छत्तीसगढ़ » महासमुन्द

Date : 02-Apr-2020
जूम ऐप पर दी जा रही स्वास्थ्य विभाग को कोरोना ट्रेनिंग
 
महासमु्न्द, 2 अप्रैल। कोरोना वायरस के संक्रमण को जिले में फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे अहतियाती कदमों में लॉक डाउन को लेकर विभिन्न शासकीय विभागों के कामकाज को भी नियंत्रित किया गया है। अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन ने निर्देशित कर सोशल गैदरिंग न करने के साथ केवल आपातकालीन अनिवार्य सेवाओं के लिए ही अनुमति दी है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा संपादित किए जा रहे कार्यों में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर स्वास्थ्कर्मियों को प्रशिक्षण देने के लिए ऑनलाइन सोशल कम्युनिकेशन ऐप यानी जूम ऐप का उपयोग किया जा रहा है। तत्संबंध में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार से मिली जानकारी के मुताबिक ऑनलाइन सोशल कम्युनिकेशन ट्रेनिंग में प्रशिक्षणार्थी को सामूहिक बैठक कक्ष में सशरीर उपस्थित होने की जरूरत नहीं होती।  
 
इसके लिए संबंधित स्वास्थ्यकर्मियों को कम्युनिकेशन लिंक दिए गए हैं। जहां बिना संक्रमणीय स्थिति उत्पन्न किए हाइजीन के साथ प्रशिक्षणर्थी अपने घर या सेवा स्थल पर ही बैठे.बैठे ऑनलाइन प्रशिक्षण से जुड़ जाते हैं। प्रशिक्षक और प्रशिक्षणार्थी के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की तरह ही वार्तालाप होता है और बिना भीड़ एकत्र किए ही सुविधाजनक ढंग से जानकारी का आदान.प्रदान किया जा सकता है। श्री ताम्रकार ने बताया कि उक्त कार्य के सुचारू संचालन के लिए विकासखंड कार्यक्रम प्रबंधकों सहित डाटा प्रबंधकों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। डाटा अंकन के लिए अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता होने पर संबंधित क्षेत्र के खंड चिकित्सा अधिकारी द्वारा अन्य प्रशिक्षित कर्मचारियों को भी काम पर लगाया जा सकता है। क्यों कि विषय गंभीर है इसलिए त्रुटिरहित प्रस्तुतिकरण करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कार्य में लापरवाही होने पर कड़ी कार्रवाई किये जाने की बात कही। 
 

Date : 02-Apr-2020

महुआ शराब जब्त, छह पर कार्रवाई

छत्तीसगढ़ संवाददाता
पिथौरा, 2 अप्रैल।
स्थानीय पुलिस ने कल एक बार फिर अवैध शराब के विक्रय की मुखबिर से जानकारी मिलने के बाद अवैध महुआ शराब के तीन प्रकरण दर्ज कर छह आरोपियों पर आबकारी अधिनियम के तहत जुर्म पंजीबद्ध किया गया। पुलिस के अनुसार अभी आगे भी अवैध शराब विक्रेताओं पर कार्रवाई जारी रहेगी।

लॉकडाउन के बावजूद क्षेत्र में अवैध शराब का निर्माण एवं बिक्री बन्द होने का नाम नहीं ले रही है। स्थानीय पुलिस के एसडीओपी पुपलेश पात्रे एवं थाना प्रभारी कमला पूसाम की सक्रियता से इस संकट में भी अवैध शराब का व्यवसाय करने वालो पर कार्यवाही करते हुए तीन अलग-अलग प्रकरणों में कुल 40 लीटर महुआ शराब जब्त किया गया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार ग्राम कोकोभाटा में धर्मसिंह ध्रुव ,रमेश गिरी ठाकुरदिया से शराब लेकर कोकोभाटा की तरफ जा रहे थे जिसे ग्रामीणों द्वारा सूचना के आधार पर दो जरकिन से से कुल 10 लीटर महुआ शराब जब्त किया गया। 

वहीं ग्राम सुखीपाली में 20 लीटर महुआ शराब के साथ तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। दूतो बरिहा  (58 वर्ष), रोहित बूढ़े ( 41 वर्ष), अशोक भोई ( 24 वर्ष )द्वारा छीन पेड़ के नीचे अवैध रूप से शराब का विक्रय किया जा रहा था। ग्रामीणों की सूचना के बाद की गई छापामार कार्रवाई में तीनों आरोपियों के संयुक्त कब्जे से 20 लीटर महुआ शराब जब्त कर आबकारी अधिनियम के तहत आरोपी कोमल पटेल को अवैध शराब बिक्री करते हुए रंगे हाथों पकड़ा। उक्त आरोपी के पास से 10 लीटर महुआ शराब जप्त की गई। सभी 6 आरोपियों को न्यायिक रिमाण्ड पर जेल भेजा गया।
 


Date : 02-Apr-2020

दीगर प्रांतों से आ रहे मजदूरों को ग्रामीण अस्पताल पहुंचा जांच करा रहे

छत्तीसगढ़ संवाददाता
पिथौरा, 2 अप्रैल।
मार्च में कोई एक हजार से अधिक भ_ा मजदूर नगर के आसपास स्थित अपने गांवों को लौटे है। प्रशासन की लगातार सख्ती एवं जागरूकता अभियान के कारण ग्रामीण अन्य प्रांतों से आ रहे ग्रामीणों को स्वयं ही स्वास्थ्य परीक्षण हेतु स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा रहे है।

मिल रही खबरों के अनुसार अब क्षेत्र के ग्रामीण भी सरकार के निर्देशों के प्रति जागरूक हो चुके हंै। लिहाजा वे किसी भी बाहरी व्यक्ति को ग्राम में प्रवेश नहीं दे रहे है। इसके अलावा ग्राम का कोई भी ग्रामीण जो कुछ समय से कहीं बाहर हो और अब वापस आया हो उसे भी तत्काल प्रशासन को जानकारी देकर उसका परीक्षण करवा रहे हंै। ये जानकारी नि:संदेह क्षेत्र में कोरोना संक्रमण से बचाने में लोगों की जागरूकता को प्रमाणित करती है।


1000 से अधिक मजदूर लौटे
जनता कफ्र्यू एवं लॉक डाउन के दौरान क्षेत्र के कोई 1000 से अधिक प्रवासी मजदूरों की अन्य प्रांतों से वापसी हुई है। इस संबंध में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. तारा अग्रवाल ने बताया कि इनमे से कुछ मजदूरों सहित कुछ अन्य संदिग्ध मरीजों को मिलाकर कोई 400 से अधिक मरीजों को उच्च स्तरीय परीक्षण के लिए जिला अस्पताल महासमुंद भेजा गया है।श् ोष सर्दी खांसी बुखार के मरीजो का स्थानीय स्तर पर उपचार किया जा रहा है।


प्रवासियों को घर से ना निकले के निर्देश
इधर स्थानीय पुलिस के एस डी ओ पी पुपलेश पात्रे ने बताया कि पुलिस लॉकडाउन का पालन करने सतत डयूटी करने के अलावा पुलिस कर्मियों को सुरक्षित रहने के लिए भी लगातार प्रयास कर रहे है। नए लोगों के आने की सूचना पर तत्काल उनकी जांच करवा कर उन्हें घर से नहीं निकलने की नसीहत भी दी जा रही है। अब तक कोई 1000 से अधिक ग्रामीणों  को अपने घरों में आइसोलेट रहने के निर्देश दिए गए है।
 


Date : 02-Apr-2020

 जीत फाउॅडेशन ने घूम-घूम कर जरूरतमंद लोगों का सहयोग 

महासमुन्द, 2 अप्रैल। जीत फाउॅडेशन की अध्यक्षा डॉ.संगीता शुक्ला इस विश्व व्यापी महामारी के कारण आयी देशबंदी की स्थिति में भी नगर के मोहल्लों में  घूम-घूम कर गरीब व जरूरतमंद लोगों को भोजन एवं बच्चों को कपड़ा, हैण्ड.सेनिटाईजर वितरण कर रही हैं। वे आम लोगों को कोरोना से बचने साबुन से बार बार हाथ धोने एवं सोशल डिस्टेंस रखने की सलाह दे रही हैं। उनकी टीम ने कल नेत्र बाधित बच्चों के स्कूल बागबाहरा में जाकर बच्चों को खाने.पीने का कच्चा राशन, बिस्किट प्रदाय किया और उनको कोरोना वायरस के संबंध में सहज जानकारी दी। संगीता शुक्ला पूर्व एस पी जितेन्द्र शुक्ल की पत्नी हैं और जितेन्द्र शुक्ल के राजनांदगांव तबादले के बाद भी महासमुन्द में रहकर लोगों का सहयोग कर रही हैं। 

 


Date : 02-Apr-2020

 गायत्री मंदिर महासमुंद में हवन 

महासमुंद। आज अष्टमी पर गायत्री मंदिर महासमुंद में हवन हुआ, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। 


Date : 02-Apr-2020

 हाथियों का दल रवान पहुंचा 

महासमुंद। विगत रात हाथियों का दल गांंव रवान पहुंचा। रवान रायतुम से लगा हुआ गांव है। यहां पहुंंचकर किसान रमेश पिता पंचराम के रबी फसल को लगभग 3 एकड़ में लगे धान फसल को नुकसान पहुंंचाया।


Date : 02-Apr-2020

निजामुद्दीन से आए 2 जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में, कोरोना संबंधी कोई लक्षण नहीं मिले 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 2 अप्रैल।
दिल्ली के निजामुद्दीन से आए 2 लोगों को स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में निगरानी में रखा है। हालांकि इनमें अभी तक कोरोना संबंधी कोई लक्षण नहीं मिले हैं फिर भी विभाग पूरी ऐहतियात बरत रहा है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार इनमें से एक व्यक्ति परिवार सहित निजामुद्दीन गया था। उसके परिवार के बाकी सदस्य भी उसी के साथ महासमुंद लौट आए हैं। 

कोतवाली टीआई राकेश खुंटेश्वर ने बताया कि मंगलवार को सूचना मिली थी कि महासमुंद के कुछ लोग दिल्ली के निजामुद्दीन के मरकज में शामिल होने गए थे। सूचना के आधार पर खोजबीन शुरू की गई। इसमें से एक व्यक्ति सरायपाली में ट्रेस हुआ है। जबकि दूसरा व्यक्ति जिले के तुमगांव थाना क्षेत्र के पिरदा में रहता है। उन्होंने बताया कि दूसरे व्यक्ति का 9 सदस्यीय परिवार 13 मार्च को दिल्ली के निजामुद्दीन के लिए निकला था। 14 तारीख को सभी वहां पहुंचे, लेकिन मरकज नहीं गए। पूरा परिवार 15 और 16 मार्च को अजमेर शरीफ  गया था। यहां से वे 18 मार्च को महासमुंद वापस लौटे। जब कोरोना संक्रमण का दौर शुरू हुआ तो पूरा परिवार 26 मार्च को अस्पताल पहुंचा और अपनी जांच कराई थी। यहां उनमें लक्षण तो नहीं मिले लेकिन इन्हें 14 दिन का होम आइसोलशन पर रहने की सलाह दी गई थी। इधर सरायपाली में ट्रेस हुआ व्यक्ति मरकज गया था या नहीं यह स्पष्ट नहीं हो पाया है।

बुधवार को कोरोना संक्रमण को लेकर राहतभरी खबर भी सामने आई। जिले से अब तक 22 लोगों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें से सभी सैंपल निगेटिव आए हैं। दूसरी ओर जिले में होम आइसोलेशन पर रखे जाने वालों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। बुधवार तक जिलेभर में 180 लोगों को होम आइसोलेशन पर रहने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग के जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार ने बताया कि जैसे.जैसे सूचनाएं आ रही है, लोगों को होम आइसोलेशन पर रखा जा रहा है। पिछले 48 घंटे में ही ऐसे लोगों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है और 80 नए प्रकरण सामने आए हैं। जिले में अब तक कुल 180 लोग होम आइसोलेशन पर हैं। इनमें से 35 लोग विदेश से लौटे हैं। विदेश यात्रा करने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इसके पहले 28 लोगों को होम आइसोलेशन पर रखा गया था, जो विदेश से लौटे थे। ऐसे 7 नए लोगों को भी होम आइसोलेट किया गया है। जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाया गया कोरोना वायरस नियंत्रण एवं रोकथाम का दल लगातार केंद्र व राज्य से मिलने वाले प्रकरणों की सूची के आधार पर भी अंकेक्षण कर रहा है। अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक ऐसे ही दस नए संदिग्ध प्रकरणों की जानकारी जिला कार्यालय की ओर प्रेषित की गई है जिनकी स्थिति अब भी संदेहास्पद बनी हुई हैं। इनमें नौं सदस्य ऐसे बताए जा रहे हैं जो एक ही परिवार से संबंध रखते हैं। वहीं शेष बचा एक अन्य प्रकरण सरायपाली क्षेत्र का बताया जा रहा है, जिसके संबंध में सूचना संबधी स्पष्टीकरण न हो पाने की स्थिति में अद्यतन जानकारी पुलिस विभाग की ओर संप्रेषित की गई है।

तत्संबंध में कोरोना वायरस संक्रमण नियंत्रण एवं रोकथाम दल के जिला नोडल अधिकारी डॉ अनिरुद्ध कसार से मिली जानकारी के मुताबिक इन प्रकरणों के संदर्भ में देश की राजधानी यानी की दिल्ली के संपर्क में आने की सूचनाएं प्रबल हैं। लेकिन परिवहन मार्ग की पूर्णरूपेण पुष्टि नहीं हो पाई है। ऐसे में उन्हें संदेहास्पद स्थिति में चिकित्सालयीन आइसोलेशन में रखा गया है और अनुभवी चिकित्सकों द्वारा उनके स्वास्थ्य का मुआयना किया जा रहा है। चिन्हांकन के कार्य में जुटे अन्य विभाग के अधिकारी.कर्मचारी भी उनका परिवहन इतिहास जानने में जुटे हुए हैं। निगरानी, परीक्षण एवं प्रकरण के परिवहन मार्ग की पूरी जानकारी स्पष्ट होने के बाद उनमें कोरोना वायरस संक्रमण संबंधी लक्षण दिखने जैसी परिस्थिति बनने पर आगामी व्यवस्था एवं कार्रवाई की जाएगी। 

बहरहाल सभी प्रकरणों में विभाग द्वारा उचित देख.रेख प्रदान की जा रही है।
 


Date : 02-Apr-2020

सवा लाख का तम्बाकू समेत 2 बंदी

महासमु्न्द, 2 अप्रैल। ग्राम सल्हेझरिया नाकाबंदी पॉइंट में एक अप्रैल को एक बोलेरो वाहन में सवार महेंद्र बंजारेएवं धर्मेंद्र यादव भाटापारा जिला बलौदाबाजार के कब्जे से 40 बोरी राजा छाप तम्बाकू कीमती 1 लाख 36 हजार रुपए को बरामद कर कृषि ऊपज मंडी बसना को कार्यवाही हेतु सुपुर्द किया। उपरोक्त कार्रवाई में थाना प्रभारी बसना वीणा यादव, उपनिरीक्षक लक्ष्मीनारायण साव, प्रधानआरक्षक राजेश सिकरवार,आर सिरति भोई, कमलेश ध्रुव, कौशल ध्रुव का विशेष योगदान रहा।’

 


Date : 02-Apr-2020

कल से सूखा अनाज चावल एवं दाल का वितरण 

महासमुन्द, 2 अप्रैल। विकासखड महासमुंद के अंतर्गत मध्यान्ह भोजन योजना संचालित शालाओं में कल 3 अप्रैल से सूखा अनाज चावल एवं दाल का वितरण किया जाएगा लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा जारी आदेश के तारतम्य में नोवल कोरोनावायरस के कारण विद्यालय अस्थाई रूप से आगामी आदेश तक बंद है जिससे बच्चों को पका हुआ भोजन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। अत: राज्य शासन के निर्णय अनुसार सूखा अनाज का वितरण किया जाएगा। इस आशय का निर्देश विकास खंड शिक्षा अधिकारी महासमुंद द्वारा जारी कर मध्यान्ह भोजन योजना संचालित शालाओं के संस्था प्रमुख को निर्देशित कर दिया गया है। 40 दिनों का अनाज प्राथमिक स्तर पर प्रति छात्र 4 किलो चावल एवं 0.80 किलो ग्राम दाल,उच्च प्राथमिक स्तर पर 6 किलो ग्राम चावल एवम् 1.2 किलोग्राम दाल वितरण किया जाएगा। विकास खंड शिक्षा अधिकारी महासमुंद द्वारा लॉक डाउन के अंतर्गत सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए अनाज वितरण करने कहा गया है। उपरोक्त जानकारी विकासखंड शिक्षा अधिकारी महासमुंद एस चंद्रसेन द्वारा दी गई है।
 


Date : 02-Apr-2020

कन्याभोज- कन्याओं को श्रृंगार सामग्रियों के साथ मिले मास्क-सेनिटाइजर 

महासमुन्द, 2 अप्रैल। दुर्गाष्टमी पर नगर की कुल देवी महामाया मंदिर सहित अन्य देवी मंदिरों में बुधवार को विधि-विधान से अष्टमी हवन हुआ। हालांकि हर बार की तरह इस बार कुछ अलग था। केवल मंदिर समितियों के सदस्य व पुजारी ही हवन में मौजूद थे। भक्तों ने पूर्णाहुति नहीं दी। 

कोरोना वायरस के चलते जिला लॉकडाउन है। लोग घरों से निकल नहीं रहे हैं। प्रशासन ने भी मंदिर समितियों से भीड़-भाड़ नहीं करने की अपील की थी। वहीं इस बार कन्याभोज में भी अलग ही नजारा देखने को मिला। घरों में नौ कन्याभोज के लिए बुलाए गए व्रतधारियों ने भोज के बाद कन्याओं को श्रृंगार सामग्रियों के साथ कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव रखने के सेनेटाइजर व मास्क दिया। 

वहीं कन्याओं से अपील की गई कि वे घरों से बाहर निकलने पर इसका उपयोग करें। संक्रमण से बचने के लिए बार-बार साबुन से हाथ धोएं व परिवार के सदस्यों को भी ऐसा करने के लिए कहें। हवन पूजन में सोशल डिस्टेंस का ख्याल भी रखा गया। महामाया मंदिर एवं भीमखोज पहाड़ी स्थित मंदिर में भी प्रशासन के आदेश का पालन किया गया। 
 


Date : 02-Apr-2020

लॉकडाउन में शराब बेचते पिता समेत दो बेटे गिरफ्तार 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 2 अप्रैल।
तुमगांव थाना इलाके के ग्राम अछोला में पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए एक घर से छह पेटी देशी शराब जब्त की है। पुलिस ने इस आरोप में पिता और उसके दो बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। कार्रवाई बुधवार दोपहर दो बजे की है। पुलिस ने तीनों के कमरों से शराब जब्त की हैै। जब्त शराब की कीमत लगभग 17 हजार रुपये है। 

शराब दुकान बंद होने के कारण दोनों ज्यादा दाम पर शराब बेचने के लिए रखे हुए थे। पुलिस ने तीनों आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच में लिया है। वहीं पुलिस मामले की जांच कर रही है। पूछताछ के दौरान शराब कहां से लाएं है उसकी जानकारी अभी तक आरोपियों ने पुलिस को नहीं दी है।

थाना प्रभारी प्रदीप मिंज ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम अछोला निवासी रामकुमार घृतलहरे के यहां शराब की अवैध बेचने के लिए भारी मात्रा में शराब रखा है। सूचना पर पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए संदेही रामकुमार के घर के तलाशी ली। इस दौरान पुलिस ने रामकुमार घृतलहरे के कमरे से 48 पीस, उसके बेटे राजेश कुमार के कमरे से 48 एवं शंकर के कमरे से 96 नग देशी प्लेन शराब जब्त की है। यानी 53 लीटर छह पेटी शराब है। पुलिस ने रामकुमार घृतलहरे के साथ उसके बेटे राजेश कुमार और शंकर को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड में जेल भेज दिया है।
 


Date : 02-Apr-2020

घर-घर जाकर हाथ धुलाना सिखा रही मितानिनें

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमु्न्द, 2 अप्रैल।
चिकित्सकों की राय में कोरोना वायरस का संक्रमण बच्चों और बुजुर्गों में अपेक्षाकृत अधिक होता है और वैज्ञानिकों की मानें तो साफ.-सफाई का अभ्यास न हो तो खतरा कई गुना बढ़ जाता है। ऐसे में जिले में कोरोना वायरस के मंडराते संक्रमणीय खतरे को भांप कर मितानिनों ने ग्रामीण क्षेत्रों के साथ.साथ झुग्गी बस्तियों में भी लोगों को स्वच्छता और सुरक्षा के प्रति जागरूक करने का बीड़ा उठाया है। जिला मितानिन समन्वयक जागृति बरेठ से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे से मिले निर्देशानुसार जिले में संवेदनशील ग्रामीण एवं शहरी दोनों क्षेत्रों में स्वास्थ्य के प्रति लोगों में जागरूकता लाने की गति और बढ़ा दी गई है। स्वच्छता और साफ.सफाई को लेकर पहले समय निकाल कर कार्य संपादन किया जाता था। लेकिन अब कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए मितानिन पहले स्वयं को सुरक्षित कर मास्क और सैनिटाइजर से लैस करती हैं और इसके बाद उनके कार्य क्षेत्र में निवासरत स्थानीय लोगों के लिए घरों में जाकर स्वास्थ्य सुरक्षा जागरूकता के काम में जुट जाती हैं। श्रीमती बरेठ ने बताया कि यहां, वायरस से सुरक्षित रहने के लिए स्वास्थ्य एवं स्वच्छता की नियमावली को विस्तार पूर्वक समझाया जाता है। जिसमें मूल रूप से नित्कर्म व साफ.सफाई के सही तौर.तरीकों सहित घर के बाहर से जाने व आने के बाद एक.एक मीटर की दूरी बना कर साबुन से भली प्रकार हाथ धोने का अभ्यास कराया जा रहा है। 

मौके पर ग्रामीणों को जागरूकता जानकारी दे रही बागबाहरा की मितानिन प्रशिक्षक रमा यादव के अनुसार बच्चों और बुजुर्गों की रोग प्रतिरोधक क्षमता वयस्क जवान लोगों की तुलना में अपेक्षाकृत कम होने के कारण उनमें संक्रमण के खतरे की अधिकता को देखते हुए मास्क पहनने और सैनिटाइजर के उपयोग करने संबंधी हिदायत भी दी जा रही है। 

बताया जा रहा है कि प्रारंभिक चरण में ही विकासखंड महासमुंद, बागबाहरा और सरायपाली के संवेदनशील क्षेत्रों में तकरीबन सैकड़ा भर से अधिक घरों में जाकर स्वच्छता अभ्यास को दोहराया जा चुका है और आगामी चरण में यह अभ्यास अन्यत्र क्षेत्रों में भी निरंतर जारी रहेगा।
 


Date : 02-Apr-2020

रामनवमी पर पूजा हो रही पर दर्शन नहीं

महासमुन्द, 2 अप्रैल। आज रामनवमी पर महासमुन्द स्थित ऐतिहासिक राम जानकी मंदिर में सन्नाटा है। सालों से लगातार आज के दिन भगवान की शोभायात्रा निकाली जाती थी पर इस बार भगवान की शोभायात्रा नहीं निकाली जाएगी। ऐसा मंदिर स्थापना के बाद से 70 साल में पहली बार हो रहा है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन का पूरी तरह पालन करने और घर के सामने लक्ष्मण रेखा खींचकर इसे नहीं लांघने की अपील की थी। लिहाजा इस बार प्रभु राम भी लक्ष्मण रेखा के भीतर ही हैं। ज्योति जल रही है। समाचार तैयार करते वक्त तक रामजानकी मंदिर के पुजारी पं. नारायण दास शास्त्री भगवान के विशेष शृंगार करने के बाद पूजा में जुटे हुए हैं।  
 


Date : 01-Apr-2020

कोरोना दहशत ऐसी कि जिलेभर में 6 हजार से अधिक मरीजों ने कराई जांच अब एक भी प्रकरण नहीं मिला

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 1 अप्रैल।
जिले में कोरोना वायरस की दहशत ऐसी रही कि जिलेभर में 6 हजार से अधिक मरीजों ने इस संबंध में जांच कराई। 20 से 31 मार्च तक के आंकड़ों पर नजर डालें तो जिलेभर के अस्पताल में पहुंचने वालों की संख्या 6642 रही। इनमें सर्दी-खांसी की शिकायत लेकर पहुंचने वालों की संख्या 5080 थी। वहीं बुखार की शिकायत लेकर पहुंचने वालों की संख्या 1562 थी पर राहत भरी खबर यह रही कि इनमें से किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं पाए गए। 

ज्ञात हो कि संख्या और कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए जिला अस्पताल के बाहर ओपीडी तैयार की गई थी। जिले के सभी प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना कॉर्नर तैयार किया गया था। इन स्थानों पर विशेषकर सर्दी-खांसी और बुखार के मरीजों की जांच की गई। जिलेभर के कोरोना कॉर्नर में जांच के लिए 6642 मरीजों में से 18 मरीज ऐसे मिले, जो कोरोना संक्रमण को लेकर संदिग्ध नजर आए।

 स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि इन सभी की जांच की गई तो इनमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले। विभाग की जिला स्तरीय आंकलन टीम ने भी अलग-अलग स्थानों से संदिग्ध प्रकरणों की जांच के लिए नमूने राजधानी भेजे गए थे। लेकिन अब तक के आंकड़ों के मुताबिक जिले में अब एक भी प्रकरण नहीं मिला है, जिसे कोविड 19 से पीडि़त माना जा सके।

चिकित्सक डॉ. अनिमेष राय ने बताया कि ओपीडी में सेवा देते समय उन्हें अब तक कोरोना के संदिग्ध प्रकरण नहीं मिले हैं। लेकिन, ग्रामीण क्षेत्र के कई ऐसे लोग भी जांच कराने आ रहे हैं। जिन्हें वायरस के संक्रमण का भय है। उनके मुताबिक जब तक मरीज को सर्दी, खांसी या बुखार सहित उसके देश या राज्य से बाहर आने व जाने की हिस्ट्री या फिर किसी अन्य संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने की सूचना पुख्ता जानकारी न हो, तब तक सामान्य परेशानियों के लिए किसी को कोरोना का संदिग्ध नहीं समझा जा सकता। विदेश से लौटे जिले के 7 लोगों की दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आई है। 

सोमवार की रात जारी रिपोर्ट में विदेश से आए लोगों की रिपोर्ट निगेटिव रही। इसके बाद प्रशासन ने राहत की सांस ली है। जिलेभर से कुल 17 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। ये सभी रिपोर्ट निगेटिव रही है। 

कोरोना वायरस संक्रमण दल के नोडल अधिकारी डॉ. अनिरुद्ध कसार से मिली जानकारी के मुताबिक इस दिनों प्रदेश में संक्रमण का दूसरा चरण चल रहा है। हम हर परिस्थिति पर लगातार नजर रखे हुए हैं।


Date : 01-Apr-2020

लॉकडाउन से पहले दिल्ली से महासमुंद पहुंचा व्यक्ति पिरदा से बरामद

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 1 अप्रैल।
लॉकडाउन से पहले बीते 18 मार्च को दिल्ली से महासमुन्द के लिए रेल टिकट के जरिये महासमुन्द रवाना होने वाले एक व्यक्ति साकिन वार्ड 8 महासमुन्द को पुलिस ने जिले के ग्राम पिरदा से बरामद किया है। उनके बाहर से लौटने के बाद महासमुन्द पुलिस ढूंढ रही थी लेकिन परिजन कुछ भी जानकारी नहीं दे रहे थे। 

पुलिस का मानना है कि वह व्यक्ति यदि 18 को दिल्ली से रवाना हुआ तो लॉकडाउन से पहले ही 20 मार्च तक महासमुंद पहुंच गया होगा। मुस्लिम जमात में भी उनकी वापिसी को लेकर तरह तरह की बातें हो रही थी लेकिन परिजन कुछ भी नहीं बता रहे थे। अंतत: कल पुलिस ने उन्हें पिरदा से बरामद किया है और उसकी जांच जारी है। इसके बाद उन्हें होम आइसोलेशन पर रखा जा सकता है।

ज्ञात हो कि दिल्ली पुलिस ने 6 लोगों की सूची महासमुंद पुलिस को सौंपी है, जो निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात सेंटर (मरकज) के दौरान उसी एरिया में थे। सूची मिलते ही पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इन सभी की खोजबीन शुरू कर दी है। इनमें से 5 लोगों की जानकारी मिल चुकी है, जो इस समय अलग-अलग राज्यों के साथ दूसरे जिलों में निवासरत हैं। वहीं 1 की जानकारी पुलिस को नहीं मिल पा रही है, जिसकी खोजबीन जारी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त व्यक्ति का मोबाइल नंबर भी बंद है। यही कारण है कि पुलिस की चिंता बढ़ गई है।


Date : 01-Apr-2020

पत्नी को जिंदा जलाने की कोशिश 

महासमुन्द, 1 अप्रैल। चरित्र पर संदेह करते हुए पत्नी को जिंदा जलाने की कोशिश का मामला सामने आया है।
 कल सांकरा थाना में दर्ज रिपोर्ट के मुताबिक थाना क्षेत्र के ग्राम सावित्रीपुर निवासी राहुल ने मंगलवार की रात्रि 7.45 बजे अपनी पत्नी सुनीता बिसरा के चरित्र पर संदेह करते हुए उस पर मिट्टी तेल डालकर उसे जिंदा जवाने की कोशिश की। सुनीता इस घटना में 70 प्रतिशत जल चुकी है और गंभीर हालत में मेकाहारा रायपुर मेें उसका इलाज जारी है। पुलिस ने आरोपी पर धारा 307 के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। 


Date : 01-Apr-2020

रायपुर आईजी महासमुंद जिले के कोमाखान थाना क्षेत्र के टेमरी चेकपोस्ट पहुंचे

महासमुन्द, 1 अप्रैल। मंगलवार को रायपुर आईजी डॉ. आनंद छाबड़ा महासमुंद जिले के कोमाखान थाना क्षेत्र के टेमरी चेकपोस्ट पहुंचे। टेमरी के पास ही छग और ओडिशा की सीमा लगती है। यहां पुलिस ने चेकपोस्ट तैयार किया है। निरीक्षण के दौरान आईजी ने कहा कि रेलवे ट्रैक पर चौकसी बढ़ाई जाए। जिस तरह सड़क मार्ग पर नजर रखी जा रही है, उसी तरह रेलवे ट्रैक पर पूरी नजर रखें। उनके साथ एसपी महासमुंद प्रफुल्ल ठाकुर, एसडीओपी बागबाहरा लितेश सिंह और बागबाहरा थाना प्रभारी संजय राजपूत प्रमुख रूप से उपस्थित थे।


Date : 01-Apr-2020

बोर्ड परीक्षाओं की उत्तरपुस्तिका का बंडल पहुंचा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 1 अप्रैल।
उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन टलने के बाद भी ये जांच के लिए मूल्यांकन केंद्र पहुंच गईं हैं। स्ट्रांग रूम में रखी गई हैं। बाहर पुलिस का कड़ा पहरा लगा हुआ है। अब स्ट्रांग रूम बोर्ड से आदेश आने के बाद ही खुलेगा। गौरतलब है कि जिले में एक ही मूल्यांकन केंद्र है। मूल्यांकन का कार्य 26 मार्च से होना था, लेकिन कोराना वायरस संक्रमण के चलते रद्द कर दिया गया है। अब कब होगा इसकी जानकारी अभी नहीं मिली है। मूल्यांकन केंद्र प्रभारी एस चंद्रसेन ने बताया कि बोर्ड परीक्षाओं की उत्तरपुस्तिका का बंडल पहुंच गए हैं। करीब 114 बंडल हैं। उन्हें अभी खोला नहीं गया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल से आदेश आने के बाद ही मूल्यांकन के लिए दिया जाएगा। हालांकि पूर्व आदेश में शिक्षकों को घर ले जाने के लिए कहा गया था, लेकिन अभी तक कोई आदेश नहीं आया है। ज्ञात हो कि बोर्ड परीक्षाओं का उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन 14 अप्रैल तक टाला गया है।

छग माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव प्रोफेसर वीके गोयल ने आदेश जारी किया था जिसके अनुसार 26 मार्च से हाई स्कूल व हायर सेकेंडरी कक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन होना था। जानकारी के अनुसार जिले में आर्दश बालक उमा विद्यालय महासमुंद ही एकमात्र मूल्यांकन केंद्र है। यह हर साल बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां जांची जाती है। उन्होंने कहा कि उत्तरपुस्तिकाओं की जांच के लिए 500 शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाती है। इस बार भी इन्हीं शिक्षकों को मूल्यांकन के उत्तर पुस्तिकाएं सौंपी जाएंगी। बोर्ड से उत्तरपुस्तिकाओं का 114 बंडल आया है।

 


Date : 01-Apr-2020

विषम परिस्थितियों में काम कर रहे स्टॉफ  के कार्यों की सराहना

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 1 अप्रैल।
कोरोना वायरस की महामारी से बचाव व रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों का जायजा लेने मंगलवार को विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर ने बिरकोनी के सरकारी हॉस्पिटल का निरीक्षण किया और यहां उपलब्ध संसाधनों व व्यवस्थाओंं की जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने विषम परिस्थितियों में काम कर रहे चिकित्सा विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों की सेवा भावना की सराहना की। उन्होंने यहां के स्टाफ से दूसरे लोगों के साथ.साथ खुद का ख्याल रखने की बात भी कही। वहीं विधायक श्री चंद्राकर ने शहर के मुस्लिम जमात के युवाओं द्वारा जरूरतमंदों को राहत सामाग्री वितरण किए जाने के सेवा भाव की सराहना की। इस दौरान मौके पर पहुंचकर उन्होंने भी जरूरतमंदों को सामान वितरित किया। उन्होंने कहा कि इस संकट की घड़ी में सभी को मिलजुल कर कार्य करना होगा तभी कोरोना से जंग में मदद मिल सकेगी।

( विधायक श्री चंद्राकर ने कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन की स्थिति में बस व मालवाहकों को रोड टैक्स व परमिट टैक्स के साथ ही अन्य टैक्स में रियायत देने की मांग की है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर उचित कार्रवाई करने ध्यानाकर्षित कराया है। विधायक श्री चंद्राकर ने बताया कि वर्तमान में लॉकडाउन की स्थिति में बस व मालवाहक गाड़ी खड़ी है लेकिन इनका टैक्स लिया जा रहा है। इन परिस्थितियों में उक्त वाहनों के मालिकों को अतिरिक्त भार पड़ेगा। लिहाजा वाहनों के लाकडाउन तिथि व उसके कुछ दिन पूर्व समय से विभिन्न प्रकार के लगाए जाने वाले टैक्स में छूट दिया जाना उचित होगा।) 

 


Date : 01-Apr-2020

काम बंद, ठेकेदार का सहयोग नहीं, पटरी पर दीगर प्रांत जा रहे 39 मजदूर महासमुंद में

छत्तीसगढ़ संवाददाता

महासमुन्द, 1 अप्रैल। काम बंद होने के बाद मालिक और ठेकेदार द्वारा मदद नहीं किए जाने के चलते मजदूर अपने घरों की ओर से जा रहे हैं। घर जाने के लिए साधन नहीं मिलने पर मजदूर पैदल ही निकल पड़े हैं। मंगलवार को पटरी के किनारे चलकर घर जा रहे 39 मजदूरों को आरपीएफ  ने पकड़ा। पकड़े गये मजदूरों में से 29 रायपुर और 10 बागबाहरा में काम करते थे। 29 मजदूरों में से 20 रायपुर के गोगांव के आयल मिल में काम करते थे और काम बंद होने के बाद बलांगीर जा रहे थे। इसी तरह 9 मजदूर कांटाबांजी जा रहे थे। ये सभी रायपुर छोकरानाला के पास एक प्राइवेट कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करते हैं। सभी की सेहत जांचने करने के बाद सामुदायिक भवन में रखा गया है। हालांकि इनमें कोविड 19 से पीडि़त होने जैसे लक्षण नहीं मिले हैं।

जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के सागर जिले के निवासी 10 मजदूर बागबाहरा में एक निजी टेलीकॉम कंपनी में केबल बिछाने का काम कर रहे थे। लेकिन लॉकडाउन के कारण उनका काम बंद हो गया। इसके चलते सभी सोमवार की शाम पैदल बागबाहरा से रेलवे पटरी होते हुए महासमुंद पहुंचे। सभी देर रात महासमुंद स्टेशन पहुंचे थे, जहां आरपीएफ की टीम ने उन्हें पकडक़र विश्राम गृह में रोक लिया। मंगलवार सुबह इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग सहित पुलिस और प्रशासन को दी गई। मौके पर टीम जांच के लिए पहुंची ही थी कि करीब 29 मजदूर रायपुर से आते हुए मिले। टीम ने उन्हें भी रोककर उनके स्वास्थ्य की जांच की।

ज्ञात हो कि यातायात व्यवस्था पर सरकार द्वारा लगाई गई रोक का तोड़ निकालने वाले कुछ लोगों को पैदल चल कर ही गंतव्य की ओर कूच करते देखा जा रहा है। यात्री ही कहीं संक्रमण का वाहक न बन जाएं इसके लिए जिले में कोरोना कंट्रोल का अमला लगातार पैनी निगाह बनाए हुए है। मंगलवार को रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म में डेरा डालने वाले मदजूरों को पुलिस विभाग के अफसरों ने एक-एक मीटर की दूरी पर बैठाया। सूचना मिलते ही मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे के निर्देशानुसार जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार ने कोरोना वायरस संक्रमण दल केअनुभवी चिकित्सकीय दल को मौके की ओर रवाना किया। कोरोना कंट्रोल दल के अफसर डॉ. छत्रपाल चंद्राकर और आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉ. देवेंद्र साहू की अगुआई में सभी प्रकरणों को संदेहास्पद संज्ञान में रखते हुए बारी-बारी जांच की गई। जिसमें सर्दी, खांसी और बुखार जैसे कोरोना वायरस संक्रमण संबंधित लक्षण आंकलन के साथ-साथ शारीरिक तापमान मापन में नॉन.कनेक्टेड इन्फ्रारेड थर्मामीटर का भी उपयोग किया गया।

इस दौरान डॉ. साहू ने बताया कि यात्रियों से परिवहन दौरे में जैसे कहां से आए हैं और कहां जा रहे हैं इत्यादि की सूचनाएं एकत्र कर लक्षण पहचान एवं सरकारी उपचार के संबंध में भी आवश्यक जानकारी दी जा रही है। परीक्षण उपरांत डॉ चंद्राकर ने स्पष्ट किया कि कुछ पद यात्री राजधानी रायपुर की ओर से आए हैं और अधिकांश उड़ीसा राज्य की ओर रवानगी पर हैं। लेकिन इनमें कोविड 19 से पीडि़त होने जैसे लक्षण नहीं मिले हैं। तत्पश्चात जीएनएम ट्यूटर लोकेश्वरी साहू और कुंती लाउत्रे द्वारा परीक्षण आंक ड़े एकत्र कर प्रकरणों के ऋणात्मक होने की जानकारी कोरोना कंट्रोल रूम की ओर प्रेषित की गई। दूसरी राहत भरी खबर कांग्रेस भवन से रही जहां आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉ परमेश्वरी धीवर एवं उनकी सहयोगी एएनएम लता साहू ने 20 संदिग्ध मरीजों का स्वास्थ्य जांचा। यहां भी पीडि़त संबंधी धनात्मक प्रकरण होने के समाचार नहीं मिले।