छत्तीसगढ़ » कोरबा

Date : 12-Sep-2019

नौकरी के नाम पर ठगी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 12 सितंबर।
नौकरी दिलाने के नाम पर दीपका कॉलोनी के एक युवक से ठग ने 25 हजार रुपए की ठगी की है। दीपका कॉलोनी निवासी शुभम शर्मा ने वकालत की पढ़ाई की है। शुभम ने कई संस्थान में जॉब के लिए आवेदन किया है। 

3 मई को शुभम के मोबाइल पर कॉल आया, जिसमें एक्सिस बैंक में जॉब के लिए चुना जाना बताया गया। इसके बाद बैंक परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन फीस 2 हजार जमा करने को कहा गया। उक्त रुपए पेटीएम के जरिए शुभम ने जमा किए। इसके बाद ऑनलाइन लिखित परीक्षा हुई, जिसमें सफल होने पर टेलीफोनिक परीक्षा हुई। इसके बाद कॉल कर उसे चयनित होना बताया गया। साथ ही पुलिस वेरिफिकेशन समेत शैक्षणिक कागजात मांगे गए। शुभम ने ई-मेल से कागजात भेजे। इसके बाद वेरिफिकेशन के लिए 75 सौ रुपए डलवाया गया। इसके बाद ऑफर लेटर भेजा। साथ ही सैलरी अकाउंट खोलने और ट्रेनिंग के लिए 15 हजार 500 रुपए अकाउंट में डलवाया गया। इसके बाद उसे घुमाया गया। तब जॉब लगाने के बहाने ठगी का पता चला।  

 


Date : 12-Sep-2019

कोल इंडिया की हड़ताल टालने में जुटा प्रबंधन, हड़ताल की चेतावनी के बाद प्रबंधन एवं मंत्रालय के अफसरों की नींद हराम

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 12 सितंबर।
कोयला उद्योग में पांच दिवसीय हड़ताल की नोटिस के बाद कोल प्रबंधन एवं मंत्रालय के अफसरों की नींद हराम हो गई है। हड़ताल की नोटिस पर क्षेत्रीय श्रमायुक्त केंद्रीय के पास प्रबंधन पहुंच गया है। इस पर लेबर कमिश्नर ने सभी श्रमिक संघ प्रतिनिधियों को 16  सितंबर को हड़ताल टालने बैठक आयोजित की है।

एफडीआई लागू करने के खिलाफ संयुक्त श्रमिक संघ एटक, एचएमएस, इंटक व सीटू ने एक दिन 24 तथा बीएमएस ने 23 से 27 सिंतबर तक पांच दिन की हड़ताल की चेतावनी देते हुए नोटिस थमा दिया है। बढ़ते कोयले की मांग और उत्पादन में गिरावट के बीच हड़ताल होने से कोयला मंत्रालय व प्रबंधन चिंतित हो उठा है। श्रमिक संघ प्रतिनिधि नोटिस देने के बाद हड़ताल की तैयारी में जुट गए हैं, तो दूसरी तरफ प्रबंधन भी इसे टालने का प्रयास कर रहा है। 

त्रिपक्षीय वार्ता कर समस्या का निदान निकालने की पहल प्रबंधन ने शुरू कर दी है। इस संबंध में रीजनल लेबर कमिश्नर केंद्रीय दिल्ली ने 16  सितंबर को दिल्ली श्रम मंत्रालय में कोयला सचिव, सीआइएल चेयरमैन, सीएमडी सिंगरैनी के साथ ही पांचों श्रमिक संघ प्रतिनिधियों की बैठक आयोजित की है। आरएलसी वार्ता कर हड़ताल टालने का प्रयास करेगा। इधर श्रमिक संघ प्रतिनिधियों का कहना है कि केंद्र सरकार इस मुद्दे पर पुनर्विचार कर अपना निर्णय वापस ले, तभी हड़ताल स्थगित करने पर विचार किया जा सकता है।

श्रमिक संघ की एकजुटता पर नजर
हड़ताल को लेकर श्रमिक संघ दो खेमे में बंट गया है। बीएमएस ने पृथक पांच दिवसीय हड़ताल की नोटिस दी है तो शेष यूनियन एटक, सीटू, एचएमएस व इंटक ने एक दिवसीय हड़ताल की नोटिस थमाई है। यानी श्रमिक संघ में अभी एकजुटता नहीं बन पाई है, हालांकि पांच दिवसीय हड़ताल का शेष यूनियन सैद्धांतिक रूप से समर्थन की बात कर रहे हैं, पर यूनियन के मध्य सियासत के खेल भी शुरू हो गया है।

 

 

 


Date : 12-Sep-2019

एसईसीएल दीपका खदान में डंपर दुर्घटनाग्रस्त, ऑपरेटर ने कूदकर बचाई जान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 12 सितंबर।
  एसईसीएल दीपका खदान में आज सुबह कार्य के दौरान एक डंपर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। ऑपरेटर ने कूदकर अपनी जान बचाई। ऑपरेटर की सतर्कता के कारण किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई। हालांकि डंपर के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से एसईसीएल को नुकसान जरूर उठाना पड़ा है।

 आज सुबह दीपका खदान में डंपर बीईएमएल क्रमांक 9085 क्षमता 100 टन कार्यस्थल पर लगी हुई थी। रात्रि पाली में नियोजित ऑपरेटर डंपर का परिचालन कर रहा था। कार्यस्थल पर बारिश के कारण मिट्टी से फिसलन पैदा हो गई थी, जिसके कारण डंपर पीछे की तरफ फिसलना शुरू हो गया। ऑपरेटर ने केबिन से कूदकर खुद को बचाया। फिसलते हुए डंपर काफी नीचे चला गया। प्रबंधन ने राहत महसूस जरूर की कि जनहानि नहीं हुई लेकिन उसे लंबी चपत लगी है। बताया जाता है कि दीपका खदान क्षेत्र के ओबी क्षेत्र में डंपर से कार्य होता है। आज तडक़े भी ऑपरेटर इसी कार्य में लगा हुआ था।

 


Date : 11-Sep-2019

युवक ने लगाई फांसी, परिजनों ने बिना सूचना कर दिया दाह संस्कार

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 11 सितंबर।
निंदाई कर लौट रही एक महिला से छेड़छाड़ के बाद उसके पति व अन्य लोगों ने युवक की जमकर धुनाई कर दी। गांव में समाज की सभा ने युवक पर 50 हजार रुपए अर्थदंड लगाया था। जिससे क्षुब्ध होकर उसने फांसी लगा ली। 

पुलिस ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि छिंदपानी का युवक बलराम कश्यप ने फांसी लगा ली है।जिसकी सूचना पुलिस को दिए बिना ही बुधवार की सुबह परिजन दाह संस्कार के लिए मुक्तिधाम लेकर गए हैं। पुलिस मौके पर पहुंची। लेकिन तब तक शव 8 0 फीसदी जल चुका था। पुलिस ने पानी डालकर आग बुझाई और हड्डियों के अवशेष ही जब्त कर पाई। मामले में पुलिस ने मर्ग कामय कर विवेचना में लिया है। 

प्रारंभिक जांच में पुलिस को पता चला है कि मृतक ने भादाकछार की एक महिला से छेडख़ानी की थी। शोर मचाने पर आरोपी भाग गया था। मगर महिला ने ग्राम उड़ता के साप्ताहिक बाजार के पास उसकी पहचान बलराम कश्यप के रूप में कर ली। इसके बाद परिजनों को जानकारी देने पर बलराम के साथ मारपीट की गई थी। गांव में सभा भी हुई थी, जिसमें आर्थिक दंड भी लगाया था। पुलिस को संदेह है कि इसी वजह से क्षुब्ध होकर बलराम कश्यप ने फांसी लगाई है। बहरहाल पुलिस जांच के बाद ही मौत के वास्तविक कारणों का खुलासा हो सकेगा। जिसके बाद ही पुलिस युवक की मौत के जिम्मेदार आरोपियों पर आगे की कार्रवाई करेगी।

जबरिया सहमति पत्र पर हस्ताक्षर कराने का आरोप
मृतक के परिजनों ने सहमति पत्र में जबरदस्ती हस्ताक्षर करवाने का आरोप पंचों पर लगाया है। मृतक के परिजनों ने बताया कि ग्राम पुटा एवं छिंदपानी के वे लोग जो पंचायत में जुर्माना किए थे वे वहां पहुंचे और मृतक की पत्नी एवं उसके मां-बाप से जबरिया सहमति पत्र बनवाकर उसमें हस्ताक्षर करवाया। सहमति पत्र में उल्लेख किया गया कि उसकी मृत्यु सामान्य हुई है। इसके बाद उसके शव को गांव के शमशान के बजाय दो किमी दूर जंगल में ले जाकर मोटी-मोटी बड़ी सूखी लकडियों को एकत्र कर उसी में चिता सजाकर पंचों ने आनन-फानन में आग लगवा दिया और वहां से भाग निकले। 

 


Date : 11-Sep-2019

गांव में घुसा हाथी, डायल 112 की टीम ने खदेड़ा, वन विभाग का टोल फ्री नंबर नहीं हुआ रिसीव

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 11 सितंबर।
 कोरबा व कटघोरा वनमंडल में हाथियों का आतंक एक बार फिर बढऩे लगा है।  फसलों और घरों को ये हाथी नुकसान पहुंचा रहे हैं जिन्हें खदेडऩे की तमाम कोशिशें भी नाकाम हो रही हैं। दहशत के बीच 9-10 सितम्बर की मध्य रात्रि दंतैल हाथियों का एक झुण्ड गांव में आ धमका। डायल 112 की टीम ने समय पर पहुंचकर ग्रामीणों को संकट से उबारा।
जानकारी के अनुसार कोरबा वनमंडल के अंतर्गत ग्राम पंचायत गुरुमुड़ा में 9-10 सितम्बर की रात करीब 1 बजे जब गांव से बाहर जंगल की ओर बने कुछ मकानो में रह रहे ग्रामीण नींद के आगोश में थे, अचानक हाथियों की चिंघाड़ ने उनके होश फाख्ता कर दिये। आधी रात दंतैलों को झुण्ड को गांव में देख वेे भयभीत हो उठे और अफरा-तफरी सा माहौल बन गया।  कुछ लोगों ने इसकी सूचना वन विभाग द्वारा लोगों के मध्य जारी किये गये टोल फ्री नंबर पर देनी चाही किंतु  कॉल रिसीव नहीं हुआ। इसके बाद डायल 112 की टीम को सूचना दी गई। जानकारी होते ही उस वक्त ड्यूटी पर तैनात आरक्षक लेख राम धिरहे व चालक संगम श्रीवास्तव बिना समय गवाएं मौके पर पहुंचे। हाथियों की दहशत से इधर-उधर भाग रहे ग्रामीणों , महिलाओं और बच्चों को एक जगह इकट्टा किया और वहां से बाहर निकाला। सभी ग्रामीणों को गांव के बाहर बने आवासों से निकालकर गांव की बस्ती में ला कर छोड़ा गया और गांववालों को एक जगह इकठ्ठा रहने की समझाईश दी गयी। ग्रामीणों ने 112 स्टाफ की सराहना की है।


Date : 11-Sep-2019

सर्पदंश से ग्रामीण की मौत, अस्पताल ले जाने नहीं हुई वाहन की व्यवस्था

कोरबा, 11 सितंबर। कोरबी क्षेत्र में एक ग्रामीण को विषैले सर्प ने काट लिया। वाहन के अभाव में उसे अस्पताल नहीं लाया जा सका, जिससे उसकी मौत हो गई। मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना प्रारंभ कर दी है। कोरबी चौकी के अंतर्गत फुलसर गांव में यह घटना हुई। पुलिस ने बताया कि यहां के रहने वाले वीरसिंह गोंड मवेशियों को चराने गया हुआ था। पास के जंगल में कई घंटे बिताने के बाद शाम को वह गांव लौट रहा था। एक स्थान पर उसका पैर अचानक सांप पर पड़ गया। सर्प ने ग्रामीण को काट लिया। इस घटनाक्रम को लेकर वीरसिंह ने अपने घर के लोगों को फौरन अवगत नहीं कराया। रात्रि में खाना खाने के बाद वह अपने कमरे में चला गया। 

खबर है कि 6  घंटे बीतने पर सांप के काटने का असर साफ तौर पर दिखाई दिया। उस समय पीडि़त के कराहने की आवाज घर के लोगों ने सुनी। उन्होंने देखा कि उसके मुंह से झाग निकल रहा है। जिसके बाद उसे अस्पताल लाने की जुगत भिड़ाई गई, लेकिन वाहन के अभाव में उसे अस्पताल नहीं लाया जा सका। कुछ घंटे बाद उसकी मौत हो गई। 

 


Date : 10-Sep-2019

एफडीआई के खिलाफ श्रमिक संगठन करेंगे आंदोलन 

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 10 सितंबर ।
केन्द्र सरकार के कोयला खनन क्षेत्र में शत प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश (एफडीआई) के खिलाफ श्रमिक संगठन का गुस्सा फूट पड़ा है। विरोध में चार श्रमिक संघ ने एक दिन की हड़ताल की घोषणा की है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय मजदूर संघ ने अकेले पांच दिवसीय हड़ताल करने की चेतावनी दी है। संघ ने कहा कि कोयला मंत्रालय एफडीआई पर विचार नहीं करता है, तो कोयला उद्योग में आने वाले 23 से 27 सितंबर तक मजदूर हड़ताल पर रहेंगे। 

एसईसीएल समेत कोल इंडिया लिमिटेड की सभी अनुषांगिक कंपनी में एफडीआई लागू करने केंद्र सरकार के लिए गए फैसले का विरोध तेज होते जा रहा है।

 स्थानीय स्तर पर विरोध प्रदर्शन श्रमिक संघ प्रतिनिधि कर रहे हैं। पिछले सप्ताह चार केंद्रीय श्रमिक संघ ने संयुक्त रूप से कंवेंशन आयोजित कर 24 सितंबर को एक दिवसीय हड़ताल की घोषणा की है। संयुक्त श्रमिक संघ से बीएमएस बाहर है और संघ अपने स्तर पर केंद्र सरकार से पत्राचार कर रहा है। संघ ने केंद्र को पत्र लिखते हुए एफडीआई पर पुनर्विचार करने का प्रस्ताव रखा था, पर अभी तक इसमें कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिया। इससे संघ ने भी आंदोलन में जाने की चेतावनी केंद्र सरकार को दी है। 

संघ ने कोयला सचिव को पत्र लिख कर कहा है कि कोयला उद्योग में सौ प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति दी गई है, यह कोयला उद्योग एवं कार्यरत श्रमिक व राष्ट्रहित में नहीं है। इसके परिणाम किसी भी दृष्टि से कोयला उद्योग के लिए हानिकारक ही होंगे। केंद्र के इस निर्णय से कोयला उद्योग के समस्त कर्मचारियों में भय व आक्रोश व्याप्त है।

 संगठन ने पहले भी कोयला उद्योग में एफडीआई का विरोध दर्ज कराया था, पर सरकार की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। इसलिए संघ ने कोयला उद्योग में 23 से 27 सितंबर तक पांच दिवसीय हड़ताल पर निर्णय लिया है। इस दौरान खदान में कार्यरत सभी कर्मी हड़ताल पर रहेंगे। बीएमएस के चेतावनी भरे पत्र के बाद केंद्र सरकार क्या निर्णय लेती है, इस बारे में फिलहाल कुछ कहना जल्दबाजी होगी। संभावना जताई जा रही है कि हड़ताल टालने के लिए केंद्र सरकार निश्चित ही अब श्रमिक संघ प्रतिनिधियों से वार्ता करेगी।

कुसमुंडा में हो चुका है प्रदर्शन 
शत प्रतिशत एफडीआई किए जाने के खिलाफ भारतीय मजदूर संघ कुसमुंडा इकाई ने महाप्रबंधक कार्यालय समक्ष धरना कर प्रबंधन को ज्ञापन सौंपा था। वरिष्ठ नेता टिकेश्वर सिंह ने कहा कि कोयला उद्योग को संकट में डालने का प्रयास केंद्र सरकार कर रही है। इसके साथ ही कोल इंडिया का निजीकरण करने का रास्ता खुल जाएगा और केंद्र कभी भी खदान को निजी हाथ में सौंप सकती है। उन्होंने कहा कि पत्राचार के बाद भी समस्या का समाधान नहीं किया जाता है तो कोयला उद्योग में बीएमएस का प्रस्तावित पांच दिवसीय हड़ताल होना तय है। संघ की मांग है कि सरकार श्रमिक व कोयला उद्योग के हित में निर्णय लेते हुए एफडीआई के फैसले को वापस ले। इसके बाद भी सकारात्मक पहल नहीं होता है तो अगले चरण में उग्र आंदोलन किया जाएगा।

 


Date : 10-Sep-2019

महासमुंद में आयोजित 19वें शालेय राज्य स्तरीय रग्बी फुटबॉल, छात्राओं ने गोल्ड तो छात्रों ने जीता कांस्य

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा,।
गत दिनों महासमुंद में आयोजित 19वें शालेय राज्य स्तरीय क्रीड़ा प्रतियोगिता में रग्बी फुटबॉल में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सिंघिया, विकासखंड पोड़ी उपरोड़ा की छात्राओं ने 19 वर्ष वर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त कर गोल्ड मेडल पर कब्जा किया।

 विजयी अभियान में इन्होंने राजनांदगांव, बस्तर, जशपुर,  रायपुर, दुर्ग जैसी सशक्त टीमों को हराया। इसी प्रकार 17 वर्ष बालक वर्ग में सिंघिया के छात्रों ने तृतीय स्थान प्राप्त कर कांस्य पदक जीता। 

इन सभी की शानदार सफलता पर विद्यालय की प्राचार्य संगीता साव ने हर्ष व्यक्त कर कहा कि निश्चित ही स्टेट लेवल चैंपियनशिप जीतने पर अधिकाधिक छात्रों का चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए होगा जो कि भुनेश्वर में आयोजित है। टीम की सफलता का श्रेय प्रशिक्षक एवं पीटीआई विशाल दुबे को दिया। ज्ञात हो कि शालेय खेलों में जिस वर्षों से रग्बी जुड़ा है विगत 6 वर्षों से लगातार सिंघिया के छात्र-छात्राओं ने पदक जीते हैं।

 प्रत्येक वर्ष कोई न कोई छात्र-छात्रा राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में प्रदेश का प्रतिनिधित्व करने तथा राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने में सफल रहे हैं। 


Date : 10-Sep-2019

अधीक्षिका पर भरपेट भोजन नहीं देने का आरोप 

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 10 सितंबर।
एजुकेशन हब स्याहीमुड़ी में मूसलाधार बारिश के बीच बच्चों ने अधीक्षिका के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अनशन शुरू कर दिया। अधीक्षका पर भरपेट भोजन नहीं देने का आरोप लगाया गया है, साथ ही तबियत खराब होने पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध न कराने का आरोप भी छात्राओं ने अधीक्षिका पर लगाए हंै। भूख हड़ताल पर बैठी छात्राओं ने अभिभावकों के साथ दुव्र्यवहार करने का आरोप भी अधीक्षिका पर लगाया है। हालांकि प्रबंधन ने छात्राओं के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। भूख हड़ताल पर बैठी छात्राओं को समझाईश देने का प्रयास किया जाता रहा। 

राज्य शासन द्वारा स्याहीमुड़ी में विकसित किए गए करोड़ों के एजुकेशन हब के एक हिस्से में सीपेट और दूसरे में प्रयास विद्यालय चल रहा है। प्रयास में कोरबा सहित कई क्षेत्रों के विद्यार्थी आवासीय व्यवस्था में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। प्रयास के संचालन को लेकर वित्तीय और अन्य संरचना अब तक पूरी तरह तय नहीं हुई है। इन कारणों से विद्यार्थियों के हितों के मामले में समस्याएं पेश आ रही है। इसे लेकर काफी समय से यहां तनातनी जैसी स्थिति कायम है और इसे लेकर अक्सर आरोप लगते रहे हैं।  आज की भूख हड़ताल इसी का हिस्सा है। ठीकठाक भोजन नहीं मिलने, बीमार होने पर उचित चिकित्सा सुविधा देने में आनाकानी, परिजनों से ठीक व्यवहार नहीं करने सहित कई आरोप विद्यार्थियों के हैं। उनके निशाने पर प्रयास की अधीक्षका, प्राचार्य ही नहीं बल्कि आदिवासी विकास विभाग के कोरबा स्थित सहायक आयुक्त भी हैं। आज सुबह ऐसे कई बिंदुओं को लेकर प्रयास के विद्यार्थी अवकाश के बावजूद गणवेश में परिसर में हड़ताल पर बैठ गए।  इसकी सूचना मिलने पर संस्था का कामकाज देखने वाले परेशान हो गए। कुछ देर में खबर होने पर मीडिया कर्मी भी यहां पहुंचे। इस दौरान विद्यार्थियों ने मामले को लेकर बातचीत की और कई तरह के आरोप लगाए। उनका कहना था कि समस्या गंभीर है इसलिए कलेक्टर को यहां आना चाहिए। उनसे चर्चा के बाद भी वे भूख हड़ताल खत्म करेंगी, हालांकि ऐसा हुआ नहीं। प्रशासन के निर्देश पर सहायक आयुक्त एनकेएस दीक्षित मौके पर पहुंचे। उन्होंने समस्या को लेकर विद्यार्थियों से चर्चा की। इसके अलावा अधीक्षिका और प्राचार्य से भी वस्तुस्थिति जानी।

प्रबंधन पर गंभीर आरोप 
भूख हड़ताल पर बैठी छात्राओं ने प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाए है। उन्होंने प्रयास में चल रहे छात्रावास की अधीक्षिका के साथ-साथ यहां के प्राचार्य को लपेटा। इन्हें लेकर कई तरह की बातें कही। पानी और भोजन को लेकर अक्सर समस्या होती है। इसे लेकर अधीक्षिका का रूख नकारात्मक बना हुआ है। किसी छात्रा का स्वास्थ्य बिगडऩे पर जब चिकित्सा की बात आती है तो प्राचार्य द्वारा कहा जाता है कि पहले गंभीर स्थिति तो आए, फिर उपचार कराया जाएगा।

 छात्रा के बयान को माना जाए तो उन्हें कम भोजन दिए जाने के लिए सहायक आयुक्त ने निर्देशित किया है। उनके मुताबिक बच्चे बारात में नहीं आए हैं, इसलिए भोजन की मात्रा का ध्यान रखा जाए। छात्राओं का कहना है कि उनसे मिलने के लिए आने वाले परिजनों को परिसर में रूकने की अनुमति भी नहीं दी जाती।


Date : 10-Sep-2019

कोरबा में मातमी जुलूस के साथ निकले ताजिये, शहीद -ए -करबला के शहीदों को किया याद

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 10 सितंबर।
मुस्लिम धर्मावलंबियों का मातमी पर्व मोहर्रम ऊर्जाधानी में भी हसन-हुसैन की शहादत को याद करते हुए मनाया गया। विभिन्न क्षेत्रों से मातमी जुलूस निकालकर ताजियों को पुराना बस स्टैंड मार्ग में लाया गया। ताजिये को सजदा करने व प्रसाद (शिरनी)चढ़ाने मुस्लिम सहित अन्य वर्ग के लोग भी उमड़े रहे। मोहर्रम को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। 
मोहर्रम शहीद-ए-करबला हजरत इमाम हसन व हजरत इमाम हुसैन द्वारा कौम की रक्षा के लिए दी गई शहादत से जुड़ा पर्व है। मोहर्रम की पहली तारीख से ही प्रत्येक मुस्लिम परिवार में मातमी माहौल शुरू हो जाता है और दसवीं तारीख तक चलता है। दसवीं तारीख पर इमामबाड़ों से हसन-हुसैन के मकबरा के प्रतिरूप ताजिया निकलकर नगर भ्रमण करते हुए करबला के लिए ले जाए जाते हैं। इसी कड़ी में आज मोहर्रम पर शहर के पुरानी बस्ती, रानी रोड, धनवारपारा, सीतामढ़ी, पथर्रीपारा, कांशीनगर, बुधवारी, सुभाष ब्लाक, कुआंभ_ा, तुलसीनगर आदि मोहल्लों से जुलूस की शक्ल में ताजिये निकालने का सिलसिला दोपहर से शुरू हुआ। ढोल-ताशा के साथ निकले ताजिये को चूमने व सजदा करने लोग जुलूस में शामिल होते रहे। जुलूस में मुस्लिम वर्ग के युवाओं से लेकर बुजुर्ग युद्ध की रोमांचक कलाबाजियों को प्रदर्शित  करते नजर आए। लाठी, गदा एवं धारदार हथियारों के साथ विभिन्न प्रकार की कलाओं का प्रदर्शन किया जाता रहा। इस दौरान या हसन-या हुसैन के नारे से ऊर्जाधानी गूंजती रही। विभिन्न क्षेत्रों से निकाले गये ताजिये का मिलन पुराना बस स्टैंड गीतांजली भवन के सामने कराया गया। यहां शाम से लेकर देर रात तक ताजिये को सजदा करने मुस्लिम समाज की महिलाओं, पुरूषों, बच्चों की भीड़ रही। इसके अलावा अन्य धर्म व समाज के लोगों ने भी अपनी आस्था प्रकट कर साम्प्रदायिक व धार्मिक एकता का परिचय दिया। पुराना बस स्टैंड में विभिन्न ताजिया कमेटी व अन्य कमेटियों की ओर से पुलाव लंगर की व्यवस्था की गई, जिसमें हजारों लोगों ने प्रसाद (शिरनी)प्राप्त किया। 

इसी तरह मोहर्रम के अवसर पर उपनगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र बालको, दर्री, कटघोरा, पाली, करतला, सोहागपुर, नोनबिर्रा आदि क्षेत्रों में भी ताजिया निकाले गए। मोहर्रम पर पुलिस का गश्ती दल लगातार नगर का भ्रमण करता रहा वहीं अधिकारी भी पल-पल की जानकारी लेते रहे। 
 


Date : 10-Sep-2019

हादसे में अधेड़ की मौत

कोरबा, 10 सितंबर। हरदीबाजार चौकी क्षेत्र में घटित हादसे में एक अधेड़ की मौत हो गई। मृतक अपनी बाइक में सवार होकर ड्यूटी जा रहा था। सूचना पर चौकी पुलिस ने आरोपी भारी वाहन चालक के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। हरदीबाजार चौकी अंतर्गत ग्राम जोरहा डबरी निवासी कोमल बंजारे े 43 वर्ष एसव्ही पावर प्लांट रेकी में ड्यूटी करता था, जो रात्रि पाली में ड्यूटी के लिए अपनी बाइक क्रमांक सीजी 12 जी 8921 में सवार होकर रेकी आ रहा था। जहां मार्ग पर एक अज्ञात भारी वाहन ने उसे अपनी चपेट में ले लिया। हादसे में उसकी मौत हो गई। दुर्घटना के बाद आरोपी चालक वाहन छोडकऱ भाग निकला पुलिस ने दुर्घटनाकारित वाहन को जब्त कर लिया है। 

 


Date : 10-Sep-2019

महिला आरक्षक से छेड़छाड़, दो पुलिस जवानों पर एफआईआर

कोरबा, 10 सितंबर।  विगत एक वर्ष पूर्व महिला आरक्षक का रास्ता रोककर दर्री थाना में पदस्थ व एनटीपीसी के कृष्णा विहार कॉलोनी में निवासरत प्रधान अरक्षक मानसिंह कंवर व आरक्षक योगेश रात्रे ने छेड़छाड़ किया था। पुलिसकर्मियों पर महिला आरक्षक के साथ गाली गलौज के साथ छेड़छाड़ किए जाने का गंभीर आरोप है। पीडि़ता ने इसकी लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक कार्यालय में की थी। 

तत्कालीन सीएसपी पुष्पेंद्र बघेल को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया था। सभी पक्षों के बयान व जांच पड़ताल के बाद विभागीय जांच में प्रधान आरक्षक व आरक्षक को क्लिन चिट देते हुए निर्दोष बताया गया। इसके बाद भी पीडि़त महिला आरक्षक ने हार नहीं मानी और संघर्ष जारी रखा। निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर वह अदालत जा पहुंचीं। कटघोरा के प्रथम श्रेणी न्यायालय में परिवार की सुनवाई के बाद प्रथम दृष्टया अपराध होना पाया है। कोर्ट ने प्रधान आरक्षक मानसिंह कंवर व आरक्षक योगेश के खिलाफ धारा 354, 354घ, 341, 294, 34 के तहत मामला दर्ज करने का आदेश दिया, जिसके बाद दर्री पुलिस ने दोनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला पंजीबद्ध कर लिया है। 

 


Date : 10-Sep-2019

रेलवे डीसीएम ने कोल साइडिंग का लिया जायजा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 10 सितंबर।
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के डिवीजनल कामर्शियल मैनेजर (सीनियर डीसीएम) पुलकित सिंघल मंगलवार को कोरबा पहुंचे। यहां विभागीय अधिकारियों से चर्चा उपरांत उन्होंने गेवरा-दीपका कोल साइडिंग का जायजा लिया। कोरबा से चलने वाली अधिकांश ट्रेनों को रद्द कर दिए जाने से जनता आक्रोशित है। वहीं रेल संघर्ष समिति चरणबद्ध आंदोलन कर रहा है। बताया जा रहा है कि अधिकारी से रेल संघर्ष समिति निरीक्षण उपरांत चर्चा करेगी। 

कोरबा से यात्री गाडिय़ों को बारी-बारी से बंद किए जाने और इससे लोगों को हो रही परेशानी के बीच सीनियर डीसीएम का दौरा इस क्षेत्र में हुआ। इस बारे में रेल प्रबंधन से संबंधित लोगों को जानकारी थी। बाद में खबर लीक हो गई। इसके साथ परेशान लोग सक्रिय हो गए। उन्होंने यहां की समस्या को लेकर अधिकारी से मिलने की कोशिश की। दोपहर तक यह संभव नहीं हुआ। रेल सुविधाओं को लेकर संघर्षरत कोरबा की समिति ने इस मुद्दे पर आज लिंक एक्सप्रेस की रवानगी से पहले सीनियर डीसीएम से मिलना तय किया है। बताया गया कि सिंघल को एक्सप्रेस और यात्री गाडिय़ों की अनियमित सेवा के कारण हो रही परेशानी से अवगत कराया जाएगा। 

 

 


Date : 10-Sep-2019

मकान से मोबाइल की चोरी, दो पर केस

कोरबा, 10 सितंबर। सिटी कोतवाली अंतर्गत महाविर नगर में ट्रक ड्राइवर घनश्याम श्रीवास निवासरत है। जिसने अपने घर में मोबाइल को चार्जिंग में लगा कर छोड़ दिया था। जिसके बाद वह ठेला की ओर घूमने निकल गया था। जिसका फायदा उठाकर कुलदीप साहू व शुभम खत्री ने मोबाइल को पार कर दिया था। मोबाइल चुराते दोनों को घनश्याम की मां ने देख लिया था। मामले में दोनों आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने धारा 457,380 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है। 


Date : 09-Sep-2019

हुकिंग कर बिजली चोरी, 25 के काटे कनेक्शन

कोरबा, 9 सितंबर। बकाया बिजली बिल को लेकर उपभोक्ताओं के विद्युत कनेक्शन काटे जा रहे हैं। जिन लोगों के कनेक्शन काटे जा रहे हैं वे शाम ढलते ही हुकिंग कर बिजली का उपयोग कर रहे हैं। ऐसे बिजली चोरों के खिलाफ मानिकपुर क्षेत्र में कार्रवाई कर 25 लोगों के कनेक्शन काट दिए गए।  

एसईसीएल कोरबा क्षेत्र की मानिकपुर कॉलोनी में विभागीय आवास में प्रबंधन की ओर से बिजली सप्लाई की गई है। बताया जा रहा है कि कई लोगों ने दो-तीन स्थान से कनेक्शन जोड़़ लिया है, ताकि एक स्थान से लाइन बंद होती है तो उसे दूसरे स्थान से चालू कर लिया जाए। इससे दुर्घटना का भी भय बना रहता है। दो-तीन स्थान से कनेक्शन जोडऩे पर अन्य लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। इस समस्या को लेकर कॉलोनीवासियों ने प्रबंधन के समक्ष शिकायत की गई थी। 

इस पर विद्युत विभाग के फोरमैन केके शर्मा एवं कुंदन धुर्वे अपनी टीम के साथ सुबह आठ बजे से ऐसे कनेक्शन काटने का कार्य शुरू किया। लगभग 25 घरों में लगे अवैध कनेक्शन को काट कर पृथक किया गया। इस दौरान सुरक्षा उपनिरीक्षक राठौर भी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। अधिकारियों ने कर्मियों एवं उनके परिजनों को समझाइश दी है कि दो-तीन कनेक्शन लेकर घर में दुर्घटना को आमंत्रण न दें। जरा सी लापरवाही होने पर विद्युत सप्लाई बाधित होने के साथ ही अप्रिय हादसा होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। अधिकारियों ने इस तरह कनेक्शन काटने की कार्रवाई लगातार करने की भी चेतावनी दी है।


Date : 09-Sep-2019

बिजली की समस्या से जूझ रहे बांकीमोंगरा क्षेत्र के निवासी​ बिजली अफसरों का पुतला दहन व कार्यालय का करेंगे घेराव

कोरबा, 9 सितंबर। बिजली की समस्या से जूझ रहे बांकीमोंगरा क्षेत्र के निवासियों ने अब आंदोलन का रास्ता अख्तियार कर लिया है। कई बार शिकायत के बाद भी वितरण विभाग सुधार कार्य नहीं करा रहा है। नाराज उपभोक्ता बिजली अफसरों का पुतला दहन करने के साथ ही दर्री जोन कार्यालय का घेराव करेंगे।

सर्वाधिक विद्युत उत्पादन करने वाला जिला होने के बाद भी शहर के उपनगरीय क्षेत्र में निवासरत लोगों को समुचित ढंग से बिजली नहीं मिल पा रही है। पावर प्लांट का प्रदूषण एवं इससे होने वाली गंभीर बीमारी से जनता जूझ रही है, लेकिन बिजली की समस्या जस की तस बनी हुई है। शहरी ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्र का भी बुरा हाल है। बांकीमोंगरा क्षेत्र अंतर्गत भैरोताल, मड़वाढोढ़ा, रोहिना, मोंगरा, गजरा, घुड़देवा, पुरैना आदि गांव में निवासरत उपभोक्ता काफी लंबे समय से विद्युत समस्या से जूझ रहे हैं। क्षेत्रवासियों ने इस संबंध में वितरण विभाग के अफसरों के समक्ष लिखित एवं मौखिक रूप से कई बार शिकायत की, पर विभाग सुधार कार्य कराने की बजाय सिर्फ आश्वासन दिया रहा है। विभाग की लापरवाही के कारण आम जनता का बिजली बिल बढ़ा है, जिसे कई बार सुधार की मांग की गई है, लेकिन सुधारने की बजाय कनेक्शन काटकर अधिकारी वसूली में लगे हैं। आम जनता को गलत तरीके से बिल मिल रहा है। क्षेत्र में व्याप्त विद्युत समस्या तथा अनाप शनाप बिल को सुधारने एवं त्योहार और बरसात के समय किसी का कनेक्शन नहीं काटने की मांग लेकर उपभोक्ता 12 सितंबर को बांकी चौक में विद्युत वितरण विभाग के अफसरों का पुतला दहन करेंगे। 

माकपा के जिला सचिव प्रशांत झा ने बताया कि क्षेत्रवासियों की समस्या को लेकर चरणबद्ध आंदोलन की शुरुआत की गई है। दूसरे चरण में 13 सितंबर को दर्री विद्युत जोन कार्यालय का घेराव किया जाएगा। इस दौरान क्षेत्र के महिला एवं पुरुष काफी संख्या में उपस्थित रहेंगे।


Date : 09-Sep-2019

एफडीआई को लेकर सरकार के खिलाफ आंदोलन की बन रही रणनीति

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोरबा, 9 सितंबर। एफडीआई का विरोध बढऩे लगा है। केन्द्र सरकार के खिलाफ विभिन्न श्रमिक संगठन आंदोलन की रणनीति बना रहे हैं। सितंबर माह के तीसरे हफ्ते में देशव्यापी हड़ताल क संभावना है। बताया जा रहा है कि इसे लेकर कोरबा में भी कवायद चल रही है।

कोयला उद्योग में एफडीआई व ठेका मजदूरों की मांगों को लेकर 24 सितंबर को हड़ताल का ऐलान किया गया है। चार प्रमुख संगठन इसमें शामिल हैं, जबकि बीएमएस ने दूरी बनाई है। हड़ताल से पहले की जा रही तैयारी को लेकर रांची में संपन्न सम्मेलन में इंटक के रेड्डी खेमा को बुलाया गया, जबकि एक दूसरे धड़े को इस बारे में आमंत्रित नहीं किया गया। दावा है कि इंटक का यह रेड्डी खेमा कई स्थानों पर नहीं है। इस स्थिति में दूसरे का साथ लेना जरूरी है। रणनीतिक कारणों से ऐसा करना आवश्यक माना जा रहा है। एसईसीएल में एसईकेएमसी है लेकिन वार्ता में एसईकेएमसी को अभी तक नहीं बुलाया गया है। इससे पहले मध्यप्रदेश के राजनगर में एसकेएमएस के द्वारा एक एक सम्मेलन हड़ताल को लेकर किया गया था। इस सम्मेलन में एसकेएमएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. रमेंद्र कुमार शामिल हुए। इसके अलावा सेफ्टी बोर्ड के विजय यादव, हरिद्वार सिंह, दीपेश मिश्रा, मदन सिंह, धर्मा राव ने भी अपने- अपने विचार रखें। एसईसीएल में राष्ट्रव्यापी हड़ताल को सफल बनाने के लिए दिशा निर्देश दिया गया। इसलिए एसईसीएल में एसईकेएमसी से सहयोग लेना पड़ेगा। कई कंपनियों में रेड्डी खेमा नहीं है। एसईसीएल में एसईकेएमसी का आईआर चालू है। कोरबा एरिया में भी कई इकाईयों में एसईकेएमसी मजबूत है। हड़ताल को सफल बनाने के लिए एसईकेएमसी से सहयोग लेना होगा। कुसमुण्डा व दीपका एरिया में भी एसईकेएमसी कार्यरत है। हड़ताल को सफल बनाने नेताओं को विचार करना होगा। अगर बीएमएस और एसईकेएमसी हड़ताल पर नहीं जाते है तो हड़ताल असफल हो सकता है। 


Date : 09-Sep-2019

जिला अस्पताल से युवती का मोबाइल पार, जुर्म दर्ज

कोरबा, 9 सितंबर। जिला अस्पताल के पुरुष वार्ड में चार्जिंग में मोबाइल को लगाकर किसी काम से युवती बाहर निकली थी। जब वह वापस लौटी तो मोबाइल चार्जिंग में नहीं था। मरीजों से जानकारी लेेने पर वे भी कुछ नहीं बता पाए। इसके बाद युवती ने बालको थाना पहुंचकर रिपोर्ट लिखाई। 

जानकारी के अनुसार सर्वमंगला नगर बरमपुर निवासी विनिता पटेल पिता संतोष कुमार पटेल बड़े भाई का इलाज कराने जिला अस्पताल पहुंची थी। वह पुरुष वार्ड में भर्ती था। 28 फरवरी की सुबह विनिता विवो कंपनी की मॉडल वाई-53 को अस्पताल के वार्ड में ही चार्जिंग में लगाया था। मरीजों को मोबाइल देखने की बात कहकर वह किसी काम से बाहर निकली थी। जब वह वापस वार्ड में पहुंची तो चार्जिंग में लगी मोबाइल चोरी हो गई थी। अपने स्तर पर मोबाइल की खोजबीन की। लेकिन नहीं मिला। विनिता ने पुलिस को बताया कि मोबाइल के कवर में एटीएम कार्ड व हैंडसेट में आवश्यक दस्तावेज की कॉपी थी। चोरी हुई मोबाइल की कीमत 9990 रुपए है। 

 


Date : 09-Sep-2019

लगातार बारिश से मकान ढहा

कोरबा, 9 सितंबर। पाली ब्लॉक अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत नानपुलाली के आश्रित मोहल्ला नवापारा में बीती रात हुई बारिश से एक मकान की दीवार ढह गई। दीवार के साथ-साथ छत का छप्पर भी भरभराकर नीचे आ गिरा। मकान में रहने वाली शुकवारा ने बताया कि परिवार के सभी सदस्य खाना खाकर सो रहे थे। इसी बीच मकान की दीवार तेज बारिश के कारण से बाहर की ओर गिर गई। दीवार के साथ-साथ ऊपर लगा छप्पर भी भरभराकर कर गिर गया। अगर दीवार अंदर की ओर गिरती तो किसी हादसे से इंकार नहीं किया जा सकता। मकान मालिक ने घटना से पंचायत को अवगत कराया है। साथ ही मुआवजा की मांग की है


Date : 09-Sep-2019

मूलभूत समस्याओं को ले वार्डवासियों ने घेरा निगम कार्यालय

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोरबा, 9 सितंबर।
नगर पालिक निगम के वार्ड क्रमांक 16 कोहडिय़ा के वार्डवासी मूलभूत समस्याओं से परेशान हैं। कई बार शिकायत के बाद भी समस्याओं का निराकरण नहीं किया गया। जिसे लेकर स्थानीय लोगों व शिवसेना ने निगम कार्यालय साकेत भवन घेराव की चेतावनी दी थी। सोमवार को शिवसेना के नेतृत्व में वार्डवासियों ने साकेत भवन का घेराव कर दिया। आश्वासन के बाद लोगों ने प्रदर्शन समाप्त किया। 

आक्रोशित लोगों ने बताया कि क्षेत्र में भारी समस्या है। लगातार हो रही बारिश का पानी निकासी नहीं हो पा रही है, जिससे बस्ती में पानी भर जा रहा है। लगातार बारिश व जलभराव से कई कच्ची झोपडिय़ां गिर गई है। वहीं बिजली, पानी, सडक़ की समस्या भी लंबे समय से बनी हुई है। बारिश के दिनों में क्षेत्र में साफ-सफाई नहीं किए जाने से लोग परेशान हैं। सडक़ की हालत जर्जर व पानी भरा हुआ है, जिसके कारण पैदल चलना तक दूभर हो रहा है। कई बार इसकी शिकायत निगम अधिकारियों से की गई लेकिन उनके कान में जंू तक नहीं रेंगी। जिससे आक्रोशित होकर वार्डवासियों ने निगम कार्यालय का घेराव कर दिया। कार्यालय के तीनों गेट बंद कर दिए। काफी देर तक किए जा रहे प्रदर्शन के बाद 5 लोगों को अपर आयुक्त कार्यालय बुलाया गया। जहां उनकी समस्या सुनकर त्वरित निराकरण का आश्वासन दिया गया। आश्वासन मिलने के बाद आक्रोशित लोगों ने प्रदर्शन समाप्त किया।