छत्तीसगढ़ » महासमुन्द

Date : 16-Oct-2019

कलेक्टर के मार्गदर्शन में खेल एंव युवा कल्याण विभाग द्वारा गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर होगा युवा महोत्सव 

महासमुन्द, 15 अक्टूबर। कलेक्टर सुनील कुमार जैन के मार्गदर्शन में खेल एंव युवा कल्याण विभाग द्वारा युवाओं को विशेष अवसर एवं मंच प्रदान करने, सांस्कृतिक गतिविधियों से युवाओं को जोडऩे एवं उनकी प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से स्वामी विवेकानंद की जयंती के उपलक्ष्य में युवा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा।  कलेक्टर श्री जैन ने जिला खेल अधिकारी को इस आयोजन के लिए जिले के प्रत्येक विकासखण्ड में बैठक आयोजित कर तिथियां निर्धारित करने के सााि आवश्यक तैयारी के निर्देश दिए है। जिला खेल अधिकारी श्री मनोज धृतलहरे ने बताया कि युवा महोत्सव का आयोजन तीन स्तरों पर आयोजित होगा। जिसमें विकासखण्ड स्तरीय, जिला स्तरीय, राज्य स्तरीय आयोजन होंगे। विकासखण्ड स्तर पर युवा महोत्सव का आयोजन 15 अक्टूबर से 15 नवम्बर के मध्य एवं जिला स्तर पर 15 नवम्बर से 10 दिसम्बर  के बीच होगा।

 


Date : 16-Oct-2019

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत महासमुंद के विभिन्न वार्डों में कैम्प लगाकर महिलाओं एवं पांच से 59 माह तक के बच्चों का एचबी टेस्ट किया

महासमुन्द, 15 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नयापारा महासमुन्द के द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.पी.वारे एवं मेडिकल ऑफिसर डॉ. अनिमेश राय के मार्गदर्शन से नगर के विभिन्न वार्डों में कैम्प लगाकर महिलाओं एवं पांच से 59 माह तक के सभी बच्चों का एचबी टेस्ट किया जा रहा है। इसके तहत 14 अक्टूबर 2019 सोमवार को वार्ड नम्बर-7 दिलीप सिंह जुदेव वार्ड में आरएचओ श्रीमती मालती पालकर, कु. सुधा नायक, कु.चन्द्रमुखी साव तथा वार्ड नम्बर-15, महामायापारा में आरएचओ श्रीमती गीता चैहान, कु.हेमकुमारी दीवान और वार्ड नम्बर-23 सुभाष नगर में आरएचओ श्रीमति बिन्नी शर्मा, कु.मनीषा धु्रव और स्टाफ नर्स श्रीमती फाल्गुनी ठाकुर द्वारा एचबी टेस्ट कार्य सम्पन्न किया गया । सभी वार्डो में कुल 229 महिलाओं और 133 बच्चों का एच बी टेस्ट किया गया जिसमें 120 महिला एनिमिक और 78  बच्चें एनिमिक पाये गये। मेडिकल ऑफिसर डॉ. अनिमेश राय द्वारा सभी वार्ड में निरीक्षण कर लोगों को खानपान समय पर करने एवं पौष्टिक आहार लेने का सुझाव दिया साथ ही नशामुक्ति पर जोर देते हुए स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का सलाह दी गयी।

 


Date : 16-Oct-2019

कलेक्टर जनदर्शन में ग्रामीणों, प्रतिनिधि मंडल एवं नागरिकों ने कलेक्टर से मुलाकात कर अपनी समस्याओं एवं मांगों से अवगत कराया, अधिकारियों को आवेदनों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
महासमुन्द, 15 अक्टूबर
। जिले के दूर-दराज क्षेत्रों से आए ग्रामीणों, प्रतिनिधि मंडल एवं नागरिकों ने कलेक्टर सुनील कुमार जैन से मुलाकात कर अपनी समस्याओं एवं मांगों से अवगत कराया। कलेक्टर ने सभी आवेदनों का अवलोकन कर तत्काल संबंधित अधिकारियों को आवेदनों पर समय-सीमा के भीतर निराकरण कर नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए। कलेक्टर जनदर्शन में आज विभिन्न विभागों से संबंधित 113 समस्याएं, मांग एवं शिकायत से सबंधी आवेदन प्राप्त हुए। 

जनदर्शन में बागबाहरा विकासखण्ड के ग्राम चोरभठ्ठी के ग्रामीणों ने चोरभठ्ठी वनग्राम को राजस्व गांव परिवर्तित करने के लिए अनुरोध किया। उन्होंने बताया कि वनग्राम से राजस्व ग्राम में परिवर्तित नही होने के कारण उन्हें विभिन्न शासकीय योजनाओं का लाभ ठीक तरह से नही मिल रहा है। इस पर कलेक्टर श्री जैन ने उनके आवेदन के संबंध में यथासंभव निराकरण करने की बात कही। इसी प्रकार बसना विकासखण्ड के ग्राम जबलपुर निवासी श्री जयपाल प्रधान ने अपने खेत में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत मत्स्य पालन के लिए तालाब निर्माण की स्वीकृति दिलाने के आवेदन सौंपा। ग्राम अमोरा के दयालदास मानिकपुरी ने अपने को गांव में कोटवार नियुक्त करने, ग्राम लभराकला के पोखराज निषाद ने नि:शक्तजन पेंशन राशि दिलाने, ग्राम अछरीडीह के राकेश कुमार जांगड़े ने छात्रवृत्ति उपलब्ध कराने, विकासखण्ड पिथौरा के दीपक डड़सेना ने अवैध निर्माणकर्ताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने, स्थानीय सुभाष नगर महासमुन्द निवासी बसंत डोंगरे ने उनके पुत्र की मृत्यु सर्पदंश से होने पर तथा नयापारा, महासमुन्द के तनुजा दुबे ने उनके पति की मृत्यु कुएं में डुबने से होने पर आर्थिक सहायता राशि दिलाने, ग्राम मालीडीह के सूरज कुमार डोंगरे एवं ग्राम खुसरूपाली के अभय राम साहू ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान दिलाने के लिए आवेदन सौंपा। 

 


Date : 15-Oct-2019

मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना, अस्पताल पहुंचा गांव
छत्तीसगढ़ संवाददाता  
महासमुन्द, 15 अक्टूबर।
मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना जहां, बुजुर्गों के लिए वरदान साबित हो रही है, वहीं, व्यस्त रहने वाले बच्चे, किशोर, जवान और अधेड़ों के लिए किसी उपहार से कम नहीं। स्वास्थ्य सेवाओं में घर पहुंच उपचार की अनूठी पहल हाट-बाजार योजना में स्वास्थ्य संसाधनों का अदभुत विकेंद्रीकरण देखने को मिल रहा है। दौरे में जब विभागीय अधिकारी व्यवस्था आंकलन करने देवरी और कमरौद ग्राम में लगे बाजार के बीचों-बीच पहुंचे तो ईलाज कराने पहुंचे लोगों का नजारा अविस्मरणीय रहा।

हाट-बाजार योजना में एक ओर ग्राम कमरौद में 78  वर्षीय बुजुर्ग मरीज लक्ष्मण यादव महिला बहुद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता लक्ष्मी रात्रे के सिर पर हांथ रख कर आशीर्वाद देते मिले तो कुछ ने सहायक चिकित्सा अधिकारी डॉ. एएन आराधना को अपनत्व सेवा व दवा वितरण के लिए धन्यवाद किया, वहीं दूसरी ओर ग्राम देवरी के हाट बाजार में बड़ी संख्या में ऐसे लोग मिले, जिन्हें सब्जी लेते समय ही ग्रामीण स्वास्थ्य कार्यकर्ता रूपेश चक्रधारी, अविनाश कुमार सहित रश्मि यादव की टीम ने उनके परेशानी पूछ कर सहायक चिकित्सा अधिकारी डॉ. संकेत चन्द्राकर के पास उपचार करवाने के लिए पहुंचाया। 

70 वर्षीय भारती साहू ने कहा कि में हा कान ले कम सुन्थों, अउ मोर इहां कोई नी हे। बडख़ा हस्पताल जाए बर साधन भी नी रिहिस, अतने में मंडी म मोला अस्पताल के डाक्टरिन इलाज कराए बर जौनी अंग ले हांथ पकड़ के ले गिस, अउ मुफत म मलहम-पट्टी भी करा दिस।इस तरह के दर्जनों प्रकरणों में लोगों ने स्वास्थ्यकर्मियों को उन्हें बुला-बुला कर उपचारित करने के लिए धन्यवाद दिया।

उल्लेखनीय है कि कलेक्टर सुनील कुमार जैन के निर्देश तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसपी वारे के मार्गदर्शन में जिले के समस्त हाट-बाजारों में नियमित रूप से उल्टी, दस्त, सर्दी, बुखार, खांसी, रक्तचाप, मधुमेह, सिर दर्द, बदन दर्द एवं हृदय एवं किडनी संबंधी विकारों सहित तंबाकू व अन्य नशा-मुक्ति इत्यादि की नि:शुल्क परामर्श, जांच, उपचार व दवा वितरण की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार ने बताया कि योजना अंतर्गत अब तक तकरीबन 8 6  हाट बाजारों में लगभग सवा चार हजार से अधिक मरीजों को उपचारित किया जा चुका है। आने वाले समय में भी यह सुविधाएं जन-सामान्य के लिए निरंतर उपलब्ध रहेंगी। 

 


Date : 15-Oct-2019

माजिसा एग्रो प्रोडक्टर प्राइवेट लिमिटेड के संचालक ने किसानों के ब्लैक राईस फसल खरीदने के बाद 9 जिलों के किसानों का 80 लाख रुपए नहीं दिया, एसपी से शिकायत

महासमुन्द, 15 अक्टूबर। महासमुन्द जिले के किसानों ने सोमवार को एसपी को ज्ञापन सौंप कर शिकायत की है कि माजिसा एग्रो प्रोडक्टर प्राइवेट लिमिटेड के संचालक अभिषेक बाफना ने किसानों के ब्लैक राईस फसल खरीदने के बाद उनकी लगभग 70 से 8 0 लाख रुपए कीमत अदा नहीं की है। किसानों ने एसपी को जानकारी दी कि कंपनी द्वारा दिये गये 4 लाख रुपए का चेक बाउंस हो गया है। 

गौरतलब है कि कल महासमुन्द जिले सहित प्रदेश के लगभग 9 जिलों के किसान महासमुन्द पहुंचे थे और जनपद सदस्य योगेश्वर चन्द्राकर की अगुवाई में पुलिस अधीक्षक को जानकारी देते हुए बताया कि ग्राम लभरा में वर्ष 2018  के जून माह में अभिषेक बाफना ने किसानों के साथ मिटिंग कर उन्हें कहा था कि वह ब्लैक राईस की फसल ले जिसे वह 26  सौ रुपए प्रति क्विंटल खरीदेगा। किसानों ने श्री बाफना के बातों पर ब्लैक राईस फसल लेने की हामी भरी और अभिषेक  बाफना की कम्पनी ने ही किसानों को बीच बेचा। किसानों ने ब्लैक राईस की फसल ली और फसल अच्छा भी हुआ। किसानों ने श्री बाफना के कहे मुताबिक उसे 26  सौ प्रति क्विंटल की दर से ब्लैक राईस की फसल बेची। छत्तीसगढ़ के 9 जिलों के किसानों ने श्री बाफना की कम्पनी को 3 करोड़ 12 लाख रुपए कीमत का धान बेचा, उस वक्त किसानों को अभिषेक कुछ राशि का भुगतान किया और बकाया राशि बाद में देने का वादा किया था। किसानों ने भरोसा करते हुए श्री बाफना की बातों पर हामी भरी। किसानों को दिये गये चेक भी बाउंस हो गये है। 

कल एसपी को शिकायत करने वालों में महासमुन्द, धमतरी, गरियाबंद, रायपुर, बेमेतरा, दुर्ग के किसान उपस्थित थे। मामले में माजिसा एग्रो प्रोडक्टर प्राइवेट लिमिटेड के अभिषेक बाफना का कहना है कि किसानों के साथ जो भी एग्रीमेंट हुआ है, उसका दस्तावेज लेकर आएं. मेरा चुेक गुम हो गया है। इसकी शिकायत मैंने बैंक में की है। चेक बाउंस हुआ है तो किसानों को कोर्ट जाना चाहिए। 

 


Date : 15-Oct-2019

कलेक्टर की उपस्थित में सुराजी गांव योजना, जिला स्तरीय एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
महासमुन्द, 15 अक्टूबर।
राज्य शासन की महत्वपूर्ण सुराजी गांव योजना के तहत जिला एवं विकासखण्ड स्तर के अमलों के बेहतर समझ एवं जानकारी हेतु जिला स्तर पर एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन सोमवार को जिला पंचायत महासमुन्द के सभाकक्ष में आयोजित किया गया।  प्रशिक्षण सह कार्यशाला में कलेक्टर  सुनील कुमार जैन, राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर मंजीत कौर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉं. रवि मित्तल विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यशाला में मास्ट्रर ट्रेनर द्वारा राज्य शासन से जारी गौठान संचालन, प्रबंधन एवं प्रशिक्षण नियमावली के संबंध में विस्तार से बताया गया। प्रशिक्षण में ग्राम गौठान समिति के गठन एवं प्रबंधन, समिति के कार्य, समिति की बैठक, चरवाहा एवं चरवाही, चारागाह, सूखे चारे की व्यवस्था, पशु स्वास्थ्य, लावारिस पशुओं के लिए व्यवस्था, आय के स्त्रोत तैयार करना, गौठान में संधारित की जाने वाली प्रमुख पंजियां, ग्राम गौठान समिति का लेखा प्रबंधन, ग्राम सभा की भूमिका, ग्राम पंचायत की भूमिका, शासकीय विभागों की भूमिका आदि के संबंध विस्तार से जानकारी दी गई।    

जिला पंचायत में आयोजित इस कार्यशाला में ग्राम गौठान समिति के गठन एवं प्रबंधन के बारे में बताया गया कि समिति का अध्यक्ष उसी ग्राम का नागरिक होगा। जिसका चयन, ग्राम सभा के द्वारा प्रस्तावित एवं प्रभारी मंत्री के द्वारा अनुमोदित होगा। समिति की बैठक माह में दो बार होना अनिवार्य है। समिति द्वारा गौठान की वार्षिक कार्ययोजना तैयार की जावेगी। समिति का कार्यकाल एक वर्ष का होगा। 

 


Date : 15-Oct-2019

कलेक्टर जैन के निर्देश पर स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम का सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में समीक्षा बैठक 

महासमुंद, 15 अक्टूबर। कलेक्टर सुनील कुमार जैन के निर्देश पर स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम विकासखंड बागबाहरा पहुंचकर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में आयोजित समीक्षा बैठक में शामिल हुए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे ने विभागीय स्वास्थ्य योजनाओं की क्रियान्वयन के संबंध में जानकारी प्राप्त कर आंकलन किया और कार्य सुधार के लिए निर्देश दिए। कोमाखान क्षेत्र के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में निरीक्षण के दौरान अब तक प्राप्त नवीनतम आंकड़ों में कुल 8 6  प्रसव व प्रतिमाह 15 से अधिक प्रकरणों में सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के लिए स्थानीय स्वास्थ्यकर्मियों की तारीफ की। 

खंड चिकित्सा अधिकारी को लैब व्यवस्था सुधार सहित आवश्यक दवाओं का पर्याप्त स्टॉक रखने के निर्देश दिए। इसके अलावा अधिकारियों की टीम ने कोमाखान में संचालित राजेश पैथोलॉजी लैब का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान टीम ने संचालित पैथोलॉजी लैब अवैधानिक रूप से संचालित पाया गया। इस पर अधिकारियों को पैथोलॉजी लैब को तत्काल बंद कराने के निर्देश दिए गए।

 


Date : 15-Oct-2019

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के अध्यक्ष अंकित के नेतृत्व में महात्मा गांधी के छाया चित्र में माल्यार्पण कर गांव-गांव गांधी विचार पदयात्रा शुरू हुई

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
बागबाहरा, 15 अक्टूबर।
बागबाहरा ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के अध्यक्ष अंकित बागबाहरा ने बताया कि गांधी विचार पदयात्रा की शुरुआत बागबाहरा ब्लॉक यात्रा प्रभारी अरविंदर छाबड़ा के नेतृत्व में महात्मा गांधी के छाया चित्र में माल्यार्पण कर शुरू हुई। पदयात्रा सिर्री, पठारीमुडा होती हुई अनवरपुर पहुंची। 

अरविंदर छाबड़ा व अंकित बागबाहरा ने महात्मा गांधी के जीवन पर व कांग्रेस सरकार की योजनाओं पर विस्तार से अपनी बातें रखी और कहा कि सुराज व सुशाशन का सपना आज जाके पूरा हुआ है जब मुख्यमंत्री की सरकार ने इसे चरितार्थ किया है। 

पदयात्रा में अनवरपुर में नवनिर्मित पंचायत भवन का लोकार्पण किया। पदयात्रा में 6  गांव लगभग 14.50 किलोमीटर की यात्रा सम्पन्न हुई। यात्रा में मुख्य रूप से प्रभारी अरविंदर छाबड़ा, बालेश साहू, सरपंच चंद्रिका दीवान, लीराबासी हीरासिंह दीवान, सत्यभामा लोकनाथ पटेल, सरपंच टेनु राम साहू, राजेश राजपूत, शहजान पाशा, सुनील बेवहार, गोकुल दीवान, लोकनाथ पटेल, महेंद्र पटेल, दयाराम चक्रधारी, राजौ यादव, चम्पाबाई, देवकुमारी, रामबाई, गणेशीबाई, अमरप्रीत छाबड़ा, शेख एजाज खान, चैतराम दीवान, तुलसी बंजारे, भारत दीवान, रामरतन साहू, नीलकंठ पटेल, रामसिंग साहू, मोहन यादव, मनराखन साहू, सलिक राम चक्रधारी, प्रीताम दीवान सहित सैकड़ों की संख्या में ग्रामवासी व उपस्थित थे ।

 


Date : 15-Oct-2019

सूर्या नर्सिंग कॉलेज में जिला तंबाकू नशा-मुक्ति केंद्र दल ने वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित की

छत्तीसगढ़ संवाददाता  
महासमुन्द, 15 अक्टूबर ।
नोडल अधिकारी डॉ अनिरुद्ध कसार के मार्गदर्शन में शहर के सूर्या नर्सिंग कॉलेज में जिला तंबाकू नशा-मुक्ति केंद्र दल ने वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित की।

इस दौरान जिला सलाहकार अदीबा बट्ट की अगुआई में मनोवैज्ञानिक सलाहकार मेघा ताम्रकार ने उन्हें तंबाकू नशे के दुष्परिणाम बताए। अंतिम चरण में स्वास्थ्य विभाग के जिला कार्यक्रम  प्रबंधक संदीप ताम्रकार ने 2 विद्यार्थियों को वॉलेंटियर चुना और एन्टी टोबैको बैच पहना कर टोबैको फ्री एजुकेशन इंस्टिट्यूट बनाने की जिम्मेदारी सौंपी और प्रतियोगिता में विजयी रहे विद्यार्थियों को प्रमाण पत्र, शील्ड, वाटर बॉटल और टिफिन बॉक्स देकर पुरस्कृत कर उत्साहवर्धन किया। साथ ही साथ प्राचार्य सहित शिक्षकों को कोटपा अधिनियम के चेतावनी बोर्ड दे कर नियमों का परिपालन करने को कहा। इस पर कॉलेज प्रबंधन ने बोर्ड चस्पा कराया।

डीपीएम श्री ताम्रकर ने विद्यार्थियों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लेने प्रेरित करते हुए कहा कि अब सर्दी, खांसी, बुखार यहां तक कि कैंसर और नशा उन्मूलन के लिए कहीं और भटकने की जरूरत नहीं है। हर घर में हर हाँथ में डॉक्टर उपलब्ध है। बस आप 104 में फोन मिलाइए, चैबीसों घंटे उपचार उपलब्ध मिलेगा। साथ ही साथ उन्होंने धर्म और नैतिकता के आदर पर मेहनत व लगन से आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया। कहा कि अगर आज कष्ट में हो तो कल आनंद की अनुभूति जरूर होगी। बशर्ते आप स्वयं से अच्छाई और सच्चाई से जीने का वायदा करें।


Date : 15-Oct-2019

हाट-बाजारों में नशा-मुक्ति की गूंज, बच्चों ने दी सीख
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
महासमुन्द, 15 अक्टूबर ।
तंबाकू नियंत्रण के लिए जागरूकता लाने में प्रदेश स्तर पर अव्वल आए जिलों में से एक है महासमुंद यहां विद्यालयों, महाविद्यालयों एवं शासकीय दफ्तरों में कार्यशालाओं सहित दुर्गम ग्रामीण अंचल के हाट-बाजारों में भी दस्तक दी जा रही है। इसके तहत विगत शनिवार एवं रविवार के दिन गैर संचारी रोग के नोडल अधिकारी डॉ अनिरुद्ध कसार के मार्गदर्शन में मनोवैज्ञानिक सलाहकार मेघा ताम्रकार एवं शासकीय सामाजिक कार्यकर्ता असीम श्रीवास्तव की टीम ने विकासखण्ड महासमुन्द के ग्राम पंचायत झलप और खट्टी सहित बागबाहरा विकासखंड के ग्राम कमरौद एवं देवरी के हाट बाजारों में तंबाकू नियंत्रण के लिए जागरूकता अभियान चलाया।

 जिला सलाहकार अदीबा बट्ट की अगुआई में हुए इस अभ्यास के दौरान बाजारों में सब्जी व राशन खरीदने आए बच्चे-बूढ़े-जवान सभी को प्रवेश द्वार पर ही फेस-टू-फेस मौखिक और पाम्पलेट, बैनर व पोस्टर के जरिए लिखित में जानकारी दे कर तंबाकू सेवन के दुष्परिणाम बताए गए। साथ ही साथ बाजार भ्रमण कर कोटपा अधिनियम 2003 के तहत जगह-जगह चेतावनी बोर्ड चस्पा किए गए, ताकि सेवनकर्ता एवं विक्रेताओं दोनों को सार्वजनिक क्षेत्र में धूम्रपान न करने व नाबालिगों को तंबाकू उत्पादों की बिक्री न किए जाने के लिए निर्धारित प्रावधानों के बारे में जानकारी दिया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसपी वारे द्वारा राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के जिला स्तरीय संयुक्त दल को अवकाश के दिन भी अच्छे समन्वय के लिए प्रोत्साहित किया गया।

इस दौरान कुछ जुझारू बच्चेंजिला तंबाकू नशा मुक्ति दल के साथ हो लिए। हम उम्र बच्चों से जानकारी साझा करते हुए बड़े-बुजूर्गों को भी समझाइश दी। बच्चों ने पालकों को सुधारने आईईसी सामग्री ली।

स्वेच्छा से एन्टी टोबैको वॉलेंटियर बने और स्वास्थ्य संबंधी शिक्षाप्रद वीडियो बनवाते हुए तंबाकू से दूर रहने की शपथ लेकर सभी से मासूमियत भरी विनम्र अपील की।

 


Date : 15-Oct-2019

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर गांव-गांव में गांधी विचार पदयात्रा
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
महासमुन्द, 15 अक्टूबर।
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर गांधी विचार पदयात्रा का आयोजन जिले के प्रत्येक विकासखण्ड में किया जा रहा है। इसी तारतम्य में जिले के अन्य विकासखण्डों के समान सरायपाली विकासखण्ड के गांव-गांव में भी जनप्रतिनिधि पहुंचकर गांधी के आदर्श के साथ पदयात्रा में सहभागिता कर रहें है। विकासखण्ड मुख्यालय में गांधी पदयात्रा सहित लोंगों ने महात्मा गांधी के सिद्धांतों और देश हित के उद्देश्यों के साथ गांधी विचार पदयात्रा के महत्व से सभी को अवगत कराया। पदयात्रा के दौरान जनप्रतिनिधि विभिन्न ग्रामों और शहरी क्षेत्र के अलग-अलग वार्ड में भ्रमण कर रहे हैं। आज विकासखण्ड सरायपाली के ग्राम मुडि़पार सहित अन्य गांवों में सरायपाली विधायक श्री किस्मतलाल नन्द के नेतृत्व में लोगों ने बड़ी संख्या में गांधी विचार पदयात्रा में भाग लिया। 

उल्लेखनीय है कि गांधी जयन्ती के अवसर पर गांधी विचार पद यात्रा का शुभारंभ धमतरी जिला के कंडेल से प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा शुरू किया गया था जो अब पूरे प्रदेश में व्याप्त हो गया है। आज भवरपुर छुई पाली सरायपाली सहित  विकासखण्ड में गांधी विचार पदयात्रा के तहत ग्रामीणों को गांधी के आदर्शों से अवगत कराया गया।

 


Date : 14-Oct-2019

ननि चुनाव, भूपेश सरकार के फैसले के बाद सभी का गणित गड़बड़ाया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

महासमुन्द, 14 अक्टूबर। नगरीय निकाय चुनाव को लेकर छत्तीसगढ़ की सरकार के रुख से दोनों ही राष्ट्रीय राजनीकि पार्टियों के अध्यक्ष पद के दावेदारों के गणित बिगड़े हुए हैं। क्योंकि महासमुन्द में दोनों ही राजनीतिक पार्टियों भाजपा और कांग्रेस से अध्यक्ष पद के प्रबल दावेवारों के नाम लगभग तय हो गये थे और अपने-अपने तरीके से जनसम्पर्क कर चुनाव की तैयारियां भी संभावित प्रत्याशियों ने शुरू कर दी थी। दोनों ही राजनीतिक पार्टियों के कुछ अध्यक्ष पद के दावेदारों ने पार्टी से बगावत कर चुनाव लडऩे की तैयारी शुरू कर अपने-अपने समर्थकों की मिटिंग लेनी शुरू कर शहर के भीतर माहौल बनाना शुरू कर दिया था। लेकिन छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार के फैसले के बाद सभी गणित गड़बड़ा गया है। जिन सम्भावित अध्यक्ष पद के दावेदारों को टिकट मिलनी थी, उन्हें अब इस बात की चिन्ता सताने लगी है कि वह किस वार्ड से चुनाव लड़े और बड़े मतों के अंतर से जीत हासिल करे। वहीं पार्टी से बगावत करने वाले प्रत्याशियों को एक उम्मीद दिखाई दे रही है कि वे अब किसी तरह बाजी मार लेंगे। हकीकत तो यह है कि महासमुन्द के भाजपा और कांग्रेस में भारी गुटबाजी के चलते इस चुनाव में पार्षद प्रत्याशियों के टिकट वितरण में घमासान होने की बड़ी आशंका नजर आ रही है। पिछले 20 सालों से कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं जीत सका है वहीं भाजपा ने पिछले 20 वर्षों में एक बार ही भाजपा की टिकट से अध्यक्ष पद की सीट जीती थी। पिछले 15 सालों में नगर पालिका परिषद का चुनाव भाजपा के बागी प्रत्याशियों ने ही जीती और दोनों पार्टियों को मुंह की खानी पड़ी थी। हालांकि निर्दलीय जीतने के बाद राशि महिलांग और पवन पटेल ने भाजपा का दामन वापस थाम लिया था।

बता दें कि पिछले महीने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का महासमुन्द दौरा हुआ था। इस दौरान पत्रकारों ने सवाल किया था कि क्या इस वर्ष होने वाले नगरीय निकाय के चुनाव में पार्षद अध्यक्ष चुनेगें? इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि एक कोरी अफवाह है। शासन स्तर पर भी प्रत्यक्ष मतदान से अध्यक्ष और महापौर के चुनाव के लिए आरक्षण की प्रक्रिया शासन ने पूरी कर ली थी और प्रत्याशियों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी थी। अचानक राज्य सरकार के इस फैसले के बाद से माहौल बदल गया है। महासमुन्द नगर पालिका अध्यक्ष पर के लिए कांग्रेस पार्षद संजय शर्मा, हरबंश सिंग ढिल्लो और प्रकाश राव साकरकर के नाम सामने आये थे। वहीं भारतीय जनता पार्टी से वर्तमान नगर पालिका अध्यक्ष पवन पटेल, संदीप दीवान, प्रकाश चन्द्राकर के अलावा और कुछ पार्षदों और भाजपा कार्यकर्ताओं के नाम सामने आये थे लेकिन इन तीनों नामों पर विचार किया जा रहा था। इसके साथ ही यह भी माना जा रहा था कि भाजपा के इन तीनों नेताओं में पार्टी को टिकट नहीं मिलने से कोई ना कोई पार्टी से बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ेगा।

अब छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के बयान कि पार्षद ही अध्यक्ष चुनेंगे, इसके बाद शहर के भीतर राजनीति करने वाले और पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच अच्छी पकड़ रखने वाले नेताओं को इसका लाभ मिलेगा। इसके अलावा जो पार्टी की तरफ से अध्यक्ष बनने जायेगा उसकी जिम्मेदारी भी अब बढ़ गई। चूंकि उस प्रत्याशी को अपनी जीत के साथ-साथ बहुमत के लिए अन्य प्रत्याशियों की जीत पर भी निर्भर होना पड़ेगा साथ ही प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष पूरे उसे शहर के पूरे तीन वार्डो पर इस बात पर ध्यान देना होगा की कहीं कोई भीतर घात ना हो और पार्टी के प्रत्याशी की ही जीत हो। बहरहाल भाजपा कांग्रेस दोनों ही पार्टियों नेताओं के लिए यह परेशानी का सबब होने वाला है कि भीतरघात और गुटबाजी से हट कर नगरीय निकाय चुनाव में अच्छे नम्बर से अपने पार्टी की जीत कैसे तय करे। 


Date : 14-Oct-2019

हाथियों द्वारा मौत से बिफरे ग्रामीण, बैठक कर कलेक्टोरेट घेराव की चेतावनी

हाथी को मारें या कैद करें वरना काटेंगे जंगल-ग्रामीण

छत्तीसगढ़ संवाददाता

महासमुन्द, 14 अक्टूबर। पिछले शनिवार को कुकराडीह के एक 6 0 साल के बुजुर्ग को हाथी ने कुचल दिया। इस घटना के बाद से ग्रामीणों में काफ ी गुस्सा है। लगातार बैठकों का दौर शुरू हो गया है। अब तक बंदोरा, कुकराडीह और जोबा में बैठकें हो चुकी है। सभी ग्रामीण एकमत होकर 17 अक्टूबर को कलेक्टोरेट घेराव की चेतावनी दे रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि अगर 15 दिनों के भीतर समस्या का हल नहीं निकला तो वे जंगल ही काट डालेंगे। ग्रामीणों का कहना है कि तमाम मौतें केवल एक ही हाथी के जरिये हुई है। अत: इस हाथी को पागल घोषित कर मार दिया जाए या किसी पिंजरे आदि में बंद कर दिया जाए। इसके साथ ही इस क्षेत्र के दो जनप्रतिनिधि हाथी के हमले से बाल-बाल बचे। इस वक्त सिरपुर क्षेत्र में 58  गांव हाथी प्रभावित हैं, जिसमें सबसे अधिक प्रभावित 24 गांव हंै। बीते चार सालों में इन गांवों के 17 लोगों को हाथी ने कुचल कर मार डाला है।

बैठक में ग्रामीणों ने निर्णय लिया है कि उक्त हाथी पागल हो चुका है। अचानक जंगल से निकलता है और ग्रामीणों को भागने का मौका भी नहीं देता।  ऐसे स्थिति में ग्रामीण बेमौत मारे जा रहे हैं। ग्रामीणों ने कहा कि हाथी को या तो मार दिया जाए या फिर किसी ऐसे सुरक्षित जगह में उक्त हाथी को भेज दिया जाए जिससे ग्रामीण अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सकें। साथ ही ग्रामीणों ने मृतक के परिजनों को 10 लाख रुपए मुआवजा एक व्यक्ति को नौकरी तथा फसल मुआवजा प्रति एकड़ 25 हजार रुपए देने या ग्रामीणों की व्यस्थापन की मांग की है। ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर समस्या का जल्द ही समाधान नहीं निकाला गया तो यह आंदोलन उग्र हो जाएगा।

इस मामले में महासमुंद जनपद अध्यक्ष धरमदास महिलांग ने बताया कि वह भी हाथी के हमले से बाल-बाल बचा है। इस क्षेत्र के ग्रामीण हाथी के दहशत में जी रहे हैं। इसकी चिंता शासन-प्रशासन को कतई नहीं है। उन्होंने सख्त चेतावनी देते हुए कहा अगर समस्या का समाधान जल्द ही नहीं निकाला गया तो इस क्षेत्र में रहने वाले ग्रामीण जंगल काट देंगे। जिसकी जवाबदारी शासन-प्रशासन की होगी।

इसी तरह जनपद सदस्य योगेश्वर चंद्राकर ने कहा शनिवार को जो घटना कुकराडीह में हुआ, उसका आंखों-देखी गवाह मैं खुद हूं। अगर एक मिनट भी देखने में लेट हुआ होता तो हाथी का शिकार मंै होता। उन्होंने कहा इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों में भारी आक्रोश है। उन्होंने पुष्टि करते हुए कहा कि 17 अक्टूबर गुरुवार को 24 गांव के ग्रामीण कलेक्टोरेट का घेराव करेंगे। इस क्षेत्र के हाथी भगाओं संयोजक के रूप में विख्यात राधेलाल सिन्हा ने कहा कि शासन-प्रशासन के  रवैये से ग्रामीण परेशान हैं। 58  गांवों के लोग हाथी से प्रभावित हैं। लगातार हाथी भगाओ फसल बचाओ की टीम इस दिशा में पहल कर रही है। उन्होंने कहा अब तो गांवों में दहशत है। हाथी कब, कहां निकल जाए यह कहना मुश्किल है। इस दिशा में ठोस पहल की जानी चाहिए।


Date : 13-Oct-2019

आलोक प्रकाश पुतुल

अंग्रेजी का 'Ó (ओ) और गणित का '0Ó यानी शून्य किसानों का सारा गुणा-भाग कैसे गड़बड़ा सकते हैं, इसे छत्तीसगढ़ के किसानों से बेहतर कोई नहीं समझ सकता। इन दो अक्षरों के हेरफेर से महासमुंद जिले के किसान परेशान हैं। वे चाहते हैं कि इस 'ओÓ को जल्दी से जल्दी 'शून्यÓ में बदल दिया जाए।
असल में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में साल भर में किसानों को तीन किश्तों में छह हजार रुपये दिये जाने का प्रावधान है। इस जिले के 86 हजार से अधिक किसान इस योजना के लिए पंजीकृत हैं लेकिन इस योजना की तीसरी किश्त केवल 550 किसानों को ही मिल पाई है।
जिले के सहकारी बैंक से जुड़े कुछ किसान जब बैंक पहुंचे तो पता चला कि बैंक में ऑनलाइन रकम ट्रांसफर करने के लिए जो आईएफएससी कोड दिया जाता है, उसके अंतिम चार अंक बीआरजीरोवन यानी क्चक्रह्र1 की जगह बीआरओवन यानी क्चक्रह्र1 दर्ज है। यानी एक जैसे दिखने वाले '0Ó की जगह अंग्रेजी का 'ह्रÓ (ओ) अल्फाबेट दर्ज कर दिया गया और किसानों के खाते में रकम जमा ही नहीं हुई।
शून्य और ओ
महासमुंद के किसान जागेश्वर चंद्राकर कहते हैं, सारा मजाक किसानों के साथ ही क्यों? 0 की जगह श दर्ज कर लेने का यह मामला लापरवाही से कहीं अधिक नीयत का है। डाटा एंट्री के समय माना कि यह गलती हो गई थी तो इसे सुधारने में कितना वक्त लगता? लेकिन सरकार चाहती ही नहीं। जिसके कारण हमारे जिले के हजारों किसान परेशान हैं।
हालांकि महासमुंद जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की नोडल अधिकारी सीमा ठाकुर का कहना है कि इस मामले में किसानों की ओर से अब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई गई है। अगर कोई शिकायत दर्ज की जाएगी तो मामले की जांच भी होगी।
लेकिन जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के नोडल अधिकारी डोंगरलाल नायक ने बीबीसी से बातचीत में स्वीकार किया कि किसान अपनी शिकायत लेकर उन तक पहुंच रहे हैं।
उन्होंने कहा, आईएफएससी कोड हमारे यहां सही है लेकिन गलत डाटा डाल दिया गया होगा। एंट्री में गड़बड़ी हो सकती है। जहां किसानों ने आवेदन दिया होगा, वहां उन्हें पता करना चाहिए।
हालांकि छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी इस गड़बड़ी को सीधे तौर पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के खिलाफ साजिश ठहरा रहे हैं।
सुंदरानी कहते हैं, बैंक में अगर कोई तकनीकी गड़बड़ी आ गई तो इसे तत्काल सुधार कर किसानों को रकम का भुगतान करना चाहिए। लेकिन राज्य सरकार शुरू से इस योजना को लेकर दुष्प्रचार करती रही है। शून्य को जिस तरह ओ किया गया है, यह कहीं न कहीं केंद्र सरकार को बदनाम करने की साजिश है।
विवाद
छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को लेकर शुरू से ही विवाद रहा है। कभी आधार कार्ड इस योजना के आड़े आ जाता है तो कभी बैंक के दस्तावेज। शून्य और ओ के अलावा भी केंद्र सरकार पर किसानों को दी जाने वाली रकम नहीं जारी करने के गंभीर आरोप लगते रहे हैं।
भाजपा का आरोप है कि राज्य की कांग्रेस सरकार किसानों के आंकड़े उपलब्ध नहीं करा रही है, वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार का कहना है कि केंद्र सरकार किसानों को रकम देना ही नहीं चाहती।
हालत ये है कि राज्य में इस योजना की तीसरी किश्त अब तक केवल 1.74 प्रतिशत किसानों को ही मिली है।
राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय कृषि मंत्री को पत्र लिख कर इस योजना में किसानों की बकाया रकम जारी करने की मांग की है।
बघेल कहते हैं, केंद्र सरकार की कथनी और करनी में अंतर है। किसानों के तमाम दस्तावेज त्रुटिरहित पाये जाने के बाद ही तो किसानों को पहली किश्त दी गई थी। लेकिन अब तक किसानों को दूसरी और तीसरी किश्त की रकम केंद्र सरकार ने नहीं दी है। मैंने केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर साहब को पत्र लिख कर कहा है कि कम से कम किसान सम्मान निधि तो दे दीजिए।
लेकिन विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी का आरोप है कि राज्य सरकार जानबूझ कर केंद्र को राज्य के किसानों के सही आंकड़े और उससे संबंधित दस्तावेज़ उपलब्ध नहीं करा रही है, इस कारण किसानों को रकम मिलने में देरी हो रही है।
भाजपा नेता और किसान मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष संदीप शर्मा का दावा है कि राज्य में 34 लाख किसान हैं। लेकिन राज्य सरकार इन किसानों के आंकड़े ही केंद्र को उपलब्ध नहीं करा रही है। राज्य के केवल 14 लाख किसानों के ही आंकड़े सरकार ने उपलब्ध कराए हैं
वे कहते हैं-सरकार ने अगर सभी किसानों के आंकड़े और उनसे संबंधित दस्तावेज केंद्र को उपलब्ध कराया होता तो राज्य के किसानों को आकस्मिक खर्च के लिये अब तक 2100 करोड़ रुपये मिल जाते। लेकिन सरकार ने आधे किसानों के आंकड़े भी अब तक केंद्र को नहीं उपलब्ध कराए हैं।
तीसरी किश्त केवल 1.74 फीसदी किसानों को
संदीप शर्मा के दावे अपनी जगह ठीक भी हैं। भारत सरकार की प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की वेबसाइट पर शनिवार तक के जो ताजा आंकड़े उपलब्ध हैं, उसके अनुसार छत्तीसगढ़ के 34 लाख किसानों में से केवल 14 लाख 86 हजार 184 किसान ही इस योजना के लिए पंजीकृत हैं।
लेकिन दूसरी तरफ केंद्र सरकार का हाल ये है कि वह अभी तक इन सभी किसानों को योजना की पहली किश्त यानी दो हजार रुपये की रकम भी उपलब्ध नहीं करा पाई है।
आंकड़ों के अनुसार राज्य के केवल 13 लाख 77 हजार 784 किसानों को ही दो हजार रुपये की पहली किश्त मिल पाई है। जिन किसानों को दूसरी किश्त मिली है, उनकी संख्या केवल 4 लाख 19 हजार 596 है।
हालत ये है कि तीसरी किश्त की दो हजार रुपये की रकम 14 लाख से भी अधिक पंजीकृत किसानों में से महज 25 हजार 914 किसानों को ही नसीब हुई है। यानी पंजीकृत किसानों में से केवल 1.4 फीसदी किसानों को ही तीसरी किश्त के 2 हजार रुपये मिले हैं।
कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता शैलेश नितिन त्रिवेदी का दावा है कि राज्य सरकार ने किसान सम्मान निधि के लिये 18 लाख 16 हजार से अधिक किसानों का पंजीयन अब तक कराया है।
त्रिवेदी का कहना है राज्य के किसानों को पहली किश्त के 89 करोड़ 20 लाख, दूसरी किश्त के 281 करोड़ 20 लाख और तीसरी किश्त के 358 करोड़ 42 लाख रुपये किसानों को मोदी सरकार से लेना बाकी है।
वे कहते हैं, मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ के किसानों के 728 करोड़ 82 लाख रुपये दबाये हैं। हम यह मांग करते हैं कि यह रकम दीवाली से पहले छत्तीसगढ़ को दी जानी चाहिए। (बीबीसी)


Date : 13-Oct-2019

कुकराडीह बंजर के पास एक ग्रामीण का हाथियों से फिर से सामना, कल बुजुर्ग को पटक-पटककर मार डाला था, सिरपुर क्षेत्र के 24 गांवों में बैठकें जारी, 17 को कलेक्ट्रेट घेराव की तैयारी शुरू

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 13 अक्टूबर
। कल सिरपुर क्षेत्र के कुकराडीह में एक दंतैल हाथी ने एक बुर्जुग को पटक-पटक कर मौत के घाट उतार दिया था और आज सुबह फिर से कुकराडीह बंजर के पास ही एक ग्रामीण का सामना हाथियों से हो गया लेकिन वह हाथियों के चंगुल से बचने में कामयाब रहा। हालांकि हाथियों ने ग्रामीण की सायकिल को पटक कर तोड़ दिया है। 

बता दें कि कल दोपहर दंतेल हाथी द्वारा बुर्जुग की मौत से गुस्साये ग्रामीण मुआवजे की मांग को लेकर शव सडक़ पर रख्रकर देर रात तक प्रदर्शन करते रहे। वन विभाग के आश्वासन के बाद कहीं जा कर मामला शांत हुआ।

घटनाक्रम अनुसार कल सिरपुर क्षेत्र के कुकराडीह में संतुराम सतनामी दोपहर अपने सायकिल से अपने मवेशियों के लिए चारा लाने के लिए गांव से बाहर गया हुआ था। इसी दौरान अपने झुंड से बिछड़े एक दंतैल से उसका सामना हो गया। दंतैल हाथी ने जैसे ही ग्रामीण को सायकिल में देखा, उसे दौड़ाया। ग्रामीण संतुराम सतनामी चूंकि बुर्जग था। इस वजह से वह मौके से भाग नहीं सका। दंतैल हाथी ने ग्रामीण को कुकराडीह बंजर के पास पटक-पटक कर मौत के घाट उतार दिया। संतुराम सतनामी 6 0 वर्ष की मौत की खबर जैसे ही ग्रामीणों को मिली, वे घटना स्थल पहुंचे और शव उठाकर सडक़ पर रखकर 10 लाख मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलन करने लगे। 

खबर पाकर वन विभाग वहां पहुंचा और ग्रामीणों के बीच रात्रि लगभग 10.30 बजे तक मुआवजे और ग्रामीणों की हाथियों से सुरक्षा को लेकर बहस चलती रही। वन विभाग ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया है कि शासन द्वारा 6  लाख रुपए नियमत: मुआवजा राशि दी जाएगी और 4 लाख मुआवजे के लिए प्रपोजल बनाकर शासन को भेजा जाएगा। तब कहीं जाकर ग्रामीण शांत हुए। 

इस मामले मेें वन विभाग के रेंजर मोहन दास ने ‘्छत्तीसगढ़’ को जानकारी दी है कि कि कल रात्रि में ही मृतक के परिवार को अंतिम संस्कार के लिए सहायता राशि 25 हजार रुपए दे दी गई है और 6  लाख रुपए शासन के नियामानुसार मुआवजा मृतक के परिवार को वन विभाग द्वारा दिया जायेगा। साथ ही उनके 4 लाख मुआवजे की मांग को वन विभाग प्रपोजल बनाकर शासन को भेजेगी। श्री दास ने बताया है कि वर्तमान में 20 हाथियों का झुंड कुकराडीह बंजर में है। वन विभाग के रेंजर ने यह भी जानकारी दी है कि सिरपुर क्षेत्र के वन परिक्षेत्र कम्पार्टमेंट 15 के लगभग 225 हैक्टेयर में एपीटी गड्ढे बनाने का काम एक सप्ताह के भीतर शुरू हो जायेगा। ये ईपीटी गड्ढे लगभग 4 फीट चौड़ा और 10 फीट गड्ढा होगा। समाचार लिखे जाने के वक्त सिरपुर क्षेत्र के 24 गांवों में बैठक जारी है और 17 को कलेक्ट्रेट घेराव करने लिए तैयारी कर रहे हैं। 

 


Date : 13-Oct-2019

महासमुंद में कोलता समाज द्वारा आयोजित रामचण्डी दिवस समारोह में शामिल हुए सीएम, समाज को बधाई एवं धन्यवाद दिया

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
महासमुन्द, 13 अक्टूबर।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कल महासमुंद जिले के गढफ़ुलझर में कोलता समाज द्वारा आयोजित रामचण्डी दिवस समारोह में शिरकत की। उन्होंने रामचण्डी मंदिर पहुंच कर पूजा-अर्चना की और प्रदेश के सुख-समृद्धि की कामना की। इस अवसर पर उन्होंने कोलता समाज को बधाई एवं धन्यवाद दिया और कहा कि यह एक ऐसा समाज है, जो एक बड़े वर्ग को अपने साथ लेकर चलता है। 

यह समाज भारतीय समाज, संस्कृति एवं परम्परा को लेकर चलने वाला समाज है क्योंकि इस समाज के अधिकांश लोग खेती-किसानी करने वाले लोग हैं। उन्होंने कहा कि उड़ीसा की संस्कृति प्रचीन संस्कृति है और छत्तीसगढ़ मुख्य रूप से सामाजिक, सास्कृति और भौगोलिक रूप से इस राज्य से जुड़ा है। कोलता समाज द्वारा गढफ़ुलझर स्थित रामचण्डी मंदिर स्थल को एक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किए जाने की मांग करने पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के अन्य स्थलों के साथ-साथ यह स्थल भी पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। 

उन्होंने बसना से गढफ़ुलझर, पद्मपुर सडक़ निमार्ण के लिए आगामी बजट में शामिल करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कोई भी राज्य तब तक मजबूत नहीं हो सकता जब तक वहां के किसान मजबूत नहीं होते। वर्तमान सरकार द्वारा किसानों के हित में निर्णय लेकर उन्हें आर्थिक रूप से मजबूत बनाने का काम किया गया है। शासन द्वारा किसानों के ऋण मांफ  किए गए है, वहीं उनकी बिजली भी मांफ  की गयी है।

समारोह में राज्यसभा सांसद छाया वर्मा ने कहा कि कोलता समाज एकता एवं संगठन के लिए जाना जाता है। यह एक ऐसा समाज है जो हर समाज के साथ जुडक़र चलने का प्रयास करता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा गांधी जी के विचारों को मूर्त रूप देने का प्रयास किया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखकर राज्य शासन ने सर्वसमाज को लेकर चलने का प्रयास किया है। 

बसना विधायक देवेन्द्र बहादुर सिंह ने हुए कहा कि कोलता समाज गढफ़ूलझर सहित आस-पास के क्षेत्रों में रहकर सभी के साथ मिल-जुलकर रामचण्डी दिवस मनाते है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में किसानों, गरीब और मजदूरों के लिए योजनाएं बनाकर उन्हें क्रियान्वित किया गया है। इसके तहत ऋण माफी, बिजली बिल माफी सहित अन्य योजनाएं वर्तमान सरकार द्वारा लागू कर किसानों के हित में काम किया गया है।  उन्होंने बसना से गढफ़ुलझर, पद्मपुर सडक़ निर्माण की मांग की। इससे पहले कोलता समाज के अध्यक्ष हरीचरण प्रधान ने अतिथियों का स्वागत किया।

 इस अवसर पर खल्लारी द्वारकाधीश यादव, विधायक सरायपाली किस्मत लाल नन्द, महासमुन्द विधायक विनोद चन्द्राकर, कोलता समाज के कोलता समाज के पदाधिकारियों, जनप्रतिनिधिगण,  कलेक्टर सुनील कुमार जैन, पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ला सहित जिला प्रषासन के अधिकारी तथा बड़ी संख्या में नागरिक भी उपस्थित थे । 


Date : 13-Oct-2019

विद्युत मंत्रालय भारत सरकार द्वारा ऊर्जा संरक्षण पर विद्यालय में स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन

महासमुन्द, 12 अक्टूबर। विद्युत मंत्रालय भारत सरकार द्वारा देश में ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन छात्र-छात्राओं के लिये विद्यालय, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। जिससे बच्चों अभिभावकों में ऊर्जा संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़े। 

क्रेडा विभाग के सहायक अभियंता एन.के. गायकवाड़ ने बताया कि चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन विद्यालय स्तर पर कक्षा चैथी, पांचवीं एवं छठवीं के छात्र.छात्राओं के लिए गु्रप क तथा कक्षा सातवीं, आठवीं तथा नौवीं के छात्र-छात्राओं के लिए गु्रप ख बनाई गई है। जिसमें विद्युत मंत्रालय भारत सरकार द्वारा दिए गए स्लोगन जैसे जागरूक बनें, ऊर्जा का सही उपयोग करें, विकसित राष्ट्र की करो कल्पना, बिजली बचाने वाले हैं आदि के अनुसार विद्यार्थियों को चित्रकारी किया जाना है।

उन्होंने बताया कि छात्र-छात्राओं को ए.4 आकार की शीट और चित्रकला सामग्री जैसे पेंसिल, रंगीन पेंसिल, क्रेयॉन और पानी के रंगों का उपयोग करना होगा तथा छात्र-छात्राएं चित्रकला के लिए अपने गु्रप के लिए दिए गए स्लोगन में से किसी एक स्लोगन का चयन कर सकते हैं। विद्यालय स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता विद्यालयों के प्रधान अध्यापकों, प्राचार्यों को गु्रप क तथा ख के लिए स्कूल स्तर पर किसी भी एक दिन दो घंटे की चित्रकारी प्रतियोगिता का आयोजन कराना है। 

इस प्रतियोगिता के संबंध में विस्तृत जानकारी सभी विकासखंडों के शिक्षा अधिकारियों को पत्र के माध्यम से उपलब्ध कराई गई है। विद्यालय स्तर पर आयोजित होने वाली चित्रकारी प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रत्येक विद्यार्थी को प्रतिभागिता प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा।

 


Date : 13-Oct-2019

गांधी जी की 150 वी जयंती परजन कल्याणकारी योजनाओं में हाट बाजार क्लीनिक योजना, 86 बाजारों में 4153 लाभान्वित
छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुंद, 13 अक्टूबर।
गांधी जी की 150 वी जयंती पर मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गईं जन कल्याणकारी योजनाओं में हाट बाजार क्लीनिक योजना को कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने गंभीरता से लिया है। इसके लिए जिला स्तर पर मास्टर चार्ट तैयार कर लिया गया है। अब दूरस्थ क्षेत्र व ग्रामीण अंचलों में स्थानीय नागरिकों को स्वास्थ्य सेवाओं में विशेषज्ञ चिकित्सकों की घर पहुंच सेवा की उपलब्धता का निरंतर लाभ मिलता रहेगा। 

जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार से मिली जानकारी के अनुसार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसपी वारे ने योजना के सुचारू संचालन हेतु संबंधित कर्मचारियों को क्षेत्रानुसार रोस्टर चार्ट जारी कर सेवा प्रदाय करने के लिए आदेशित किया है।

हाट बाजार क्लिनिक योजना में प्रमाणिक दस्तावेजीकरण के लिए माननीय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा कॉफी टेबल पुस्तक संरचना की व्यवस्था की गई है। जिसमें क्रमश: मुख्यमंत्री, विभागीय मंत्रीगण व जनप्रतिनिधियों द्वारा सार्वजनिक स्थलों में भी मॉनिटरिंग की जाएगी। 

अब तक जिले में चिन्हांकित 100 हाट बाजारों में शुरू हुए 8 6  क्लिनिकों में क्रमश: महासमुंद के 23 हाट बाजारों के 20 में शिविरों में मलेरिया के 14, टीबी 01, रक्ताल्पता 6 6 , कुष्ठ 01, 403 बीपी जांच में 37, मधुमेह 340 में 14, 14 गर्भवती महिलाओं, 03 शिशु टीकाकरण, नेत्र विकार 26 , डायरिया 03 व 244 की सामान्य जांच सहित कुल 6 8 5 मरीज लाभान्वित हुए। इसी तरह पिथौरा 08  क्लिनिकों में लाभान्वित मरीजों का आंकड़ा मलेरिया में 20, टीबी 02, एचआईवी 05, रक्ताल्पता 43, कुष्ठ 04, बीपी जांच में 144 में 25 व मधुमेह के 114 में 14 एवं 26  नेत्र विकार, 23 गर्भवती महिलाओं सहित 231 की सामान्य जांच में कुल 395 तक पहुंचा। सरायपाली के 27 बाजारों के 23 क्लिनिकों में मलेरिया 71, रक्ताल्पता 149, कुष्ठ 03, बीपी जांच में 8 78  में 105, मधुमेह में 6 91 में 96 , 27 गर्भवती महिला, नेत्र विकार 18 , डायरिया 25 व 419 अन्य जांच सहित कुल 1207 मरीज उपचारित हुये। इधर, बागबाहरा में 22 बाजारों के 20 क्लिनिकों में मलेरिया के 77, रक्ताल्पता 26 5, कुष्ठ 01, बीपी जांच 524 में 40, मधुमेह 536  में 19, 17 गर्भवती महिलाएं व नेत्र विकार 08  और डायरिया के 20 सहित अन्य 297 प्रकरणों में कुल 8 01 की स्तिथि रही। वहीं, बसना के आंकड़ों में 20 में 15 क्लिनिकों में मलेरिया के 42, एचआईवी जांच 07, टीबी 16 , रक्ताल्पता 239, कुष्ठ 08 , 771 बीपी जांच में 8 5, सहित मधुमेह में 595 में 42 एवं 32 गर्भवती महिला, शिशु टीकाकरण 02, नेत्र विकार 113 व डायरिया 04 एवं अन्य 532 प्रकरण मिला कर 106 5 मरीजों को जांच व उपचार की सुविधा उपलब्ध कराई गई। इस तरह जिले में कुल उपचारित मरीजों का आंकड़ा 4153 मरीजों तक पहुंच चुका है।

 


Date : 13-Oct-2019

विधायक के प्रयासों से राज्य ग्रामीण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण मद से मिली विभिन्न निर्माण कार्यों की मंजूरी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
महासमुन्द, 13 अक्टूबर।
विधायक विनोद सेवनलाल चंद्राकर के प्रयास से छग राज्य ग्रामीण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण मद से विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए स्वीकृति मिली है। विधायक श्री चंद्राकर ने बताया कि ग्राम पंचायत उमरदा के ग्राम मुड़मार में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, ग्राम पंचायत बोरियाझर के ग्राम कोना में सवा लाख रूपए की लागत से रंगमंच निर्माण, ग्राम पंचायत खट्टी में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण,  ग्राम पंचायत कौवाझर के ग्राम कोड़ार में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, ग्राम पंचायत उमरदा के ग्राम गौरखेड़ा में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, ग्राम खट्टी उप स्वास्थ्य केंद्र में दो लाख रूपए की लागत से अहाता निर्माण, ग्राम पंचायत परसदा में दो लाख रूपए की लागत से सीसी रोड निर्माण, ग्राम पंचायत बकमा में शासकीय मिडिल स्कूल के पास सवा लाख रूपए की लागत से रंगमंच निर्माण, ग्राम पंचायत खट्टी में शिवबती के घर के पास दो लाख रूपए की लागत से चबूतरा निर्माण, ग्राम पंचायत खट्टी में पघीहापारा स्कूल के पास सवा लाख रूपए की लागत से रंगमंच निर्माण, ग्राम पंचायत नरतोरा में चार लाख रूपए की लागत से शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला में अतिरिक्त कक्ष निर्माण, ग्राम पंचायत जोगीडीपा में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, बांसकुड़ा पट्टी नं 1 में सवा लाख रूपए की लागत से रंगमंच निर्माण, ग्राम पंचायत मानपुर के ग्राम पचपेड़ा में तीन लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, ग्राम पंचायत छपोराडीह में एक लाख रूपए की लागत से शासकीय हाईस्कूल में आहाता निर्माण, ग्राम कुहरी में तीन लाख की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण, ग्राम मधुबन में तीन लाख की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण की स्वीकृति मिली है।

 


Date : 13-Oct-2019

बाइक से अंग्रेजी शराब ले जाते आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया, 36 पौवा शराब जब्त 

महासमुन्द, 13 अक्टूबर। कल महेंद्र कुमार यादव पिथौरा को बाइक से अंग्रेजी शराब गोवा 28 पौवा, जम्मू विष्कि 8 पौवा कुल 36  पौवा कीमती 28 8 0 सहित गिरफ्तार किया है। आरोपी के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।