छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

Previous123456789...6364Next
16-Apr-2021 7:31 PM 15

प्रशासन के भरोसे नहीं अब लोग खुद कर रहे इंतजाम

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 16 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण ने राजनांदगांव जिले में कोहराम मचा दिया है। लगातार जिले में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही अस्पतालों में मरीजों को जगह नहीं मिल पा रही है। ऐसे में प्रशासन ने संक्रमितों को होम आईसोलेशन में रहकर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते दवाईयों का सेवन करने आह्वान कर रही है। वहीं गंभीर मरीजों को अस्पताल में दाखिल कराया जा रहा है। इधर गंभीर मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन सिलेंडर की किल्लत की खबरें भी सामने आ रही है। ऐसे में मरीज के परिजन स्वयं ही मरीज के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन  और ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था में जुट गए हैं। 

मिली जानकारी के अनुसार अप्रैल माह में अब तक जिलेभर से करीब 14 हजार 180 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। जिसमें ग्रामीण क्षेत्र के 9 हजार 408 लोग एवं शहरी क्षेत्र से 4 हजार 772 मरीज शामिल हैं। वहीं 15 अप्रैल तक करीब 100 लोगों ने अपनी जान कोरोना से गंवाई है। अब तक जिलेभर से 36 हजार 872 लोग संक्रमित हो चुके हैं। जिनमें 25 हजार  182 लोग रिकवर हो गए हैं। वहीं अब तक कुल 314 लोग कोराना बीमारी से अपनी जान गंवा चुके हैं। इधर जिलेभर में कुल 11 हजार 376 एक्टिव मरीज अपना इलाज करा रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार अप्रैल माह के शुरूआती 4 दिनों में रोजाना 500 तक मरीज सामने आ रहे थे। वहीं मौतों के आंकड़े भी कम थे। इधर 5 अप्रैल के बाद रोज संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही कोरोना से मरने वालों की संख्या में भी वृद्धि हो गई है। बीते 10 से 15 अप्रैल के बीच कोरोना संक्रमितों की जान जाने के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होते दर्जनभर पहुंच गई है। इधर लगातार कोरोना के लक्षण और जागरूकता के चलते लोग जांच केंद्र पद्मश्री गोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम और गांधी सभागृह में पहुंच रहे हैं। लंबी कतार में खड़े होकर लोग अपनी बारी का इंतजार करते भी देखे जा रहे हैं। लगातार शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण के प्रभाव में लोग आ रहे हैं। इससे जिलेभर में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। 

गौरवपथ में टहलने वालों का हुजूम
कोरोना संक्रमण की चेन को तोडऩे प्रशासन ने शहर में 10 अप्रैल की दोपहर से 19 अप्रैल सुबह तक जिलेभर में लॉकडाउन घोषित किया है। मिली जानकारी के अनुसार शहर के मैदानी इलाकों और गौरवपथ तथा सडक़ों में लोग टहलते देखा जा सकते हैं। सुबह और शाम सडक़ों पर लोग मॉर्निंग वॉक करने घरों से बाहर आ रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन में शहर की दुकानें बंद है और खुली दुकानों पर प्रशासन की टीम कार्रवाई कर रही है। प्रशासन की टीम लगातार  लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने समझाईश दी जा रही है। 
 


16-Apr-2021 7:02 PM 13

   अनिवार्य लगाएं मास्क और करें कोरोना प्रोटोकाल का पालन   

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के दौरान कोरोना वारियर डॉ. रौशन ने सैम्पल टीम में कार्य करते अपनी अमूल्य सेवाएं दी और अभी वैक्सीनेशन का कार्य देख रहे हंै। कोरोना के खिलाफ युद्ध में वे निरंतर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

पुराना शासकीय जिला हॉस्पिटल के डॉ. रौशन कुमार ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी है और दिन प्रतिदिन इसका संक्रमण बढ़ता गया है। जनसामान्य को भी पता है कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाने, साबुन से समय-समय पर हाथ धोने, दो गज की दूरी के नियमों का पालन करना चाहिए, लेकिन इसके बावजूद पालन नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए वैक्सीन का निर्माण हो चुका है, लेकिन दवाई के साथ कड़ाई की भी जरूरत है। यह जरूरी है कि सभी कोरोना प्रोटोकाल का पालन करें। घर के बाहर जब भी जाए सावधानी से प्रोटोकाल का पालन करें, तुरंत जांच कराकर ही कोरोना की चेन को तोड़ा जा सकता है। यदि कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई दें तो तत्काल परीक्षण करवाएं और कोरोना पॉजिटिव आने पर स्वयं को आईसोलेट रखकर कोरोना की दवा लेना शुरू कर दें। सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं शासकीय मेडिकल कॉलेज पेंड्री में दवाइयां उपलब्ध है।

डॉ. रौशन ने कहा कि जनसामान्य को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक होना चाहिए। वैक्सीनेशन लगाकर हम स्वयं को सुरक्षित रख सकते हैं। लोगों में यह भ्रम है तथा यह अफवाह है कि वैक्सीनेशन से रिएक्शन हो रहा है, जो पूर्ण रूप से असत्य है। वैक्सीन पूर्णत: सुरक्षित है। लगाने के बाद थोड़ा बहुत दर्द, सूजन, हल्का बुखार या दाने हो सकते हैं। ऐसे लक्षण दिखाई दे तो टीका स्थल पर जाकर इलाज करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि विगत वर्ष मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी के मार्गदर्शन में मैंने रेपीड टेस्ट, ट्रूनाट एवं आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए सैम्पल लेने का कार्य शुरू किया था। यह कार्य अत्यंत चुनौतीपूर्ण रहा। चीन एवं अन्य देशों से आने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें पॉजिटिव होने पर आईसोलेट किया गया था। धीरे-धीरे इस बीच संक्रमण बढ़ा और सैम्पल लेने तथा परीक्षण भी बढ़ाया गया। पहले तो लोग कोरोना के लक्षण दिखने पर भी जानकारी नहीं दे रहे थे। शासन-प्रशासन द्वारा बताने पर लोग जागरूक हुए और सैम्पल देने के लिए आने लगे।


16-Apr-2021 7:01 PM 18

  निगरानी करेंगे नोडल एवं सहायक नोडल अधिकारी   

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कोविड-19 के संक्रमण की दशा में राजनांदगांव जिले में 3 निजी अस्पतालों को उपचार के लिए अनुमति प्रदान की गई है। निजी अस्पतालों में कोविड-19 के उपचार के दौरान मरीजों, परिजनों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो, इस हेतु रेफरल संबंधी समन्वय, अस्पतालों में उपलब्ध बेड की स्थिति, डेड बॉडी मूवमेंट प्लान, प्राईवेट अस्पतालों में मरीजों के उपचार हेतु शासन द्वारा निर्धारित दर से अधिक दर लेने संबंधी अथवा अन्य किसी भी प्रकार की शिकायतों के निवारण एवं निजी अस्पतालों से समुचित समन्वय एवं सतत् निगरानी हेतु अस्पतालों के लिए नोडल व सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। सभी नोडल अधिकारियों को डिप्टी कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी कोविड कंट्रोल रूम राजनांदगांव लता युगल उर्वशा मो.नं. 9981185311 के निर्देशन एवं नियंत्रण में कार्य करने तथा प्रतिदिन रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा गया है। नोडल, सहायक नोडल अधिकारियों को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी मो.नं.  9425211974 से समन्वय स्थापित कर अपने दायित्वों का निर्वहन करने कहा गया है।

जिले में स्थापित कोविड ट्रीटमेंट हास्पिटल
जीवनरेखा हास्पिटल संचालक डॉ. अनिल गोम मो.नं. 9399292257 के लिए कार्यपालन अभियंता प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विकास योजना ईकाई -1 ज्ञानेन्द्र कश्यप मो.नं. 94079-94945 को नोडल अधिकारी एवं सहायक परियोजना अधिकारी जिला पंचाायत राजनांदगांव सुरेन्द्र ओझा को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। सिटी हास्पिटल राजनांदगांव संचालक डॉ. नवीन गौरा मो.नं. 9981117999 के लिए सहायक आयुक्त आबकारी नवीन प्रताप तोमर मो.नं.  7000788801 को नोडल अधिकारी एवं अनुविभागीय अधिकारी कृषि टीकम ठाकुर मो.नं. 7000730510 को सहायक नोडल अधिकारी, सुंदरा मल्टी सपेशियालिटी हॉस्पिटल संचालक डॉ. संजय गोलछा मो.नं. 8770255990 के लिए उप संचालक नगर तथा ग्राम निवेश सुर्यभान सिंह ठाकुर मो.नं. 9406297915 को नोडल अधिकारी एवं सहायक अभियंता जल संसाधन राजनांदगांव एसआर नागेश्वर मो.नं. 9827987767 को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

जिले में स्थापित कोविड केयर सेंटर (नि:शुल्क) उदयाचल राजनांदगांव संचालक भावेश बैद मो.नं.  7000288805 के लिए उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं डॉ. राजीव देवशरण मो.नं. 9425572409 को नोडल अधिकारी तथा सहायक अभियंता छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल राजनांदगांव कमलेश कुमार मो.नं.  9669961057 को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। प्रेस क्लब कोविड केयर सेंटर संचालक अजय सोनी मो.नं. 7974134327 के लिए कार्यपालन अभियंता मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना तेजराम साहू मो.नं. 9425526946 तथा सहायक अभियंता ग्रामीण यांत्रिकी सेवा बीआर बघेल मो.नं. 9424115844 को सहायक नोडल अधिकारी, अजीज पब्लिक स्कूल इंदामरा कोविड केयर सेंटर संचालक पंकज एबिस ग्रुप मो.नं.  7024159885 के लिए अनुविभागीय अधिकारी लोक निर्माण विभाग सेतु संभाग राजनांदगांव केके पाल मो.नं. 9424295981 को नोडल अधिकारी तथा सहायक अभियंता क्रेडा राजनांदगांव आयुष गडिय़ा मो.नं. 9907802718 को सहायक नोडल अधिकारी, फतेह सिंह हॉल गुरूनानक स्कूल राजनांदगांव संचालक जनरैल सिंह भाटिया मो.नं. 7000831144 के लिए उप संचालक समाज कल्याण श्री बीएल ठाकुर मो.नं.  9424297017 को नोडल अधिकारी तथा अनुविभागीय कृषि अधिकारी रणधीर लाल अंबादे मो.नं. 8827804047 को सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया है।


16-Apr-2021 7:00 PM 12

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कलेक्टर टीके वर्मा ने दिग्विजय स्टेडियम परिसर में स्थापित कंट्रोल रूम के सुचारू संचालन के लिए डिप्टी कलेक्टर लता उर्वशा मोबाइल नंबर 9981185311 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। कंट्रोल रूम के संचालन के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से समन्वय स्थापित कर आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करेंगी। साथ ही प्रतिदिन यथास्थिति से अवगत कराने के निर्देश दिए हैं।


16-Apr-2021 6:58 PM 16

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कोविड-19 के संक्रमण की दशा में राजनांदगांव जिले में कोविड संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए एक कोविड ट्रीटमेंट हास्पिटल एवं 3 कोविड केयर सेंटर स्थापित किया गया है। कोविड ट्रीटमेंट हास्पिटल एवं कोविड केयर सेंटर में कोविड-19 के उपचार के दौरान मरीजों, परिजनों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो इस हेतु रेफरल संबंधी समन्वय, अस्पतालों में उपलब्ध बेड की स्थिति, डेड बॉडी मूवमेंट प्लान संबंधी अथवा अन्य किसी भी प्रकार की शिकायतों के निवारण एवं निजी अस्पतालों से समुचित समन्वय एवं सतत् निगरानी नोडल एवं सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। सभी नोडल अधिकारियों को डिप्टी कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी कोविड कंट्रोल रूम राजनांदगांव लता युगल उर्वशा मो.नं. 9981185311 के निर्देशन एवं नियंत्रण में कार्य करने तथा प्रतिदिन रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा गया है। नोडल, सहायक नोडल अधिकारियों को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी मो.नं. 9425211974 से समन्वय स्थापित कर अपने दायित्वों का निर्वहन करने कहा गया है।

शासकीय अटल बिहारी वाजपेयी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय पेंड्री के नोडल डॉ. कोसम मो.नं. 8871042041 है। जिसके लिए कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग डीके नेताम मो.नं. 94242.80055 को नोडल अधिकारी तथा सहायक नोडल अधिकारी सहायक अभियंता लोक निर्माण विभाग जितेन्द्र राजपायली मो.नं. 9425211077 को बनाया गया है।
शा. कोविड केयर सेंटर एकलव्य आवासीय विद्यालय राजनांदगांव संचालक कौशल शर्मा मो.नं. 9827155567 के लिए सहायक आयुक्त आदिवासी विकास एमएल घृतलहरे मो.नं. 8120986867 को नोडल अधिकारी तथा श्रम निरीक्षक परछित पटेल मो.नं. 9340458882 को सहायक नोडल अधिकारी बनाया गया है। साई स्पोटर््स हास्टल कोविड केयर सेंटर के संचालक रूपचंद भिमनानी मो.नं. 8718840000 के लिए जिला समन्वयक राजीव गांधी शिक्षा मिशन भूपेश साहू मो.नं. 9425567756 को नोडल अधिकारी तथा जिला खेल अधिकारी ए एक्का मो.नं. 9424123052 को सहायक नोडल अधिकारी, मेडिकल छात्रावास सोमनी संचालक डॉ. बल्देव सिंह गुलाबी मो.नं. 9993566105, 7067026211 के लिए सहायक संचालक पंचायत डीके कौशिक मो.नं. 8770618974 को नोडल अधिकारी तथा सहायक संचालक कौशल विकास नितिन हिरवानी मो.नं. 9827167200 को सहायक नोडल अधिकारी बनाया गया है।
 


16-Apr-2021 6:57 PM 21

   कोविड-19 के संबंध में बैठक संपन्न   

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कलेक्टर टीके वर्मा ने गुरुवार को दिग्विजय स्टेडियम स्थित डिस्ट्रिक वार रूम (कंट्रोल रूम) में कोविड-19 के संबंध में बैठक में अधिकारियों को रैमडिसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता एवं पारदर्शिता बनाए रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था निर्बाध गति से होते रहे। उन्होंने ऑक्सीजन बेड बढ़ाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 के केस बढ़ रहे हंै और कोरोना के ट्रेेंड में परिवर्तन आया है। उन्होंने अधीक्षक मेडिकल कॉलेज डॉ. प्रदीप बेक से कहा कि प्राप्त होने वाले 100 ऑक्सीजन सिलेंडर में कोरोना संक्रमित मरीजों को अतिरिक्त सुविधा मिलनी चाहिए। कोरोना संक्रमित मरीजों के मेडिकल बुलेटिन एवं उनके स्वास्थ्य की जानकारी उनके परिजनों को प्रदान करें। उन्होंने शासकीय मेडिकल कालेज में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भी जानकारी ली।

कलेक्टर वर्मा ने स्पोटर््स अथारिटी ऑफ इंडिया (साई) में कोविड केयर सेंटर में सिंधी समाज द्वारा किए जा रहे व्यवस्थाओं की जानकारी ली। डिप्टी कलेक्टर राहुल रजक ने बताया कि 139 कंटेन्मेंट जोन बनाए गए हैं। कलेक्टर ने कहा कि ऐसा संज्ञान में आया है कि स्वास्थ्य विभाग में भर्ती हेतु विज्ञाप्ति पद के लिए अज्ञात नंबर से राशि की मांग की जा रही है। कलेक्टोरेट में इस नाम का कोई भी व्यक्ति नहीं है। संबंधितों के खिलाफ उन्होंने एफआईआर करने के निर्देश दिए।

इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत, अपर कलेक्टर सीएल मारकंडेय, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कविलाश टंडन, शासकीय मेडिकल कॉलेज अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक, एसडीएम मुकेश रावटे, डिप्टी कलेक्टर लता उर्वशा, डिप्टी कलेक्टर विरेन्द्र सिंह, डिप्टी कलेक्टर राहुल रजक, डीपीएम गिरीश कुर्रे, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बीएल कुमरे, सीएसपी लोकेश देवांगन, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग रेणु प्रकाश, जिला शिक्षा अधिकारी एचआर सोम, ईडीएम सौरभ मिश्रा, शासकीय मेडिकल कालेज के अरविंद चौधरी एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


16-Apr-2021 5:58 PM 13

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कलेक्टर टीके वर्मा ने गुरुवार को दिग्विजय स्टेडियम स्थित डिस्ट्रिक वार रूम (कंट्रोल रूम) में कोविड-19 के संबंध में बैठक में अधिकारियों को रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता एवं पारदर्शिता बनाए रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था निर्बाध गति से होते रहे। उन्होंने ऑक्सीजन बेड बढ़ाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 के केस बढ़ रहे हंै और कोरोना के ट्रेेंड में परिवर्तन आया है। उन्होंने अधीक्षक मेडिकल कॉलेज डॉ. प्रदीप बेक से कहा कि प्राप्त होने वाले 100 ऑक्सीजन सिलेंडर में कोरोना संक्रमित मरीजों को अतिरिक्त सुविधा मिलनी चाहिए। कोरोना संक्रमित मरीजों के मेडिकल बुलेटिन एवं उनके स्वास्थ्य की जानकारी उनके परिजनों को प्रदान करें।

 उन्होंने शासकीय मेडिकल कालेज में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भी जानकारी ली।
कलेक्टर वर्मा ने स्पोटर््स अथारिटी ऑफ इंडिया (साई) में कोविड केयर सेंटर में सिंधी समाज द्वारा किए जा रहे व्यवस्थाओं की जानकारी ली। डिप्टी कलेक्टर राहुल रजक ने बताया कि 139 कंटेन्मेंट जोन बनाए गए हैं। कलेक्टर ने कहा कि ऐसा संज्ञान में आया है कि स्वास्थ्य विभाग में भर्ती हेतु विज्ञाप्ति पद के लिए अज्ञात नंबर से राशि की मांग की जा रही है। कलेक्टोरेट में इस नाम का कोई भी व्यक्ति नहीं है। संबंधितों के खिलाफ उन्होंने एफआईआर करने के निर्देश दिए। 

इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अजीत वसंत, अपर कलेक्टर सीएल मारकंडेय, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कविलाश टंडन, शासकीय मेडिकल कॉलेज अधीक्षक डॉ. प्रदीप बेक, एसडीएम मुकेश रावटे, डिप्टी कलेक्टर लता उर्वशा, डिप्टी कलेक्टर विरेन्द्र सिंह, डिप्टी कलेक्टर राहुल रजक, डीपीएम गिरीश कुर्रे, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बीएल कुमरे, सीएसपी लोकेश देवांगन, कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग रेणु प्रकाश, जिला शिक्षा अधिकारी एचआर सोम, ईडीएम सौरभ मिश्रा, शासकीय मेडिकल कालेज के अरविंद चौधरी एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
 


16-Apr-2021 5:30 PM 18

राजनांदगांव, 16 अप्रैल। कोरोना वायरस संक्रमण  लॉकडाउन की स्थिति में अन्य प्रदेश से रेल मार्ग, वायु मार्ग, सडक़ मार्ग से आने वाले व्यक्ति को 14 दिन के लिए होम आईसोलेशन में रहने एवं कोरोना लक्षण पाए जाने पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा नगर निगम के कार्यालय अधीक्षक को दूरभाष में सूचना देने नगर निगम आयुक्त डॉ. आशुतोष चतुर्वेदी ने अपील की है।

आयुक्त डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि लॉकडाउन की स्थिति में अन्य प्रदेश से आने वाले व्यक्ति की कोरोना स्थिति के बारे मेें जानकारी नहीं मिल पा रही है। जिससे कोरोना वायरस संक्रमण पॉजिटिव आने के साथ-साथ अन्य लोगों में भी फैलने का खतरा बढ़ा रहता है। उक्त बातों को ध्यान में रखकर अन्य प्रांतों से आने वाले व्यक्तियों से अपील की जाती है कि वे स्वयं होम आईसोलेशन में रहे एवं उनके परिवार के सदस्य भी बाहर आना-जाना न करें तथा कोरोना लक्षण पाए जाने पर नजदीकी कोविड सेंटर में जाकर जांच एवं ईलाज कराएं। इसके अलावा अपने आगमन के संबंध में विस्तृत विवरण जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी व नगर निगम के अधीक्षक मो.नं. 99074-20717 से संपर्क कर देंगे। अपालन की स्थिति में भारतीय दंड विधान की धारा 188 के तहत संबंधित के विरूद्ध प्राथमिक सूचना निकटतम थाना में दर्ज करायी जाएगी और उनके विरूद्ध आवश्यक प्रतिबंधात्मक कार्रवाई भी की जाएगी।
 


16-Apr-2021 5:29 PM 19

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 16 अप्रैल।
कोरोना वायरस के कारण आई गंभीर आपदा की घड़ी में शासन प्रशासन सहित समाजसेवी संगठनों द्वारा कोविड सेंटर एवं वैक्सीन सेंटर खोलने के साथ-साथ अन्य आवश्यक सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। इसी कड़ी में महापौर हेमा देशमुख की पहल पर नगर निगम द्वारा मेडिकल कॉलेज परिसर में निगम द्वारा निर्मित रैन बसैरा में महापौर निधि से अतिशीघ्र 50 बिस्तर आक्सीजनयुक्त मेयर केयर कोविड सेंटर प्रारंभ किया जाएगा। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु उपाय करने एवं सुसंगत उपकरण तथा अन्य आवश्यक सामाग्री क्रय करने महापौर निधि से व्यय करने की अनुमति दी है। जिसके लिए महापौर हेमा देशमुख ने मुख्यमंत्री एवं नगरीय प्रशासन मंत्री का आभार व्यक्त किया है।

मेयर केयर कोविड सेंटर के संबंध में महापौर श्रीमती देशमुख ने बताया कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते शासन, प्रशासन एवं समाजसेवी संस्थाओं द्वारा इसकी रोकथाम के लिए कोविड सेंटर, वैक्सीन सेंटर के अलावा होम आईसोलेशन वाले मरीजों के लिए खाना सहित अन्य सुविधा उपलब्ध करायी जा रही हैै। इसी कड़ी में नगर निगम द्वारा भी कोविड सेंटर प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। जिसके लिए मेडिकल कॉलेज परिसर में नगर निगम द्वारा निर्मित रैन बसेरा का चयन किया गया है और वहां महापौर निधि से 50 बिस्तर आक्सीजन की सुविधा सहित मेयर केयर कोविड सेंटर अतिशीघ्र प्रारंभ किया जाएगा। जिसकी तैयारी अंतिम चरण में है। उन्होंने बताया कि 50 बिस्तर में 25 पुरूष एवं 25 महिला के लिए अलग-अलग रखा गया है। जिसमें 35 आक्सीजन वाले बेड रहेंगे तथा महिला पुरूष के लिए अलग-अलग शौचालय रहेगा एवं मेडिकल स्टाफ  के लिए भी अलग से शौचालय बनाया गया है।

महापौर ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा कोरोना वायरस के कारण आई गंभीर आपदा की घडी में इसके रोकथाम एवं बचाव के लिए करोड़ों रुपए की राशि दे रहे हैं। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री की अनुशंसा पर नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव डहरिया द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु उपाय करने एवं सुसंगत उपकरण तथा अन्य आवश्यक सामाग्री क्रय करने महापौर निधि से व्यय करने की अनुमति दी है। अनुमति उपरांत महापौर निधि से ही मेयर केयर कोविड सेंटर मेडिकल कॉलेज परिसर मे निर्मित रैन बसेरा में प्रारंभ किया जाएगा।  उन्होंने कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए महापौर निधि से व्यय करने की अनुमति दिए जाने पर मुख्यमंत्री एवं नगरीय प्रशासन मंत्री का आभार व्यक्त किया है।
 


16-Apr-2021 5:25 PM 15

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 16 अप्रैल।
छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन के प्रांतीय महामंत्री सतीश ब्यौहरे ने कहा कि शासकीय सेवक के दायित्वों के निर्वहन में कोरोना संक्रमण के फलस्वरूप दिवंगत शासकीय सेवक के परिवार के एक सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति देने प्रांताध्यक्ष राजेश चटर्जी ने मुख्यमंत्री के नाम पाती लिखा है।

उन्होंने बताया कि सामान्य प्रशासन विभाग के आदेश के अनुसार सीधी भर्ती के तृतीय श्रेणी पद पर संवर्ग में स्वीकृत कुल पदों के अधिकतम 10 प्रतिशत पदों पर अनुकंपा नियुक्ति देने का प्रावधान है। उक्त 10 प्रतिशत सीमा बंधन (सीलिंग) को पूर्व में आदेश जारी होने के तिथि से 1 वर्ष के लिए शिथिल किया गया था। नियम (8) के कंडिका (4) के अनुसार अनुकंपा नियुक्ति के मामले में चतुर्थ श्रेणी के पदों पर पदों की संख्या का कोई सीमा बंधन नहीं है। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग में सहायक शिक्षक (विज्ञान) का नवीन 8929 पद स्वीकृत है, जो कि 100 प्रतिशत सीधी भर्ती का पद है। पदों का 10 प्रतिशत अर्थात् 893 पद अनुकंपा नियुक्ति के लिए रिक्त है। जबकि सरकार  अनुकंपा नियुक्ति कोटे के अंतर्गत 10 प्रतिशत पद को रिक्त नहीं होने का कारण बताकर तृतीय श्रेणी के पदों अनुकंपा नियुक्ति पर रोक लगाए हुए हैं, जिसे मौजूदा हालात में लोकहित में हटाया जाना चाहिए।

उन्होंने बताया कि फेडरेशन ने मुख्यमंत्री के नाम पाती में लिखा है कि अनेक शासकीय सेवक अपने दायित्वों का निर्वहन के दौरान कोरोना संक्रमण की चपेट में आकर दिवंगत हुए हैं। फलस्वरूप उनके परिवार के सदस्यों के समक्ष आजीविका की विकट परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। कई परिवार बिखरने की स्थिति में है। कुछ मामलों में पति-पत्नी दोनों के दिवंगत होने से बच्चे अनाथ हो गए हैं। बेहद दु:खद है कि दिवंगत शासकीय सेवक के परिवार को दोहरे विपत्ति की मार का सामना कर रहा है। 

फेडरेशन ने मुख्यमंत्री के नाम पाती में लिखा है कि कोरोना महामारी के भीषण प्रकोप के दृष्टिगत दिवंगत शासकीय सेवक के परिवार के एक सदस्य को शैक्षणिक योग्यतानुसार समय सीमा में अनुकंपा नियुक्ति दिया जाना उचित होगा, जो कि राज्य शासन का पुनीत कर्तव्य और सर्वोत्तम दायित्व है। वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत तृतीय श्रेणी के पदों पर अनुकंपा नियुक्ति के 10 प्रतिशत सीलिंग की बाध्यता को समाप्त करने का आदेश देने तथा पात्रता अनुसार अनुकंपा नियुक्ति आदेश तत्काल जारी करने का कड़ा निर्देश समस्त विभागों को देने का आग्रह किया है।
 


16-Apr-2021 2:47 PM 23

एमपी भागने की फिराक में था आरोपी
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 16 अप्रैल।
बोरतलाव क्षेत्र में एक नाबालिग के साथ छेड़छाड़ किए जाने वाले आरोपी को पुलिस ने चंद घंटों में ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। आरोपी घटना के बाद अपने मूल गांव मध्यप्रदेश के रीवा भागने की तैयारी में था। पुलिस ने घेराबंदी कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार ललित प्रजापति (25 वर्ष) अस्थाई निवास ग्राम पनियाजोब व मूल निवास ग्राम देवास जिला रीवा मध्यप्रदेश 15 अप्रैल को दोपहर करीब 12 बजे एक नाबालिग बालिका को पनियाजोब के जंगल में ले जाकर बुरी नियत से छेड़छाड़ की घटना कारित कर रहा था। उक्त बालिका की चिल्लाने की आवाज सुनकर वन विभाग के एक अधिकारी ने मौके पर पहुंचकर नाबालिग बालिका को बचाकर सुरक्षित बच्ची के माता-पिता के पास छोड़ा गया। इसके बाद पीडि़ता ने अपने माता-पिता और वन विभाग के अधिकारी के साथ बोरतलाव थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई।

मामले को गंभीरता से लेते थाना प्रभारी अब्दुल समीर द्वारा एक टीम का गठन करते त्वरित कार्रवाई करते देर रात्रि में ही आरोपी की पतासाजी के लिए रवाना हुई। आरोपी ललित प्रजापति पुलिस से बचने फरार होने की फिराक में था, जिसे पुलिस टीम द्वारा पनियाजोब के जंगल में दबिश देकर घेराबंदी कर चंद घंटों में पकडक़र हिरासत में लेकर कार्रवाई करते 16 अप्रैल को गिरफ्तारी उपरांत न्यायिक अभिरक्षा में माननीय न्यायालय डोंगरगढ़ भेजा गया।


16-Apr-2021 2:27 PM 24

  प्रशासन के भरोसे नहीं अब लोग खुद कर रहे इंतजाम  

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 16 अप्रैल।
वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण ने राजनांदगांव जिले में कोहराम मचा दिया है। लगातार जिले में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही अस्पतालों में मरीजों को जगह नहीं मिल पा रही है। ऐसे में प्रशासन ने संक्रमितों को होम आईसोलेशन में रहकर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते दवाईयों का सेवन करने आह्वान कर रही है। वहीं गंभीर मरीजों को अस्पताल में दाखिल कराया जा रहा है। इधर गंभीर मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन सिलेंडर की किल्लत की खबरें भी सामने आ रही हैं। ऐसे में मरीज के परिजन स्वयं ही मरीज के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन  और ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था में जुट गए हैं।
 
मिली जानकारी के अनुसार अप्रैल माह में अब तक जिलेभर से करीब 14 हजार 180 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जिसमें ग्रामीण क्षेत्र के 9 हजार 408 लोग एवं शहरी क्षेत्र से 4 हजार 772 मरीज शामिल हैं। वहीं 15 अप्रैल तक करीब 100 लोगों ने अपनी जान कोरोना से गंवाई है। अब तक जिलेभर से 36 हजार 872 लोग संक्रमित हो चुके हैं। जिनमें 25 हजार  182 लोग रिकवर हो गए हैं। वहीं अब तक कुल 314 लोग कोराना बीमारी से अपनी जान गंवा चुके हैं। इधर जिलेभर में कुल 11 हजार 376 एक्टिव मरीज अपना इलाज करा रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार अप्रैल माह के शुरूआती 4 दिनों में रोजाना 500 तक मरीज सामने आ रहे थे। वहीं मौतों के आंकड़े भी कम थे। इधर 5 अप्रैल के बाद रोज संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही कोरोना से मरने वालों की संख्या में भी वृद्धि हो गई है। बीते 10 से 15 अप्रैल के बीच कोरोना संक्रमितों की जान जाने के आंकड़ों में बढ़ोत्तरी होते दर्जनभर पहुंच गई है। इधर लगातार कोरोना के लक्षण और जागरूकता के चलते लोग जांच केंद्र पद्मश्री गोविंदराम  निर्मलकर आडिटोरियम और गांधी सभागृह में पहुंच रहे हैं। लंबी कतार में खड़े होकर लोग अपनी बारी का इंतजार करते भी देखे जा रहे हैं। लगातार शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण के प्रभाव में लोग आ रहे हैं। इससे जिलेभर में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। 

गौरवपथ में टहलने वालों का हुजूम
कोरोना संक्रमण की चेन को तोडऩे प्रशासन ने शहर में 10 अप्रैल की दोपहर से 19 अप्रैल सुबह तक जिलेभर में लॉकडाउन घोषित किया है। मिली जानकारी के अनुसार शहर के मैदानी इलाकों और गौरवपथ तथा सडक़ों में लोग टहलते देखा जा सकते हैं। सुबह और शाम सडक़ों पर लोग मॉर्निंग वॉक करने घरों से बाहर आ रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन में शहर की दुकानें बंद है और खुली दुकानों पर प्रशासन की टीम कार्रवाई कर रही है। प्रशासन की टीम लगातार लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने समझाईश दी जा रही है। 

 


16-Apr-2021 1:42 PM 19

नहीं सुधर रही व्यवस्था, मरीज परेशान
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 16 अप्रैल।
ब्लॉक मुख्यालय में कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए संचालित कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था में सुधार ही नहीं आ रहा है। इधर कोविड केयर सेंटर में उपयोग किया जाना वाले पीपीईटी किट, हेंड ग्लबस, मास्क एवं मेडिकल वेस्ट को केयर सेंटर के बाहर खुले में फेंका जा रहा है, जिससे आसपास रहने वाले कन्या शिक्षा परिसर कॉलोनी के कर्मचारियों एवं मेरेगांव के नागरिकों में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। 

पार्षद अविनाश कोमरे, जावेद खान, मोहन मलगामे ने बताया कि केयर केंटर में उपयोग किए गए पीपीई किट एवं ग्लबस तथा मेडिकल वेस्ट को खुले में फेंक दिया गया है। इससे साफ  तौर पर प्रमाणित हो रहा है कि कोविड केयर सेंटर में लापरवाही बरती जा रही है। 

बीएमओ डॉ. आरआर धुर्वे ने बताया कि केयर सेंटर में अव्यवस्था का आरोप गलत है। उन्होंने कहा कि केयर सेंटर में मरीजों के उपचार के लिए नियमित डॉक्टर व कर्मचारी जा रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार ब्लॉक में संचालित कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था में सुधार ही नहीं हो रहा है। यहां अव्यवस्था से परेशान मरीज अब सेंटर से छुट्टी दिलाने की मांग कर रहे हैं। बताया गया कि बीते तीन दिन में यहां से दो दर्जन से अधिक मरीजों ने सेंटर से अपने को डिस्चार्ज करा लिया है। मरीजों का कहना है कि सेंटर की हालत इतनी खराब है कि यहां तक जीने वाला मरीज आज ही चल बसेगा। सबसे अधिक शिकायत डॉक्टरों के केयर सेंटर में नहीं आने व उचित देखभाल नहीं करने को लेकर है। 

बताया गया कि अव्यवस्था परेशान ग्राम चिखली निवासी केवलदास साहू ने केयर सेंटर से अपनी मां व छोटे भाई को घर ले जाने डिस्चार्ज करा लिया। श्री साहू ने बताया कि  उनकी मां चंद्रिकाबाई साहू व उनका भाई टोमेश्वर साहू कोरोना संक्रमित थे। उन्हें चार दिन पहले ही केयर सेंटर में भर्ती कराया गया था, लेकिन यहां अव्यवस्था से परेशान थे, इसलिए उन्हें यहां से छुट्टी दिलाकर घर ले जा रहा हूं। इसी तरह यहां भर्ती अन्य मरीजों एवं उनके परिजनों को एक नहीं ढ़ेरों शिकायतें है। शिकायतकर्ताओं ने यहां की अव्यवस्था के लिए बीएमओ व बीपीएम को जिम्मेदार ठहराते कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

नाश्ते में दिया जा रहा फ्राई चावल
कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों को यहां खाना व नाश्ते की गुणवत्ता को लेकर शिकायतें है। बुधवार को चिखली के एक मरीज ने बताया कि यहां नाश्ते में रात का बचा बासी चावल को फ्राई कर दिया जा रहा है। दाल के नाम पर केवल दाल का पानी दिया जा रहा है। दाल इस तरह पतली होती है कि दाल को ढूंढना पड़ता है। खाने में मोटा चावल दिया जाता है। वह भी अधपका रहता है। रोटिया भी कच्ची व गीली रहती है। सब्जी की भी गुणवत्ता ठीक नहीं है। मरीजों का आरोप है कि इस महामारी के दौर व संकट के समय कोविड मरीज के लिए शासन से आ रहे भोजन व नाश्ते में भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कमीशनबाजी  कर मरीजों के ही खाने में गुणवत्ता की चोरी कर रहे हैं। मरीजों ने बताया कि यहां गर्म पानी मांगने पर बड़ी मुश्किल से मिलता है।

महिला प्रसाधन में नहीं आता पानी 
कोविड केयर सेंटर में मरीजों को इलाज व खाने ही नहीं, बल्कि साफ-सफाई की व्यवस्था को लेकर एक नहीं कई शिकायतें है। मरीजों ने बताया कि यहां स्नानागार व प्रसाधनों के नलों में टोटियां ही नहीं है। जिससे 24 घंटे पानी व्यर्थ बहता रहता है। टंकियों में पानी भरने के बाद टोटिया नहीं होने से पानी एक डेढ घंटे में खाली हो जाता है। मरीजों का आरोप है कि साफ-सफाई की व्यवस्था ठीक नहीं है। महिला प्रसाधनों में नलों से पानी नहीं आने की शिकायतें है, जिससे सेंटर में भर्ती महिलाओं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।


15-Apr-2021 6:37 PM 21

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 15 अप्रैल।
सिंधी समाज राजनंादगांव ने एक बार फिर अपना योगदान देने के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। कोरोना मरीजों को हो रही परेशानियों को देखते सिंधी समाज राजनांदगांव द्वारा दिग्विजय स्टेडियम स्थित साई हॉस्टल को कोविड सेंटर में परिवर्तित कर 50 बेड का सर्वसुविधायुक्त सिंधी कोविड सेंटर खोलने की जवाबदारी सिंधी समाज द्वारा ली गई है। सिंधी समाज द्वारा सिंधु कोविड सेंटर के संचालन के लिए रूपचंद भीमनानी के नेतृत्व में एक युवा टीम द्वारा युद्ध स्तर पर तैयारी की जा रही है।

भोजराज बजाज ने बताया कि इस सेंटर में डॉक्टरों द्वारा सतत निरीक्षण में मरीजों की देखरेख की जाएगी और प्रशासन के सहयोग से इस सेंटर का शुभारंभ होगा। मरीजों की देखरेख, खानपान, समय-समय पर हेल्दी डाइट काडा, हल्दी वाला दूध, फल एवं मानसिक रूप से मजबूत करने हेतु मनोवैज्ञानिक संगीत की व्यवस्था सिंधी समाज द्वारा की जा रही है।

श्री बजाज ने बताया कि सिंधु कोविड सेंटर में मरीजों के लिए नि:शुल्क व्यवस्था की गई है। 50 कोविड मरीजों को बेहतर व आरामदायक आवास के साथ पौष्टिक खानपान तथा राजनांदगांव प्रशासन के सहयोग व समर्थन व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की प्रेरणा, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के सक्रिय सहयोग तथा योगदान से मेडिकल टीम की देखरेख में आपात स्थिति के लिए ऑक्सीजन की भी व्यवस्था कर रहे हैं। साथ ही इस सेवा प्रकल्प में महापौर हेमा देशमुख, पूर्व महापौर मधुसूदन यादव, जिलाधीश टीके वर्मा, एसडीएम मुकेश रावटे, सीएमओ डॉ. मिथलेश चौधरी व तहसीलदार श्री मोर का योगदान उल्लेखनीय है। उक्त जानकारी अमर लालवानी ने दी।
 


15-Apr-2021 6:21 PM 19

चयनित अभ्यर्थियों को 16 तक उपस्थित होने के निर्देश 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 15 अप्रैल।
कलेक्टर टीके वर्मा के निर्देशानुसार जिला खनिज संस्थान न्यास के तहत स्टॉफ नर्स (डीएमएफ), लैब टेक्निशीयन (डीएमएफ) एवं फार्मासिस्ट (डीएमएफ) के संविदा पद पर अभ्यर्थियों की नियुक्ति कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी राजनांदगांव के अंतर्गत की गई है। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि चयनित अभ्यर्थियों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मानपुर तथा अन्य सामुदायिक स्वास्थ्य एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में नियुक्त किया जाएगा। चयनित अभ्यर्थियों को 16 अप्रैल तक कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी राजनांदगांव में अनिवार्य रूप से उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।

 स्टाफ नर्स चयनित अभ्यर्थी
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मानपुर में स्टाफ नर्स के लिए  पुष्पा मंडावी, यामिनी, वीणा खोब्रागढ़े, माधुरी राय, सुनिता निर्मलकर, अराधना पम्मी तिर्की, सरोज दिवान, मंजूलता गर्ग, चमेली तथा त्रिवेणी का चयन किया गया है। इसी तरह अन्य सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्टाफ नर्स के लिए श्यामा उइके, सरीता निर्मलकर, रक्षन्दा टांडेकर, ज्योति टंडन, पूजा, तोरण कुमारी, कविता वर्मा, गौरी देवांगन, जयश्री सिन्हा, सीमा साहू, दिपांजली साहू, कंचन, विद्या, यामिनी, गीतांजली यादव, मोनिका साहू, दीपिका वर्मा, अंजू मैथ्यू, दीप्ति तिवारी, यामिनि, नीतू, चांदनी, कान्ता यादव, रश्मी वर्मा, तेजस्विनी, तारामती, रूचि कंवर, चुम्मन, लिलेश्वरी मलियार्य, गंगोत्री नायक, जशवन्त कुमार सहारे, रेणु ठाकुर, चमेली चंद्रवंशी, नंदनी, खेमिन चोरिया, चुलेश्वरी, प्रतिमा कलामे, ममता पुरामें, जसमत, शीतेश्वरी जमदार, सुरेखा कंवलिया, लक्ष्मी कोसरे, कल्पना, सुषमा सोनटेके, मृणाली रामटेके, आकांक्षा श्यामकर, एकता, सबिता निर्मलकर, तारिणी वर्मा, चंद्रिका सिन्हा, अंजू देवांगन, गौतम साहू तथा कुसुमलता सिन्हा का चयन किया गया है। 

 लैब टेक्निशीयन चयनित अभ्यर्थी
खिलेश, आशीष कुमार, मुकेश कुमार देवांगन, नारदराम साहू, राजेन्द्र बंजारे, सीमा, अखिल जंघेल, मुकेश कुमार देवांगन, रितेश कुमार वर्मा, दिलीप कुमार वैष्णव, पूजा, शिप्रा मुटकुरे, डिगेश देवांगन, कैलाश जोशी, मंजू, जीत सिंह, कुलेश्वर, शुभम साहू, खिलेश्वर प्रसाद, विनोद कुमार साहू, ललिता वर्मा, भूषण दास वैष्णव, मनेन्द्र कुमार बोरकर, प्रिन्सी जोशी, तजेश्वरी, भुनेश्वरी, नीतू मंडावी, खिलेन्द्र कुमार, डिलेश्वरी कोमरे, गितेश्वर कुमार, अंकिता एक्का, श्वेता टोप्पो, यशोदा राठिया, सेवा लकड़ा एवं छाया राठिया का चयन लैब टेक्निशीयन (डीएमएफ) के संविदा पद के लिए किया गया है।

फार्मासिस्ट चयनित अभ्यर्थी
उमेश कुमार, अंगेश्वरी कुमार देवांगन, ईशा साव, गोविंद कराडे, गुलशन कुमार, सीमा यादव, बिरेन्द्र कुमार, सोनम मेश्राम, प्रिया साहू, बीरेन्द्र, सोनिया रथी, मोनिका मेश्राम, देवेन्द्र कुमार, लक्ष्मी ध्रुवे, हरिशंकर एवं प्रतिमा का चयन फार्मासिस्ट (डीएमएफ) के संविदा पद के लिए किया गया है।
 


15-Apr-2021 6:16 PM 14

राजनांदगांव, 15 अप्रैल। मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्राप्त राशि से कोविड-19 की रोकथाम के लिए शासकीय मेडिकल कॉलेज पेंड्री को मेडिकल स्टाफ के भोजन के लिए 10 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई है। वहीं मुख्यमंत्री सहायता कोष से शासकीय मेडिकल कॉलेज पेंड्री में स्टाफ नर्स की नियुक्ति के लिए मानदेय हेतु 20 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की गई है। 

चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों के लिए शासकीय मेडिकल कॉलेज पेंड्री हेतु 5 लाख रुपए की राशि मानदेय के लिए स्वीकृत की गई है। नगर निगम राजनांदगांव को शव प्रबंधन के लिए 15 लाख रुपए की राशि प्रदान की गई है।
 


15-Apr-2021 6:13 PM 17

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
गंडई पंडरिया, 15 अप्रैल।
कोविड के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 10 अप्रेल से राजनांदगांव जिले में जिला कलेक्टर के आदेश पर पुरे जिला क्षेत्र में लॉकडाउन लगाया गया जिसके चलते सभी प्रकार के व्यपार सहित आवागमन बन्द है लॉकडाउन के असर को व्यापक बनाने के लिए शासन द्वारा चलाये जा रहे सरकारी शराब दुकान को भी बंद रखा गया है ।परंतु मदिरा प्रेमियों को फिर भी शराब उपलब्ध हो रहा है ।

जानकारी अनुसार आस पास के क्षेत्र सहित गंडई में शराब कोचियों की संख्या बढ़ते क्रम में है और उक्त शराब कोचियों द्वारा 24 घण्टे शराब प्रेमियों को शराब उपलब्ध कराया जा रहा है। लॉक डाउन में शराब कोचियों की कमाई दुगुनी और तिगुनी हो गई है जिस शराब के पव्वा को सरकारी शराब दुकान में 80 रूपये में बेचा जाता है उसे कोचियों द्वारा इन दिनों 200 रूपये के भाव में बेच कर दुगुने से ज्यादा फायदा उठाया जा रहा है । अपुष्ट सूत्र बताते है कि नगर पंचायत गंडई के आस पास 2 से 3 जगहों पर इन दिनों शराब बेचा जा रहा है वही वार्ड 09 में भी अवैध शराब बेचा जा रहा है वार्ड नम्बर 07 में पुराना बस स्टैंड के आस पास शराब की बिक्री किया जा रहा है पंडरिया में कन्या स्कुल के आस पास शराब बेचा जा रहा है सभी शराब कोचियों द्वारा लॉक डाउन से पहले शराब की एक बड़ी खेप को लाकर अपने अपने घरों में रखा गया है जिसे अब महगे दामो में बेच कर मोटी कमाई किया जा रहा है।
वर्जन-गंडई थाना प्रभारी शशिकांत सिन्हा ने बताया कि सबंधित जगहों पर लगातार कार्रवाई किया जा रहा है शराब मिलने पर आबकारी एक्ट के तहत प्रकरण बना कार्यवाही किया जाएगा। 

वर्जन-लवकेश ध्रुव अनुविभागीय अधिकारी राजस्व
जाँच और कार्यवाही के लिए थाना प्रभारी को निर्देशित किया जायेगा ।
 

 


15-Apr-2021 6:11 PM 17

राजनांदगांव, 15 अप्रैल। श्री शांति विजय सेवा समिति द्वारा उदयाचल भवन में शुरू किए गए नि:शुल्क कोविड केयर सेंटर के निरीक्षण के दौरान सांसद संतोष पांडेय ने कहा कि जनसहयोग से ही इस कोरोना महामारी पर जीत हासिल की जा सकती है। मानव सेवा ही सर्वोत्तम सेवा है यह बताते सांसद ने कहा कि मरीजों को भोजन, नास्ता, ओक्सीमीटर, थर्मामीटर जैसे उपकरण मुफ्त में उपलब्ध कराकर समिति द्वारा कोरोना मरीजों का उत्साह बढ़ाया जा रहा है। हर बेड पर मेडिकल चार्ट व दवाई की किट, गरम पानी उपलब्ध कराकर  कोरोना के मरीजों को प्राइवेट वार्ड जैसी सुविधा दी जा रही है।

सांसद ने शहर के लोहाणा महाजन समाज द्वारा संचालित कोरोना मरीजों को  नि:शुल्क  उपलब्ध कराए जा रहे भोजन की व्यवस्था भी देखी। उन्होंने मरीजों के स्वास्थ्य के अनुरूप बनाए जा रहे भोजन वितरण को देखते कहा कि मरीजों को उपलब्ध स्वादिष्ट व सुपोषित भोजन से कोरोना से रिकवरी में सहायता मिलेगी। राजनांदगांव शहर में कोरोना मरीजों के उपचार व उनकी सेवा हेतु तत्पर सभी सामाजिक संस्था द्वारा की जा रही मदद एवं सहयोग की प्रशंसा करते सांसद ने कहा कि राजनांदगांव को संस्कारधानी क्यों कहा जाता है, यह बात यहां के सामाजिक संस्थाओ ने सिद्ध कर दिया।  सांसद ने पुन: अपील करते कहा कि कोरोना महामारी में दौरान प्रशासन द्वारा जारी सभी प्रोटोकॉल का पालन करें, मास्क का प्रयोग करें व दो गज की दूरी का ध्यान रखें।
 


15-Apr-2021 6:06 PM 15

मृतक के परिजनों ने अव्यवस्था व लापरवाही का लगाया आरोप

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 15 अप्रैल। 
ब्लॉक मुख्यालय के कोविड केयर सेंटर में सप्ताहभर के अंदर दूसरी मौत हो गई। मंगलवार शाम श्वांस लेने में आ रही समस्या के चलते वार्ड 2 निवासी 42 वर्षीय शिक्षक हीरामन वर्मा की मौत हो गई। 

मिली जानकारी के अनुसार हीरामन को मंगलवार सुबह श्वांस लेने में समस्या हो रही थी। वहीं शाम 4 बजे मरीज की हालत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने कोविड केयर सेंटर में अव्यवस्था का आरोप लगाते कहा कि बीएमओ व बीपीएम की लापरवाही के चलते मरीज की मौत हो गई। परिजनों ने शासन-प्रशासन से इस मामले में दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। बताया गया कि अंबागढ़ चौकी ब्लॉक के कोरोना संक्रमितों के लिए वार्ड एक मेरेगांव स्थित कन्या शिक्षा परिसर छात्रावास को कोविड सेंटर बनाया गया है। इस सेंटर में सप्ताहभर के अंदर दो लोगों की मौत हो गई। 7 अप्रैल को ग्राम खोर्राटोला निवासी 61 वर्षीय सुकलाल खरे तथा 13 अप्रेल को वार्ड 2 निवासी शिक्षक हीरामन वर्मा की मौत हो गई। दोनों ही मामलों में कोविड सेंटर की अव्यवस्था व लापरवाही सामने आई है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि सेंटर के कुप्रबंधन व अव्यवस्था तथा लापरवाही से उनके अपनों की मृत्यु हो गई। परिजनों का आरोप है कि यदि समय पर मरीज को जिला अस्पताल रिफर कर दिया जाता तो उनकी जान बच जाती, लेकिन यहां मरीज को रोककर रखा गया और उनके इलाज की समुचित व्यवस्था नहीं की गई। जिससे उनकी मौत हो गई। दोनों ही मरीज को श्वांस से जुड़ी समस्या थी। परिजनों की शिकायत है कि कोविड सेंटर में डॉक्टर आते ही नहीं है। सेंटर पिछले 10 दिनों से ग्रामीण क्षेत्र के पुरूष स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के भरोसे चल रहा है। सेंटर में मरीजों को समस्या आने पर वे आरएचओं को बताते हैं, लेकिन उचित स्वास्थ्य व चिकित्सा सुविधा एवं मार्गदर्षन नहीं मिलने से मरीज की मौत हो जाती है।

सप्ताहभर में पांच दर्जन संक्रमित
बीते सप्ताहभर से नगर में हर दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार पिछले एक सप्ताह में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या नगर में पांच दर्जन से अधिक पहुंच गई है। इस बार रिहायसी कालोनी ही नहीं, झुग्गी बस्तियों से भी संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो रही है। नगर में संक्रमण के फैलाव तेजी से हो रहा है। नगर के कई वार्ड कोरोना का हॉटस्पाट बना हुआ है। जानकारी के अनुसार हर वार्ड से संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। नगर के वार्ड 2, 3, 4, 7 व 8 कोरोना का हॉटस्पाट बना हुआ है। इसके बाद भी स्थानीय नागरिक संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी गाईड लाइन का पालन करने में लापरवाही बरत रहे हैं।

बीएमओ डॉ. आरआर धुर्वे का कहना है कि कोविड केयर सेंटर में लापरवाही व अव्यवस्था का आरोप गलत है। मंगलवार को जिस मरीज की मृत्यु हुई, उसे सुबह से आक्सीजन दिया जा रहा था। शाम को तबियत बिगडऩे पर उसकी मौत हो गई।
 


15-Apr-2021 2:01 PM 23

मृतक के परिजनों ने अव्यवस्था व लापरवाही का लगाया आरोप
बीएमओ व बीपीएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
अंबागढ़ चौकी, 15 अप्रैल।
 ब्लॉक मुख्यालय के कोविड केयर सेंटर में सप्ताहभर के अंदर दूसरी मौत हो गई। मंगलवार शाम श्वांस लेने में आ रही समस्या के चलते वार्ड 2 निवासी 42 वर्षीय शिक्षक हीरामन वर्मा की मौत हो गई। 

मिली जानकारी के अनुसार हीरामन को मंगलवार सुबह श्वांस लेने में समस्या हो रही थी। वहीं शाम 4 बजे मरीज की हालत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने कोविड केयर सेंटर में अव्यवस्था का आरोप लगाते कहा कि बीएमओ व बीपीएम की लापरवाही के चलते मरीज की मौत हो गई। परिजनों ने शासन-प्रशासन से इस मामले में दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। बताया गया कि अंबागढ़ चौकी ब्लॉक के कोरोना संक्रमितों के लिए वार्ड एक मेरेगांव स्थित कन्या शिक्षा परिसर छात्रावास को कोविड सेंटर बनाया गया है। इस सेंटर में सप्ताहभर के अंदर दो लोगों की मौत हो गई। 7 अप्रैल को ग्राम खोर्राटोला निवासी 61 वर्षीय सुकलाल खरे तथा 13 अप्रेल को वार्ड 2 निवासी शिक्षक हीरामन वर्मा की मौत हो गई। दोनों ही मामलों में कोविड सेंटर की अव्यवस्था व लापरवाही सामने आई है। 

मृतक के परिजनों का आरोप है कि सेंटर के कुप्रबंधन व अव्यवस्था तथा लापरवाही से उनके अपनों की मृत्यु हो गई। परिजनों का आरोप है कि यदि समय पर मरीज को जिला अस्पताल रिफर कर दिया जाता तो उनकी जान बच जाती, लेकिन यहां मरीज को रोककर रखा गया और उनके इलाज की समुचित व्यवस्था नहीं की गई। जिससे उनकी मौत हो गई। दोनों ही मरीज को श्वांस से जुड़ी समस्या थी। परिजनों की शिकायत है कि कोविड सेंटर में डॉक्टर आते ही नहीं है। सेंटर पिछले 10 दिनों से ग्रामीण क्षेत्र के पुरूष स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के भरोसे चल रहा है। सेंटर में मरीजों को समस्या आने पर वे आरएचओं को बताते हैं, लेकिन उचित स्वास्थ्य व चिकित्सा सुविधा एवं मार्गदर्षन नहीं मिलने से मरीज की मौत हो जाती है।

सप्ताहभर में पांच दर्जन संक्रमित
बीते सप्ताहभर से नगर में हर दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार पिछले एक सप्ताह में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या नगर में पांच दर्जन से अधिक पहुंच गई है। इस बार रिहायसी कालोनी ही नहीं, झुग्गी बस्तियों से भी संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो रही है। नगर में संक्रमण के फैलाव तेजी से हो रहा है। नगर के कई वार्ड कोरोना का हॉटस्पाट बना हुआ है। जानकारी के अनुसार हर वार्ड से संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। नगर के वार्ड 2, 3, 4, 7 व 8 कोरोना का हॉटस्पाट बना हुआ है। इसके बाद भी स्थानीय नागरिक संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी गाईड लाइन का पालन करने में लापरवाही बरत रहे हैं।

बीएमओ डॉ. आरआर धुर्वे का कहना है कि कोविड केयर सेंटर में लापरवाही व अव्यवस्था का आरोप गलत है। मंगलवार को जिस मरीज की मृत्यु हुई, उसे सुबह से आक्सीजन दिया जा रहा था। शाम को तबियत बिगडऩे पर उसकी मौत हो गई।


Previous123456789...6364Next