छत्तीसगढ़ » कोरबा

24-Jun-2020 12:28 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा, 24 जून।
दसवीं के परीक्षा परिणामों में बालिकाओं जिले का औसत रिजल्ट 78.65 प्रतिशत रहा है। जिसमें से 83.08 प्रतिशत बालिकाएं और 73.24 प्रतिशत बालक पास हुए हैं। कोरबा जिले में दसवीं की परीक्षा में छह हजार 471 बालक और सात हजार 886 बालिकाएं शामिल हुई थीं। जिसमें से चार हजार 740 बालक और छह हजार 552 बालिकाएं पास हुई हैं। जिले में दो हजार 59 छात्र और तीन हजार 303 छात्राओं को मिलाकर कुल पांच हजार 362 विद्यार्थी दसवीं की परीक्षाओं में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। द्वितीय श्रेणी में पास होने वाले पांच हजार 479 विद्यार्थियों में दो हजार 442 छात्र और तीन हजार 037 छात्राएं हैं। तृतीय श्रेणी में जिले के 451 विद्यार्थी पास हुए हैं। जिनमें 212 बालिकाएं और 239 बालक हैं। सात सौ 82 विद्यार्थियों को पूरक मिला है जिनमें 383 छात्र और 399 छात्राएं शामिल हैं।

बारहवीं में दो हजार 674 प्रथम श्रेणी में आये
जिले से कक्षा बारहवीं की परीक्षा में कुल दस हजार 188 विद्यार्थी शामिल हुए थे जिनमें चार हजार 523 बालक और पांच हजार 665 बालकाएं थीं। इनमें से सात हजार 992 विद्यार्थियों ने परीक्षा में सफलता हासिल की है। इस वर्ष चार हजार 712 बालिकाएं और तीन हजार 280 बालक बारहवीं की कक्षा में पास हुए हैं। बारहवीं की परीक्षा में इस वर्ष बालिकाओं का सफलता प्रतिशत 83.19 रहा जबकि 72.51 प्रतिशत बालक परीक्षा में पास हो सके। एक बालिका का रिजल्ट अपरिहार्य कारणों से रोका गया है। जिले में 980 बालक और एक हजार 694 बालिकाओं को मिलाकर दो हजार 674 विद्यार्थी बारहवीं की परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण होने वाले पांच हजार 035 विद्यार्थियों में दो हजार 909 बालिकाएं और दो हजार 126 बालक शामिल हैं। एक सौ चैहत्तर बालक और 109 बालिकाओं के साथ 283 विद्यार्थियों ने तृतीय श्रेणी में बारहवीं की परीक्षा पास की है। इस साल की बारहवीं की परीक्षा में एक हजार 316 विद्यार्थियों में से 679 बालकों और 637 बालिकाओं की सप्लीमेंट्री आई है। इस साल बारहवीं कक्षा में गृह विज्ञान संकाय में जिले का रिजल्ट 100 प्रतिशत रहा है। जिले में कला संकाय में कुल रिजल्ट 80.77 प्रतिशत, विज्ञान संकाय में 75.98 प्रतिशत, वाणिज्य संकाय 77.55 प्रतिशत, कृषि संकाय में 89.94 प्रतिशत, ललित कला संकाय में 16.66 प्रतिशत रहा।


24-Jun-2020 12:27 PM

 12वीं में फरहीन राज्य में 7वीं, 10वीं में अंजलि व वर्षा 9वीं
'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा, 24 जून।
कक्षा दसवीं एवं बारहवीं के परीक्षा परिणामों में कोरबा जिले में बालिकाओं ने फिर बालकों से बेहतर प्रदर्शन किया है। दसवीं कक्षा में 55.41 प्रतिशत और बारहवीं कक्षा में 83.19 प्रतिशत बालिकाओं ने सफलता हासिल की है। 

दसवीं कक्षा का जिले में औसत परिणाम 78.65 प्रतिशत रहा है। बारहवीं कक्षा में कुल शामिल हुए विद्यार्थियों में से 78.45 प्रतिशत विद्यार्थी सफल हुए हैं। पूरे राज्य में दसवीं कक्षा के परिणाम में इस वर्ष कोरबा जिले ने पिछले वर्ष की तुलना में छह पायदानों की छलांग लगाई है।  जिले के तीन विद्यार्थियों ने प्राविण्य सूची में स्थान बनाया है। 

कक्षा बारहवीं में कोरबा के बालको नगर स्थित एमजीएम हायर सेकेण्डरी स्कूल की छात्रा फरहीन कुरैशी ने सातवां स्थान प्राप्त किया है। फरहीन ने यह स्थान 95.06 प्रतिशत अंक लाकर बनाया है। वहीं कक्षा दसवीं में ब्लू वर्ड स्कूल की छात्रा कुमारी अंजलि शर्मा और निर्मला स्कूल की छात्रा वर्षा डे ने 97.67 प्रतिशत अंक लाकर संयुक्त रूप से नौवां स्थान प्राप्त किया है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल सहित जिला प्रशासन के सभी अधिकारियों ने दसवीं तथा बारहवीं की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए विद्यार्थियों को अपनी बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। 

 


24-Jun-2020 12:16 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा। मॉर्निंग वॉक पर निकली युवती से तीन युवकों ने न केवल छेड़छाड़ की बल्कि इस हरकतों की मोबाइल पर वीडियो भी तैयार कर लिया गया। युवती विरोध करती रही पर  युवक छेड़छाड़ करते रहे। इतना ही नही  युवकों ने वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। पीडि़ता की शिकायत पर पुलिस ने मंगलवार को तीनों आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना  31 मई की तड़के करीब पांच बजे की है। युवती सामान्य दिनों की भांति मॉर्निंग वाक के लिए निकली थी। इस बीच तीन युवक उसका पीछा करने लगे। देखते ही देखते तीनों युवक उसके नजदीक आ गए और चुनरी खींचने लगे। हाथ में रखे मोबाइल से वीडियो बनाते हुए अश्लील हरकतें करने लगे। युवती काफी डर गई थी, बावजूद इसके उसने इसका विरोध किया और किसी तरह घर पहुंची। उसने परिजनों को इस घटना की जानकारी दी। 

इस बीच सोशल मीडिया में आरोपितों ने वीडियो अपलोड कर दिया। इस घटना की शिकायत रामपुर स्थित अजाक थाना में की गई। आरोपियो के खिलाफ धारा 341, 354, 354 क व एससी-एसटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जांच शुरू की गई। फरार हो गए आरोपियों की तलाश की गई और उन्हें संभावित ठिकानों में दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया गया। इसके लिए पुलिस ने साइबर सेल की मदद लेकर लोकेशन ट्रेस किया। गिरफ्तार किए गए आरोपितों को जेल दाखिल करा दिया गया है।

 


24-Jun-2020 12:12 PM

'छत्तीसगढ़'संवाददाता
कोरबा, 24 जून। सुअर मारने जंगल में लगाए गए करंट की चपेट में आने से एक प्रवासी मजदूर की मौत के मामले में पुलिस ने मंगलवार को  चार आरोपी को गिरफ्तार किया है। प्रवासी मजदूर अपने परिवार के साथ उत्तरप्रदेश से कोरबा लौटा था और चोरी-छिपे रात के समय अपने  गांव जा रहे थे। 

घटना उरगा थाना के अंतर्गत आने वाले गांव भैसामुड़ा में शनिवार की रात दो बजे हुई थी। भैसामुड़ा के कुररिहापारा में रहने वाले दिलहरण धनवार (30), पत्नी सुमित्रा (28), बेटी स्वेता, मामा लक्ष्मी नारायण (22), मामी दिलवाई धनवार (19) उत्तर प्रदेश के प्रयागराज ईंटभ_ा में काम करने गए थे। बस से बिलासपुर आने के बाद वहां से ऑटो रिक्शा कर जिले के बॉर्डर कनकी बैरियर पहुंचे थे। यहां पुलिस कर्मियों ने उन्हें रोक लिया और एक मालवाहक वाहन में बिठाकर तरदा चरंटाइन सेंटर भेज दिया। माध्यमिक शाला भवन चरंटाइन सेंटर की बजाय सभी मजदूर गलती से हाईस्कूल भवन चले गए और ताला बंद मिला। इससे परेशान मजदूर देर रात दो बजे जंगल मार्ग से लुक-छिपकर गांव लौट रहे थे। घर से ठीक आधा किलोमीटर पहले सूअर मारने के लिए कुछ लोग करंट बिछा रखे थे। अंधेरा होने के कारण दिलहरण देख नहीं पाया और करंट की चपेट में आने से मौके पर उसकी मौत हो गई। बच्ची श्वेता गोद में थी, उसे दिलहरण ने दूर फेंक दिया और वह बाल-बाल बच गई। 

उरगा पुलिस इस मामले अज्ञात आरोपितों के खिलाफ धारा 304, 34 तथा वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत मामला पंजीबद्ध कर विवेचना कर रही थी। घटना स्थल भैसामुड़ा कुररिहापारा से लगा हुआ था, इसलिए प्रांरभिक तौर पर गांव के ही कुछ लोगों पर पुलिस को शंका थी। 

संदेह के आधार पर चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ किया गया तो उन्होंने जंगली जानवर का शिकार करने 11 केवी तार से करंट लगाना स्वीकार किया। पकड़े गए आरोपितों में छतराम धनुवार (40), सिदार सिंह  (28), रारम प्रसाद  धनुवार (45) तथा मतराम धनुवार (45) शामिल हैं। आरोपितों की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त काले रंग का कई जगह से कटा बिजली तार लंबाई 70.5 इंच एवं पुराना जंग लगा 170 मीटर लंबा जीआइ तार बरामद किया गया है। सभी को न्यायिक रिमांड पर भेज दिया गया। 

 


24-Jun-2020 12:06 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता
कोरबा, 24 जून।
एक नवविवाहिता ने खुद को कमरे में बंद कर आग लगा ली। चीख पुकार मचने के बाद घरवालों को घटना की जानकारी मिली। पुलिस को सूचना देने के साथ ही उसे अस्पताल ले जाया गया वहा उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।सूत्रों के मुताबिक एक साल पहले सौतेली मां ने शारीरिक और मानसिक रूप से नि:शक्त युवक के साथ उसकी शादी कर दी थी। वह लगातार मायके वापस जाने की जिद कर रही थी, पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। इससे परेशान होकर  उसने मंगलवार को यह आत्मघाती कदम उठाया। 

मूलत: जांजगीर-चांपा जिले की रहने वाली सुनीता यादव (20) का विवाह 2019 में सिंचाई कॉलोनी दर्री निवासी नरेश यादव से हुआ। बताया जा रहा है कि सुनीता किसी और से शादी करना चाहती थी, पर उसकी सौतेली मां ने मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर नरेश के साथ शादी कर दी। इसे लेकर वह बेहद व्यथित थी। बावजूद उसके विवाह के बाद से ससुराल का पूरा कामकाज करती थी। आज सुबह उसकी सास ने बर्तन साफ किए। इसके बाद चाय बनाने के बारे में जानकारी ली। 

बहू ने यह काम करने की बात कही। कुछ देर बाद वह अपने कमरे में चली गई और खुद को भीतर से बंद कर लिया। कुछ देर बाद वहां से चीख सुनाई दी। परिवार के एक सदस्य ने सुनीता की सास को यह जानकारी दी। इसके बाद दरवाजा तोड़कर किसी तरह आग की लपटों की घिरी सुनीता को बचाकर जिला अस्पताल दाखिल कराया गया। यहां कुछ ही देर में उसने दम तोड़ दिया।  पुलिस मर्ग का मामला कायम कर जांच पड़ताल कर रही।


21-Jun-2020 5:38 PM

'छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 21 जून। एक नाबालिग के साथ  दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने वाले आरोपी विवाहित युवक को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल दाखिल किया है। नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म का खुलासा तब हुआ जब वह गर्भवती हो गई। पीडि़ता कोरबा के बाल कल्याण समिति की अभिरक्षा में है।

मामला कटघोरा थाना क्षेत्र का है। मामले का खुलासा करीब एक माह पूर्व तब हुआ था जब उसकी तबियत एकाएक बिगडऩे लगी। पिता ने जब बेटी से कड़ाई से पूछताछ की तब मालूम हुआ कि वह पांच माह की गर्भवती है। यह  सुनकर पिता पर दुखो का पहाड़ टूट पड़ा। इसी दौरान पिता की भी तबियत बिगड़ गई और उसे जिला अस्पताल में दाखिल कराया गया जहां उसने इलाज के दौरान बीते 8-9 जून की दरमियानी रात दम तोड़ दिया।

इस मामले की जानकारी बाल कल्याण समिति की प्रमुख श्रीमती मधु पांडेय को लगी तो उन्होंने  कटघोरा के थाना प्रभारी अविनाश सिंह से चर्चा की और इस सम्बंध में विवेचना प्रारंभ कर पीडि़ता को फौरन कोरबा भेजने के निर्देश दिए। कोरबा में पीडि़ता की काउंसलिंग कराई गई। जब उससे बयान लिया गया तो उसने आरोपी का नाम बताया। धारा 164 के तहत भी पीडि़ता का बयान कलमबद्ध किया गया। 

बाल कल्याण समिति ने एक प्रतिवेदन कटघोरा पुलिस को प्रेषित किया था जिस पर कार्रवाई करते हुए आरोपी को उसके घर से गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपी से कड़ाई से पूछताछ  की तो उसने अपना जुर्म कबूल लिया। पुलिस ने आरोपी पर धारा 376 व पास्को एक्ट के तहत जुर्म दर्ज कर न्यायालय मे पेश किया गया। न्यायालय ने आरोपी को जेल भेज दिया।


21-Jun-2020 5:37 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोरबा, 21 जून। हाथियों की  मौत के मामले में पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर ने सीएम से इस्तीफा की मांग की है। कंवर ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अधिकारियों के तबादले से हाथियों की मौत का सिलसिला नहीं रुकने वाला है।

एलिफेंट कॉरीडोर की योजना भी ठंडे बस्ते में चली गई है। हाथियों के आवास में भोजन-पानी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं की गई है। यही वजह है जो उनकी लगातार मौत हो रही है। छत्तीसगढ़ में हाथियों की मौत की अब तक सात घटनाएं सामने आ चुकी हैं।  हाथियों की मौत के मामलों में की जांच के बाद अलग-अलग वजह सामने आई है। इसे लेकर कंवर ने सरकार को घेरते हुए कहा है कि भले ही प्रदेश सरकार ने कार्रवाई के तौर पर एक डीएफओ का तबादला कर दिया है, पर यह कोई हल नहीं है। एलिफेंट कॉरीडोर की लेमरू में प्रस्तावित योजना लंबे समय से लंबित है। इसे लेकर मैदानी स्तर पर अब तक किसी प्रकार का काम नहीं किया गया। जंगल हाथियों का घर है, जहां वे लगातार भोजन, पानी व सहवास के लिए विचरण करते रहते हैं। जंगल में उनके लिए आहार व सुरक्षा की समुचित व्यवस्था एवं संसाधनों की कमी हो रही है। इस कमी को पूरा करने की दिशा में कवायद करने की बजाय सरकार अफसरों के तबादले कर खानापूर्ति कर रही है।