव श्री चंद्राकर ने सफाई अभियान में सहयोग के लिए आभार जताते कहा कि लोगों को साफ.सफाई के प्रति अपनी सोच को बदलना चाहिए। सभी को स्वच्छता के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए इसका निर्वाह करना चाहिए। स्वच्छता के प्रति लोगों की सोच अपने घर की सफाई तक सीमित नहीं होनी चाहिए। हम जिस समाज में रहते हंै उसको भी साफ.सुथरा रखना हमारी नैतिक जिम्मेदारी बनती है। 

पूर्व पार्षद संजय शर्मा ने संसदीय सचिव श्री चंद्राकर की इस पहल की सराहना की। इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष यतेंद्र साहू, विधायक प्रतिनिधि दाऊलाल चंद्राकर, संजय शर्मा, डॉ नागेश्वर राव, डॉ अरविंद गुप्ता, डॉ घनश्याम साहू, डॉ शकुंतला बरिहा, डॉ निखिल गोस्वामी, राजू चंद्राकर, आवेज खान, कमल लुनिया, एतराम साहू, तुलेंद्र सागर, लता वैष्णव, मधु शर्मा, कौशलेंद्र वैष्णव, मोहम्मद इमरान कुरैशी, रवि कुमार ठाकुर, दीपक साहू, मोहम्मद तफरेज, मो मंसूर, बिट्टू साहू, शरीफ अली, अजय मानिकपुरी, वकार अली, मानिक साहू सहित स्टॉफ नर्स तथा अन्य विभागीय कर्मचारी उपस्थित रहे।
 


02-Aug-2021 4:37 PM (31)

महासमुंद, 2 अगस्त। कार की ठोकर से बाइक सवार दो लोग घायल हो गए। घायलों को प्राथमिक इलाज के लिए रायपुर भेज दिया गया है। हादसा एनएच- 53 पदमपुर रोड के पास हुआ है। आरोपी कार चालक के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया गया है। 
पुलिस के अनुसार गा्रम भूथिया निवासी अमृत नंद अपने मोटर साइकिल क्रमांक सीजी 04 डीजे 3832 से मोहन निषाद के साथ रविवार सुबह 9 बजे ग्राम अर्जुण्डा की ओर जा रहा था। पदमपुर रोड ओव्हरब्रिज के पास अर्जुण्डा की ओर से आ रही मारूति वेन क्रमांक सीजी 04 एचबी 4965 के चालक रूद्रमणी मेहेर ने अमृत नंद की बाइक को ठोकर मारकर एक्सीडेंट कर दिया। इससे अमृत नंद व मोहन निषाद को गंभीर चोट आई है। सरायपाली सीएचसी में प्राथमिक इलाज किया गया। 
 


02-Aug-2021 4:35 PM (26)

महासमुंद, 2 अगस्त। छग अभिकर्ता एवं निवेशक कल्याण संघ की गत दिनों बैठक स्थानीय पटेल भवन में हुई। चिटफंड में डुबी हुई निवेशकों की राशि वापसी के संबंध में चर्चा की गई। कहा गया है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 16 मार्च 2018 को स्वयं घोषणा की थी कि सभी निवेशकों की राशि वापस शीघ्र कर दी जाएगी। इस दिशा में सरका कोई भी निश्चित निर्णय नहीं ले पा रही है। बैठक में लक्ष्मी चंद्राकर, किशन लाल साहू, नरेंद्र कुमार साहू, पूनम राम पटेल, शालिग्राम पटेल, शारदा श्रीवास्तव, ईश्वरी साहू, भगवती निर्मलकर,देव नारायण साहू, चमन साहू, मूलचंद साहू, मन्नूलाल मूंगरे, ओमप्रकाश चंद्राकर, परसराम सिन्हा, दयाराम साहू, प्रेम पटेल, हेमु कुमार शामिल थे। 
 


02-Aug-2021 4:34 PM (23)

दो चरणों में ऑनलाइन आवेदन मंगाए जाएंगे

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 2 अगस्त।
पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में प्रवेश की प्रक्रिया आज से शुरू कर दी गई है। प्रवेश के लिए दो चरणों में ऑनलाइन आवेदन मंगाए जाएंगे। पहले चरण में यदि सीटें नहीं भरी तो दूसरे चरण में आवेदन के अनुसार प्रवेश दिया जाएगा। यह प्रवेश सिर्फ  स्नातक के प्रथम वर्ष यानी बारहवीं पास कर स्नातक की प्रथम वर्ष की वाले स्टूडेंट्स के लिए है। 

इसी प्रकार स्नातक के अंतिम वर्ष में पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए भी पीजी के प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश के लिए प्रक्रिया पहले से ही शुरू कर दिया है। हालांकि अभी परीक्षा परिणाम आया नहीं है, लेकिन इससे पहले ही प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू कर दिया गया है। फिलहाल प्रथम वर्ष के कक्षाओं में ही प्रवेश दिया जाएगा। शेष कक्षाओं में जैसे.जैसे परीक्षा परिणाम आते जाएंगे वैसे-वैसे प्रवेश के लिए पोर्टल खुलेंगे। माता कर्मा कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य रमेश देवांगन ने बताया कि पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय ने केवल स्नातक व सेमेस्टर की प्रथम वर्ष की कक्षा के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू कर दी है। दो चरणों में यह प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

जारी अधिसूचना के अनुसार प्रथम वर्ष की कक्षाओं में प्रवेश के लिए छात्र-छात्राएं 2 से 17 अगस्त तक ऑनलाइन प्रवेश फार्म महाविद्यालयों के नाम पर भरेंगे। इसके बाद उनके प्राप्त आवेदनों की मेरिट सूची जारी होगी। इसे महाविद्यालय 18 अगस्त को जारी करेगा। इस बार 18 से 24 अगस्त तक विद्यार्थी अपने-अपने महाविद्यालय में प्रवेश लेंगे। शेष बची सीट व छूटे हुए विद्यार्थियों को दूसरे चरण में एक और मौका मिलेगा। इसके लिए ऑनलाइन प्रवेश पंजीयन 25 से 26 अगस्त तक लिए जाएंगे। बारहवीं के परीक्षा परिणाम जारी हो गए हैं। विद्यार्थी महाविद्यालय में प्रवेश के लिए इंतजार कर रहे थे। आज से प्रवेश के लिए ऑनलाइन फार्म च्वाइस सेंटरों से भरे जाएंगे।

 


02-Aug-2021 4:33 PM (26)

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 2 अगस्त।
कोरोना संक्रमण के चलते 16 माह से बंद पड़े सरकारी व निजी स्कूलों में सोमवार से एक बार फिर कक्षाएं लगी हैं। शासन के निर्देश पर जिले के 185 हाई व हायर सेकंडरी स्कूल में कक्षा दसवीं व बाहरवीं की कक्षाएं 50 फीसदी विद्यार्थियों की उपस्थिति के साथ शुरू हुई। 

बताया जा रहा है कि यहां की स्कूल विकास समितियों ने सहमति दे दी है। स्कूल के संचालन को लेकर विभाग द्वारा सभी तैयारियां पूरी कर ली गई थी। साफ-सफ ाई से लेकर सैनिटाइज भी सभी कक्षाओं की हो चुकी है। 
हालांकि प्राइमरी स्कूल को लेकर अभी भी असमजंस की स्थिति बनी हुई है। जिले के 1280 प्राइमरी, 490 मिडिल स्कूल खोलने की पूरी जिम्मेदारी शासन ने सरपंच, शाला विकास समिति एवं पालकगणों पर डाल दी है। संक्रमण पालक बच्चों को स्कूल भेजने से डर रहे हैं। जिले के कई प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में सहमति तो बन गई है, लेकिन 45 फीसदी स्कूलों सहमति नहीं बनी पाई है। अगस्त के बाद खोलने की बात कह रहे हैं।

 ब्लॉक शिक्षा अधिकारी एमपी साहू का कहना है कि दसवीं व बाहरवीं की क्लास लगेंगी। वहीं प्राइमरी की स्थानीय स्तर पर बैठक चल रही है। सहमति बनने के बाद ही खुलेगी।
जानकारी मिली है कि पूरा वैक्सीनेशन नहीं होने के कारण प्राइमरी व मिडिल स्कूल खोलने के संबंध में पांच गांव के सरपंचों ने सहमति नहीं दी है। यहां मोहल्ला क्लास के माध्यम से ही बच्चों की पढ़ाई कराई जाएगी। 
संकुल समन्वयक जागेश्वर सिन्हा ने बताया कि महासमुंद ब्लॉक के ग्राम शेर, लोहारडीह, बेमचा, मचेवा, अछोला, बेलसोंडा, कांपा में सरपचों ने सहमति नहीं दी। शहरी क्षेत्र के प्राइमरी.मिडिल स्कूलों में बैठक हुई है। यहां समिति की ओर से अनुमति दे दी गई है। पालकों की सहमति लेटर के साथ बच्चे स्कूल आएंगे। जिन पालकों को अपने बच्चों को स्कूल भेजना है, वे सहमति लेटर के साथ अपने बच्चों के भेजेंगे। संकुल समन्वयक ने बताया कि जिला मुख्यालय के बृजराज पाठशाला में बैठक हुई है, वहां पालकों के भेजे गए सहमति पत्र के आधार पर बच्चों को स्कूल में बिठाया जाएगा।

जानकारी अनुसार हाई व हायर सेकेंडरी स्कूल को खोलने की अनुमति शासन ने दे दी है। लेकिन यहां केवल दसवीं व बारहवी की ही कक्षाएं लगेंगी। आज 2 अगस्त से कक्षाएं जारी गाइडलाइन के अनुसार लगेंगी। स्कूलों में 50 फीसदी उपस्थिति के साथ करने के निर्देश दिए गए हैं। बाकी विद्यार्थी को अगले दिन बुलाया जाएगा। यानी एक विषय को शिक्षक दो दिन पढ़ाएंगे। ग्रामीण इलाकों में अभी भी शत प्रतिशत से अधिक वैक्सीनेशन नहीं हुआ है। इसकी वजह से भी पालकों में डर बना हुआ है। 

महासमुंद विकासखंड शिक्षा अधिकारी ने बताया कि ग्राम बेमचा में 70 फीसदी ऐसे हंै, जिनको वैक्सीन नहीं लगा है, हालांकि 90 फीसदी शिक्षकों को टीका लग चुका है। उन जिलों में कक्षाएं प्रारंभ होगी, जहां कोरोना पॉजिटिविटी दर 7 दिनों तक 1 फीसदी से कम हो।

विद्यार्थियों को कक्षाओं में 1 दिवस के अंतर पर बुलाया जाए, अर्थात प्रतिदिन केवल आधी संख्या में ही बुलाए हैं। किसी भी विद्यार्थी को यदि सर्दी, खांसी बुखार आदि हो तो उसे कक्षा में नहीं बिठाया जाएगा। ऑनलाइन कक्षाएं यथावत संचालित की जाती रहेंगी। किसी भी विद्यार्थी के लिए उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा समय समय पर जारी संक्रमण से बचाव के निर्देशों का पूर्णत: पालन किया जाएगा। सभी शिक्षण संस्थाओं के कमरों की सफाई ठीक से की जाएगी।
 


Previous123456789...110111Next