छत्तीसगढ़ » रायपुर

Date : 18-Nov-2019

भाजपा पार्षदों ने निगम अधिकारियों पर मनमानी का आरोप लगाते हुए महापौर चेंबर में दिया धरना, वार्डों से हटाई सफाई गाड़ी वापस न भेजने पर आंदोलन चेतावनी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवंबर।
शहर के भाजपा पार्षदों ने निगम अधिकारियों पर मनमानी का आरोप लगाते हुए सोमवार को महापौर चेंबर में घंटों धरना दिया। उनका कहना है कि वार्डों से सफाई में लगी गाडिय़ां हटाकर ठेका कंपनी रामकी को देने से वहां सफाई व्यवस्था ठप हो गई है और जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि वार्डों से हटाई गई सफाई गाड़ी वापस न भेजने पर वे सभी वार्डवासियों के साथ मिलकर आंदोलन करेंगे। 

नेता प्रतिपक्ष सूर्यकांत राठौर, उप नेता प्रतिपक्ष रमेश सिंह ठाकुर के नेतृत्व में भाजपा पार्षद सुबह निगम मुख्यालय स्थित महापौर कक्ष में पहुंचे। इसके बाद वे सभी वहां नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। उनका यह धरना घंटों जारी रहा। इस दौरान उन्होंने महापौर को वार्डों की सफाई व्यवस्था के बारे में बताया। भाजपा पार्षदों ने आरोप लगाते हुए कहा कि निगम में अधिकारियों की मनमानी लगातार जारी है। उनकी इस मनमानी का खामियाजा वार्डों की जनता भोग रही है। 

भाजपा पार्षदों का कहना है कि अधिकारियों ने वार्डों में कचरा उठाने में लगी निगम की 20 गाडिय़ों की ठेका कंपनी रामकी को दे दिया, जिससे वार्डों की सफाई व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हैं। वहां गली सडक़ों और चौराहों से कचरा उठ नहीं पा रहे हैं और लोग परेशान हैं। लगातार कचरा न उठने से बदबू के साथ ही बीमारी फैलने का डर भी बना हुआ है। उनकी मांग है कि सभी 20 गाडिय़ों को कंपनी से वापस वार्डों में भेजा जाए। 

महापौर प्रमोद दुबे ने भाजपा पार्षदों को आश्वासन दिया है कि वे इस संबंध में निगम अधिकारियों से चर्चा करेंगे और 24 घंटे में वार्डों से निकाली गई सभी गाडिय़ों को वापस वहां भेजने पर जोर देंगे, ताकि वार्डों की सफाई प्रभावित न हो। 

 


Date : 18-Nov-2019

विप्र कॉलेज में वाणिज्य विभाग द्वारा व्यापार में नवाचार नवाचार की संभावनाएं एवं चुनौतियां विषय पर व्याख्यान का आयोजन, आभार प्रदर्शन डॉ आराधना शुक्ला ने किया
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवम्बर।
विप्र कला, वाणिज्य एवं शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय में वाणिज्य विभाग द्वारा अतिथि व्याख्यान व्यापार में नवाचार की संभावनाएं एवं चुनौतियां विषय पर व्याख्यान का आयोजन किया। 

इस अवसर पर वक्ता डॉ. अजय कुमार शर्मा सहायक प्राध्यापक दुर्गा कॉलेज रायपुर ने विद्यार्थियों को स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा हर विद्यार्थी में नवाचार लाने और उद्यमी बनने की क्षमता है। आवाश्यकता है, आप में जिज्ञासा के साथ सीखने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए, ताकि नवीन विचारों को उत्पाद में परिवर्तन करने की क्षमता का विकास हो।
सेवा या उत्पाद को परिष्कृत करना, समस्या का समाधान एवं नए ग्राहकों की खोज नवाचार है। मोबाइल में नित नए बदलाव से आप नवाचार को समझ सकते हैं। परंपरागत पद्धति को छोडक़र नया पद्धति अपनाना और पूर्व की तुलना में उपभोक्ता संतुष्टि स्तर में वृद्धि नवाचार का उद्देश्य है। मोबाइल, मोटरसाइकिल जैसे बड़ी वस्तुओं के क्षेत्र के परिपेक्ष्य में नवाचार को ना देखें। 

इस अवसर पर प्राचार्य डॉ मेघेश तिवारी ने नवाचार को आज की आवश्यकता बताते हुए कहा तेजी से बदलते वक्त और नई चीजों के बाढ़ में आवश्यक और अनावश्यक दोनों चीजें हैं। अनावश्यक चीजों को छोडक़र उपयोगी चीजों को लेकर आगे बढऩे से ही विद्यार्थी अपनी क्षमता का विकास कर सकता है। आभार प्रदर्शन डॉ आराधना शुक्ला ने किया। संचालन निधि ठाकुर ने किया। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष विवेक शर्मा, डॉ सीमा अग्रवाल, उजाला वर्मा, कल्पना तिवारी एवं प्रतिभा बाघ सहित समस्त प्राध्यापक एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे।

 


Date : 18-Nov-2019

ग्रीनआर्मी संस्था द्वारा सरोवर-धरोहर कार्यक्रम के तहत सफाई अभियान चलाया, सभी घाटों सेे लगभग 11 ट्राली कचरा निकाला

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवम्बर।
ग्रीनआर्मी संस्था द्वारा सरोवर-धरोहर कार्यक्रम के तहत विगत दिवस 30 सफाई मजदूरों के साथ तालाब की सफाई का काम किया गया। सफाई अभियान के तहत बूढ़ा तालाब के मुख्य 5 घाटों धोबी घाट, दानी स्कूल माँ दुर्गा मंदिर घाट ब्रम्हघाट, ब्रम्हपुर अस्थि विसर्जन घाट और ब्रम्हपुरी मारवाड़ी श्मशान घाट, इन सभी घाटों सेे लगभग 11 ट्राली कचरा निकाला गया। 

ग्रीनआर्मी संस्था द्वारा जनजागरण हेतु गार्डन बूढ़ा गार्डन गेट पर एक जल एवं तालाब स ंरक्षण पर जनता की आवाज एवं सुुझाव को सुुनने हेतु मेरी आवाज सुनो कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में आसपास के निवासियों, चाय ठेले वालों, मंदिर के पुजारीगण, भक्तजन एवं राहगीरों को आमंत्रित कर बूढ़ा तालाब को संरक्षित करने एवं साफ करने हेतु उनके विचारों को सुना गया। 

संस्था के संस्थापक अमिताभ दुबे ने बताया है कि इस बूढ़ा तालाब सफाई अभियान में भारी संख्या में आसपास के लोग शामिल हो रहे हैं  तथा बूढ़ा तालाब को साफ करनेे में अपना योगदान दे रहे हैं। ग्रीनआर्मी संस्था प्रत्येक तालाब के लिए स्थानीय लोगों का एक तालाब संरक्षण समिति बनाएगी। इस अभियान में आसपास के सभी व्यापारी निवासी मंदिर एवं वाटर स्पोटर्स  टीम जुड़ चुकी है। 

 


Date : 18-Nov-2019

राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा बाल कलाकारों की चित्रकला सहित अन्य प्रतियोगिताएं आयोजित, स्पर्धा के विजेताओं को कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक द्वारा पुरस्कृत किया 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवंबर।
राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा विगत 16 नवंबर को रविंद्र भवन कालीबाड़ी में चित्रकला सहित अन्य प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। स्पर्धा के विजेताओं का बाल कल्याण परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक बृजमोहन अग्रवाल द्वारा पुरस्कृत किया गया। 

रंगोली प्रतियोगिता में गुलशन साहू प्रथम, कंचन द्वितीय एवं वीनी शर्मा तृतीय रही। प्रीति देवांगन, मुस्कान साहू को सान्तवना पुरस्कार प्रदान किया गया। चित्रकला स्पर्धा सफेद समूह में शिवम एजुकेशन एकेडमी की विन्नी शर्मा प्रथम ज्ञान गंगा स्कूल की रक्षिता जैन द्वितीय एवं ब्राइटन स्कूल की आंचल चौरसिया तृतीय रही। पीला समूह में कोपलवाणी की सानिया विजेता रही। 

चित्रकला हरा ग्रुप में एनएच गोयल स्कूल के वेदांग इन्दौरिया प्रथम, ज्ञान गंगा स्कूल के सौम्यादास द्वितीय एवं महर्षि विद्या मंदिर की हिमांशी वर्मा तृतीय रही। एचएन गोयल स्कूल के आरव शर्मा को सांतवना पुरस्कार दिया गया। चित्रकला स्पर्धा के लाल वर्ग में कोपलवाणी के सत्यम प्रथम, आकाश कुमार द्वितीय रहे। केंद्रीय विद्यालय के स्पर्श केसकर ने इस वर्ग में तीसरा स्थान प्राप्त किया। 

इस अवसर पर बाल कल्याण परिषद के डॉ. अशोक त्रिपाठी, इंदिरा जैन, राजेंद्र निगम, प्रकाश अग्रवाल सहित विभिन्न स्कूलों शिक्षक मौजूद रहे। 

 


Date : 18-Nov-2019

कृष्णा पब्लिक स्कूल में गणित प्रदर्शनी का आयोजन, खेल विधि द्वारा गणित की बारीकियों को रोचक बनाने का सार्थक प्रयास

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवम्बर।
कृष्णा पब्लिक स्कूल, कमल विहार में गणित प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। कक्षा-पहली से पांचवी तक के विद्यार्थियों ने मॉडल एवं चार्ट के माध्यम से गणित के विभिन्न आयामों पर बौद्धिक कुशलता का परिचय देते हुए स्थानीय मान, पैटर्न रूल्स, मनी, ओपन एंड क्लोज फिगर्स, डेसिमल एवं कम्पेयरिंग क्वान्टीटी, हाउ मेनी मोर एवं लेफ्ट, आदि पर केन्द्रित मॉडल एवं चार्ट के माध्यम से अपनी रचनात्मकता का परिचय दिया। 

सेन्ट्रल मॉडल के रूप में योगा, जो सूर्य नमस्कार के विभिन्न आयामों को कोण द्वारा प्रदर्शित कर रहा था विशेष आकर्षण का केंद्र बना रहा। कठिन समझे जाने वाले गणित विषय को छात्रों ने बडे ही सहज और सरल रूप में प्रस्तुत किया। गणित से संबंधित अनेक रोचक गेम्स ने बच्चों को विशेष उत्साहित किया जिसमें उन्होंने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। 

इस अवसर पर कृष्णा पब्लिक स्कूल्स रायपुर रीजन के एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर आशुतोष ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन का उद्देश्य छात्रों में गणित के प्रति डर को दूर करना एवं नया अनुभव, नया सीखने की कला को प्रोत्साहित करना है। इस अवसर पर शाला की प्राचार्या प्रियंका त्रिपाठी ने छात्रों द्वारा बनाए गए चार्ट एवं मॉडलों की प्रशंसा करते हुए उन्हें बधाई दी एवं अपने अंदर छिपी आंतरिक प्रतिभा को किसी न किसी माध्यम या प्लेटफार्म द्वारा उजागर करने हेतु प्रोत्साहित किया।

 


Date : 18-Nov-2019

सैकड़ों आदिवासियों ने केंद्र व राज्य सरकार की आदिवासी विरोधी नीतियों के विरोध में धरना-प्रदर्शन किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 18 नवंबर।
मानपुर (राजनांदगांव) से बीती देर रात आए सैकड़ों आदिवासियों ने अपने अधिकारों के लिए आज यहां धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र व राज्य सरकार की आदिवासी विरोधी नीतियों का जमकर विरोध किया। उन्होंने कहा कि जल, जंगल, जमीन के लिए उनकी लड़ाई लंबे समय से चल रही है, लेकिन सरकार की नीतियों के चलते वे सभी उससे दिनोंदिन बेदखल होते जा रहे हैं। 

वनाधिकार संघर्ष समिति राजनांदगांव के बैनर पर ये सभी आदिवासी जेलों में बंद निर्दोष आदिवासियों की निशर्त रिहाई समेत अपनी 8 सूत्रीय मांगों को लेकर कल मानपुर से अपने परंपरागत हथियार तीर-कमान के साथ पैदल निकले। यहां वे सभी टाटीबंध के एक बड़े भवन में ठहरे थे। वहां से वे सभी सुबह अलग-अलग दिशाओं से होकर बूढ़ापारा धरना स्थल पर एकजुट हुए। सीएम हाउस घेराव के पहले आदिवासियों ने वहां बैनर पोस्टर के साथ अपने हक के लिए जोरदार धरना प्रदर्शन किया। 

वन स्वराज आंदोलन के बैनर पर रायपुर में और कई आदिवासी संगठन एकजुट हुए। सभी आदिवासी, सीएम हाउस का घेराव कर सरकार के सामने अपनी मांग रखना चाहते हैं, लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां जाने से रोकने के लिए सप्रे स्कूल बिजली ऑफिस के पास इंतजाम कर लिया है। आंदोलन में आदिवासी बच्चों, महिलाओं को लेकर बड़े बुजुर्ग तक शामिल हुए। 


Date : 18-Nov-2019

धान की अवैध खरीदी-बिक्री और परिवहन पर लगातार रखी जा रही निगरानी, जांच के दौरान बड़ी मात्रा में धान जब्त

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवम्बर। राज्य शासन के निर्देशानुसार प्रदेश भर में धान की अवैध खरीदी-बिक्री और परिवहन पर रोक लगाने के लिए सघन अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत प्रत्येक जिले में बिचौलियों तथा कोचियों द्वारा धान की खरीदी और परिवहन को रोकने के लिए उडऩ दस्ता टीम गठित कर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

बिलासपुर जिले में जांच के दौरान अब तक एक हजार क्विंटल से ज्यादा अवैध धान जब्त किया गया। साथ ही अवैध परिवहन करने वाले 15 वाहनों को भी जब्त किया गया है। जिला प्रशासन की टीम द्वारा आज धान के अवैध भंडारण एवं परिवहन के 26 मामलें दर्ज किए गए और 786 क्ंिवटल की जब्ती की गई। साथ ही 14 वाहन भी जब्त किए गए, जो धान का अवैध रूप से परिवहन कर रहे थे। पेण्ड्रारोड अनुभाग में पांच प्रकरण दर्ज कर 427 बोरा धान जब्त किया गया। रतनपुर में 150 बोरी धान जब्त की गई। बिल्हा संकरी में भी राईस मिलों की सघन जांच की गई।

इसी प्रकार कबीरधाम जिले में आज बोडला और पंडरिया विकासखंड में धान के अवैध परिवहन और भंडारण पर बड़ी कार्रवाई करते हुए नौ हजार 316 बोरा धान जब्त करते हुए आठ प्रकरण बनाए गए। इसके अलावा पंडरिया के जैन राईस मील पर भी टीम ने आवश्यक निरीक्षण करते हुए 29 लाख रूपए के चावल और कनकी जब्त की गई। जांजगीर-चांपा जिले में अब तक एक हजार 735 क्ंिवटल धान जब्ती की कार्रवाई की गई है। जब्त किए धान का बाजार मूल्य करीब 26 लाख रूपए है। धान के अवैध परिवहन के प्रकरण में चार वाहन भी जब्त किए गए है। बालोद जिले में अब तक इन्हीं मामलों में 31 प्रकरण दर्ज कर एक हजार 282 क्ंिवटल धान और पांच वाहन जब्त किया गया है।

इस तारतम्य में उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले में टीम द्वारा सात कोचियों से 338 क्विंटल धान जब्त किया गया है। इनमें जिले के चारामा विकासखंड में चार प्रकरण बनाकर 260 क्विंटल धान जब्त किया गया। इसी तरह भानुप्रतापपुर विकासखंड में दो प्रकरण बनाकर 38 क्विंटल और कांकेर विकासखंड में एक प्रकरण के अंतर्गत 40 क्विंटल धान जब्त किया गया। पिछले तीन दिनों में कांकेर जिले में आठ विभिन्न जगहों पर कार्रवाई करते हुए 479 क्विंटल धान जब्त किया गया है। टीम द्वारा राईस मिलों का भी निरीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

राजनांदगांव जिले में अवैध धान की बिक्री तथा परिवहन पर रोक लगाने के लिए सघन जांच के दौरान अब तक तीन हजार 165 बोरी धान जब्त कर 19 प्रकरण बनाए गए। रायगढ़ जिले की तहसील बरमकेला में तीन प्रकरणों में 104 क्विंटल धान जब्त किया गया। नारायणपुर जिले में जांच के दौरान गुरिया गांव में 27 क्विंटल और नारायणपुर में दो क्विंटल धान, वहां व्यापारियों के पास धान खरीदी का लायसेंस नहीं था। ग्राम बिंजली में धान खरीदी करने वाले व्यापारी के पास 46 क्विंटल और नौ क्विंटल पाया गया।

 

 


Date : 18-Nov-2019

लोक अदालत में चेक बाउंस और पारिवारिक 490 मामलों का हुआ निराकरण, जिला न्यायालय में चेक बाउंस से संबंधित लगभग 13 हजार एवं पारिवारिक 3 हजार मामले लंबित हैं 

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवम्बर। छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर के निर्देश पर विगत 16 नवम्बर को जिला न्यायालय में आयोजित लोक अदालत में चेक बाउंस के 459 मामले एवं पारिवारिक विवाद के 31 मामलों का निराकरण हुआ। कुल 490 मामलों के निराकरण के साथ रायपुर जिला अव्वल रहा।

प्राधिकरण अध्ययन रामकुमार तिवारी के निर्देशानुसार लोक अदालत के लिए जिला न्यायालय रायपुर में 11 खण्डपीठों का एवं तहसीलों में कुल 5 खण्डपीठों का गठन किया गया था।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव उमेश कुमार उपाध्याय ने बताया रायपुर जिला न्यायालय में चेक बाउंस से संबंधित लगभग 13 हजार एवं पारिवारिक 3 हजार मामले लंबित हैं जिसमें से राजीनामा की संभावना वाले लगभग ढाई हजार मामले लोक अदालत में सुनवाई के लिए रखे गए थे। लोक अदालत में डॉ. सुमीत सोनी न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी की खण्डपीठ में चेक बाउंस के कुल 377 मामले सुनवाई हेतु नियत किए गए थे जिसमें आपसी समझौते के आधार पर 146 मामलों का निराकरण किया गया।

इसके अलावा न्यायिक मजिस्ट्रेट गिरीवर सिंह राजपूत एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट दीपक शर्मा की एकल पीठ ने 91 और 72 मामलों का निराकरण किया। इस वर्ष आखिरी लोक अदालत 14 दिसम्बर को आयोजित की जाएगी। जो लोग या संस्थाएं प्रीलिटिगेशन प्रकरण प्रस्तुत करना चाहते हैं वे 30 नवम्बर तक अपने मामले प्रस्तुत कर सकते हैं।


Date : 18-Nov-2019

7 हजार से अधिक व्याख्याता पदोन्नति से दूर, समयमान वेतनमान भी नहीं, स्कूल शिक्षा मंत्री के सामने रखी मांगें, आश्वासन

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवंबर। प्रदेश के स्कूलों में 7 हजार से अधिक व्याख्याता  पदोन्नति से दूर हैं और वे सभी प्राचार्य के पदों पर पदोन्नत करने की मांग कर रहे हैं। उनके एक प्रतिनिधि मंडल ने बीती शाम-रात स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम से मिलकर अपनी समस्याएं बताई। इस दौरान प्रतिनिधि मंडल ने समयमान वेतनमान के साथ अपनी और कई मांगे रखी। मंत्री ने उन्हें उनकी समस्याएं दूर करने का आश्वासन दिया है।

छत्तीसगढ़ व्याख्याता संघ के प्रांताध्यक्ष राकेश शर्मा के नेतृत्व में व्याख्याताओं का एक प्रतिनिधि मंडल स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. टेकाम से मिला। व्याख्याताओं ने बताया कि प्रदेश में करीब 4 हजार नियमित व्याख्याता (ई-संवर्ग)एवं 32 सौ नियमित व्याख्याता (टी-संवर्ग) को पदोन्नति नहीं मिल पा रही है। ऐसे में पदोन्नति के पदों को भरने 50 फीसदी प्रतीक्षा सूची से जारी की जाए। वहीं हिन्दी, अंग्रेजी, गणित, जीविज्ञान, वाणिज्य के व्याख्याताओं के स्कूलों में कम से कम 2 पद रखे जाए।

उन्होंने बताया कि समयमान वेतनमान का मामला उच्च श्रेणी शिक्षा (प्रथम नियुक्ति) का संयुक्त संचालक एवं व्याख्याता (प्रथम नियुक्ति) का संचालनालय में अटका पड़ा है। हाईस्कूल एवं हायर सेंकण्डरी परीक्षा में पर्यवेक्षक का मानदेय 40 रुपये से बढ़ाकर 90 रुपये करने की मांग अधूरी है। हाईस्कूल एवं हायर सेंकण्डरी स्कूल के सेटअप का पुनर्गठन नहीं हो पाया है। इसके अलावा अर्जित अवकाश 10 दिन से बढ़ाकर 20 दिन करने और आंध्रप्रदेश की तर्ज पर इलाज के लिए 2 लाख तक कैसलेस कार्ड जारी करने की मांग की।


Date : 18-Nov-2019

सिंघानिया बिल्डकॉन, चौथी मंजिल से गिरकर मजदूर की मौत, मौत के बाद अब हर्षित लैंड मार्क सिटी प्रोजेक्ट में सुरक्षा इंतजाम को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवंबर। राजधानी के हीरापुर इलाके में सिंघानिया बिल्डकॉन द्वारा बनाए जा रहे हर्षित लैंड मार्क सिटी प्रोजेक्ट में मजदूरी के दौरान चौथी मंजिल से गिरकर एक युवक की मौत हो गई। युवक की मौत के बाद अब हर्षित लैंड मार्क सिटी प्रोजेक्ट में सुरक्षा इंतजाम को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं।

जानकारी के मुताबिक घटना शुक्रवार दोपहर उस समय हुई, जब हर्षित लैंड मार्क सिटी में युवक हुमायूं चौथी मंजिल में बिल्डिंग का रंग-रोगन कर रहा था। वह रंग-रोगन करते समय अचानक वहां से सीधे जमीन पर आ गिरा। इस दौरान जमीन पर रखे लोहे की रॉड युवक के गले में घुस गई। घटना की खबर पर कबीर नगर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची। इसके बाद आनन-फानन में गंभीर युवक को एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित करदिया।

दूसरी ओर घटना के बाद सिंघानिया बिल्डकॉन में काम के दौरान सुरक्षा को लेकर सवाल उठने लगे हैं। यह भी सवाल उठ रहा है कि चौथी मंजिल पर काम करने वाले हुमायूं को सुरक्षा के नाम पर क्या संसाधन उपलब्ध कराए गए थे? इतनी बड़ी घटना के बाद पुलिस क्या कार्यवाही करेगी? पुलिस सिर्फ मर्ग कायम कर पूछताछ कर रही है।


Date : 18-Nov-2019

रायपुर महिला, बिलासपुर, गरियाबंद सामान्य दुर्ग, नांदगांव महिला पिछड़ा के लिए आरक्षित, जिला पंचायत-अध्यक्ष आरक्षण

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवंबर। प्रदेश के 27 जिला पंचायतों में से 13 अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित किए गए। 3 जिला पंचायत अनुसूचित जाति और 7 जिला पंचायत ओबीसी महिला वर्ग के लिए आरक्षित हुए। रायपुर का अध्यक्ष पद महिला, बिलासपुर व गरियाबंद अनारक्षित घोषित किए गए। सभी आरक्षण में 50 प्रतिशत स्थान महिलाओं को दिया गया है।

प्रदेश के 27 जिला पंचायतों में अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण की यह प्रक्रिया आज यहां न्यू सर्किट हाउस में लॉटरी सिस्टम से पूरी की गई। पंचायत अफसरों ने एक-एक कर सभी पंचायतों के लिए दोपहर करीब 12 बजे आरक्षण की प्रक्रिया शुरू की, जो करीब दो घंटे में पूरी कर ली गई। जानकारी के मुताबिक राजनांदगांव, महासमुंद, दुर्ग, बेमेतरा का अध्यक्ष पद अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित किया गया है। रायपुर और मुंगेली को महिला अनारक्षित किया गया है। बिलासपुर व गरियाबंद अनारक्षित रखा गया है। दंतेवाड़ा, सुकमा, बीजापुर, नारायणपुर, कांकेर कोंडागांव, बस्तर, बलरामपुर, सूरजपुर, सरगुजा, कोरबा कोरिया और जशपुर को अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित किया गया है।

इसी तरह बालोद, धमतरी, कबीरधाम अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हुए हैं। रायपुर, बिलासपुर, मुंगेली गरियाबंद को अनारक्षित वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। इनमें से रायपुर और मुंगेली सामान्य वर्ग के लिए है। पंचायत अफसरों का कहना है कि जिला पंचायतों में अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण प्रक्रिया पूरी करने के बाद अब आगे की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।


Date : 18-Nov-2019

ट्रिपल आईटी दीक्षांत समारोह में 69 को डिग्रियां, चेयरमैन गोल्ड मेडल और बेस्ट प्रोजेक्ट अवॉर्ड शशांक कोटियान को दिया गया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवम्बर। नया रायपुर स्थित इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (ट्रिपलआईटी) के नए ऑडिटोरियम में सोमवार को आयोजित पहले दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि राज्यपाल अनुसूइया उइके तथा विशिष्ट अतिथि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 2015 में पासआउट 69 स्टूडेंट्स को डिग्रियां बांटी गईं। इनके अलावा दो गोल्ड और दो सिल्वर मेडल दिए गए। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, ट्रिपलआईटी, दिल्ली के पूर्व डायरेक्टर व एनबीए के पूर्व चेयरमैन प्रो. सुरेंद्र प्रसाद एवं ट्रिपल आईटी डायरेक्टर डॉ. पीके सिन्हा मौजूद रहे।

वर्ष-2015 के ओवरऑल टॉपर श्रीकांत गुप्ता रहे। चेयरमैन गोल्ड मेडल और बेस्ट प्रोजेक्ट अवॉर्ड शशांक कोटियान को दिया गया। अंकिता अश्पिल्लया और श्रृष्टि अग्रवाल को बेस्ट सीजीपी अवॉर्ड प्रदान किया गया।


Date : 18-Nov-2019

गुरूनानक देव के उपदेशों को अपने जीवन में उतारें- राज्यपाल, गुरू ग्रंथ साहिब के समक्ष मत्था टेककर प्रदेश की खुशहाली की कामना

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवंबर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने दशमेश सेवा सोसायटी द्वारा सिक्ख पंथ के संस्थापक प्रथम गुरू गुरूनानक देवजी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में स्थानीय कृषि महाविद्यालय के सामने स्थित प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में पहुंची और गुरू ग्रंथ साहिब के समक्ष मत्था टेक कर छत्तीसगढ़ की खुशहाली की कामना की। राज्यपाल ने इस अवसर पर छत्तीसगढ़ सिक्ख फोरम द्वारा गुरूनानक देव जी की शिक्षा और उपदेशों पर आधारित ‘अनहद’ नामक प्रकाशित स्मारिका का विमोचन भी किया।

सुश्री उइके ने कहा कि गुरूनानकजी ने समाज में व्याप्त भेदभाव एवं अस्पृश्यता आदि विभिन्न कुरीतियों को दूर करने के लिए समाज को एक सरल और सच्ची राह बताई थी। उनका मानना था कि ईश्वर एक है, जिसे अनेकों नाम से पुकारा जाता है। उन्होंने हमें शांति सौहाद्र्र और उचित मार्ग में चलने का रास्ता दिखाया तथा समाज में एकता एवं सद्भाव की ज्योति जलाई। इस अवसर पर राज्यपाल ने उपस्थित जनों को गुरूपर्व की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे गुरूनानक देवजी के उपदेशों पर चलने के लिए समाज को प्रेरित कर रहे हैं, जो अनुकरणीय कार्य है।

राज्यपाल ने कहा कि गुरूनानक जी हमेशा कहा करते थे कि जरूरतमंदों को भोजन कराना और उनकी सहायता करना अत्यंत पुण्य का कार्य है। उन्होंने प्रमुखत: चार शब्दों में उपदेश दिए जिन्हें बहुत ही आसानी से समझा जा सकता है। यह चार उपदेश एकता, समानता, श्रद्धा और प्रेम है। पहले दो शब्द एकता और समानता, वाहेगुरु और मनुष्य के संबंध को बतलाते हैं और दूसरे दो शब्द श्रद्धा और प्रेम, मनुष्य को उन्नति की मंजिल की तरफ ले जाने में सहायक होते हैं। उनका यह कहना था कि पूरी दुनिया कठिनाईयों में है, वह जिसे खुद पर भरोसा है, वही विजेता कहलाता है।

उन्होंने दुनिया को जीतने के बजाय खुद के अंदर विकारों एवं बुराईयों को जीतने और किसी का हक मारने के बजाय मेहनत से धन अर्जन पर जोर दिया। सिक्ख समुदाय के इतिहास में त्याग और बलिदान के अनेकों उदाहरण मिलते हैं। सिक्ख समाज ने देश और समाज के प्रति दायित्वों को सदैव निभाया है। आज इस अवसर पर हम यह संकल्प लें कि गुरूनानक देवजी के विचारों का हमेशा अनुसरण करेंगे।

इस अवसर पर दशमेश सेवा सोसायटी द्वारा राज्यपाल को शाल और स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। इस मौके पर दशमेश सेवा सोसायटी के पदाधिकारीगण प्रीतपाल सिंह होरा, परविंदर सिंह भाटिया, जसबीर सिंह भाटिया, भजन सिंह होरा, राजेन्द्र सिंह भूटानी, बलविंदर सिंह,  देवेन्द्र सिंह, अमरजीत सिंह भाटिया, मंजीत सिंह खनूजा, गुरविंदर सिंह अरोरा, हतीन्द्रपाल बारा एवं बॉबी सिंह होरा सहित एवं बड़ी संख्या में सिक्ख समाज के लोग उपस्थित थे।


Date : 18-Nov-2019

पार्षद चुनाव नहीं लड़ेगी अश्वनी, अश्वनी कहती है मैं तो सिलाई का काम करती थी, महिला आरक्षित होने कारण मैंने चुनाव लड़ा था, पति के सहयोग से उन्होंने वार्ड सडक़, नाली का काम कराया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवम्बर। पं. ईश्वरीचरण शुक्ला वार्ड की वर्तमान पार्षद अश्वनी ध्रुव इस बार चुनाव लडऩे की इच्छुक नहीं है। छत्तीसगढ़ से चर्चा के दौरान उन्होंने बताया कि उनकी कोई राजनीतिक पृष्ठभूमि नहीं रही।

ओबीसी महिला आरक्षित होने के उन्होंने पिछली बार पार्षद चुनाव लड़ा था। पति के सहयोग से उन्होंने वार्ड सडक़, नाली का काम कराया। तालाब गहरीकरण भी करवाया लेकिन असमय पति को खो देने के बाद उन्हें लगता है कि वह पार्षद की जिम्मेदारी नहीं निभा पाएंगी।

अश्वनी कहती है मैं तो सिलाई का काम करती थी। महिला आरक्षित होने कारण मैंने चुनाव लड़ा था, लेकिन मैं इस बार यह वार्ड पुरूष के लिए आरक्षित हो गया है इसलिए मैं पार्षद चुनाव नहीं लडऩा चाहूंगी। परिसीमन के बाद अब हमारा 14 नंबर वार्ड 70 हो गया है। और वोर्टस की बंट गए हैं। मेरे देवर चुनाव लडऩे के लिए जरूर इच्छुक हैं। पार्षद रूप में मुझे काम का अच्छा अनुभव रहा।


Date : 18-Nov-2019

बच्चों के हित मे श्रेष्ठ कार्य कर रहा बाल कल्याण परिषद-बृजमोहन, रंगोली, पेंटिंग हो या गीत गायन में उनकी संवेदनशीलता भी झलक रही, ऐसी प्रतिभावान बच्चों को निरंतर मंच प्रदान करने की आवश्यकता है ताकि यह आगे बढ़ सके

रायपुर, 18 नवंबर। छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा जेएन पांडेय स्कूल में बाल महोत्सव का आयोजन किया गया। यहां स्कूली बच्चों ने विभिन्न संस्कृति प्रस्तुति दी। गीत-संगीत के अलावा रंगोली, फैंसी ड्रेस,पेंटिंग आदि प्रतियोगिता भी आयोजित हुई।जिसमें सैकड़ों बच्चों ने भाग लिया।

बाल कल्याण परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष बृजमोहन अग्रवाल ने समस्त प्रतिभागियों की हौसला अफजाई की। उन्होंने कहा कि यह परिषद बच्चों के हित में निरंतर रचनात्मक कार्य करते आ रहा है। आज के इस आयोजन में स्कूली बच्चों की प्रस्तुति निश्चित रूप से सराहनीय है। रंगोली, पेंटिंग हो या गीत गायन में उनकी संवेदनशीलता भी झलक रही है। ऐसी प्रतिभावान बच्चों को निरंतर मंच प्रदान करने की आवश्यकता है ताकि यह आगे बढ़ सके।

उन्होंने विशेष रूप से मूक बधिर बच्चों द्वारा की गई रंगोली व पेंटिंग तथा दृष्टिबाधित बच्चियों द्वारा गाए गए गीत की भूरी भूरी प्रशंसा की और कहां की ईश्वर किसी मे कुछ कमी करता है तो कोई न कोई प्रतिभा अतिरिक्त प्रदान करता है। आवश्यकता है उस प्रतिभा को पहचानने की और उस क्षेत्र में आगे बढऩे की।

कार्यक्रम में उन्होंने विजेता प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र, शील्ड और मेडल प्रदान कर पुरस्कृत किया। इस दौरान बच्चों से उन्होंने कहा कि जो आज हारा है वह कल निश्चित रूप से जीतेगा। इसलिए हार और जीत महत्वपूर्ण नहीं है महत्वपूर्ण हैं भाग लेना। हार हमें सीख देता है और सीख के साथ आगे बढ़ेंगे तो सफलता निश्चित मिलेगी। इस अवसर पर बाल कल्याण परिषद के पदाधिकारी डॉ अशोक त्रिपाठी, इंदिरा जैन, राजेन्द्र निगम, प्रकाश अग्रवाल सहित विभिन्न स्कूलों के शिक्षक गण बच्चों के पालक आदि उपस्थित थे।


Date : 18-Nov-2019

फैशन शो एवं ब्राइडल ग्रूम स्पर्धा में विद्यार्थियों ने रंग जमाया, प्रतिभागियों ने पंजाबी, मराठी, राजस्थानी, दक्षिण भारतीय, ईसाई एवं मुस्लिम दुल्हा एवं दुल्हनों के वेशभूषा में शानदार तरीके से प्रस्तुत कर आकर्षित किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवंबर। महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल कॉलेज (मैक) समता कॉलोनी में आयोजित तीन दिवसीय मैक फियेस्टा के अंतिम दिन  विगत दिवस स्किट, फैशन शो एवं ब्राइडल ग्रूम स्पर्धा का आयोजन किया गया।

मैक फियेस्टा प्रतियोगिता के तहत पहले दिन मेहंदी, रंगोली, कुकिंग, स्केचिंग एवं पेंटिंग तथा फोटोग्राफी एवं गायन, दूसरे दिन फैंसी ड्रेस , डांस, वाद-विवाद एवं तात्कालिक भाषण तथा तीसरे दिन ब्राइडल ग्रूम एवं रोट्री थीम पर फैशन शो प्रतियोगिताएं हुई।

प्रतिभागियों ने पंजाबी, मराठी, राजस्थानी, दक्षिण भारतीय, ईसाई एवं मुस्लिम दुल्हा एवं दुल्हनों के वेशभूषा में शानदार तरीके से प्रस्तुत कर आकर्षित किया। रेट्रो थीम पर फैशन शो में प्रतिभागियों ने परवीन बाबी, मुमताज, राजेश खन्ना, सहित सिने कलाकारों को गेटअप में रैम्पवॉक किया। अंतर्विभागीय स्किट प्रतियोगिता में नो प्लास्टिक थीम पर एक से बढक़र एक शानदार प्रस्तुतिकरण ने तालियां बटोरी। इस अवसर पर कॉलेज के चेयरमेन राजेश अग्रवाल ने तीन दिवसीय मैक फियेस्टा के सफल आयोजन के लिए बधाई दी एवं सभी विजेता छात्र-छात्राओं को भी बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।


Date : 18-Nov-2019

भाजपा में जिलाध्यक्षों के नामों को लेकर खींचतान बड़े नेता अपनी पसंद का अध्यक्ष बनाने अड़े

छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 18 नवम्बर। भाजपा में जिलाध्यक्षों के नामों पर मंथन हो रहा है। यह बात उभरकर सामने आई है कि बड़े नेता अपने जिलों में अध्यक्ष बनाने के लिए अड़े हैं। ज्यादातर जिलों में अध्यक्ष के नामों को लेकर पार्टी नेता दो खेमे में बंट गए हैं। खेमे बंदी में सांसद भी कूद पड़े हैं। यहां रायपुर शहर से मोटे तौर पर जयंती पटेल का नाम तकरीबन तय माना जा रहा है।

जिलाध्यक्षों के चयन के लिए बैठकों का दौर लगातार जारी है। ज्यादातर जिलों के कोर कमेटियों की बैठक हो चुकी है और उनसे रायशुमारी ली जा चुकी है। बताया गया कि रायपुर शहर से कई नामों में से मौजूदा महामंत्री जयंती पटेल का नाम फायनल माना जा रहा है। पटेल के नाम पर ज्यादातर नेताओं ने सहमति जाहिर की है। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने अपनी तरफ से कोई नाम नहीं दिया है। यद्यपि उन्हें ही अध्यक्ष बनाने की मांग भी उठी थी।

ग्रामीण अध्यक्ष पद के लिए अनिमेश कश्यप, देवजी पटेल और सुनील मिश्रा में से फैसला होना है। मगर इस पूरे मामले में सांसद सुनील सोनी की राय अहम होगी। दिलचस्प बात यह है कि प्रदेश के सांसद भी इसको लेकर सक्रिय हैं। सबसे चौकाने वाली बात यह है कि  कांकेर जिलाध्यक्ष का नाम आदिवासी वर्ग से ही तय करने के लिए प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने दबाव बनाया है। बाकी नेता इसकी खिलाफत कर रहे हैं। अपेक्स बैंक के पूर्व अध्यक्ष महावीर सिंह राठौर और अन्य नेताओं ने उसेंडी की पसंद के खिलाफ अपनी राय भी दी है।

दूसरी तरफ बिलासपुर जिले में सांसद अरूण साव और पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल की जोड़ी नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक की खिलाफत कर रहे हैं। यहां दोनों नेता किसी भी दशा में कौशिक समर्थक को अध्यक्ष न बने, इस कोशिश में जुटे हुए हैं। हालांकि कौशिक रायशुमारी के लिए हर बैठकों में शामिल हो रहे हैं। वे अपना दबदबा कायम रखना चाह रहे हैं। जांजगीर-जिला अध्यक्ष पद के लिए सांसद गुहाराम अजगले और पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष नारायण चंदेल एक राय होकर अपनी पसंद बता दी है। जबकि पूर्व सांसद श्रीमती कमला पाटले और अन्य नेता उनके खिलाफ है। बालोद जिले में भी विवाद के कारण रायशुमारी टाल दी गई है। बहरहाल, आने वाले दिनों में इसको लेकर विवाद और बढ़ सकता है।

 

 

 

 

 

 

 


Date : 18-Nov-2019

चूल्हे के काले धुएं की बीच महिलाएं पका रहीं मध्यान्ह भोजन, आबंटित राशि में नहीं खरीदा जा सकता गैस चूल्हा-डीईओ

छत्तीसगढ़ संवाददाता

देवभोग, 18  नवंबर। जिले के स्कूलों में मध्यान्ह भोजन बनाने वाली महिला आज भी लकड़ी चूल्हा से भोजन बना रही हैं।  स्कूलों में अब तक गैस चूल्हा की व्यवस्था नहीं हो पाई है जिसके चलते जिले के प्राथमिक और मिडिल 1421 स्कूलों में 28 42 महिलाओं को लकड़ी चूल्हा के सहारे मध्यान भोजन पकाना पड़ रहा है।

भोजन बनाने तक महिलाओं को लकड़ी से निकलने वाले धुएं में सांस लेना पड़ता है। महिला समूहों ने बताया कि काला धुआं से तकलीफ होती है। सरकार हमें लकड़ी चूल्हा से छुटकारा दिलाए नहीं तो फेफड़ा कमजारे होने सहित अन्य बीमारी की चपेट में आ जाएंगे।

राज्य और केंद्र सरकार द्वारा स्कूलों में मध्यान्ह भोजन बनाने वाली हजारों महिलाओं के लिए कोई पहल अब तक नहीं हुई है। हालांकि वर्ष 2011 में देवभोग ब्लॉक के गिने-चुने स्कूलों में गैस चूल्हा वितरण किया गया था। जिनमें से कुछ को गैस एजेंसी वालों ने वापस भी ले लिया। ऐसे में महिला समूह को मजबूरी वश लकड़ी चूल्हा में बच्चों के लिए खाना बनाना पड़ रहा है।

माह भर नहीं चलता गैस चूल्हा

सरकार द्वारा प्रत्येक बच्चे हेतु मध्यान भोजन के लिए 5 रुपए 10 पैसा दिया जाता है जिसमें ईंधन भी शामिल है और जिस स्कूल में बच्चों की दर्ज संख्या ज्यादा है वहां समूह द्वारा गैस चूल्हा से मध्यान भोजन बनाना संभव है। अधिक दर्ज संख्या से खपत की राशि की भरपाई हो जाती है। लेकिन जहां बच्चों की दर्ज संख्या कम है ऐसी स्कूल में गैस चूल्हा 15 दिन तक नहीं चल पाता। गैस चूल्हा से मध्यान भोजन नहीं बनाने का यह भी कारण माना जाता है जबकि कुछ महिलाएं अगर ठीक-ठाक राशि मिले तो घर का गैस चूल्हा लाकर मध्यान भोजन बनाने की इच्छुक हैं। महिलाएं सरकार द्वारा दिए जा रहे ईंधन की राशि पर्याप्त नहीं होने की बात कहकर लकड़ी चूल्हा से खाना बनाने को मजबूर हैं।

आए दिन 10 से अधिक पेड़ों की बलि

लकड़ी चूल्हा से महिलाओं को तो खतरा है ही साथ में पेड़ों की बलि भी चढ़ाई जा रही है। देवभोग ब्लॉक में एक भी जगह गैस चूल्हा से मध्यान भोजन नहीं बनाया जाता है। जानकारों की माने तो 50 बच्चों वाले स्कूल में मध्यान भोजन पकाने के लिए चार ग_ा लकड़ी लगती है। ऐसे में 10 स्कूलों के लिए एक पेड़ काटा जाता है। इस तरह प्रतिदिन 200 स्कूलों में मध्यान भोजन तैयार किया जाता है। जिसके लिए कितनी संख्या में पेड़ों की बलि चढ़ाई जाती होगी। बताया जाता है कि स्कूल में मध्यान्ह भोजन बनाए जाने के लिए आए दिन 10 से अधिक पेड़ काटा जाता है। यह आंकलन सिर्फ देवभोग ब्लॉक से है। अगर पूरे जिले का अंदाजा लगाया जाए तो आश्चर्यजनक पेड़ों की कटाई का आंकड़ा सामने आएगा। कुछ समूह संचालक निजी पेड़ कटवा लेते हैं तो वहीं कुछ जंगल से काटी गए पेड़ का इस्तेमाल करते हैं।

वातावरण पर भी असर

देवभोग के ऊपरपीटा एवं मैनपुर ब्लॉक के आडपाथर, खजूरपदर सहित कई स्कूलों पर रसोईया कक्ष निर्माण नहीं हो पाया है। जिसके चलते मध्यान भोजन संचालित समूह को खुले आसमान के नीचे या फिर बांस से बनी झोपड़ी में खाना बनाना पड़ता है। साथ ही लकड़ी से निकलने वाले काले धुएं का असर वातावरण में भी देखने को मिलता है।

शैलेश नितिन त्रिवेदी प्रदेश प्रवक्ता कांग्रेस का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने उज्जवला योजना की बड़ी-बड़ी बात की थी। उन्होंने लोगों से गैस सब्सिडी भी छुड़वा ली लेकिन अभी भी महिलाओं को अगर भोजन बनाने के लिए लकड़ी का सहारा लेना पड़ रहा है तो यह मोदी जी के लिए बड़ी विफलता है।

चुन्नीलाल साहू सांसद महासमुंद लोकसभा ने बताया कि इस प्रस्ताव को माननीय मोदी जी और केंद्री खाद्य मंत्री के समक्ष रखा जाएगा ताकि मध्यान भोजन बनाने वाली महिलाओं को भी गैस चूल्हा की पहल हो सके।

एस.एल ओगरे जिला शिक्षा अधिकारी गरियाबंद ने कहा कि मध्यान्ह भोजन के लिए जितनी राशि आबंटित होती है उसमें गैस चूल्हा नहीं खरीदा जा सकता। सरकार द्वारा ही गैस चूल्हा की पहल हो सकती है।

मयंक अग्रवाल डीएफओ गरियाबंद ने बताया कि मध्यान्ह भोजन बनाने के लिए अगर गिरी हुई सूखी लकडिय़ां इस्तेमाल कर रहे हैं तो फिर तो ठीक है, लेकिन अगर किसी को तोडक़र उपयोग में ले रहे हैं तो इन पर वन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।

इन ब्लॉक पर इतने स्कूल में खाना बनाती है महिलाएं

ब्लॉक का नाम- स्कूल संख्या - खाना बनाते महिलाएं

मैनपुर -     374   -     748

छुरा   -     335  -     6 70

गरियाबंद    -       28 7  -          574

फिंगेश्वर      -      226  -          452

देवभोग -     199    -    398 


Date : 18-Nov-2019

भाजपा मंडल अध्यक्ष चुनाव, कुम्हारी में हंगामा, आरोप है कि वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर बिना कार्यकर्ताओं की जानकारी के आपस में ही तय कर मंडल अध्यक्ष का चुनाव कर लिया गया जिसका कार्यकर्ता विरोध कर रहे थे

कुम्हारी, 18  नवंबर। रविवार को मंगलभवन कुम्हारी में भाजपा मंडल की बैठक का आयोजन किया गया था। बैठक में मंडल अध्यक्ष के चुनाव को लेकर जमकर हंगामा हुआ।

दरअसल पिछले दिनों हुए मंडल अध्यक्ष के चुनाव को भाजपा का एक धड़ा मानने से इन्कार कर रहा है। आरोप है कि वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर बिना कार्यकर्ताओं की जानकारी के आपस में ही तय कर मंडल अध्यक्ष का चुनाव कर लिया गया जिसका कार्यकर्ता विरोध कर रहे थे।

गौरतलब है कि पिछले दिनों हुए इस चुनाव को सांसद विजय बघेल पूर्व मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय और वैशालीनगर विधायक विद्यारतन भसीन ने फर्जी चुनाव कहकर इस बात को ऊपर तक ले जाने की बात कही थी। इसी की परिणति रही कि इस बैठक में कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा और नारेबाजी की।

बैठक में जैसे ही पूर्व विधायक और भाजपा जिलाध्यक्ष सांवलाराम डाहरे बोलने के लिए खड़े हुए कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी कर उन्हें बोलने ही नहीं दिया। कुम्हारी किसान मोर्चा के अध्यक्ष रामाधार शर्मा ने सवाल उठाया कि जिस तरह से संगठन की बैठक आज बुलाई गई है उसी तरह मंडल अध्यक्ष चुनाव के समय कार्यकर्ताओं को जानकारी क्यों नहीं दी गई। सारा कुछ गुपचुप तरीके से हो गया।

बहरहाल कार्यकर्ताओं की नाराजगी को देखते काफी समझाईश का प्रयास किया गया इसके बावजूद कार्यकर्ता नहीं माने आखिर में हो-हल्ला के बीच बैठक बिना किसी निर्णय के समाप्त करनी पड़ी। इस बीच कार्यकर्ता लगातार नारेबाजी कर विरोध जताते रहे।


Date : 17-Nov-2019

निकाय चुनाव, उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन पत्र भर सकेंगे- राज्य निर्वाचन आयुक्त
छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 17 नवम्बर।
आगामी नगरीय निकायों के चुनाव में पार्षद पद के उम्मीदवार ऑनलाइन नाम निर्देशन पत्र भर सकेंगे। ऑनलाइन सॉफ्टवेयर ओनो के माध्यम से नाम निर्देशन पत्र प्राप्त की व्यवस्था स्थापित करने वाले राज्यों में अब छत्तीसगढ़ भी शामिल हो गया हैं। ऑनलाइन नाम निर्देशन पत्र भरने तथा निर्वाचन से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी देने के लिए आज रायपुर में जिलों के उप जिला निर्वाचन अधिकारियों और मास्टर्स ट्रेनर्स के प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर रामसिंह तथा राज्य निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

प्रशिक्षण में राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री ठाकुर ने कहा कि इस सॉफ्टवेयर के कारण रिटर्निंग अधिकारी संबंधित उम्मीदवार का नाम निर्देशन पत्र पहले ही ऑनलाइन देखकर प्रारम्भिक जांच कर सकेगा । इससे अंतिम तिथि को अधिक संख्या में आने वाले नाम निर्देशन पत्र के कारण होने वाली कठिनाई से बचा जा सकेगा । उन्होंने निर्देश दिए कि नाम निर्देशन पत्र भरने में कोई असुविधा न हो इसके लिए जिले में स्थित लोक सेवा केंद्र , जोन कार्यालय , नगर निगम , नगर पालिका और अन्य सुविधाजनक स्थानों पर कंप्यूटर के साथ डाटा एंट्री ऑपरेटर की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये । 

प्रशिक्षण के दौरान नगरपालिका नियमों में हाल ही में हुए संशोधनों की जानकारी देते हुए उनके अनुरूप चुनाव प्रक्रिया संचालित करने की जानकारी दी गयी। प्रशिक्षण के दौरान पार्षद पद के लिये निर्वाचन व्यय सीमा तय होने के कारण अभ्यर्थियों के व्यय लेखा की जांच के लिए निर्वाचक व्यय संपरीक्षक की नियुक्ति और उनके कार्यों के संबंध में भी जानकारी दी ।