छत्तीसगढ़ » कोण्डागांव

Date : 13-Oct-2019

गुम बच्चे को दो घंटे में पुलिस ने पिता से मिलाया 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डगाांव, 13 अक्टूबर।
सिटी कोतवाली कोण्डागांव अंतर्गत प्रेमनगर में रहने वाला 4 साल का मासूम आज सुबह भटक कर नेशनल हाईवे 30 के पास पहुंच गया। मासूम पर पुलिस की पर नजर पड़ी। इसके बाद पुलिस ने मासूम को महिला जवानों के साथ कोतवाली के बाल मित्र कक्ष में रखा। मासूम इतना छोटा था कि, वह अपने घर का पता नहीं बता पाया। ऐसे में लगभग 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने बच्चे के परिवारीजनों को ढूंढ निकाला और उसके परिजनों के हवाले किया। 

जानकारी अनुसार, रविवार की सुबह लगभग 9 बजे सिटी कोतवाली के पास एक बच्चा साइकिल चलाता हुआ मिला। बच्चे से जब उसके परिजनों के बारे में पूछा गया तो वह कुछ बता नहीं सका। जिसके बाद पुलिस अधिकारियों ने बच्चे के परिजनों की तलाश शुरू की। पुलिस की खोज के बाद बच्चा पुलिस आरक्षक फूल सिंह का ही पुत्र ज्ञात हुआ। फूलसिंह की पदस्थापना जिला कलेक्टर कार्यालय में है और वह जब अपने बेटे की खोज में सिटी कोतवाली पहुंचा तो अपने बेटे को सुरक्षित देख कर काफी खुश हुआ। उसने पुलिस अधिकारियों और जवानों को धन्यवाद दिया। 

 


Date : 13-Oct-2019

केशकाल में अड़ेंगा से निकाली गांधी विचार यात्रा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डगाांव, 13 अक्टूबर।
गांधी विचार यात्रा के तीसरे दिन विधानसभा क्षेत्र केशकाल के अड़ेंगा से निकाली। इस पदयात्रा में गांधी जी के विचार दर्शन पर ग्रामीणों से चर्चा की गई। 

इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष देवचंद मतलाम, प्रदेश सचिव सगीर अहमद कुरैशी, ब्लॉक कॉग्रेस अध्यक्ष गिरधारी सिंहा, राजेन्द्र ठाकुर, युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव श्रीपाल कटारिया, एनएसयूआई के प्रदेश सह सचिव कौनेन अहमद कुरैशी, युवा कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष शुभम राणा, रोहित कटारिया, रवि गोयल, शिवदयाल नेताम, चिंता राम पटेल, सरपंच प्रेम सागर नाग, युवा कांग्रेस के नगर अध्यक्ष वसीम शेख, अशोक पटेल, विहान नाग, तौफीक मेमन, रुपेश धु्रव, पंकज रजक, हरिवंश सूर्यवंशी, बंटी यादव, हमेश बघेल, लतेश पाण्डे, खिलेंद्र बघेल सहित अनेक ग्रामीण शामिल हुए।

 


Date : 13-Oct-2019

जनपद पंचायत ने निकाली गांधी विचार यात्रा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डगाांव, 13 अक्टूबर।
ग्राम पंचायत नरिहा के राजाबेड़ा स्कूल प्रांगण में जनपद पंचायत कोण्डागांव प्रभारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी चैतन धु्रव के नेतृत्व में रविवार को गांधी विचार यात्रा का आयोजन किया गया। इसमें ग्राम के स्कूली बच्चे, सरपंच, पंच, गायता, पुजारी, महिला समूह के सदस्य व ग्रामीण भारी संख्या में उपस्थिति रहे। इसमे गांधी के प्रिय भजन का गायन करते हुए गल्लियों में भ्रमण किया गया। 

छात्रा गुदराम के माध्यम से गांधी का वेष धारण किया गया, जो आकर्षण का केन्द्र रहा। ग्रामीणों ने भ्रमण के दौरान पूजा अर्चना कर उन्हें 1120 रुपए भेंट प्रदान किया। इसके बाद मुख्यमंत्री की लोकवाणी को रेडियों के माध्यम से श्रवण किया गया।

आयोजित सभा में वाद-विवाद, गीत, रंगोली, रस्सी खीच, मटका फोड़ और गांव के महिला-पुरूषों द्वारा पारंपरिक रेला पाटा का न्रत्य किया गया। रंगोली में राधिका व साथी, वाद-विवाद में रूपसिंह व साथी, रस्सी खीच में दशाय बाई व साथी ने भाग लिया। इसी तरह अन्य कार्यक्रमों में ग्रामीणों ने बड़चड कर हिस्सा लिया। पंचायत द्वारा सभी प्रतिभागियों को ईमान दिया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से करारोपण लोमेन गौतम, मेघनाथ मरकाम, सचिव गुलाब सार्वा, जनपद सदस्य समलू राम नेताम, गांव के मुख्या दशरू, रामसाय, काहरू, गुदराम भी उपस्थिति रहे। 

 


Date : 13-Oct-2019

कलेक्टर ने महिला स्वसहायता समूह के साथ सुनी लोकवाणी

कोण्डगाांव, 13 अक्टूबर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की रेडियो वार्ता लोकवाणी का श्रवण आज कोण्डागांव के सामुदायिक भवन में कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने स्थानीय स्वसहायता समूह की महिलाओ की उपस्थिति में श्रवण किया। 

रेडियो वार्ता मे मुख्यमंत्री ने सर्वप्रथम प्रदेश की आराध्य देवियो का स्मरण करते हुए छत्तीसगढ़ को मातृ शक्तियो की भूमि बताया। इसके साथ ही उन्होने सम्पूर्ण प्रदेश मे पोषण और मातृत्व के विषय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि, छत्तीसगढ़ मे 15 से 49 वर्ष की महिलाए एनिमिया से पीडि़त है। चुकि 18  साल से कम से कम 35 साल की उम्र तक आम तौर पर गर्भवती माताओ को एक बड़ी जिम्मेदारी निभानी पड़ती है। राज्य चिकित्सा अमले को बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर विशेषज्ञ डॉक्टरों, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं स्टॉफ नर्सों व अन्य डाक्टरों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने आगामी दीपावली के लिए प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी।

 

 


Date : 13-Oct-2019

 थल सेना जवान की सड़क हादसे में मौत

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डगाांव, 13 अक्टूबर।
थल सेना जवान की सड़क हादसे में मौत हो गई है। युवक कोण्डागांव के ग्राम पंचायत खण्डाम का रहने वाला है। 

जानकारी अनुसार, कोण्डागांव के खण्डाम गांव का निवासी भिबीचंद कोर्राम थलसेना में बतौर आरक्षक पदस्थ है। रविवार को भिबीचंद कोर्राम हैदराबाद से अपना प्रशिक्षण पूरा कर खण्डाम स्थित घर लौटा था। आज ही घर लौटे भिबीचंद दोस्तों से मिलने के लिए काफी उत्सुक था। ऐसे में उसने मिठाई की दूकान से मिठाई भी खरीदा था। इसके बाद वह जैसे ही फरसगांव की ओर अपनी बाइक से रवाना हुआ, कोण्डागांव की ओर से आ रहे ट्रक की चपेट में आ गया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। 

परिजनों के अनुसार, मृत जवान कुछ माह पूर्व भारतीय थल सेना में बतौर आरक्षक भर्ती हुआ था। इसके बाद से वह हैदराबाद में सेना के तौर-तरीकों का प्रशिक्षण ले रहा था। प्रशिक्षण पूरा कर मृत जवान आज घर लौटा था, यहां लौटने के बाद अपने मित्रों से मिलने के लिए गांव से निकला ही था कि, कोण्डागांव से कुछ दूर नेशनल हाईवे 30 पर नारायणपुर तिराहा में उसकी बाइक सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई। 

प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो, घटना के तत्काल बाद मामले की सूचना सिटी कोतवाली पुलिस समेत यातायात पुलिस को दे दी गई थी। यातायात पुलिस की बात की जाए तो, घटना के लगभग 45 मिनट के बाद वह मौके पर पहुंची। सिटी कोतवाली टीआई राजेन्द्र मंडावी का कहना है कि, वे सड़क हादसे वाले ट्रक को पकडऩे में व्यस्त थे। इसके चलते घटनास्थल पर कुछ देरी से पहुंचे हैं। 

 


Date : 12-Oct-2019

कुपोषण को हराना वर्तमान समय की सबसे बड़ी स्वास्थ्य चुनौतियों में से एक है

कोण्डागांव, 12 अक्टूबर। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस और राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में 11 अक्टूबर को एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था। 

कार्यशाला में कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने कहा कि कुपोषण को हराना वर्तमान समय की सबसे बड़ी स्वास्थ्य चुनौतियों में से एक है। इस चुनौती को स्वीकार करते हुए प्रत्येक शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चों और गर्भवती महिलाओं सहित 15 से 49 वर्ग आयु की महिलाओं को कुपोषण एवं एनीमिया से मुक्त कराने के लिए मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के रुप में एक महायज्ञ प्रारंभ हुआ है और आगामी तीन वर्षो में पूरे प्रदेश को कुपोषण से मुक्ति दिलाने की शुरुवात हो गई है। 

कार्यशाला में जिले के चयनित 25 गांव पंचायतों के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सक्रिय स्व-सहायता समूह, सुपोषण मित्रो को सुपोषण अभियान को सफल बनाने की रणनीति से अवगत कराया गया। इसके अलावा कार्यशाला में निबंध, चित्रकला में भाग लेने वाली छात्राओं एवं सुपोषण अभियान के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिए मैदानी कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया। इनमें चित्रकला प्रतियोगिता में झामिन साहू, संजूलता कश्यप, सोनिया साहू, कशिश पोयाम, निबंध प्रतियोगिता में दीप शिखा साहू, कल्पना साहू, भारती धृतलहरे, प्रियंका कोर्राम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रीता कश्यप, पार्वती यादव, बती बघेल के नाम शामिल हैं। 

महिला स्व-सहायता समूह को मिलेगा 50 हजार का पुरस्कार
जानकारी हो, हसलनार गांव में पदस्थ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रीता बघेल ने अपने आंगनबाड़ी केन्द्र के 6 गंभीर कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देकर उन्हें सामान्य श्रेणी में लाकर उत्कृष्ट कार्य किया है। इस दौरान कलेक्टर ने घोषणा किया कि आगामी छह माह के भीतर जिले की महिला स्व-सहायता समूह द्वारा अपने सदस्य महिलाओं को एनीमिया मुक्त करने पर 50 हजार की पुरस्कार राशि दी जायेगी।

 इसके अलावा स्कूलों और महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्राओं को भी एनीमिया मुक्त करने पर संस्थाओं को भी पुरस्कृत किया जाएगा। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत नुपूर राशि पन्ना, एसडीएम पवन कुमार प्रेमी, डिप्टी कलेक्टर डीआर ठाकुर, सीएमएचओ डॉ. एसके कनवर, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा, परियोजना अधिकारी इमरान अख्तर सहित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, स्व-सहायता समूह की महिलाएं, स्कूली छात्राएं उपस्थित रही।


Date : 12-Oct-2019

नक्सल क्षेत्र के बच्चों ने प्रदेश स्तर पर बिखेरी प्रतिभा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डगाांव, 12 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ राज्य स्तरीय आदिम जाति कल्याण आवासी और आश्रम शैक्षणिक संस्थान समिति के माध्यम से 11 अक्टूबर को रायपुर के पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय राज्य स्तरीय सांस्कृतिक उत्सव प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। यहां कोण्डागांव के नक्सल प्रभावित क्षेत्र गोलावंड में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के बच्चों ने, ना केवल अपना बेहतरीन प्रदर्शन राज्य स्तर पर प्रस्तुत किया बल्कि बच्चों ने प्रथम और द्वितीय स्थान पर अपना कब्जा जमाया है। कलेक्टर नीलकंठ टीकाम और सहायक आयुक्त जीआर सोरी ने विजेता छात्राओं को इस शानदार प्रदर्शन पर उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी है।

कोण्डागांव-मर्दापाल मार्ग पर गोलावंड में नवीन एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय संचालित है। इस विद्यालय में अधिकांश छात्र-छात्राएं नक्सल प्रभावित मर्दापाल, बयानार आदि क्षेत्र के निवासी हैं। इन बच्चों ने रायपुर के पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में आयोजित राज्य स्तरीय सांस्कृतिक उत्सव प्रतियोगिता में उत्कृष्ठ प्रदर्शन किया है। जानकारी हो, प्रतियोगिता में एकल गायन, समूह गायन, एकल नृत्य और समूह नृत्य प्रतियोगिता आयोजित किया गया था, जिसमें राज्य भर से 125 एकलव्य आवासीय बच्चों ने भाग लिया था। कोण्डागांव के बच्चों ने अपने साथी प्रतिद्वंद्वी को पछाड़ते हुए पहले और दूसरे स्थान पर कब्जा जमाया है। विजेता रहे कोण्डागांव के प्रतिभागियों को आदिम जाति व अनुसूचित जाति विकास विभाग के सचिव डीडी सिंह ने 15 हजार रुपए और 8 हजार रुपए के पुरस्कार और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया है।

इन बच्चों को मिला सम्मान
एकल गायन में कोण्डागांव के एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय गोलावंड की छात्रा खिलेश्वरी प्रथम स्थान पर रहीं। खिलेश्वरी को 8 हजार रुपए और प्रमाण पत्र दिया गया। इसी तरह समूह गायन प्रतियोगिता में विद्यालय की ही सुधारानी, नम्रता, उमेश्वरी, संतोषी, नविना, लिपिका, सानू, सोमारु, और मनिष को द्वितीय स्थान मिला। इन्हे 15 हजार रुपए का पुरस्कार दिया गया। समूह नृत्य में सुधारानी, कुसुम, दीपांजली, प्रियंका, भूमिका, प्रतिमा, ऋतिका, सजनी, दीपिका, देविका ने अपनी प्रस्तुति दी थी।

संभाग स्तर पर भी उत्कृष्ट प्रदर्शन
राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के पहले कृषि महाविद्यालय कुम्हरावण्ड जगदलपुर ऑडिटोरियम में एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय राष्ट्रीय उत्सव 2019 का संभाग स्तर पर आयोजन हो चुका है। इस कार्यक्रम में कोण्डागांव समेत संभाग भर के एकलव्य आवासी बच्चे शामिल हुए थे। इस प्रतियोगिता में कोण्डागांव जिला के गोलावण्ड में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के बच्चों ने सभी श्रेणी में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया था।

 


Date : 11-Oct-2019

जिला कांग्रेस कमेटी एवं प्रदेश संगठन से मिले निर्देशानुसार गांधी विचार पदयात्रा की शुरुआत की

छत्तीसगढ़ संवाददाता
फरसगांव, 11 अक्टूबर।
फरसगांव नगर पंचायत मुख्यालय में आज कांग्रेसियों ने जिला कांग्रेस कमेटी एवं प्रदेश संगठन से मिले निर्देशानुसार गांधी विचार पदयात्रा की शुरुआत की। 
शुक्रवार को पदयात्रा दोपहर 12 बजे से आरंभ की गई, जो स्थानीय बस स्टैंड से होते हुए पेट्रोल पंप तक एवं वहां से कोड़ोपारा होते हुए विभिन्न वार्डों का भ्रमण कर ब्लॉक कॉलोनी से वापस नगर पंचायत के पास बने मंच पर पहुंचा। इसमें मुख्य रूप से महिला कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश जायसवाल, नगर पंचायत अध्यक्ष राज मरकाम, नगर पंचायत उपाध्यक्ष विजय लांडगे, शिव मंडावी, गुरदीप सिंह पंढेर, उग्रेसचंद्र मरकाम , संजीव शर्मा (बंटी) ,प्रहलाद कुंजाम , रोहित दीपक, जया कोमरा, सावित्री, शिवपांडे , रितेश जायसवाल, विधायक प्रतिनिधि बुधमन दीवान , पतिराम , सुकालूराम, छेदी , जेठू , आयुषकर, जनक नेताम , शिरीष चनाप , कविता जायसवाल , बलराम झा , मनसाराम साहू सहित अन्य कांग्रेसी मौजूद थे। सप्ताह भर चलने वाले इस पदयात्रा में कांग्रेसी अपने-अपने जनपद, अपने -अपने वार्डों पर पहुंचकर गांधीजी के विचार धाराओं को व्यक्त करेंगे। 

 


Date : 11-Oct-2019

हाट-बाजारों में अब नहीं बिक सकेंगी जड़ी-बूटियां

कोण्डागांव, 11 अक्टूबर। कोण्डागांव जिला यू तो अनमोल, प्राकृतिक जड़ी-बूटियों की सम्पदा से परिपूर्ण जिला है। इन्हीं जड़ी-बूटियों की धरोहर को सहेजने व उन्हें विलुप्त होने से बचाने लिए जिला प्रशासन के माध्यम से पहली बार बड़ा कदम उठाया गया है। जिले की विलुप्त हो रही जड़ी-बुटियों जैसे भुई भेलवा, जड़ी, चिनहुर जड़ी, अन्नंत मूल, सर्पगंधा, मैदाछाल, सतावरी, पैंग, ज्यौतिषमति फल, कोरियाछाल, रसना, जैसी विभिन्न प्रकार की औषधि पौधों को कथित बिचैलियों व व्यापारियों के माध्यम से खनन करके व मंगाकर खरीदा जा रहा है। फलस्वरुप इन पौधों के अंधाधुंध दोहन से इनका अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। इसे देखते हुए कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के माध्यम से प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर दिया गया है। इसके अनुसार 10 अक्टूबर से कोण्डागांव जिले के किसी भी हाट बाजार में उपरोक्त औषधियों का क्रय-विक्रय नहीं किया जा सकेगा। परन्तु जिले के परम्परागत व मान्यता प्राप्त प्रशिक्षित वैद्यों द्वारा आमजनों के उपचार करने के लिए वन अधिकार समिति से अनुमति प्राप्त कर भुई भेलवा, जड़ी, चिनहुर जड़ी, अन्नंत मूल, सर्पगंधा, मैदाछाल, सतावरी, पैंग, ज्यौतिषमति फल, कोरियाछाल, रसना का उपयोग किया जा सकेगा। इसके लिए संपूर्ण कोण्डागांव जिले में दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 (2) एक पक्षीय प्रतिबंधात्मक आदेश लागू कर दिया गया है।

 


Date : 11-Oct-2019

हैण्डलूम उद्यम से अब महिलाऐं बनेंगी आत्मनिर्भर आजीविका का नया साधन बनेगा हथकरघा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 11 अक्टूबर।
कोण्डागांव जिले में हैण्डलूम उद्यम क्षेत्र के विकसित होने की भरपूर संभावनाएं है। इसलिए आजीविका के नए विकल्प के रूप में जिला प्रशासन के माध्यम से महिलाओं को इस क्षेत्र में जोडऩे के लिए अधिक से अधिक प्रयास किया जा रहा है। इसमें प्रशिक्षित होने के बाद महिलाएं घर बैठे अच्छी आमदनी अर्जित करने के साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्यों को भी इस कार्य में शामिल कर सकती हैं। इस तरह जिला प्रशासन द्वारा पूरे जिले में लगभग 3 हजार महिलाओं को हथकरघा में प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए जिला अंत्यावसायी और उद्योग विभाग तथा बैंक के माध्यम से महिला समूहों को अनुदान देने की भी व्यवस्था की जाएगी। 

11 अक्टूबर को जिला कार्यालय के प्रथम तल सभाकक्ष में कलेक्टर नीलकंठ टीकाम ने महिला स्व-सहायता समूह की बैठक में उक्ताशय के विचार प्रगट किए। उन्होंने बताया कि, इस कार्य के लिए महिलाओं का समूह बनाकर उन्हें लगभग 35 हजार रुपए तक के लोन दे दिए जाएगे। जिसमें 12 हजार रुपए उनका अंशदान रहेगा। इसके साथ ही शासन की अन्य कल्याणकारी योजना से भी हथकरघा प्रशिक्षित महिलाओं को लाभान्वित किया जाएगा। जिला प्रशासन के माध्यम से महिलाओं के आर्थिक व सामाजिक सशक्तिकरण के लिए हर संभव मदद दी जाएगी।

 जानकारी हो, हैण्डलूम उद्यम में जिले के 15 गांव जिनमें चिपरैल, बटराली, अड़ेंगा, नेवता, बफना, कोकोड़ी, खेतरपाल, अरण्डी, बड़ेकनेरा, मुलमुला, बेड़मा, मस्सुकोकोड़ा जैसे गांव की 365 महिलाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है। इस मौके पर कार्यपालन अधिकारी जिला अंत्यावसायी बाबूभाई श्रीवास, हथकरघा मास्टर ट्रेनर सरस उपाध्याय सहित प्रशिक्षु महिलाएं उपस्थित थीं।

 


Date : 11-Oct-2019

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर शांति फाउंडेशन का सम्मान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 11 अक्टूबर।
सतनामी समाज का एकादशीय राज्याभिषेक राजा मेला प्रथम परिसीमन कोण्डागाव ग्राम कुसमा में 9 अक्टूबर को आयोजित किया गया था। इसमें शाति फाउंडेशन के माध्यम से चलाए जा रहे मुहिम सम्मान जन जीवन सुरक्षा और अधिकार के तहत सतनामी समाज के माध्यम से सामाजिक क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए शांति फाउंडेशन को कुसमा पंचायत में सम्मानित किया गया। इसमें शाति फाउंडेशन से यतीन्द्र सलाम, अतुल ठाकुर, सुनिल सोरी, गौरव ठाकुर, त्रिनाथ नेताम, ललेश्वर मरकाम, मनोज नेताम शामिल रहे।

जानकारी अनुसार, 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर जिला कलेक्टर परिसर कोण्डागांव में शांति फाउंडेशन टीम को पूरे छत्तीसगढ़ में चलाए जा रहे मानसिक रोगियों के लिए सम्मान जन जीवन सुरक्षा और अधिकार के तहत दस मानसिक रोगियों को स्वस्थ कराने के लिए सम्मानित किया गया। इसमें सीएमओ डॉ. एसके कनवर, डीपीएम सोनल धुर्वे, डॉ आदित्य चतुर्वेदी के माध्यम से शांति फाउंडेशन को सम्मानित किया गया। 

इस अवसर पर यतीन्द्र सलाम ने कहा कि, मानसिक रोगी किसी भी व्यक्ति को देख रेख की खास आवश्यकता होती है कोई बच्चा अगर पढ़ाई खेल या अन्य किसी वजह से परेशान या डिप्रेशन में है तो तत्काल उनके फैमली को उनका केयर करना जरूरी है। यह लापरवाही आगे चल के मानसिक रोग का बहुत बड़ा कारण बनता है। यह लक्षण बड़े-छोटे सभी में लागू होता है। परिवार के किसी भी व्यक्ति में अगर आप ये लक्षण देखते हंै तो तत्काल नजदीक अस्पताल में मनोरोग विशेषज्ञ से संपर्क करें और लोगों से अपील की कि सड़क पर घूमते किसी भी मानसिक रोगी व्यक्ति से अभद्र व्यवहार ना करें। हमारा ऐसा करना उनके मनोबल को और भी ज्यदा ठेस पहुंचाना होता है। हमारे एक सहयोग से लोग अच्छे होकर बेहतर जिन्दगी सकते हैं। 

 


Date : 11-Oct-2019

गांधी विचार पदयात्रा शुरू

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 11 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार कोण्डागांव शहर कांग्रेस सहित सभी ब्लाकों में 11 से 17 अक्टूबर तक चलने वाली गांधी विचार यात्रा का प्रारम्भ 11 अक्टूबर को कोण्डागांव में किया गया। यह यात्रा 17 अक्टूबर तक प्रत्येक वार्डों से गुजरेगी।यात्रा का उद्देश्य महात्मा गांधी के विचारों, सिद्धांतो को जन-जन तक पहुंचाकर देशवासियों में भाईचारा, अमन चैन स्थापित करना है। साथ ही इस यात्रा के दौरान आमजनों को छग की भूपेश बघेल के नेतृत्व की कांग्रेस सरकार के माध्यम से महात्मा गांधी की मंशानुरूप व उनके रास्ते पर चलकर जो जनहित के काम कर रही है, उससे अवगत कराना है।

आज गांधी विचार यात्रा के प्रथम दिवस यात्रा महात्मा गांधी, श्यामाप्रसाद मुखर्जी व सुभाषचन्द्र बोस वार्ड में निकली गई यात्रा के दौरान यात्रा प्रभारी नगरपालिका उपाध्यक्ष मनीष श्रीवास्तव, शहर अध्यक्ष एम यूसुफ रजवी, महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुखबति मरकाम, शहर अध्यक्ष तबसुम बानो, जिला महामंत्री गीतेश गांधी, पार्षद जेपी यादव, सुरेश पाटले, उमेश साहू, राजेन्द्र देवांगन, तुला राम पोयाम, आरती नेताम, ललिता नेताम, गुणमति नायक, गीता गुप्ता, मनोनीत पार्षद पप्पू गुप्ता, नरेंद्र देवांगन, राजकिशोर राठौर यात्रा के लिए वार्ड प्रभारी ननकी वैष्णव आदि उपस्थित रहे।

 


Date : 11-Oct-2019

रेत के अवैध करोबार को लेकर प्रशासन की चुप्पी, रेत की कीमत 700 से बढक़र 1800 तक
छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 11 अक्टूबर।
इन दिनों कोण्डागांव में रेत का अवैध खनन व परिवहन धड़ल्ले से चल रहा है। रेत कारोबारियों के हौसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि वे रेत की जमाखोरी कर दुगने दर पर बेच रहे हैं। वहीं रेत के अवैध खनन, परिवहन पर इक्का-दुक्का कार्रवाई कर मामले को रफा-दफा करने की कोशिश विभाग के माध्यम से की जाती है। इस पूरे मामले पर जब खनिज विभाग के अधिकारी और निरीक्षक से चर्चा करना चाहा तो उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

छत्तीसगढ़ गौण खनिज साधारण रेत (उत्खनन और विनियमन) नियम 2019 के नियम के तहत कोण्डागांव जिला के किसी भी विकास खंड में एक भी रेत खदान नहीं है। इसके बाद भी मुख्यालय समेत पूरे जिला में रेत का धड़ल्ले से उत्खनन किया जा रहा है। इतना ही नहीं उत्खनन के बाद रेत को मुख्यालय समेत सभी निर्माण क्षेत्रों में मनमानी कीमत पर बेचा जा रहा है। 

 इस बारे में जब खनिज विभाग के अधिकारी गौतम नेताम से चर्चा की गई, तो उन्होंने साफ तौर पर कैमरे के सामने जवाब देने से मना करते हुए खनिज निरीक्षक नेहा टंडन से चर्चा करने के लिए कह दिया। अधिकारी के कहे अनुसार जब खनिज निरीक्षक नेहा टंडन से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि सप्ताह भर में मात्र 2 ट्रैक्टर पर कार्रवाई की गई है। 

बारिश के नाम पर जमाखोरी
जिला खनिज विभाग की मौन स्वीकृति के चलते इस वर्ष रेत के कारोबारी डबल मुनाफा कमा रहे हैं। रेत कारोबारियों की मुनाफे की बात करें तो, बारिश के पूर्व प्रति ट्रैक्टर ट्रॉली रेट की कीमत 700 रुपए थी। अब बारिश के चलते रेत कारोबारियों ने जमाखोरी करते हुए बारिश में नदी का पानी बताते हुए रेत की कीमत न्यूनतम 1500 से 1800 रुपए घोषित कर दी है। बारिश के दौरान रेत की जमाखोरी नदी घाट और ग्रामीण क्षेत्रों में किया गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रेत के अवैध कारोबारी कृषि ट्रैक्टर का उपयोग कर रहे हैं। साथ ही नाबालिग बच्चों से मजदूरी कराने का आरोप भी लग रहा है।

निविदा निरस्त
जिले में गौण खनिज साधन रेत खदानों का आबंटन नीलामी (रिवर्स ऑक्शन) के माध्यम से किए जाने के लिए छत्तीसगढ़ गौण खनिज साधारण रेत (उत्खनन एवं विनियमन) नियम 2019 के नियम 6 के तहत निविदा आमंत्रण किया गया था। जारी निविदा को निरस्त कर नए निविदा जारी किए जाने की तैयारी है।

 


Date : 10-Oct-2019

जय माँ बंजारिन युवा समिति कोपाबेड़ा के माध्यम से​ विजयदशमी पर कई स्पर्धा, विजेता पुरस्कृत

कोण्डागांव, 10 अक्टूबर। जय माँ बंजारिन युवा समिति कोपाबेड़ा के माध्यम से 9 अक्टूबर को विजयदशमी के उपलक्ष्य में विभिन्न सांस्कृतिक आयोजन मुख्य अतिथि जसकेतु उसेण्डी, विशिष्ठ अतिथि खेदूराम मरकाम, बुधमन कोर्राम व बंटी नाग के मौजूदगी में संपन्न हुए। आयोजन में विभिन्न प्रतिभागियों ने एकल व समूह नृत्य, गायन स्पर्धा आदि में भाग लिया गया। प्रतिभागियों में राजेश्वरी व ग्रुप, सोनाबाल ग्रुप, लीना ग्रुप, हस्तिना व ग्रुप, गल्र्स ग्रुप कोपाबेड़ा, डीएमएस ग्रुप, डीजे मानव ग्रुप, संतोषी ग्रुप, अनुष्का मरकाम, मनीष सोनाबाल, आरडीएक्स ग्रुप बड़े सोहंगा, लालूट आदि ने भाग लिया।

विजेताओं में प्रथम पुरस्कार 7100 रुपए नगद व ट्रॉफी आरडीएक्स ग्रुप बडेसोहंगा ने अपने नाम किया। द्वितीय पुरुस्कार 3100 रुपए व ट्रॉफी गल्र्स ग्रुप कोपाबेड़ा व तृतीय पुरस्कार 2100 रुपए व ट्रॉफी ललित व बबलू मर्दापाल ने प्राप्त किया। इसके अलावा सभी प्रतिभागियों को समिति की ओर से सांत्वना राशि व पुरस्कार वितरण किया गया। 

इस अवसर पर युवा समिति के अध्यक्ष सुखमन कोर्राम, उपाध्यक्ष अविनाश सोरी, सचिव शंकर सोरी, सहसचिव बालचंद मंडावी, दीनबंधु सोरी, दिले सोरी, देवनाथ सोरी, मेहतु, दीपक सोरी, दुबेलाल, किशन, हेमंत मरकाम, संपत मंडावी, विकेश कोर्राम, दीपेश मंडावी, महेश मरकाम, वीरेंद्र नेताम, आकाश गौतम विजय, इवन, शिवप्रसाद व अन्य सदस्य मौजूद रहे।


Date : 10-Oct-2019

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस संपन्न

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 10 अक्टूबर।
राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का आयोजन कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के अध्यक्षता में किया गया। इसमें जिले के स्वास्थ्य विभाग व महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। इस दिवस का थीम आई लव माई सेल्फ था। 

आज हर 10 में 8 लोगों को तनाव चिंता और अवसाद जैसे गंभीर समस्या है। इन समस्याओं के परेशान होकर बहुत से लोग आत्महत्या कर रहे है। तनाव पूर्ण लोग की सोचने समझने की शक्ति खत्म हो जाती है, काम पर एकाग्रता नही कर पाते, इससे परेशान में धूम्रपान या मद्यपान का सेवन करना चालू कर देते है।

इस दौरान शांति फाउंडेशन से यतिन्द्र छोटू सलाम, गौरव ठाकुर, सुनिल सोरी, पिला मरकाम, अतुल सिग ठाकुर, लालु मरकाम, प्रभात कोर्राम, जिला स्वास्थ्य कार्यालय से मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ कनवर, डीपीएम, मानसिक स्वाथ्य कार्यक्रम नोडल डॉ आदित्य, आईडीएसपी डेटा प्रबंधक राहुल आदि उपस्थित रहे।

 


Date : 10-Oct-2019

60 वर्ष आयु के लोग भी हो सकते हैं डिजिटल साक्षर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 10 अक्टूबर।
राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण छत्तीसगढ़ के माध्यम से 10 अक्टूबर को देश में पहली बार डिजिटल साक्षरता के लिये मुख्यमंत्री शहरी कार्यात्मक साक्षरता कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया है। जानकारी देतु हुए जिला लोक शिक्षा समिति कोण्डागांव के जिला परियोजना अधिकारी संजय कुमार राठौर ने बताया कि, इस कार्यक्रम के तहत प्रथम चरण में राज्य में 27 जिलो में 36 केन्द्र स्वीकृत किए गए है। इसमें कोण्डागांव भी एक है। मुख्यमंत्री ई-साक्षरता केन्द्र के नाम से प्रारम्भ इन केन्द्रो में प्रशिक्षित ई-एजुकेटरो द्वारा 25 शिक्षार्थियों के एक बैच में एक माह की समय-सीमा में पंग्दिशा पाठ्यक्रम अनुसार डिजीटल साक्षरता प्रदान किया जा रहा है।

कोण्डागांव कलेक्टर नीलकंठ टीकाम के मार्गदर्शन व मुख्य कार्यपालन अधिकारी नुपुर राशि पन्ना के दिशानिर्देश में 14 वर्ष से 60 वर्ष आयु वर्ग के वंचित वर्ग के शिक्षार्थी इस केन्द्र में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हंै। डिजिटल साक्षरता के अलावा उन्हें व्यक्तित्व विकास, श्रेष्ठ पालकत्व, वित्तीय, कानूनी व चुनावी साक्षरता, आत्म रक्षा, नागरिक कर्तव्य, कौशल विकास जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। प्रत्येक माह के प्रथम तारीख से प्रारम्भ कर 30 दिन के निर्धारित पाठ्यक्रम के पश्चात जिला स्तर पर आंतरिक मूल्यांकन व बाह्य मूल्यांकन चिप्स के माध्यम से ऑंन-लाईन किया जाकर ऑंन-लाईन प्रमाण प्रदान किया जा रहा है। कोण्डागांव में ई-साक्षरता केन्द्र आश्रय स्थल, एनसीसी ग्राऊड के पास संचालित है। शिक्षार्थियों को प्रत्येक दिन साक्षरता केन्द्र, आश्रय स्थल-कोण्डागांव में नि:शुल्क प्रशिक्षण प्रदान करते हुए सफल शिक्षार्थियों को 600 रूपए प्रोत्साहन राशि भी शासन के माध्यम से प्रदान किया जाता है। इस प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए इच्छुक प्रतिभागी ई-साक्षरता केन्द्र आश्रय स्थल कोण्डागांव में प्रशिक्षण अवधि में संपर्क कर सकते हैं।


Date : 10-Oct-2019

बस्तर राजमिस्त्री व मजदूर कल्याण संघ ने निकाली जागरूकता रैली

कोण्डागांव, 10 अक्टूबर। बालश्रम उन्मूलन दिवस के मौके पर कोण्डागांव जिले के फरसगांव ब्लाक मुख्यालय में बस्तर राजमिस्त्री व मजदूर कल्याण संघ ने शाम को 5 बजे मजदूर भवन में रेजा, कुली, मजदूर एकत्रित हो कर जागरूकता रैली निकाली। यह रैली मजदूर कल्याण भवन से होते हुए नगर में घूमी और वापस मजदूर भवन में रैली का समापन हुआ। रैली के जरिए बस्तर राजमिस्त्री व मजदूर कल्याण संघ ने लोगों को बाल श्रम के प्रति जागरूक किया गया। बालश्रम उन्मूलन दिवस पर राजमिस्त्री व मजदूर कल्याण संघ के लोगो ने कहा, समाज पर अभिशाप माने जाने वाले बालश्रम को खत्म करने के लिए बच्चे का स्कूल जाना जरूरी है, सब को मिलकर बालश्रम के हर रूप के खिलाफ खड़ा होना होगा। इस समस्या के प्रति समाज को और जागरूक करना होगा। इससे की बाल श्रम पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाया जा सके।

 


Date : 09-Oct-2019

उत्साह से मना विजयदशमी, रामलीला के बाद हुआ रावण दहन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 9 अक्टूबर।
जिला मुख्यलय स्थित विकास नगर ग्राउंड में नवरात्रि के नौ दिन माता की पूजा अर्चना कर दसवें दिन रावण वध कर विजय दशमी मनाया गया। प्रतिवर्ष की भाति इस वर्ष भी स्टेडियम मैदान में शितलामाता मंदिर समिति और नगर पालिका के संयुक्त सहयोग से रामलीला का आयोजन किया गया। इसके बाद आतिश बाजियों के बीच बुराई पर अच्छाई का विजय त्यौहार मनाया गया।

जानकारी अनुसार, बाल रामायण मंडली रोजगारी पारा के द्वारा रामलीला का मंचन किया गया। इस दौरान सर्व प्रथम मातागुड़ी शितला मंदिर से रावण अपने सेना के साथ नगर भ्रमण करते हुए स्टेडियम मैदान पहुंचा। वहीं श्रीराम अपने वानर सेना के साथ स्टेडियम पहुंचे, जहां उपस्थितों के समक्ष बालकांड का मंचन किया गया। आयोजन के समापन में रावण का विशाल पुतला बनाया गया। रावण, मेघनाथ, कुंभकर्ण का वध कर रावण के विसाल पुतले का दहन किया। इस दौरान जम कर आतीसबाजी हुई। गत वर्षो की तुलना में इस वर्ष दर्शको की संख्या बहुत अधिक रही। रावण दहन हेाते ही जलती लकड़ी को लुटने के लिए दर्शक टुट पड़ते है, इसे देखते हुए जिला पुलिस की बल मैदान में तौनात रही। ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो जाए। बस्तर में मान्यता है, कि रावण की हड्डी घर में रखने से सुख समृध्दि बड़ती है। 

आयोजन में ग्राम देवी शीतला माता व रामायण समिती के प्रमुख, विधायक प्रतिनिधि शिशिर श्रीवास्तव, पूर्व मंत्री लता उसेण्डी, उप पुलिस अधीक्षक निकीता तिवारी, एसडीओपी फरसगांव, तहसीलदार यूके मानकर, नगर के हजारों महिला पुरूष उपस्थित रहे।

 


Date : 09-Oct-2019

एसपी ने की अस्त्र-शस्त्र पूजा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 8  अक्टूबर।
विजयदशमी पर कल कोण्डागांव के नया पुलिस लाईन स्थित कोर्ट (शस्त्रग्रह) पर अस्त्र-शस्त्र की पूजा अर्चना की गई। यहां एसपी सुजीत कुमार ने शस्त्र पूजा करते हुए वैदिक मंत्रों के बीच विजय कामना की। पुलिस लाईन में ही कोण्डागांव के स्थानीय आम्स लाईसेंस धारी शंभू यादव ने भी अपने बंदूक की पूजा करवाते हुए हवाई फायर किए। इतना ही नहीं नारी शक्ति का परिचय देते हुए मौके पर मौजूद महिला पुलिस अधिकारी डीएसपी नीकिता तिवारी और अंजली गुप्ता ने भी हवाई फयरिंग किए।

इस अवसर पर कोण्डागांव के डीएसपी नीकिता तिवारी, अंजली गुप्ता, एसडीओपी केशकाल अमित पटेल, रक्षित निरीक्षक रमेश चंद्र, यातायात शाखा प्रभारी अर्चना धुरंधर, समेत पुरा पुलिस अमला यहा मौजूद रहा।

 


Date : 09-Oct-2019

अनोखी परंपरा के साथ हुआ रावण वध

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 9 अक्टूबर।
सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति के द्वारा ग्राम पंचायत हिर्री व भू-भूमका में 6  अक्टूबर से 8  अक्टूबर तक रामलीला कार्यक्रम का मंचन हुआ। इसमें प्रथम दिवस रामजन्म, द्वितीय दिवस सीता हरण, बाली सुग्रीव युद्ध व दशहरा के मुख्य आकर्षण कार्यक्रम को राम रावण का युद्ध संध्याकालीन कार्यक्रम में सीता अग्नि परीक्षा के पश्चात लव कुश कंडिका मंचन किया गया। 

इसी तरह ग्राम पंचायत भूमका के मूर्तिकार मोहन सिंह कुंवर, ग्राम के वरिष्ठ वीरेंद्र चनाप, देव सिंह निषाद बैजनाथ तिवारी, सतीश कुंवर, नारायण कुंवर, अध्यक्ष भैसाखु मंडावी, रामभरोस कुंवर का कहना था कि हमारे पुर्वजों के अनुसार यह परंपरा सर्व प्रथम ग्राम भूमका से 1947-48  के दशक से शुरू हुआ जो आज तक निरंतर चलते हुए रावण का वध किया जाता है। उसके नाभि से निकला हुआ अमृत को लोगों के द्वारा के तिलक के रूप में अपने माथे पर लगाया जाता है। जो धन ऐश्वर्य के प्रतिक माने जाने वाले रैनी पत्ता को साथ घर ले जाते हैं।

कार्यक्रम के सुत्राधार व पूर्वजों से रावण मूर्ती के निर्माता हिर्री के रामचंद्र राना व भूमका के रूपसिंह निषाद और मोहन सिंह कुंवर के कहे अनुसार, हिर्री व भूमका में रावण का दहन नहीं होता बलकि मिट्टी के बने रावण का वध किया जाता है। रामलीला के पश्चात श्री राम, रावण के नाभी मे तीर मारकर उनका वध करते है। वध के दौरान रावण के नाभी में अमृत भण्डार रखा जाता है, जिसके श्राव होते ही ग्रामीण उसका तिलक लगाने उमड़ पड़ते है। ऐसी मान्यता है कि अगर कोई तिलक लगता है तो उसे शारीरिक, मानसिक व आर्थिक रूप से स्वस्थ्य लाभ होता है।

ग्राम हिर्री में यहां उत्सव विरासत में मिला है। जिसके पूर्व में सूत्रधार स्व. इंद्र प्रसाद तिवारी, स्व. रामनाथ पांडे के द्वारा संचालित किया जाता रहा। अब वर्तमान में रमेश पांडे के बाद सोमचंद यादव को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। कार्यक्रम में रामलीला समिति के अध्यक्ष भारद्वाज बैद्य, मंडली अध्यक्ष सोमचंद यादव, सरपंच धनंजय नेताम, उपसरपंच शांति बैद्य, रमेश पांडे, हितेश साहू, फूलसिंह बैद्य, तरसिंह बैद्य, उत्तम भारद्वाज, रामसिंह नेताम, कनस बैध, पंचगण सहित चारों समाज के ग्राम वासियों का महत्वपूर्ण योगदान रहता है।