छत्तीसगढ़ » सरगुजा

Date : 15-Oct-2019

कारोबारियों से भरी पिकअप पलटी, एक मौत

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
अंबिकापुर, 15 अक्टूबर।
व्यवसायियों से भरी पिकअप वाहन पलटने से उसमें सवार एक व्यवसाई की मौत हो गई। घटना रविवार को उदयपुर क्षेत्र के ग्राम साल्ही मोड़ की है।

जानकारी के अनुसार रविवार को अंबिकापुर से पिकअप में सवार होकर व्यवसायी प्रेमनगर के सोनवाही बाजार में सामान विक्रय करने जा रहे थे। उदयपुर के समीप साल्ही मोड मे पिकअप अनियंत्रित होकर पलट जाने से उसमें सवार लगभग 12 व्यवसायियों को चोटें आई थी। घायल सभी व्यवसायियों को प्रेमनगर अस्पताल ले जाया गया था, वहां से मायापुर निवासी अंजू कश्यप पिता स्वर्गीय जगन्नाथ कश्यप उम्र 35 वर्ष और राम चरण की स्थिति गंभीर देखते हुए दोनों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दाखिल कराया गया था। देर रात अंजू कश्यप की उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने मामले में मर्ग कायम कर लिया है।


Date : 15-Oct-2019

पानी की किल्लत से जूझ रहे नरकालोवासी

लखनपुर, 15 अक्टूबर। लखनपुर जनपद अंतर्गत ग्राम नरकालो के ग्रामीण इन दिनों पीने के पानी को लेकर काफ़ी परेशान हैं। ग्राम पंचायत नरकालो के उपरपारा, केवतपारा के ग्रामीणों को पीने के पानी को लेकर काफी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। पंचायत पीने का पानी उक्त गांव में मुहैया नहीं करा पा रहा है। ग्रामीणों ने इसकी सूचना ग्राम के सरपंच निर्जला सिंह से कई बार की परंतु सरपंच पति देव सिंह ने फंड न होने की बात कहकर ग्रामीणों को वापस लौटा दिया जिसके बाद अब ग्रामीण पेयजल की समस्या से जूझते नजर आ रहे हैं। ग्रामीण प्रतिदिन 5 से 6 किमी स्थित दूसरे हैंडपंप से पानी लाकर अपनी प्यास बुझा रहे है जिससे उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामवासियों में मुख्य रूप से चंपा, ईश्वरी, सुमेरी, बेला, बॉबी, देवकुमारी, सुनीता, ज्योति, धर्मपाल सहित ग्रामवासियो ने पेयजल व्यवस्था नहीं सुधारे जाने पर उग्र आंदोलन किये जाने की बात कही है।

 


Date : 15-Oct-2019

खून की कमी से मासूम की मौत, परिजन करा रहे थे झाडफ़ूंक

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
लखनपुर, 15 अक्टूबर।
लखनपुर क्षेत्र के ग्राम गोरता के एक 6 वर्षीय बच्चे की खून की कमी से मौत का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार ग्राम गोरता झारपारा निवासी कलिंदर राम के 6 वर्षीय बच्चे रविन्द्र को बीमार अवस्था मे लखनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भर्ती कराया गया था जहां शरीर में खून की कमी हो जाने के कारण उसकी मौत हो गई।

बच्चे के परिजनों ने बताया कि गत 15 दिनों से रविन्द्र की हालत खराब थी जिसके बाद पूर्व में ही बच्चे को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया था जिसके बाद चिकित्सकों ने बच्चे को जिला अस्पताल रेफर किया था जहां नौ दिनों तक चले इलाज के बाद बच्चे को अस्पताल से डिस्चार्ज कर घर लाया गया था जिसके बाद लगातार अलग अलग जगहों पर परिजन झाडफ़ूंक कराते रहे। ऐसे में बच्चे की हालत और भी खराब होती चली गयी जिसके बाद पुन: बच्चे को लखनपुर स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई।

इस संबंध में जब खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ पी.एस. केरकेट्टा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि बच्चे को सिकलिन की बीमारी थी। इस बीमारी में व्यक्ति के शरीर मे खून की मात्रा एकदम कम हो जाती है। इस बच्चे के शरीर मे खून की मात्रा काफी कम थी जहां इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गी।

 


Date : 15-Oct-2019

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जोगी के वरिष्ठ कार्यकर्ता व कोरबा लोकसभा प्रभारी राजेश सिंह सिसोदिया ने एक पत्र लिखकर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को बदला विहीन स्वस्थ लोकतंत्र की मांग की

अंबिकापुर, 15 अक्टूबर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जोगी के वरिष्ठ कार्यकर्ता व कोरबा लोकसभा प्रभारी राजेश सिंह सिसोदिया ने एक पत्र लिखकर स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को बदला विहीन स्वस्थ लोकतंत्र की मांग की है। 

पत्र में लिखा गया है कि जनतांत्रिक व्यवस्था में विश्वासों मतों व राजनीति  झुकाव में  विविधताओं का परिणाम भिन्न राजनीतिक दलों में सहभागिता के रूप में देखने को मिलता है। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस पर विश्वास करते हुए लोगों ने उसे सत्तासीन किया है। सरकार बनने के बाद आप लोगों पर विभिन्न विचारधाराओं दलों समेत लोकतंत्र की भी जिम्मेदारी है लेकिन यह देखना बेहद दुखद रहा कि प्रदेश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता जनता कांग्रेस सदस्य अमित जोगी पर निशाने के अतिरिक्त सैकड़ों जमीनी स्तर के निर्दोष कर्मचारियों को निशाना बनाया गया और उनका अप्रत्याशित स्थानों पर स्थानांतरण किया गया। पत्र में लिखा गया है कि जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाते हुए पीडि़त कर्मचारियों की आवाज आप तक पहुंचाई जा रही है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते आप से राज्य में बदला विहीन स्वस्थ लोकतंत्र की उम्मीद है।


Date : 15-Oct-2019

बॉक्साइट उत्खनन कर छोड़े गए गड्ढे में डूबे ग्रामीण का मिला शव

छत्तीसगढ़ संवाददाता

अंबिकापुर, 15 अक्टूबर। मैनपाट के कुदारीडीह में बाक्साइट उत्खनन के बाद छोड़े गए गड्ढे में डूबे ग्रामीण का शव आज पानी में तैरते हुए मिला। सूचना पर पुलिस सुबह पहुंचकर शव को बाहर निकलवा पीएम पश्चात परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।

गौरतलब है कि सोमवार की शाम घटनास्थल पर ग्रामीण के जूते व लुंगी मिली थी। मैनपाट थाने में उसके डूबने की आशंका जताते हुए परिजनों ने कमलेश्वरपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। आज तीसरे दिन तलाबनुमा गड्ढे के पानी में तैरता हुआ शव मिलने से पुष्टि हो गई कि उक्त ग्रामीण की तालाब में डूबने की वजह से ही मौत हुई है। बहरहाल ग्रामीण की मौत स्वयं के डूबने से या किसी अन्य कारण से हुई है पुलिस इसकी जांच पड़ताल में जुटी हुई है।

जानकारी के अनुसार रविवार की दोपहर ग्राम कुदारीडीह निवासी 65 वर्षीय सुरेन्द्र पिता गोपाल पैकरा गांव के पास ही तालाबनूमा गड्ढे के पास मवेशी चराने गया था। देर शाम तक सभी मवेशी वापस लौट आए,लेकिन सुरेन्द्र पैकरा घर नहीं पहुंचा। परिजनों ने सोमवार की सुबह उसकी खोजबीन की तो तलाब नुमा गड्ढे के समीप उसके जूते व कपड़े मिले। गड्ढे में डूबने की आशंका को लेकर परिजनों ने इसकी जानकारी कमलेश्वरपुर थाने में दी।

पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों की मदद से गड्ढे में डूबे ग्रामीण को खोजने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे। इसके पश्चात पुलिस ने अंबिकापुर से 3 गोताखोरों की टीम को बुलाकर ग्रामीण को खोजने के लिए दिनभर मशक्कत की, लेकिन देर शाम तक पता नहीं चला था। मंगलवार सुबह डूबे हुए ग्रामीण का शव पानी में तैरता हुआ मिला। जिसके बाद शव को बाहर निकलवा कर आगे की प्रक्रिया की गई।


Date : 14-Oct-2019

परसा कोल ब्लॉक के विरोध में ग्रामीणों का बेमुद्दत धरना-प्रदर्शन शुरू

अडानी पर नियम विरुद्ध भूमि अधिग्रहण का आरोप, वन स्वीकृति भी फर्जी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
उदयपुर, 14 अक्टूबर।
सूरजपुर हसदेव अरण्य बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले कोल खनन परियोजना के विरोध में
ग्रामीणों ने आज से सूरजपुर जिले के ग्राम तारा में अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। धरना प्रदर्शन में उपस्थित सूरजपुर, सरगुजा एवं कोरबा के प्रभावित किसानों का आरोप है कि अडानी की परसा कोल खनन परियोजना के लिए नियम विरुद्ध ग्रामसभा की सहमति के बिना ही भूमि अधिग्रहण किया गया है। यही नहीं वन स्वीकृति भी फर्जी ग्रामसभा प्रस्ताव बनाकर हासिल की गई है। 

धरना पर बैठे ग्रामीणों की मांग है कि पेशा कानून 1996 एवं भूमि अधिग्रहण कानून 2013 की धारा (41) के तहत ग्रामसभा सहमति लिए बिना परसा कोल ब्लॉक हेतु किये गए जमीन अधिग्रहण को निरस्त किया जाए। वनाधिकार मान्यता कानून 2006 के तहत ग्रामसभा की सहमति पूर्व एवं वनाधिकारों की मान्यता की प्रक्रिया ख़त्म किए बिना दी गई वन स्वीकृति को निरस्त किया जाए। हसदेव अरण्य क्षेत्र में परसा, पतुरिया गिदमुड़ी, मदनपुर साऊथ कोल खनन परियोजनाओं को निरस्त किये जाए एवं परसा ईस्ट केते बासन के विस्तार पर रोक लगाई जाए।

हसदेव अरण्य के जंगल से जुडी़ आदिवासी एवं अन्य ग्रामीण समुदाय की आजीविका व संस्कृति वन क्षेत्र में उपलब्ध जैव विविधता, हसदेव नदी एवं बांगो बांध के केचमेंट, हाथियों का रहवास क्षेत्र एवं छत्तीसगढ़ व दुनिया के पर्यावरण महत्वता के कारण इस सम्पूर्ण क्षेत्र को खनन से मुक्त रखते हुए किसी भी नए कोल ब्लाकों का आवंटन नहीं किया जाए। वनाधिकार मान्यता कानून के तहत व्यक्तिगत और सामुदायिक वन संसाधन के अधिकारों को मान्यता देकर वनों का प्रवंधन ग्रामसभाओं को सौंपा जाए।

धरना में उपस्थित मंगल साय अर्मो, उमेश्वर अर्मो जयनंदन सिंह पोर्ते रामबोला यादव, सहेसर मझवार, रामसाय ठाकुर, नागेश्वर प्रसाद यादव,रामलाल करियाम, आनंद राम कुसरो,मुनेश्वर पोर्ते,कवलसाय पोर्ते, शिवप्रसाद पोर्ते,रामेश्वर पोर्ते,समयलाल मरकाम अमरजीत सिंह, पीयन सिंह,पियारो पोर्ते, सुनीता, धुरपति मरकाम,ठाकुर राम ओरकेरा, मंगल साय मरपच्ची, बालसाय कोर्राम, धरमसिंह कोर्राम, धरमसिंह मरपच्ची, जीतराम पावले,बुधराम कुसरो, अमरसाय कोर्राम,बंसती, देवमती कोर्राम, मुन्नी बाई ठाकुर राम कुसरो, मरपच्ची, लक्ष्मनिया कोर्राम, झुनिया बाई, बिरसो बाई, सुखमनिया पावले, तीजो बाई, शान्ति बाई व सैकड़ों के संख्या में सूरजपुर, सरगुजा एवं कोरबा के प्रभावित किसान उपस्थित हैं ।


Date : 14-Oct-2019

पत्नी की बेदम पिटाई, गंभीर, पति गिरफ्तार 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
अंबिकापुर, 14 अक्टूबर।
घरेलू विवाद पर पति ने पत्नी की इस कदर पिटाई कर दी की वह सुध बुध ही खो बैठी। यही नहीं चार से पांच दिनों तक कमरे में बेसुध घायल पड़ी महिला को ससुराल पक्ष के लोगों ने पूछा तक नहीं। इस बात की खबर मायके पक्ष वालों को लगते ही उसे मायके पक्ष के लोगों ने मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाकर दाखिल कराया है। दूसरी तरफ रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है। पति द्वारा अमानवीय तरीके से की गई मारपीट से महिला की दोनों आंखें काली पड़ चुकी है। बड़ी बात यह है कि 1 माह पहले ही उसने शिशु को जन्म दिया था। स्थिति यह है कि वह अपने दूधमुंहे बच्चे तक को नहीं पहचान पा रही है।

जानकारी के अनुसार रामानुजगंज क्षेत्र के ग्राम महावीर गंज निवासी इंद्ररपति (22 वर्ष) का एक माह पहले ही प्रसव हुआ है। महिला के मायके पक्ष वालों का कहना है कि गत मंगलवार को उसके पति सुनील सारथी द्वारा घरेलू विवाद को लेकर महिला के साथ मारपीट की गई। अमानवीय तरीके से की गई मारपीट से महिला अचेत हो गई। इसके बाद एक कमरे में वह 4 से 5 दिनों तक बेसुध पड़ी रही। ससुराल वालों ने उसकी चोट और गंभीर अवस्था को देखते हुए भी उस पर कोई ध्यान नहीं दिया। पड़ोसी ने इसकी सूचना महिला के मायके पक्ष वालों को दी। 

रविवार को मायके पक्ष से महिला के भाई व अन्य लोग वहां पहुंचे। महिला की स्थिति देखकर मायके पक्ष वालों के होश उड़ गए। पहले इसकी रिपोर्ट उनके द्वारा संबंधित थाने में दर्ज कराई गई। रिपोर्ट पर पुलिस ने अपराध दर्ज करते हुए उसके पति को गिरफ्तार कर लिया। बाद में मायके वालों ने गंभीर महिला को मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाकर दाखिल कराया है। यहां भी उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। अभी तक उसे होश नहीं आ पाया है। चेहरे में चोट के निशान स्पष्ट बता रहे हैं कि किस तरह से उसके साथ मारपीट की गई होगी।

 


Date : 14-Oct-2019

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में स्ट्रेचर की समस्या को लेकर आए दिन मरीजों को परेशानी, 20 नए स्ट्रेचर का हुआ ऑर्डर

छत्तीसगढ़ संवाददाता
अंबिकापुर, 14 अक्टूबर।
मेडिकल कॉलेज अस्पताल में स्ट्रेचर की समस्या को लेकर आए दिन मरीजों को परेशानी की खबरें सामने आती रहती है। कई बार टूटे चक्के के स्ट्रेचर पर गंभीर मरीजों को लिटाकर ले जाते हुए भी देखा जाता है। इन सभी समस्याओं से अब मुक्ति मिल सकेगी। पुराने स्ट्रेचर जिनके चक्के टूट चुके हैं उन्हें ना सिर्फ बनवाया जाएगा, बल्कि स्ट्रेचर की समस्या को लेकर प्रबंधन ने 20 नए स्ट्रेचर के लिए भी ऑर्डर कर दिया है। प्रबंधन के अनुसार जल्दी ही नए स्ट्रेचर पर्याप्त मात्रा में अस्पताल में मुहैया हो सकेंगे।

गौरतलब है कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अक्सर मरीजों को स्ट्रेचर नहीं मिलने की परेशानी सामने आती रहती है। दूसरी ओर स्ट्रेचर पर अस्पताल के कर्मचारी दवा एवं कचरा ले जाते हुए दिखाई देते हैं। ऐसी घटना लगातार सामने आती रहती है। स्ट्रेचर को लेकर अक्सर अस्पताल सुर्खियों में रहता है।गंभीर मरीजों के आने पर अस्पताल के मुख्य द्वार पर ओपीडी के समीप स्ट्रेचर नहीं मिलने की परेशानी गंभीर मरीजों के परिजनों के लिए काफी दुखदाई होती है। गलती से स्ट्रेचर मिल भी जाता है तो उसके चक्के टूटे हुए मिलते हैं। इन परेशानी को देखते हुए अस्पताल प्रबंधन ने आज सभी स्ट्रेचरों की मरम्मत के लिए व्यवस्था कराई। इसके साथ साथ 20 नए स्ट्रेचर के लिए ऑर्डर दे दिया है। प्रबंधन ने कहा कि किसी भी मरीजों को अब स्ट्रेचर के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। जल्द ही 20 नए स्ट्रेचर अस्पताल में पहुंच जाएंगे।

जहां ले जाते हैं वहीं छोड़ देते हैं कर्मचारी स्ट्रेचर
अस्पताल में स्ट्रेचर पर कचरा व दवा लाने ले जाने के दौरान कर्मचारी जहां स्ट्रेचर को ले जाते हैं, वहीं छोड़ देते हैं। इस कारण से वार्ड एवं ओपीडी के पास अक्सर विपरीत परिस्थितियों में स्ट्रेचर की कमी सामने आती है। प्रबंधन ने ऐसे कर्मचारियों को हिदायत देते हुए कहा कि अगर स्ट्रेचर कहीं ले जाते हैं तो उसे वापस लाकर सही स्थान पर रखें ,ताकि विपरीत परिस्थितियों में लोगों को स्ट्रेचर की कमी का सामना ना करना पड़े।

 


Date : 14-Oct-2019

सुपोषण अभियान के क्रियान्वयन में मैदानी अमलों पर कड़ी निगरानी रखें-अनिला

छत्तीसगढ़ संवाददाता
अम्बिकापुर, 14 अक्टूबर।
महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिया ने कहा है कि महिलाओं तथा बच्चों में कुपोषण दूर करने राज्य शासन द्वारा चलाये जा रहे विशेष अभियान का धरातल पर शत प्रतिशत क्रियान्वयन कराने के लिये अधिकारी मैदानी अमलो पर कडी निगरानी रखें। उन्होंने कहा कि अधिकारी प्रतिदिन क्षेत्रों का दौरा करें और योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित कर स्थिति में सुधार लायें। श्रीमती भेंडिया ने यह निर्देश आज यहां सर्किट हाउस में सरगुजा संभाग अंतर्गत जिलों के महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला अधिकारियों की बैठक में दिये। 

मंत्री श्रीमती भेंडिया ने अधिकारियों से मुख्यमंत्री सुपोषण योजना, रेडी टू ईट, कुपोषण की स्थिति, बालिका गृह, नारी निकेतन तथा संप्रेक्षण गृह के संचालन तथा परियोजना कार्यालयों की गतिविधियों के संबंध में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने मुख्यमंत्री सुपोषण योजना को राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना बताते हुये कहा कि राज्य में कुपोषित एवं एनिमिक बच्चे का प्रतिशत अधिक है। इसे कम करना हमारे लिए चुनौती है। लेकिन कुपोषण प्रतिशत को कम करते हुये जड़ से मिटाने हम सब ठान लेगें तथा अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन करेंगे तो निश्चित ही सफलता मिलेगी।श्रीमती भेंडिया ने कहा कि शासन की योजनाओं की जानकारी मैदानी स्तर पर नहीं हो पाती है जिससे लोगों को लाभ नहीं मिलता है। शासन की योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार जिला स्तर के साथ ही परियोजना कार्यालय भी सक्रियता से करें। उन्होंने कहा कि विभागीय योजनाओं से संबंधित कार्यक्रमो में जनप्रतिनिधियों को जरूर आमंत्रित करें। 

श्रीमती भेंडिया ने परियोजना कार्यालयों में कार्यालयीन कार्यों के सुचारू संचालन के लिए डाटा एंट्री ऑपरेटरों की व्यवस्था कराने तथा कार्यालय भवन के निर्माण एवं मरम्मत कार्य करांने के लिए प्रस्ताव तैयार कराने के निर्देश दिये। उन्होंन रेडी टू ईट के संचालन तथा गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने कहा।इस अवसर पर सरगुजा, सूरजपुर, जशपुर, बलरामपुर-रामानुजगंज तथा कोरिया जिले के जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं परियोजना अधिकारी उपस्थित थे। 


Date : 14-Oct-2019

जीवनदान समाज सेवा संस्था ने छात्रों को किया पुरस्कृत, दी प्रोत्साहन राशि 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
अंबिकापुर, 14 अक्टूबर।
ग्राम बरियों तहसील राजपुर में जीवनदान समाज सेवी संस्था द्वारा मेधावी छात्रों को पुरस्कार वितरण और मेडल प्रदान किया गया। बच्चों के मनोरंजन के लिये राजू आर्केस्टा पार्टी ने उपस्थित बच्चों और लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

जीवन दान सेवी संस्था की जिलाध्यक्ष श्रीमती प्रभात बेला मरकाम ने 93 बच्चों को पुरस्कार वितरण किया। बच्चों फोटो सहित करते हुए मेडल के साथ 500 रुपए भी दिया गया।

श्रीमती मरकाम ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि संस्था लगातार बच्चों को आगे बढ़ाने के लिये प्रेरित करती आ रही है। आने वाले समय मे मेधावी छात्रों को समय-समय में आगे बढ़ते रहेंगे। साथ में बच्चों को खेलकूद में भी आगे लाएंगे, ताकि प्रदेश स्तर पर आगे बढ़ सके। इसके अलावा संस्था द्वारा सामान्य ज्ञान की परीक्षा की भी तैयारी करवाई जा रही है ताकि बच्चे आने वाले समय मे पीएससी और प्रतियोगी पेपरों में आसानी से निकल जाए। महिलाओं किसान को हमारी समिति आगे बढ़ाने के लिये स्पेशल ट्रेंनिग देगी, ताकि वह भी आगे बढ़ सके।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अपर कलेक्टर के पी साय, विश्ष्टि आतिथि डिप्टी कमीशनर ए पी सांडिल्य द्वारा पुरस्कार वितरण किया गया। कार्यक्रम में पूर्व संसदीय सचिव सिद्धनाथ पैकरा, पवन साय बीजेपी प्रदेश संगठन मंत्री, वीरेंद्र सिंह बघेल , अनिल सिंह मेजर ब्लाक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेंद्र तिवारी, विकास पटेल , विधानसभा उपाध्यक्ष कांग्रेस चन्द्र यादव भगवत सिंह चन्दा गुप्ता, कमलाकांत, वीरेंद्र सिंह, प्यारेलाल जायसवाल, राजेश पाठक और क्षेत्र से बहुत लोग उपस्थित 


Date : 14-Oct-2019

लंबित पेंशन प्रकरणों का त्वरित निराकरण कराएं- भेंडिया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
अम्बिकापुर, 14 अक्टूबर।
छत्तीसगढ़ शासन के महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती अनिला भेंडिया की अध्यक्षता में सर्किट हाउस में समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों की संभागीय समीक्षा बैठक सम्पन्न हुआ। बैठक में श्रीमती भेंडिया ने पेंशन योजनाओ का क्रियान्वयन विभिन्न आश्रमों का संचालन दिव्यांग प्रमाण पत्र मोटराईज्ड ट्राईसाईकल वितरण, थर्ड जेडर की स्थिति पर जानकारी ली और अधिकारी आवश्यक निर्देश दिये। 

श्रीमती भेंडिया ने राज्य शासन द्वारा संचालित विभिन्न पेंशन योजनाओं की समीक्षा करते हुये कहा कि पेंशन प्रकरणों का निराकरण तेजी से करायें और पेंशन भुगतान में लम्बित स्थिति न आने दें। पेंशन प्रकरणों के निराकरण के लिए शिविर आयोजित करें। उन्होंने कहा शासन से राशि जारी होने के बाद भी बैंको द्वारा कई महिनो तक पेंशन राशि हितग्राही के खाते में जमा नहीं करते हैं। ऐसी स्थिति में बैंक से समन्वय करें और हितग्राहियों के खाते में पेंशन राशि जमा करायें। उन्होंने कहा कि अधिकारी एवं कर्मचारी समाज के निराश्रित एवं जरूरत मंदो की सहायता को सेवा भाव समझकर अपना दायित्व निभायें। श्रीमती भेंडिया ने कहा कि दिव्यांगो के मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने में सहुलियत देने के लिये शिविरों का भी आयोजन करें। इसके साथ ही जिला अस्पताल में यूडीआईडी बनाने के कार्यो का भी मॉनीटरिंग करते रहें। उन्होंने कहा कि मोटराइज्ड ट्राईसाइकल देने हेतु दिव्यांगता का प्रतिशत वर्तमान में 80 प्रतिशत से अधिक होना जरूरी है। 80 प्रतिशत दिव्यांगता की अनिवार्यता होने से चलने में अक्षम दिव्यांग भी ट्राईसाइकल से वंचित हो जाते है। इस प्रतिशत को कम करने हेतु विचार किया जायेगा। 

श्रीमती भेंडिया ने कहा कि दिव्यांगो को स्वरोजगार उपलब्ध कराने तथा स्थानीय स्तर पर मोटराईज्ड ट्राईसाईकल के मरम्मत हो इसके लिए दिव्यांगो को मोटर मैकेनिक का प्रशिक्षण दिलायें तथा गैरेज खोलने के लिए विभागीय ऋण सहायता उपलब्ध करायें। उन्होंने थर्ड जेडर समुदाय की जिलों में स्थिति तथा शासन की योजनाओं का उन तक पहुंच की समीक्षा करते हुये कहा कि राशन कार्ड तथा पहचान पत्र बनाने के लिए शिविर का आयोजन करें। इसके साथ ही इन समुदाय के लोगो को शासन की योजनाओं की जानकारी हेतु जागरूकता अभियांन चलाये। 


Date : 14-Oct-2019

सड़क पर धूल के गुबार, राहगीर हलाकान

छत्तीसगढ़ संवाददाता
लखनपुर, 14 अक्टूबर।
लखनपुर क्षेत्र अंतर्गत इन दिनों मुख्यमार्ग पर उड़ती धूल लोगों के लिए एक बड़ी मुसीबत बनकर उभर रही है। ज्ञात हो कि अम्बिकापुर-बिलासपुर मुख्यमार्ग विगत कई वर्षों से निर्माणाधीन है जिसके बाद आज तक मुख्यमार्ग की हालत में कोई सुधार नहीं हो पाया है। 

मुख्यमार्ग पर बड़े बड़े गड्ढों के बीच आज धूल एक गंभीर समस्या बन चुका है। मुख्यमार्ग के निर्माण की अगर बात की जाए तो मुख्यमार्ग के आधे से अधिक हिस्से का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है जिसके बाद कुछ जगहों पर निर्माण अब भी अधूरा है। इन अधूरे मार्गों में लखनपुर तहसील से अंधला मार्ग तक जहां सड़कों पर बड़े-बड़े गड्ढे हादसों को न्यौता दे रहे हैं, तो वहीं इन मार्गों पर चल रहे भारी वाहनों से धूल लोगों के लिये परेशानी का सबब बन चुकी है। 

इस मुख्यमार्ग पर रोजाना बड़ी मात्रा में छोटे सहित बड़े वाहनों का आवागमन होता है जिसके बाद उड़ता धूल का गुबार अब लोगों के स्वास्थ्य पर असर डालने लगा है। चिकित्सकों की मानें तो अब क्षेत्र में दमा,धूल की बीमारी,खांसी, अस्थमा के मरीजो की संख्या में लगतार बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। आलम यह है कि धूल के गुबार के कारण आमने सामने से आने जाने वाली वाहनों को भी इंसान साफ तौर पर नही देख सकता। कुछ समय पहले इन रास्तों पर पानी छिड़कने का कार्य भी किया जाता रहा जो आज नाकाफी साबित हो रही है। फिलहाल क्षेत्रवासियों ने जल्द से जल्द व्यवस्था सुधार करते हुए मुख्यमार्ग निर्माण की मांग की है।

हो रही गंभीर बीमारियां-बीएमओ
इस संबंध में जब सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीएमओ डॉ. पी केरकेट्टा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मुख्यमार्ग पर उड़ रही धूल के कारण लोगों में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों में इजाफा साफ तौर पर देखा जा रहा है। मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी साफ तौर पर देखी जा सकती है। 

 


Date : 14-Oct-2019

उल्टी-दस्त से 4 ग्रामीणों की मौत के बाद गांव में कैंप, जांच कर दवा वितरण

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कुसमी, 14 अक्टूबर।
ब्लॉक मुख्यालय कुसमी के ग्राम डूमरखोली में आज स्वास्थ्य विभाग द्वारा कैंप लगाकर घरों में घूम-कर ग्रामवासियों की सुध ली जा रही है। वहीं हिण्डालको प्रबंधक द्वारा भी हिण्डालको के आदित्य चिकित्सालय से चिकित्सको की टीम भेज कर ग्रामीणों की जांच की गई।

ज्ञात हो कि ब्लॉक मुख्यालय कुसमी के ग्राम डूमरखोली में पिछले 10 दिन के अंदर उल्टी-दस्त से 4 लोगों की मौत हुई थी, जिसमें एक ही परिवार के तीन लोग थे। उक्त मामले की खबर प्रकाशन के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्राम में कैंप लगाया गया है। कई ग्रामीण अभी भी उल्टी-दस्त से पीडि़त हैं।      ग्रामीणों के अनुसार ग्राम डूमरखोली के बैगा पारा में एक ही परिवार के तीन सदस्य तेतरी बाई 55 वर्ष, पहरी ढाई वर्ष तथा बिफऩी 35 वर्ष का एक सप्ताह के अंदर उल्टी-दस्त से मौत हो गई थी। बिफनी के पति चुड़रु ने 'छत्तीसगढ़Ó को बताया कि सबसे पहले मेरी मां को उल्टी दस्त पकड़ा जो दो दिन के बाद चल बसी। जिसके दो दिन बाद भतीजी की भी मौत हो गई। अंत में मेरी पत्नी को उल्टी दस्त पकड़ा वह भी 2 दिन बाद चल बसी। चुड़रु के अनुसार इलाज करवाने हेतु साधन के अभाव में हम लोग इलाज नहीं करवा पाए। स्वास्थ्य विभाग से कोई इस गांव में नहीं आता है। मेरे दो बच्चों को भी उल्टी-दस्त हो गया है जिसमें एक दिल बंधु 6  वर्ष व दूसरी फुल मनिया 4 वर्ष की है, इसका भी इलाज नहीं करवा पा रहा हूं। राजीव गांधी सेवा केंद्र भवन बने करीब 3 वर्ष हो चुका है पर आज तक उसका ताला नहीं खुला है अगर इस स्वास्थ्य केंद्र में कर्मचारी रहते तो शायद मेरे परिवार के तीन सदस्य का मौत नहीं होता। वहीं इसी ग्राम के पश्चिम पारा में भी अति संरक्षित जनजाति के ब्रिजिया जाति के मुखलाल 30 साल की भी इलाज के अभाव में उल्टी-दस्त से मौत हो गई। ग्रामीणों ने बताया कि यहां स्वास्थ्य विभाग से कभी-कभी तीन चार माह में ही कोई आता है और बिना ग्रामीणों से मिले चले जाता है।

इस खबर की जानकारी मिलते ही हिण्डालको द्वारा उल्टी-दस्त पीडि़त ग्राम डुमरखोली में मेडिकल कैंप लगा दिया गया है। जहां पर हिण्डालको प्रबंधक राजेश रंजन अम्बष्ट ने भी ग्रामीणों का हाल चाल का जायजा लिया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा भी मेडिकल कैंप लगाकर जांच किया जा रहा हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम में बलरामपुर जिला स्वास्थ्य अधिकारी बसंत सिंह, कुसमी खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. टी साय, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सबाग प्रभारी डॉ अनिल पाठक, सबाग की सुपरवाइजर प्यारेलाल, ग्राम डुमरखोली पुरूष कार्यकर्ता जोशेफ टोप्पो व महिला कार्यकर्ता लीलेश्वरी राजवाड़े, आरबीएसके की टीम ए व टीम बी शामिल हैं। सोमवार को तहसीलदार कुसमी इरशाद अहमद, जनपद पंचायत सीईओ विनोद जायसवाल सहित सामरी पुलिस विभाग से एसआई मनोज सिंह की टीम ने उक्त ग्राम पहुंचकर हाल-चाल जाना।

स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा जांच के उपरांत उल्टी दस्त से पीडि़त सीता नागेसिया तथा बुखार से ग्रस्त दिलबन्धु, फुलमनिया, संजीता को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुसमी में बेहतर ईलाज के लिए निवास ग्राम से भर्ती किया गया। जिला स्वास्थ्य अधिकारी बसंत सिंह ने बताया कि घरो में जा-जाकर कुल 6 5 घरों में से 45 घरों के सदस्यों का जांच किया गया बाकी के 15 घर बंद मिले। मैदानी स्तर के स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा भ्रमण नहीं किए जाने के सवाल पर बसंत सिंह ने कहा कि विकास खंड चिकित्सा अधिकारी कुसमी से जानकरी लेकर जांच उपरांत लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाईकी जाएगी।

शुद्ध पेयजल नहीं
ग्रामीणों ने बताया की ग्राम में शुद्ध पेयजल का अभाव है। यहां के लोग ढोड़ी का दूषित जल सेवन करते है। गांव में मात्र एक हैंडपंप है, जिसका उपयोग यहां के लोग आयरन युक्त पानी होने के कारण नहीं करते हैं। मजबूरन ढोड़ी का पानी पीना पड़ रहा हैं। स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा कभी इनको ब्लीचिंग पाउडर भी नहीं बांटा जाता है, ताकि लोग ढोड़ी में ब्लीचिंग पाउडर डाल पानी को शुद्ध कर सकें। ग्रामीणों को क्लोरीन का टेबलेट वितरण सहित मौसमी बीमारी से निजात के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा दवा का वितरण भी नहीं किया जाता हैं। पीएचई विभाग कुसमी में पदस्त सब इंजीनियर सीएल कोरी ने कहा बाक्साईट इलाका होने के कारण हल्का आयरन युक्त पानी आता है। फिल्टर लगाने से यहां के ग्रामीण तोड़ देते हैं। हालांकि कम मात्रा में आयरन है इससे किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। 

राजीव गांधी सेवा केंद्र में लटका है ताला
बीते 2 वर्ष पहले बने लाखों के राजीव गांधी सेवा केंद्र के तहत बने भवन पूर्ण होने के बाद भी बंद पड़ा हुआ है। इस भवन का उपयोग आज तक नहीं किया गया। यहां के ग्रामीणों का कहना है कि नेटवर्क नहीं होने के कारण आपातकालीन स्थिति में एम्बुलेंस या अन्य साधन नहीं मिल पाता है। जिससे तत्काल इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सामरी या सबाग जा सकें। यदि पश्चिम पारा के निर्मित राजीव गांधी सेवा केंद्र के भवन में स्वास्थ्य केंद्र लगाया जाये तो दूर जाना नहीं पड़ेगा तथा ईलाज से वंचित भी नहीं रहना पड़ेगा।


Date : 13-Oct-2019

अनोखी सोच संस्था द्वारा डांस प्रतियोगिता 

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
अंबिकापुर, 13 अक्टूबर।
समाजसेवी संस्था अनोखी सोच द्वारा शारदीय नवरात्र पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के अगले चरण में शनिवार को सिनियर व जूनियर ग्रुप डांस प्रतियोगिता का आयोजन कराया गया। शुक्रवार रात्रि सम्पन्न हुए जूनियर ग्रुप डांस प्रतियोगिता में 20 ग्रुप  ने तथा सिनियर ग्रुप  में 12 ग्रुप  ने कभी मां दुर्गा का प्रचंड रूप धारण कर तो कभी भूतों की टोली बनकर, कोई क्लासिकल, कोई भभूत लपेटे भगवान शिव व उनकी मंडली के साथ जबरजस्त नृत्य का प्रदर्शन कर रहे थे। छोटी छोटी बालिकाओं ने पारंपरिक वेशभूषा में शानदार नृत्य कर शमां बांध दिया।

डांस प्रतियोगिता में निर्णायक की भूमिका में संगीत गुरु श्री भानु शंकर झा , राकेश राजौरिया सर , श्री अंजनी मिश्रा जी , डॉ गौरव सिंह जी ने नृत्य, भावभंगिमा और वेशभूषा के आधार पर प्रतिभागियों की प्रस्तुति का आंकलन किया। निर्णायक मण्डल द्वारा कल सम्पन्न हुए ग्रुप डांस प्रतियोगिता में अगले सेमीफाइनल राउंड के लिए 8 -8  ग्रुपों का चयन किया गया।
कार्यक्रम में अतिथि के रूप में केन्दीय जेल अधीक्षक राजेन्द्र गायकवाड़ , मेडिकल कॉलेज अधीक्षक एस पी कुजूर ,उप अधीक्षक अलख वर्मा , जेलर जितेंद्र सिंह ठाकुर , सी एस सर्राफ , अमरनाथ कश्यप , शाहजहां खान , श्रीमती सुधा किरण दान , श्रीमती प्रियंका कुरील, श्रीमती शांता सिंह , श्रीमती मांडवी तिवारी की गरिमामयी उपस्तिथि रही । अतिथियों ने इस नृत्य प्रदर्शन को बेहतरीन व मनमोहक बताया और संस्था के सदस्यों को इस आयोजन के लिए बधाई दी।  अनोखी सोच संस्था के सदस्य पूरे कार्यक्रम के दौरान लोगों के लिए अच्छी व्यवस्था बनाए रखने सक्रिय रहे । इस अवसर पर इन भव्य व शानदार कार्यक्रमों को सफल बनाने में संस्था के प्रकाश साहू, पंकज चौधरी, विकास, राहुल, गजानंद, रोहित, डबलू, विशाल,पंकज, ननकु,उदय, मांगुड, गोपी ,मोलू वगैरह ने बेहतरीन कार्य किया।

 


Date : 13-Oct-2019

रास्ते में संदिग्ध रूप से घायल पड़ी युवती की उपचार के दौरान मौत

छत्तीसगढ़ संवाददाता 
अंबिकापुर, 13 अक्टूबर।
दशहरे के दिन कार्यक्रम देखने एक युवक के साथ बाइक से निकली युवती मार्ग में संदिग्ध रूप से घायल मिली थी। आज उपचार के दौरान मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मामले में मर्ग कायम कर लिया है।पुलिस ने बताया कि ग्राम परासी की युवती दशहरा देखने के लिए कुसुमी जाने के नाम पर एक लड़के के साथ बाइक पर निकली थी। बाद में जरहाडीह के पास वह घायल अवस्था में मिली। सूचना पर परिजन मौके पर पहुंचे थे, परंतु उसके आसपास कोई युवक नहीं था। परिजनों से अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल लाकर दाखिल किए थे, जहां से चिकित्सकों ने उसे रायपुर रिफर कर दिया था। उसे रायपुर ना लेजाकर परिजन वापस घर ले गए थे। शनिवार को उसकी तबीयत ज्यादा खराब होने पर उसे पून: मेडिकल कॉलेज अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।


Date : 13-Oct-2019

अवकाश के दौरान अपने घर गई शिक्षिका के सूने घर में चोरों ने हाथ साफ किया

उदयपुर, 13 अक्टूबर। अवकाश के दौरान अपने घर गई शिक्षिका के सूने घर में चोरों ने हाथ साफ किया। 
स्थानीय पानी टंकी के बगल में स्थित एक किराए के मकान में रहने वाली शिक्षिका आराधना जांगडे 3 अक्टूबर को त्यौहार मनाने के लिए दशहरे की छुट्टी में अपने घर पामगढ़ जिला जांजगीर गई हुई थी। शुक्रवार को जब वापस आई और देखी तो रुम के  दरवाजे पर टूटा हुआ ताला लटक रहा था। घर के अंदर का सारा सामान बिखरा पड़ा था आलमारी भी खुली हुई थी। चोरी गए सामानों में एक मिक्सर दस हजार नगद एक जोड़ी चांदी का पायल एक सोने का लाकेट 40 किलो गेहूं साड़ी सहित अन्य कपड़े भी चोर उड़ाकर ले गए। घटना की सूचना उदयपुर पुलिस को दी गई मौके पर पहुंचकर पुलिस ने  निरीक्षण किया तथा चोर द्वारा मौके पर छोड़ा गया चप्पल अपने कब्जे में लिया गया है। 

 


Date : 13-Oct-2019

अमरजीत भगत कतकालो में गांधी विचार पदयात्रा व फुटबॉल समापन हुए शामिल 

अम्बिकापुर, 13 अक्टूबर। संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत के नेतृत्व में महात्मा गांधी के 150वी जायंती पर शुक्रवार को मैनपाट जनपद के ग्राम पंचायत कतकलो में गांधी विचार पदयात्रा की गई। पदयात्रा में  जनप्रतिनिधि,युवा, बुजुर्ग,एवं महिला शामिल हुए। हाई स्कूल मैदान में आयोजित सभा के दौरान महात्मा गांधी के प्रतिकृति के पुष्प अर्पित किया गया।
सभा की संबोधित करए हुए मंत्री श्री भगत ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी समाज के सभी वर्गों को समान भाव से देखते थे। उनके सामाजिक समरसता के संदेश आज भी प्रासंगिक है जिसे हमें जन-जन तक ले जाना होगा। उन्होंने कहा कि गांधी जी ग्राम स्वराज्य के पक्षधर थे ताकि ग्राम पंचायतों का सुदृढ़ीकरण हो और लोग स्वावलंबी हो सकें। उन्होंने कहा कि गांधी जी के विचारों को आगे ले जाने के लिए हमारी सरकार ने नरवा, गरवा,घुरवा और बाड़ी  योजना शुरू की है ।इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मजबूती आएगा।

श्री भगत ने क्षेत्र की जनता को बधाई देते हुए कहा कि आप लोगों ने सेवा का अवसर दिया है और सरकार ने मुझे आपके चूल्हे जलाने तथा राशन पहुंचाने की जिम्मेदारी दी है। सस्ता चावल देने के लिए राशन कार्ड का नवीनीकरण तथा एपीएल परिवारों के भी नया राशन कार्ड बनाये जा रहे है। अब  एक सदस्य को 10 किलो तथा 3 सदस्य तक के परिवार को 35 किलो 3 से अधिक होने पर प्रति सदस्य 7 किलो के मान से बीपीएल परिवार को एक रुपये तथा एपीएल परिवार को 10 रुपये प्रति किलो की दर से  चावल दिया जाएगा। इसके साथ ही सर्वभौम पीडीएस सिस्टम लागू की गई है जिसमे देश के किसी भी पीडीएस दुकान से चावल ले सकते है। श्री भगत ने कहा कि लोक कला एवं संस्कृति को संरक्षित रखने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होते रहना चाहिए। उन्होंने इस अवसर पर सांस्कृतिक दलों को 2 हजार 100 रूपये प्रदान की तथा सभी सांस्कृतिक दलों को 10-10 हजार रूपये कलेक्टर के माध्यम से देने की घोषणा की। इस अवसर पर मैनपाट के जपद उपाध्यक्ष श्री अटल यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि,स्थानीय युवा,बुजुर्ग तथा महिलाएं बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 

इसके साथ ही जिले के लुण्ड्रा विकास खण्ड में विधायक डॉ प्रीतम राम के नेतृत्व में ग्राम पंचायत उदारी से राता तक,अम्बिकापुर के ग्राम पंचायत रनपुर में विद्यायक प्रतिनिधि श्री बालकृष्ण पाठक एवं जिला पंचायत सदस्य श्री राकेश गुप्ता के नेतृव में  एवं विकासखंड उदयपुर तथा बतौली में भी पदयात्रा की गई।  पद यात्रा के शुभारंभ अवसर पर गांधी जी की प्रतिमा और चित्र पर फूल माला अर्पित कर तथा दीप प्रज्जवलित कर की गई। इस दौरान गांधी जी के विचार एवं बताये मार्गो का अनुसरण करने के लिए उपस्थित जनो को प्रेरित किया गया।

 


Date : 13-Oct-2019

पर्यावरण संरक्षण-संवर्धन मंच की प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा, गौतम बने प्रदेश अध्यक्ष, अनुराग व घनश्याम उपाध्यक्ष

अंबिकापुर, 13 अक्टूबर। मानव कल्याण एवं सामाजिक विकास संगठन (रजि)द्वारा संचालित पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन मंच की प्रदेश कार्यकारिणी जिसका प्रस्ताव मंच के प्रदेश अध्यक्ष अमित गौतम द्वारा संगठन कार्यालय में आयोजित बैठक में आम सहमति के बाद संगठन की प्रबंधन समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। जिसका अनुमोदन संगठन के संस्थापक अध्यक्ष उमेश कुमार के द्वारा किया गया। 

इस अवसर पर संगठन के प्रबंधन समिति के अन्य पदाधिकारियों में संगठन उपाध्यक्ष प्रांकुश मिश्रा, संगठन सचिव मिनी पांडे , संगठन सह-सचिव श्रीमती मनीषा दास,प्रदेश सहायक संचालक सुजीत विश्वकर्मा के साथ मनोज कश्यप भी उपस्थित रहे । पर्यावरण मंच की प्रदेश कार्यकारिणी में पदाधिकारियों को निम्नानुसार पद दायित्व प्रदान किया गया। जिनमें प्रदेश अध्यक्ष अमित गौतम,संरक्षक लोकेश गायकवाड, प्रदेश उपाध्यक्ष घनश्याम शर्मा, अनुराग पांडे,प्रदेश सचिव राजेश वैष्णव ,प्रदेश संयोजक तिलका साहू ,प्रदेश सह-सचिव वनवासी यादव , विपुल कनैया, शशि कुमार देवांगन और प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य के रूप में सुशील कुमार तिवारी को शामिल किया गया हैं । उपरोक्त समस्त पदाधिकारियों का कार्यक्षेत्र संपूर्ण छत्तीसगढ़ होगा। साथ में यह सभी पदाधिकारी संगठन की नियमानुसार व निर्देश अनुसार कार्य करेंगे। आवश्यकता पडऩे पर संगठन की इस मंच कार्यकारिणी का विस्तार जिला नगर व ब्लॉक स्तर पर किया जाएगा । इस आयाम के माध्यम से छत्तीसगढ़ में प्रदेश व जिला स्तर पर प्राकृतिक एवं पुरातात्विक संपदाओं के संरक्षण का प्रयास, पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारकों की पहचान कर प्रशासन को अवगत कराने के साथ ऐसी संस्थाओं को बंद कराने के लिए आवश्यक अभियान चलाकर प्रशासन व आम नागरिकों के समक्ष समस्त समस्याओं को प्रस्तुत किया जाएगा। पर्यावरण शिक्षा एवं इससे संबंधित जागरूकता हेतु विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में कार्यशाला का आयोजन भी कराना मुख्यरूप से प्रस्तावित है । संगठन निजी शासकीय अशासकीय अथवा अर्ध शासकीय सहयोग से संगठनात्मक लक्ष्य प्राप्ति हेतु निर्धारित कारी योजना सामाजिक कल्याण हेतु प्रयासरत है।


Date : 13-Oct-2019

अन्तराष्ट्रीय बालिका दिवस पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग अम्बिकापुर द्वारा हॉलीक्रास स्कूल में कार्यक्रम आयोजित किया गया

अम्बिकापुर, 13 अक्टूबर। अन्तराष्ट्रीय बालिका दिवस पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग अम्बिकापुर द्वारा हॉलीक्रास स्कूल में अम्बिकापुर में 11 अक्टूबर को कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में विद्यालय के छात्राओं ने चित्रकला प्रतियोगिता में भाग लिया और अपनी भावनाओं को रंगो मे माध्यम से चार्ट पेपर अंकित किया। इसके साथ ही निबंध प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पीएस सिसोदिया ने कहा कि 11 अक्टूबर को  अन्तराष्ट्रीय  बालिका दिवस मनाया जाता है, जो देश में बालिकाओं के लिए ज्यादा समर्थन और नये अवसर देने के लिए इसकी शुरूआत की गई है। उन्होंने कहा कि बालिकाओं के साथ भेद-भाव एक बड़ी समस्या है जो कई क्षेत्रों में फैला है। भेद-भाव में खान-पान, वेश-भूषा से लेकर व्यवसाय भी शामिल है। इन धारणाओं को बदलने की जरूरत है। नोडल अधिकारी डॉ. शुशील एक्का ने बालिकाओं के लिंगानुपात तथा समाज में उनके योगदान पर विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम के अंत में प्रतिभागी छात्राओं को पुस्कार प्रदान किया गया।  

इस अवसर पर डॉ पुष्पा सोनी, अस्पताल सलाहकार प्रियंका कुरील, सुश्री वंदना दत्ता, सुश्री वर्षा शर्मा सहित प्राचार्य एवं छात्राएं उपस्थित थे। 


Date : 13-Oct-2019

स्वच्छता दीदीयों ने कहा कुपोषण के खिलाफ जंग चलते रहना चाहिए

अम्बिकापुर, 13 अक्टूबर । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मासिक रेडियो वार्ता ''लोक वाणी'' के तीसरे कड़ी के प्रसारण को आज नवापारा स्थित एसएलआरएम सेण्टर में स्वच्छता दीदीयों के साथ सुना गया। तीसरे कड़ी में मुख्यमंत्री के द्वारा मातृशक्ति के संबंध में अपने विचार साझा करते हुए राज्य शासन द्वारा कुपोषण मुक्ति हेतु चलाए जा रहे योजनाओं के बारे में बताया। स्वच्छता दीदीयों ने कुपोषण के खिलाफ जंग को जारी रहने की बात कही। 

आज के लोक वाणी कार्यक्रम के संबंध में एसएलआरएम सेण्टर नवापारा के  नीलम बखला ने कहा कि मुख्यमंत्री ने महिलाओं के कुपोषण एवं एनीमिक स्थिति को गंभीरता से लेते हुए कुपोषण से जंग का बिगुल बजाया है। उन्होंने कहा कि कुपोषण के खिलाफ जंग जारी रहना चाहिए, ताकि महिलाओं एवं बच्चों की शारीरिक एवं मानसिक स्थिति मजबूत हो। श्रीमती बखला ने कहा कि 2 अक्टूबर से पूरे छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान प्रारंभ किया गया है। जिसमें गर्भवती एवं शिशुवती महिलाओं को आंगनबाड़ी केन्द्रों में गरम भोजन दिया जा रहा है। इसके साथ ही खून की कमी को दूर करने के लिए आयरन की गोली भी नि:शुल्क प्रदान की जा रही है। श्रीमती बखला ने कहा कि मुख्यमंत्री के स्वस्थ्य माता एवं स्वस्थ्य बच्चे की बात सीधे स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है। 

स्वच्छता दीदी अंजना बड़ा ने लोक वाणी कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम के जरिये लोग अपनी बात एवं समस्या सीधे मुख्यमंत्री तक आसानी से पहुंचा सकते हैं। आज के लोकवाणी कार्यक्रम में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी को दूर करने की बात कही गई है तथा महिला सशक्तिकरण के लिए पूरक पोषण आहार योजना लागू करने की जानकारी दी गई है। लोकवाणी कार्यक्रम जानकारी के साथ ही अपनी समस्या बताने का माध्यम है। इसे निरंतर चलते रहना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज लोकवाणी कार्यक्रम के माध्यम से कुपोषण दूर करने के संबंध में सरकार के दृष्टिकोण को स्पष्ट तोर पर बताया है और कहा है कि सुपोषण योजना एवं टीकाकरण अभियान में प्रत्यक्ष रूप से 9 विभाग तथा अप्रत्यक्ष रूप से सभी विभाग शामिल है और आपसी समन्वय से इस अभियान को सफल बनाना है। उन्होंने छत्तीसगढ़ को तीज त्यौहारों का प्रदेश बताते हुए अगामी दीपावली, गौवर्धन पूजा की अग्रिम शुभकामनाएं दी है।