छत्तीसगढ़ » बस्तर

Date : 18-Aug-2019

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री भूपेश
सीएम ने दी 123. 88 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात
छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 18 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि विगत सात महीनों के कार्यकाल में नई सरकार ने अनेक अहम फैसलें लिए हैं। ये फैसले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने वाला है। किसानों की कर्जमाफ ी, ढाई हजार प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी, तेंदूपत्ता की खरीदी दर में बढ़ोतरी आदि  फैसलों से आम नागरिकों की क्रय शक्ति बढ़ी है। यही वजह है कि जब देश का आटोमोबाईल सेक्टर मंदी के दौर से गुजर रहा है, छत्तीसगढ़ में इस सेक्टर में 25 प्रतिशत का इजाफ ा हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ना केवल लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी है बल्कि राज्य सरकार ने यहां के नागरिकों के मान-सम्मान और स्वाभिमान बढ़ाने का भी काम किया है। 

उन्होंने कहा कि आज बस्तर और सरगुजा विकास प्राधिकरण की कमान स्थानीय विधायकों के पास है। हरेली, विश्व आदिवासी दिवस, छठ पूजा, तीजा और कर्मा जयंती पर राज्य सरकार द्वारा सार्वजनिक अवकाश देने से लोगों को अहसास हो रहा है कि प्रदेश में पहली बार छत्तीसगढिय़ों की सरकार है। मुख्यमंत्री श्री बघेल कल बस्तर के तोकापाल में वन अधिकार, सुपोषण और ग्राम विकास कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में 123 करोड़ 88 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इसमें 68 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और 55 करोड़ 87 लाख रूपए के विकास कार्यों का शिलान्यास किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मंच से 68 करोड़ 57 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा भी की। उन्होंने बस्तर में कुपोषण दूर करने के लिए हरिक नानी बेरा अर्थात खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया। शुभारंभ अवसर पर बच्चों को मूंगफ ली और गुड़ के लड्डू खिलाए। इसके साथ ही जिला प्रशासन द्वारा आम नागरिकों की सुविधा के लिए शासकीय कार्यालयों में शुरू किए जा रहे मोचो ऑफिस-नगत आफि स ब्रोशर का विमोचन किया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश के साथ-साथ प्रदेश में भी कुपोषण एक बड़ी चुनौती है। पिछले अठारह साल में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय बढ़ी है, लेकिन गरीब और गरीब होते गए। प्रदेश में 37 प्रतिशत लोग कुपोषण के शिकार हैं। हमनें इस चुनौती को स्वीकार करते हुए कल दंतेवाड़ा में सुपोषित दंतेवाड़ा अभियान और आज यहां बस्तर जिले में हरिक नानी बेरा यानि खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सबसे बड़ी लड़ाई कुपोषण के खिलाफ  है। माताएं कमजोर होंगी, तो बच्चे भी कमजोर होंगे। इसलिए सशक्त छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में आगामी 02 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में कुपोषण मुक्ति महाअभियान प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत तोकापाल स्कूल परिसर में वृक्षारोपण भी किया।

बस्तर जिले के प्रभारी और आदिम जाति तथा स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने लोहण्डीगुड़ा में किसानों की अधिग्रहित जमीन को वापस करने का ऐतिहासिक फैसला लिया है। राज्य सरकार आदिवासियों के साथ है। तेंदूपत्ता का दर 4000 रूपए मानक बोरा किया गया है। बैंक सखी के माध्यम से हितग्राहियों को उनके घर में पेंशन और  योजनाओं की राशि दी जा रही है। वाणिज्यिक कर आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि आदिवासियों ने जंगल को बचाए रखा है, इसलिए आदिवासियों के जंगल से बेदखली के किसी भी कोशिश का पुरजोर विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले सात महीनों में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने आम जनता के हित में ऐतिहासिक और साहसिक निर्णय लिए हैं। 

सांसद बस्तर  दीपक बैज ने कहा कि प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद आउट सोर्सिंग बंद हुआ है। राशन कार्ड  का नवीनीकरण किया जा रहा है। अब पात्र सभी परिवारों को 35 किलो चावल मिलेगा। उन्होंने कहा कि पहली बार बस्तर की आवाज दिल्ली तक पहुंची है। बस्तर के हित की लड़ाई जारी रहेगी। विधायक मोहन मरकाम ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया। इस अवसर पर जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन, विधायक नारायणपुर चंदन कश्यप, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविन्द्र नेताम, पूर्व विधायक श्रीमती फू लोदेवी नेताम, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी सहित बड़ी संख्या में क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और ग्रामीणजन उपस्थित थे।

 


Date : 18-Aug-2019

सीएम के हाथों मिला हितग्राहियों को वनाधिकार पट्टा

छत्तीसगढ़ संवाददाता
दंतेवाड़ा, 18 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दंतेवाड़ा में शुक्रवार को सौगातों की छड़ी लगा दी। उन्होंने हितग्राहियों को 1 करोड़ 68 लाख रूपये की सामग्रियां प्रदान की। इनमें कृषि संबंधी उपकरण शामिल थे। इसके साथ ही वनाधिकार पट्टे भी प्रदान किये। सीएम ने जिले के 25 नागरिकों को 83 वनाधिकार पट्टे प्रदान किए, जिससे हितग्राहियों में हर्ष नजर आया। मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में पूर्ववर्ती रमन सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अपने 15 वर्षों के दीर्घ शासनकाल में नागरिकों को वनाधिकार पट्टे नहीं दे सके। ये भाजपा सरकार की अक्षमता का परिचायक है। उन्होंने जोर देकर कहा कि सभी पात्र नागरिकों को वनाधिकार पट्टे शीघ्रतापूर्वक दिये जाएंगे। इस अवसर पर प्रदेश सरकार के मंत्रीगण प्रेमसाय सिंह, कवासी लखमा, सांसद दीपक बैज और मोहन मरकाम सहित विभागीय अफसरों सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। 

 

 


Date : 18-Aug-2019

मिल का पत्थर साबित होगा सदस्यता अभियान-बाफना

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 17 अगस्त।
भारतीय जनता पार्टी जगदलपुर के द्वारा शनिवार को शहर के गुरूगोविन्द सिंह वार्ड एवं महाराणा प्रताप वार्ड जगदलपुर में भाजपा संगठन पर्व सदस्यता अभियान चलाया गया। जिसमें जगदलपुर विधानसभा के पूर्व विधायक संतोष बाफ ना विशेष रूप से उपस्थित थे। इस अवसर पर जगदलपुर शहर मण्डल अध्यक्ष राजेन्द्र बाजपेयी, संयोजक सदस्यता अभियान मनीष पारख, सहसंयोजक नरसिंह राव, संतोष त्रिपाठी, गुरूगोविन्द सिंह वार्ड के पार्षद संग्राम सिंह राणा, महाराणा प्रताप वार्ड पार्षद श्रीमती लक्ष्मी कश्यप, अविनाश श्रीवास्तव, सुरेश कश्यप, फु लेश्वरी कराई, कृष्णा झा, बंटू पाण्डे, गोल व अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। 

पूर्व विधायक संतोष बाफ ना ने कहा कि जिस देश का प्रधानमंत्री गरीबों के उत्थान के लिए सुबह से लेकर देर रात तक दिन रात एक किये हुए हैं, इससे ऐसा प्रतीत होता है कि आने वाले दिनों में देश में शौचालय, मकान, पानी आदि से गरीबों को अब जुझना नहीं पड़ेगा। इन विकास योजनाओं के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छ भारत और जल संरक्षण पर भी चिंता की और इनके लिए विभिन्न योजनाओं को भी तैयार किया। आज देश में ही नहीं विदेशों में भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोगों के दिलों में घर कर गये है। उनके दृढ़ निश्चय और केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास की योजनाओं के साथ लोगों को जोडऩा है और प्रत्येक कार्यकर्ता अधिक से अधिक संख्या में पार्टी के इस सदस्यता अभियान को युद्ध स्तर तक चलाये। कार्यकर्ताओं के दम पर ही आज भाजपा विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन गई है। 

 जगदलपुर मण्डल अध्यक्ष राजेन्द्र बाजपेयी ने कहा कि पार्टी स्तर पर दिये हुए लक्ष्य हो भाजपा का हर एक कार्यकर्ता पूरे दम के साथ हासिल करेगा और आज यहां उपस्थित प्रत्येक सदस्य ने संकल्प लिया कि इस सदस्यता अभियान के दौरान जगदलपुर विधानसभा के प्रत्येक घर से 2 सदस्यों को भाजपा की विचारधारा से प्रेरित कर भाजपा संगठन के साथ जोडऩा है। 

 कार्यक्रम की अगवानी करते हुए गुरूगोविन्द सिंह वार्ड एवं महाराणा प्रताप वार्ड के पार्षद संग्राम सिंह राणा व श्रीमती लक्ष्मी कश्यप ने भी उपस्थित नवीन सदस्यों से कहा कि भाजपा का यह अभियान सतत् रूप से शहर के सभी वार्डों के साथ ही ग्रामीण स्तर पर चलाया जा रहा है। देश में भाजपा के जितने सदस्य हैं, दुनिया के 37 देशों में उतनी उनकी जनसंख्या नहीं है। इस बात में कोई संकोच नहीं की भाजपा विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है और आगे भी हम कार्यकर्ता सामान्य जन को भाजपा की सदस्यता दिलाकर और भी बड़ी पार्टी बनाएंगे। 

जगदलपुर सदस्यता अभियान के संयोजक मनीष पारख व संहसयोजक नरसिंह राव ने जानकारी दी कि यह अभियान 20 अगस्त तक चलेगा। इस मौके पर मनीष पारख ने पार्टी से जुड़ रहे नए सदस्यों का अभिनंदन किया और कहा कि राष्ट्रनिर्माण में जुटे समाज के हर वर्ग को हमें पार्टी से जोडऩा है।


Date : 17-Aug-2019

15 अगस्त के अवसर पर जगह-जगह ध्वजारोहण, विविध आयोजन

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भोपालपटनम, 17 अगस्त।
15 अगस्त के अवसर पर पूरे ब्लाक में स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। 
शाला समिति के अध्यक्षों ने हाई स्कूल गोल्लागुड़ा सोनला अनिल, हाई स्कूल चन्दूर तलपल्ली गट्टू, हाई स्कूल रुद्राराम काका महेश, हाई स्कूल चेरपल्ली वासम राजकुमार, हाई स्कूल पेगडापल्ली गारेला शंकर, हाई स्कूल सांड्रापल्ली अनिल पामभोई, हाई स्कूल संगमपल्ली सुनील उद्दे, हाई स्कूल तारलागुड़ा पुल्लया नागेश, हाई स्कूल पेगडापल्ली तलांडी इस्तारी, शाकाउमावि भोपालपटनम योगेश्वरी पामभोई, शाबाउमावि भोपालपटनम कुशाल खान, शाउमावि मद्देड़ कसोजी मनोज, शाउमावि सकनापल्ली केजी सत्यम, शाउमावि पामगल पुनेम गंगाधर ने ध्वजारोहण किया।

स्कूली छात्राओं ने पुलिस जवानों को बांधी राखी
सरस्वती शिशु मंदिर व करस्तुब गांधी आश्रम की छात्राओं ने पुलिस के सिपाहियों की कलाई पर राखी बांधी। रक्षा बंधन कार्यक्रम के तहत बालिकाओं ने एसडीओपी पीताम्बर पटेल, थाना प्रभारी वीरेंद्र चंद्र, एएसआई पुष्पराज व पुलिस के जवानों को राखी के पवित्र बंधन में बांधते हुए बेटियों की रक्षा करने का वचन लिया। कार्यक्रम का संचालन करते हुए एसडीओपी पीताम्बर पटेल ने कहा कि आज की बेटियां भविष्य की जननी हैं। 

इसलिए बेटियों की रक्षा करने का दायित्व सम्पूर्ण समाज का है। रक्षा बंधन हमे इसी दायित्व का बोध कराता है। पुलिस परिवार ने दोनों सस्थानो को केरम बोर्ड गिफ्ट के तौर पर दिया गया। दुर्गम इलाके में नक्सलियों से लोहा ले रहे जवानों में शहीद हुए वीर जवानों को श्रद्धांजलि दी गई व उनके परिवार को सम्मानित किया गया।

 


Date : 17-Aug-2019

मिल का पत्थर साबित होगा भाजपा सदस्यता अभियान-बाफना

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 17 अगस्त।
भारतीय जनता पार्टी जगदलपुर के द्वारा शनिवार को शहर के गुरूगोविन्द सिंह वार्ड एवं महाराणा प्रताप वार्ड जगदलपुर में भाजपा संगठन पर्व सदस्यता अभियान चलाया गया। जिसमें जगदलपुर विधानसभा के पूर्व विधायक संतोष बाफ ना विशेष रूप से उपस्थित थे। इस अवसर पर जगदलपुर शहर मण्डल अध्यक्ष राजेन्द्र बाजपेयी, संयोजक सदस्यता अभियान मनीष पारख, सहसंयोजक नरसिंह राव, संतोष त्रिपाठी, गुरूगोविन्द सिंह वार्ड के पार्षद संग्राम सिंह राणा, महाराणा प्रताप वार्ड पार्षद श्रीमती लक्ष्मी कश्यप, अविनाश श्रीवास्तव, सुरेश कश्यप, फु लेश्वरी कराई, कृष्णा झा, बंटू पाण्डे, गोल व अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। 

पूर्व विधायक संतोष बाफ ना ने कहा कि जिस देश का प्रधानमंत्री गरीबों के उत्थान के लिए सुबह से लेकर देर रात तक दिन रात एक किये हुए हैं, इससे ऐसा प्रतीत होता है कि आने वाले दिनों में देश में शौचालय, मकान, पानी आदि से गरीबों को अब जुझना नहीं पड़ेगा। इन विकास योजनाओं के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छ भारत और जल संरक्षण पर भी चिंता की और इनके लिए विभिन्न योजनाओं को भी तैयार किया। आज देश में ही नहीं विदेशों में भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोगों के दिलों में घर कर गये है। उनके दृढ़ निश्चय और केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास की योजनाओं के साथ लोगों को जोडऩा है और प्रत्येक कार्यकर्ता अधिक से अधिक संख्या में पार्टी के इस सदस्यता अभियान को युद्ध स्तर तक चलाये। कार्यकर्ताओं के दम पर ही आज भाजपा विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन गई है। 

 जगदलपुर मण्डल अध्यक्ष राजेन्द्र बाजपेयी ने कहा कि पार्टी स्तर पर दिये हुए लक्ष्य हो भाजपा का हर एक कार्यकर्ता पूरे दम के साथ हासिल करेगा और आज यहां उपस्थित प्रत्येक सदस्य ने संकल्प लिया कि इस सदस्यता अभियान के दौरान जगदलपुर विधानसभा के प्रत्येक घर से 2 सदस्यों को भाजपा की विचारधारा से प्रेरित कर भाजपा संगठन के साथ जोडऩा है। 

 कार्यक्रम की अगवानी करते हुए गुरूगोविन्द सिंह वार्ड एवं महाराणा प्रताप वार्ड के पार्षद संग्राम सिंह राणा व श्रीमती लक्ष्मी कश्यप ने भी उपस्थित नवीन सदस्यों से कहा कि भाजपा का यह अभियान सतत् रूप से शहर के सभी वार्डों के साथ ही ग्रामीण स्तर पर चलाया जा रहा है। देश में भाजपा के जितने सदस्य हैं, दुनिया के 37 देशों में उतनी उनकी जनसंख्या नहीं है। इस बात में कोई संकोच नहीं की भाजपा विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है और आगे भी हम कार्यकर्ता सामान्य जन को भाजपा की सदस्यता दिलाकर और भी बड़ी पार्टी बनाएंगे। 

संहसयोजक नरसिंह राव ने जानकारी दी कि यह अभियान 20 अगस्त तक चलेगा। इस मौके पर मनीष पारख ने पार्टी से जुड़ रहे नए सदस्यों का अभिनंदन किया और कहा कि राष्ट्रनिर्माण में जुटे समाज के हर वर्ग को हमें पार्टी से जोडऩा है।

 


Date : 17-Aug-2019

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- भूपेश

जगदलपुर, 17 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि विगत सात महीनों के कार्यकाल में नई सरकार ने अनेक अहम फैसलें लिए हैं। ये फैसले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने वाला है। किसानों की कर्जमाफ ी, ढाई हजार प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी, तेंदूपत्ता की खरीदी दर में बढ़ोतरी आदि  फैसलों से आम नागरिकों की क्रय शक्ति बढ़ी है। यही वजह है कि जब देश का आटोमोबाईल सेक्टर मंदी के दौर से गुजर रहा है, छत्तीसगढ़ में इस सेक्टर में 25 प्रतिशत का इजाफ ा हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ना केवल लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी है बल्कि राज्य सरकार ने यहां के नागरिकों के मान-सम्मान और स्वाभिमान बढ़ाने का भी काम किया है। 

उन्होंने कहा कि आज बस्तर और सरगुजा विकास प्राधिकरण की कमान स्थानीय विधायकों के पास है। हरेली, विश्व आदिवासी दिवस, छठ पूजा, तीजा और कर्मा जयंती पर राज्य सरकार द्वारा सार्वजनिक अवकाश देने से लोगों को अहसास हो रहा है कि प्रदेश में पहली बार छत्तीसगढिय़ों की सरकार है। मुख्यमंत्री श्री बघेल आज बस्तर के तोकापाल में वन अधिकार, सुपोषण और ग्राम विकास कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में 123 करोड़ 88 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इसमें 68 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और 55 करोड़ 87 लाख रूपए के विकास कार्यों का शिलान्यास किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मंच से 68 करोड़ 57 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा भी की। उन्होंने बस्तर में कुपोषण दूर करने के लिए हरिक नानी बेरा अर्थात खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया। शुभारंभ अवसर पर बच्चों को मूंगफ ली और गुड़ के लड्डू खिलाए। इसके साथ ही जिला प्रशासन द्वारा आम नागरिकों की सुविधा के लिए शासकीय कार्यालयों में शुरू किए जा रहे मोचो ऑफिस-नगत आफि स ब्रोशर का विमोचन किया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश के साथ-साथ प्रदेश में भी कुपोषण एक बड़ी चुनौती है। पिछले अठारह साल में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय बढ़ी है, लेकिन गरीब और गरीब होते गए। प्रदेश में 37 प्रतिशत लोग कुपोषण के शिकार हैं। हमनें इस चुनौती को स्वीकार करते हुए कल दंतेवाड़ा में सुपोषित दंतेवाड़ा अभियान और आज यहां बस्तर जिले में हरिक नानी बेरा यानि खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सबसे बड़ी लड़ाई कुपोषण के खिलाफ  है। माताएं कमजोर होंगी, तो बच्चे भी कमजोर होंगे। इसलिए सशक्त छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में आगामी 02 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में कुपोषण मुक्ति महाअभियान प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत तोकापाल स्कूल परिसर में वृक्षारोपण भी किया।
बस्तर जिले के प्रभारी और आदिम जाति तथा स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने लोहण्डीगुड़ा में किसानों की अधिग्रहित जमीन को वापस करने का ऐतिहासिक फैसला लिया है। राज्य सरकार आदिवासियों के साथ है। तेंदूपत्ता का दर 4000 रूपए मानक बोरा किया गया है। बैंक सखी के माध्यम से हितग्राहियों को उनके घर में पेंशन और  योजनाओं की राशि दी जा रही है। वाणिज्यिक कर आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि आदिवासियों ने जंगल को बचाए रखा है, इसलिए आदिवासियों के जंगल से बेदखली के किसी भी कोशिश का पुरजोर विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले सात महीनों में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने आम जनता के हित में ऐतिहासिक और साहसिक निर्णय लिए हैं। 

सांसद बस्तर  दीपक बैज ने कहा कि प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद आउट सोर्सिंग बंद हुआ है। राशन कार्ड  का नवीनीकरण किया जा रहा है। अब पात्र सभी परिवारों को 35 किलो चावल मिलेगा। उन्होंने कहा कि पहली बार बस्तर की आवाज दिल्ली तक पहुंची है। बस्तर के हित की लड़ाई जारी रहेगी। विधायक मोहन मरकाम ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया। इस अवसर पर जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन, विधायक नारायणपुर चंदन कश्यप, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविन्द्र नेताम, पूर्व विधायक श्रीमती फू लोदेवी नेताम, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी सहित बड़ी संख्या में क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और ग्रामीणजन उपस्थित थे।

 


Date : 17-Aug-2019

तोकापाल से खुशहाल बचपन अभियान शुरू, 80 हजार बच्चों, माताओं को अतिरिक्त पोषण आहार

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 17 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को तोकापाल में  कुपोषण दूर करने हरिक नानी बेरा यानि खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया। इसके अंतर्गत 70 हजार बच्चे और 9 हजार माताओं को अंडा और गुड़ तथा मूंगफली के लड्डू का अतिरिक्त पोषण आहार दिया जाएगा।

श्री बघेल ने वन अधिकार, सुपोषण और ग्राम विकास कार्यशाला में बस्तरवासियों को 192 करोड़ 46 हजार रुपये के विकास कार्यो की सौगात दी। उन्होंने यहां 68 करोड़ एक लाख 9 हजार रुपये के विभिन्न विकास कार्यो का लोकार्पण किया। इसमें 48 करोड़ 97लाख रुपये की लागत से महुपाल बर्रई परचनपाल में निर्मित 200/132/33 केव्ही विद्युत उपकेंद्र का लोकार्पण सबसे महत्वपूर्ण है। इस उपकेंद्र के निर्माण से बस्तर की बारसूर उपकेंद्र पर निर्भरता खत्म हो जाएगी और पूरे बस्तर को निर्बाध बिजली की आपूर्ति होगी। लोगों को लो वोल्टेज की समस्या से भी निजात मिलेगी।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने जिले में 75 सौ वनाधिकार मान्यता पत्रों का वितरण की शुरूआत करते हुए तोकापाल में सुपोषण बस्तर के अंतर्गत हरिक नानी बेरा यानि खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया। इसके अंतर्गत कुपोषित बच्चों को नियमित पोषण आहार के अलावा अतिरिक्त पोषण आहार के तहत सप्ताह में दो दिन अंडा और दो दिन गुड़ और मंूगफली के लड्डू दिए जाएंगे।

 


Date : 16-Aug-2019

गड्ढे में गिरकर डूबने से बालक की मौत, आश्रम निर्माण के लिए खोदा गया था, बारिश से भरा पानी

किरंदुल, 16 अगस्त। किरंदुल थाना क्षेत्र से 6 किमी दूर कडमपाल गांव के रिमानपारा में 15 अगस्त को 10 वर्ष के बालक की आश्रम निर्माण के लिए खोदे गड्ढे में भरे पानी में डूबने से मौत हो गई। हादसे से ग्रामीणों में रोष है।

बता दें कि कडमपाल गांव के रिमानपारा में आश्रम निर्माण चल रहा है। जिसके लिए ठेकेदार ने एक वर्ष पूर्व गड्ढा खोद कर छोड़ दिया। बारिश अधिक होने के चलते गड्ढे में 8 से 10 फीट पानी भर गया। 15 अगस्त को मजदूरों की छुट्टी थी और साइड का काम बंद था। जोगा बरसे खेलते-खेलते वहां पहुंचा और पानी से भरे गड्ढे में जा गिरा। वहां ठेकेदार द्वारा कोई चौकीदार भी नहीं रखा था। जोगा बरसे जब घर नहीं पहुचा तो परिवार के लोग उसको खोजने निकले और पानी में तैरती हुई उसकी लाश मिली। हादसे से ग्रामीणों में आक्रोश है, वहीं पूरे गांव व परिवार के लोगों का रो-रो कर बुरा हाल है। 

इस मामले में किरंदुल पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद ही कार्रवाई होगी। पोस्टमार्टम के बाद बच्चे के शव को परिजन को सौंप दिया गया है। इस पूरे मामले में उपसरपंच दोन्दा राम कुंजाम का कहना है कि ठेकेदार एक साल से गड्ढा खोद कर छोड़ दिया है, जिसके कारण बच्चे की मौत हुई।

 


Date : 16-Aug-2019

बस्तर में हर्षोल्लास के साथ स्वतंत्रता दिवस समारोह

जगदलपुर 16 अगस्त। बस्तर जिले में स्वतंत्रता दिवस समारोह हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मुख्य कार्यक्रम जगदलपुर के लालबाग परेड मैदान में आयोजित किया गया, जहां मुख्य अतिथि सांसद दीपक बैज ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का जनता के नाम जारी संदेश का वाचन किया।

लालबाग परेड मैदान में मुख्य अतिथि दीपक बैज राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराने के बाद कलेक्टर डॉ. अय्याज तम्बोली और पुलिस अधीक्षक दीपक झा के साथ परेड का निरीक्षण किया। मुख्य अतिथि ने बस्तर जिले के सभी नागरिकों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का स्वतंत्रता दिवस संदेश का वाचन किया। मुख्य अतिथि ने समारोह में शांति के प्रतीक श्वेत कबूतर और रंगीन गुब्बारे छोड़े। समारोह में परेड द्वारा तीन बार राष्ट्रीय धुन बजाकर ÓÓहर्षफायरÓÓ किया गया और देश के राष्ट्रपति की जय-जयकार की गयी। समारोह में श्री दीपक बैज ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पद्मश्री श्री धर्मपाल सैनी तथा शहीद जवानों के परिजनों को शाल व श्रीफल देकर सम्मानित किया।

आकर्षक मार्च पास्ट का प्रदर्शन
मुख्य समारोह में पुलिस बैंड की आकर्षक धुन के साथ पुलिस, सीआरपीएफ और स्काउट एन्ड गाईड की 15 टुकडिय़ों ने आकर्षक मार्च पास्ट निकाला। इसमें 241वीं महिला बटालियन सीआरपीएफ सेड़वा, 80 वीं बटालियन सीआरपीएफ जगदलपुर, 5 वीं बटालियन छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल कंगोली बस्तर, पीटीएस लालबाग, जिला पुलिस बल, जिला बल महिला बस्तर, नगर सेना, कोटवार प्लाटून, एनसीसी जूनियर डिवीजन शासकीय शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जगदलपुर, एनसीसी जूनियर डिवीजन शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2, एनसीसी जूनियर डिवीजन निर्मल विद्यालय, एनसीसी सीनियर विंग्स शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2, गाईड दल शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जगदलपुर,, गाईड दल शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक-2, स्काउट दल शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जगदलपुर तथा परेड बैंड दल परेड में शामिल हुए। परेड के बाद सात स्कूलों के बच्चों, जिनमें ज्ञानोदय स्कूल, रेलवे, कन्या क्रमांक 2, डीपीएस, डीएवी, माता रुक्मणी कन्या आश्रम डिमरापाल और संस्कार के द्वारा मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा 15 स्कूल के लगभग 500 बच्चों द्वारा आकर्षक व्यायाम प्रदर्शन किया गया।

मुख्य अतिथि ने परेड प्रदर्शन में शस्त्र सहित प्रतिभागी टुकड़ी के लिए 241वीं महिला बटालियन सीआपीएफ सेड़वा को प्रथम तथा 80वीं बटालियन सीआरपीएफ जगदलपुर को द्वितीय स्थान प्रदान किया। जिला महिला पुलिस बल के दल को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। शस्त्र रहित मार्चपास्ट में प्रथम स्थान के लिए एनसीसी जूनियर डिवीजन शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2 तथा द्वितीय स्थान के लिए एनसीसी जूनियर डिवीजन शासकीय उच्चतन माध्यमिक विद्यालय धरपपुरा को पुरस्कृत किया गया। कोटवारों प्लाटून को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए डीपीएस कालीपुर को प्रथम, रेल्वे हायर सेकेण्डरी स्कूल को द्वितीय एवं संस्कार द गुरुकुल चिड़ईपदर को तृतीय स्थान के लिए पुरस्कृत किया।

 कार्यक्रम का संचालन धर्मेन्द्र ठाकुर, करमजीत कौर, ज्वायस लारेंस सिंग एवं अफजल अली ने किया। कार्यक्रम में जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन, जिला पंचायत अध्यक्ष जबीता मंडावी, महापौर जतीन जायसवाल, कमिश्नर अमृत कुमार खलखो, पुलिस महानिरीक्षक  विवेकानंद सिन्हा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल, अपर कलेक्टर अरविंद एक्का, सहित गणमान्य नागरिकगण एवं बड़ी संख्या में स्कूली छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।


Date : 16-Aug-2019

गोली मार जवान ने की खुदकुशी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 16 अगस्त।
कल शाम एक जवान ने सीने में गोली मारकर आत्महत्या कर ली। खबर फैलते ही इलाके में हड़कंप मच गया। परपा पुलिस मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी है। 

यह घटना परपा थाना क्षेत्र में शहर से 7 किमी दूर 5वीं वाहिनी कंगोली की है। परपा थाना प्रभारी चंद्रशेखर श्रीवास ने बताया कि 5वीं वाहिनी कंगोली में सीएफ में आरक्षक के पद पर पदस्थ सुभाष यादव (35 वर्ष) बोरगांव कोंडागांव का निवासी है, विगत दिनों वह छुट्टी पर गया हुआ था। जवान 12 अगस्त को ही छुट्टी से लौटा था। गुरुवार शाम करीब 4 बजे के लगभग मोर्चे में तैनात था और अचानक गोली चलने की आवाज आई, जिसके बाद जब साथी वहाँ पहुचे, तब तक जवान की मौत हो चुकी थी। पुलिस को घटना की सूचना दी गई, जिसके बाद इस बात का पता चला कि जवान ने 2 गोली मारी है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।


Date : 16-Aug-2019

सीएम आज तोकापाल-चित्रकोट में बस्तर को देंगे 230 करोड़ के विकास कार्य

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 16 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर जिले के प्रवास के दौरान 17 अगस्त को तोकापाल और चित्रकोट, लोहण्डीगुड़ा में वनाधिकार, ग्राम विकास एवं सुपोषण कार्यशाला में शामिल होंगे। श्री बघेल इन कार्यक्रमों में बस्तर जिले को 230 करोड़ रूपए से अधिक के विकास कार्यों की सौगात देंगे। इसमें 165 करोड़ 26 लाख रूपए का लोकार्पण और 64 करोड़ 75 लाख रूपए के विकास कार्यों का शिलान्यास शामिल है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल 17 अगस्त को तोकापाल में 68 करोड़ के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण करेंगे, जिनमें मुख्य रूप से 2 करोड़ 7 लाख 27 हजार रूपए के तोकापाल में नवीन आई.टी.आई भवन, 1 करोड़ 5 लाख 48 हजार रूपए के तोकापाल में छात्रावास भवन का निर्माण कार्य, 62 लाख 83 हजार रूपए के नवीन हाईस्कूल भवन एर्राकोट, 13 लाख 20 हजार रूपए के एन.आर.सी भवन निर्माण कार्य, 1 करोड़ 92 लाख 72 हजार रूपए के शासकीय पॉलीटेक्निक जगदलपुर में 50 सीटर कन्या छात्रावास एवं अधीक्षिका सह चैकीदार आवास गृह का निर्माण कार्य, 3 करोड़ 27 लाख 75 हजार रूपए के शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय जगदलपुर के रूरल हेल्थ ट्रेनिंग सेन्टर-छात्रावास का भवन निर्माण कार्य, 39 लाख 80 हजार रूपए के इंदिरा गांधी कृषि महाविद्यालय कुम्हरावण्ड जगदलपुर पहुंच मार्ग लम्बाई 800 मीटर निर्माण कार्य, 3 करोड़ 29 लाख  39 हजार रूपए के नगरनार नदी बोडना से बसेली मार्ग के 1.9 किलोमीटर गुलझोड़ी नाला पर उच्चस्तरीय पुल निर्माण कार्य,  25 लाख 30 हजार रूपए के उप स्वास्थ्य केन्द्र भवन बुरूंगपाल (नहरमुण्डा) का निर्माण कार्य, 1 करोड़ 12 लाख 35 हजार रूपए, के 21 स्थानों पर सोलर हाई मास्ट संयेत्रों की स्थापना कार्य, 4 करोड़ 88 लाख रूपए के बास्तानार में 44 जीएडी क्वाटर्स निर्माण तथा 48 करोड़ 97 लाख रूपए के 200/132/33 के.व्ही. विद्युत उपकेन्द्र, महुपालबरई (परचनपाल) जगदलपुर का लोकार्पण शामिल हैं।

 श्री बघेल तोकापाल में 55 करोड़ 87 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास और भूमिपूजन भी करेंगे।इसी तरह चित्रकोट लोहण्डीगुड़ा में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री 97 करोड़ 24 लाख रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण करेंगे। श्री बघेल चित्रकोट में 8 करोड़ 87 लाख 94 हजार रूपए के विकास कार्यों का शिलान्यास और भूमिपूजन करेंगे। 


Date : 16-Aug-2019

सीएम का जगदलपुर एयरपोर्ट में स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने आत्मीय स्वागत किया

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 16 अगस्त।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दो दिवसीय बस्तर प्रवास के दौरान आज जगदलपुर पहुंचने पर एयरपोर्ट में स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने आत्मीय स्वागत किया। मुख्यमंत्री शासकीय विमान से जगदलपुर पहुंचे। उनके साथ शिक्षा, आदिम जाति कल्याण एवं सहकारिता मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, कोंडागांव विधायक मोहन मरकाम, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी तथा पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी भी साथ आए। एयरपोर्ट में बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल, जगदलपुर के महापौर  जतीन जायसवाल, कलेक्टर डॉ. अय्याज तम्बोली, पुलिस अधीक्षक दीपक झा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  इंद्रजीत चंद्रवाल, अपर कलेक्टर  अरविंद एक्का ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। मुख्यमंत्री एवं उनके साथ पहुंचे सभी अतिथि हेलीकॉप्टर से दंतेवाड़ा के लिए रवाना हुए।


Date : 14-Aug-2019

खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा स्वतंत्रता दौड़-विधायक ने दिखाई हरी झंड़ी 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 14 अगस्त।
जिला प्रशासन और खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा बुधवार 14 अगस्त को जगदलपुर में स्वतंत्रता दौड़ का आयोजन किया गया, जिसमें बड़ी संख्या में आम नागरिक तथा स्कूल और महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। विधायक रेखचंद जैन ने इंदिरा प्रियदर्शनी स्टेडियम से सवेरे हरी झंड़ी दिखाकर दौड़ का शुभारंम किया। यह दौड़ कोर्ट तिराहा, कमिश्नर कार्यालय चैक, चांदनी चैक, हनुमान मंदिर चैक, संजय मार्केट, अग्रसेन चैक, गुरू गोविंद सिंह चैक होते हुए वापस इंदिरा प्रियदर्शनी स्टेडियम में समाप्त हुई। पद्मश्री श्री धर्मपाल सैनी, जिला पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल, अपर कलेक्टर  अरविंद एक्का, जिला ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष  एन.आर. पाराशर सहित बड़ी संख्या में आम नागरिक भी दौड़ में शामिल हुए। 

 


Date : 13-Aug-2019

धनगोल के ग्रामीण कीचड़ भरी सड़क पर चलने को मजबूर 

छत्तीसगढ़ संवाददाता
भोपालपटनम, 13 अगस्त।
सड़क निर्माण पर काली मिट्टी और पुलिया निर्माण की अपूर्ण खोदाई, सिंचाई तालाब में स्लूस गेट व केनाल नहीं होना, प्राथमिक शाला भवन और आंगनबाड़ी भवन जर्जर की स्थिति के चलते गांव के लोगों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। मामला बीजापुर जिले के भोपालपटनम ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत अंगमपल्ली में आश्रित गांव धनगोल का है।

आवागमन का एक मात्र सड़क जिसमें कीचड़ के चलते दोपहिया वाहन व पैदल चलना मुश्किल हो गया है। सड़क निर्माण पीएमजीएसवाई के तहत गुप्ता कन्ट्रक्शन रायगढ़ द्वारा मोटलागुड़ा से कोत्तागुड़ा स्वीकृत राशि 160.36 लाख में लिया गया। गांव के निवासी कुडियम नागैया का कहना है कि सड़क का कार्य यहां के लोकल व्यक्ति के द्वारा ठेके में लेकर कराया जा रहा है, इसमें गुणवत्ताहीन सड़क निर्माण के कारण हम ग्रामीणों को तकलीफ  झेलना पड़ रहा है। जिस सड़क पर पैदल चलना मुश्किल है, वहां 108 या 102 के नहीं आने से उपचार हेतु मरीजों को खटिया में लादकर यह से 4 किमी दूर पेगड़ापल्ली ले जाकर उपचार करवा रहे हंै। पेटी ठेकेदार को गुणवत्ताहीन सड़क निर्माण के संबंध में पूछने पर कहा कि ठेकेदार पैसा नहीं दे रहा है। जब तक पैसा नहीं देगा आगे का कार्य नहीं होगा, मुरम नहीं डालेंगे जैसे गोलमोल जवाब दिया जा रहा है।

सिंचाई तालाब तो है मगर स्लूस गेट व केनाल नहीं। ग्राम धनगोल में 40 वर्ष पूर्व ग्राम पंचायत अंगमपल्ली द्वारा सिंचाई के उद्देश्य से तालाब का निर्माण कराया गया किन्तु निर्माण कार्य एजेंसी तालाब में स्लूस गेट व खेतों में पानी पहुंचने हेतु केनाल का निर्माण करना ही भूल गया।

वेस्ट वेयर का निर्माण भी ऐसी जगह पर बनाया गया जो कि तालाब में पानी भरकर घरों के सामने से होते हुए सड़क को धीरे-धीरे गायब कर रहा है। पिछले वर्ष बारिश के मौसम में तालाब का मेड़ टूट गया था, जिसे वन विभाग द्वारा मरम्मत किया गया। अब तालाब का आलम यहां है कि जितनी गहराई में तालाब की खुदाई की गई थी, वह मिट्टी से आधा भर चुका है।

प्राथमिक शाला व आंगनबाड़ी भवन जर्जर हालत में
प्राथमिक शाला और आंगनबाड़ी भवन अत्यंत जर्जर एवं खतरनाक स्थिति के हालात में है और एक लंबे अंतराल से पड़ा हुआ है। बारिश का पानी छत पर जमा होकर टपक रहा है। भवनों की स्थिति को देखते हुए ग्रामीण अपने बच्चों को 6-7 किमी दूर पढ़ाने को मजबूर है। भवनों को बने कई वर्ष हो रहे हैं किन्तु उन पर विभागों का ध्यान ही नहीं है। 
ग्रामीणों का आरोप है कि अधिकारियों, जन समस्या निवारण शिविरों, जनदर्शन में तालाब गहरीकरण, स्लूस गेट, केनाल, भवनों का मरम्मत, सड़क निर्माण जैसी समस्याओं पर कई बार आवेदन किया जा चुका है किन्तु आवेदनों पर आज तक कार्रवाई नहीं की गई है। ग्रामवासियों ने सभी समस्याओं के जल्द निराकरण की मांग की है।

 


Date : 13-Aug-2019

प्रशासन द्वारा स्वतंत्रता दिवस समारोह की तैयारियां पूर्ण 

जगदलपुर, 13 अगस्त। स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए जिले में प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली है। आज स्थानीय लालबाग मैदान में आयोजित मुख्य समारोह के लिए रिमझिम बारिश के बीच फ ाईनल रिहर्सल हुआ। अंतिम रिहर्सल में कलेक्टर डॉ अय्याज तम्बोली ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक बस्तर दीपक झा भी उपस्थित थे।

स्वतंत्रता दिवस के लिए लालबाग मैदान में कई दिनों से परेड का अभ्यास किया जा रहा था। जिसका आज फायनल अभ्यास किया गया। इस अभ्यास में 15 टुकडिय़ों ने हिस्सा लिया। इसमें 241 महिला बटालियन, सीआरपीएफ  80 बटालियन, सीआरपीएफ जगदलपुर, 5 वीं बटालियन सीएएफ कंगोली बस्तर, एपीटीएस लालबाग, जिला पुलिस बल, जिला बल महिला बस्तर, नगर सेना, कोटवार बस्तर, एनसीसी, एनसीसी सीनियर कन्या क्रमांक-2, परेड बैंड दल परेड में शामिल हुए। परेड के बाद सात स्कूलों के बच्चों, जिनमें ज्ञानोदय स्कूल, रेलवे, कन्या क्रमांक-2, डीपीएस, डीएवी, डिमरापाल और संस्कार के द्वारा मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी।

 


Date : 13-Aug-2019

बाढ़ ने चौपट की खेती-किसानी, 1570 हेक्टेयर धान की फसल बर्बाद

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोंटा, 13 अगस्त।
सुकमा जिले में बाढ़ का पानी उतरने के बाद किसानों की मुसीबतें भी बढ़ गई है। पानी घटने के साथ तबाही का मंजर भी सामने आने लगा है। बाढ़ ने हजारों एकड़ में लगी फसलों को बर्बाद कर दिया है। एक रिपोर्ट के अनुसार बाढ़ से जिले की करीब 1570 हेक्टेयर धान की फ सल प्रभावित हुई है। सबसे ज्यादा नुकसान धान और केले की फ सल को पहुंचा है। विभागीय आंकड़ा अभी एकत्र किया जा रहा है। सुकमा तहसीलदार आरपी बघेल ने बताया कि अभी सर्वे कार्य जारी है, जल्द ही रिपोर्ट तैयार कर शासन को भेजेंगे।

इस बार मानसून का साथ मिलने के कारण जिले के किसान अच्छी पैदावार की आस लगाये थे, लेकिन लगातार तीन बार आये बाढ़ ने किसानों की कमर तोड़ दी है। बाढ़ से आये पानी ने खेतों में रेत और मलबा छोड़ गया है, जिससे फ सल बर्बाद हो गई है। किसान वेंकट रमन्ना ने बताया कि लगातार तीन बार आये बाढ़ ने जमकर कहर बरपाया है। पहली बार आये बाढ़ के बाद किसी तरह रोपा लगा पाये थे लेकिन तीसरी बाढ़ से लगाया रोपा भी खराब हो गया है। अब इतना समय भी नहीं है कि दोबारा रोपा लगाया जा सके। उन्होंने बताया कि कई किसान भूमि लीज में लेकर खेती करते हंै। इस बार बाढ़ के चलते उन्हें ज्यादा नुकसान उठाना पड़ सकता है। भूमि मालिक को किराया भी चुकता करना है। बाढ़ से आये नुकसान से लागत भी निकलना मुश्किल हो गया है।  

बाढ़ की तबाही से केले की फ सल चौपट
बाढ़ के अलावा अति वर्षा से केली को फसल को नुकसान पहुंचाया है। सुकमा के किसान अधिकाश भूषावली और खरपुरा प्रजाती की खेती करते हैं। लगातार हुई बारिश ने केले की फसल को बर्बाद कर दिया है। किसान शेख सुभान और शेख औलिया ने बताया कि भारी बारिश की वजह से केले की फसल अनजान बीमारी की चपेट में आ गई है। केले समय से पहले ही पक कर गिरने लगे हैं। किसान नागू ने कहना है कि बाढ़ की वजह उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। मुनाफ ा तो दूर लागत भी वसूल नहीं होगी।

बाढ़ में कई हेक्टेयर तालाब भी डूबे, मछली पालन कर रहे किसानों को लाखों का नुकसान
खरीब की फ सल के अलावा मछली का पालन कर रहे किसानों को भी बाढ़ से बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। जिला मुख्यालय में सिर्फ तीन किसानों की 46 एकड़ तालाब डूबान की चपेट में आ गए। इससे उन्हें लगभग 30.40 लाख रुपए का नुकसान होने की बात कही जा रही हैं। बाढ़ का पानी तालाब के ऊपर से बहाने से मछली भी बाढ़ के पानी के साथ बह गई।  जिससे किसानों को लाखों का नुकसान हुआ है।

न बीमा है न ही उचित मुआवजा मिलता है
किसान सीताराम राजू ने बताया कि मछली पालन का बीमा करने कोई कम्पनी आगे नहीं आती। पिछले साल अगस्त में आई बाढ़ से उन्हें लाखों का नुकसान हुआ। 9 महीने बाद 8 हजार प्रति हेक्टेयर के हिसाब से उन्हें सिर्फ 40 हजार रुपए का मुआवजा शासन की तरफ  से मिला। वे इस नुकसान से उबर ही नहीं पाए थे की दोबारा बाढ़ से उन्हें बड़ा नुकसान हुआ है।


Date : 13-Aug-2019

70 वर्षों की बेडिय़ों को भाजपा ने तोड़ा-पूर्व सांसद दिनेश कश्यप

धारा 370 को हटाना ऐतिहासिक निर्णय

जगदलपुर, 13 अगस्त। जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाना ऐतिहासिक निर्णय है। समूचे देश की भावना थी कि धारा 370 समाप्त हो, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार ने पूरा किया है। 70 वर्षों से बेडिय़ो में बंधे जम्मू कश्मीर को मुक्त कराने का साहसिक निर्णय लिया है।  उक्त बातें आज पूर्व सांसद दिनेश कश्यप ने पत्रकारवार्ता में कही।

भाजपा जिला कार्यालय में आहुत पत्र वार्ता को संबोधित करते हुए पूर्व सांसद श्री कश्यप ने कहा कि धारा 370 का दंश पिछले 70 वर्षों से न केवल जम्मू कश्मीर बल्कि सारा देश झेल रहा था। जिसे हटाकर भाजपा के नेतृत्व ने यह बता दिया है कि दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ देश के हित में निर्णय कैसे लिए जाते हैं। आज जम्मू कश्मीर सही मायनों में देश से जुड़ गया है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का मुकुट है। वहां रहने वाली कश्मीरी आवाम हमारे उतने ही अपने हैं, जितने किसी और राज्य के निवासी। धारा 370 की समाप्ति के बाद अब उन्हें भी वह सारे अधिकार प्राप्त होंगे जो भारत के प्रत्येक नागरिक को प्राप्त है। श्री कश्यप ने कहा कि धारा 370 की समाप्ति के बाद जम्मू कश्मीर अब पूरी तरह देश से जुड़कर विकास के नए आयाम गढ़ेगा। विकास की रोशनी में वहां मौजूद अलगाववादियों का भी सफ ाया होगा। पत्र वार्ता के दौरान भाजपा प्रदेश महामंत्री डॉ. सुभाऊ कश्यप ने कहा कि कांग्रेस का विरोध ही उसका असली चेहरा। उन्होंने कहा कि धारा 370 को समाप्त करने के ऐतिहासिक निर्णय से कांग्रेस बौखला गई है। राष्ट्रहित व संपूर्ण देश की भावना के अनुरूप लिए गए निर्णय का विरोध कांग्रेस कर रही है और यही कांग्रेस का असली चेहरा है। श्री कश्यप ने कहा कि समूचा देश धारा 370 के हटने का स्वागत कर रहा है, वहीं कांग्रेस के आला नेता अनर्गल बयानबाजी कर प्रलाप कर रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है और कांग्रेस के लिए नुकसानदायक भी। 

इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष बैदूराम कश्यप, विद्या शरण तिवारी, जबीता मंडावी, राजेंद्र बाजपेई, लच्छूराम कश्यप, श्रीधर ओझा आदि उपस्थित थे।

 


Date : 13-Aug-2019

ननि की सामान्य सभा में पक्ष-विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का चला दौर 

अवैध मोबाईल टॉवर व बिना टेंडर के नाली निर्माण का मुद्दा गरमाया, जलभराव व अन्य समस्यों को लेकर विपक्ष ने सत्ता पक्ष को घेरा 

जगदलपुर, 13 अगस्त।
नगर निगम कार्यालय में मंगलवार की दोपहर 12 बजे सामान्य सभा की बैठक आंरभ हुई। जिसमें विपक्ष के पार्षदों द्वारा जलभराव की समस्या के साथ अवैध मोबाईल टॉवर, बगैर टेंडर के नाली निर्माण,  चौपाटी में मांसहारी व्यंजन विक्रय, आंगनबाड़ी निर्माण में देरी जैसे मामलों को उठाते हुए सत्ता पक्ष को घेरा। इस दौरान पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर नोक-झोक हुई। सत्ता पक्ष द्वारा विपक्ष के पार्षदों को निर्माण कार्यों की जानकारी नहीं दिए जाने तथा इससे संबंधित दस्तावेज मागने पर उपलब्ध नहीं कराने का भी अरोप लगाया। 

नेता प्रतिपक्ष संजय पंाडेय की अनुपस्थिति में पार्षद नरसिंह राव ने मुद्दों को प्रमुखता से प्रस्तुत करते हुए वीरसावरकर वार्ड में बीना निविदा व पार्षद की जानकारी के नाली निर्माण करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्व निर्मित नाली को दिखाकर ठेकेदार द्वारा नाली निर्माण के पैसा भुगतान हेतु बिल प्रस्तुत किया गया था, जिसकी शिकायत होने पर सबइंजीनियर अमन नेताम को निलंबित किया गया, किन्तु ठेकेदार विरूद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई। सत्ता पक्ष पर ठेकेदार को बचाने को आरोप भी लगाया। श्री राव ने जलभराव की स्थिति के लिए दलपत सागर के आउटलेट से छेडख़ानी करने की बात कहते हुए केवल हनुमांन मंदिर के पास के आउटलेट से ही दलपत सागर अतिरिक्त पानी की निकासी होने तथा रानी घाट पर स्थित आउटलेट बंद होने तथा पनारापारा की ओर स्थित आउटलेट से पानी न के बराबर निकले की बात कही। 

इन अरोपों का जबाब देते हुए वे महापौर जतिन जायसवाल ने कहा कि इस बार अत्यधिक बारिश के चलते शहर में जलभराव की स्थिति निर्मित हुई। रमैया वार्ड जलभराव की स्थिति से राहत तब मिली जब कलेक्टर की मदद लेकर बंड को तोड़ा गया। उसके बाद रमैया वार्ड में जमा पानी जल्दी से घटा। दलपत सागर के आउटलेट के संबंध में कहा कि एनजीटी के निर्देश पर ही निर्माण कार्य हुआ है। उन्होंने कहा कि बारिश के पानी की निकासी के लिए चौड़े नालों के निर्माण का प्रस्ताव स्वीकृत हुआ है। इसके साथ ही सिवरेज नालियों का भी निर्माण होगा। कालीपुर में सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट का निर्माण होगा। वहां पर जलशोधन के बाद नदी में पानी छोड़ा जाएगा।  

निगम के सामान्य सभा में शहर में लगे मोबाइल टावरों का मुद्दा फि र एक बार गरमाया। दरअसल गुरु गोविंद सिंह वार्ड के पार्षद संग्राम सिंह राणा ने शहर में लगे अवैध टावरों का मुद्दा सामान्य सभा में उठाया और उन्होंने सत्ता पक्ष से अवैध टावरों की जानकारी मांगी। जिस पर सत्तापक्ष ने अपना जवाब देते हुए शहर में कुल 87 टावर को वैध बताया है। जिसकी हर महीने राजस्व आने के साथ कुल 69 टावरों की परमिशन लेटर है। जबकि 15 टावर की परमिशन लेटर निगम के पास होने की बात कही। शहर में कुल 123 टॉवर निगम क्षेत्र में होने की बात पर जवाब देते हुए महापौर ने कहा कि अगर 87 टावर के अलावा अन्य टावर शहर में लगे हुए होंगे तो उन्हें उखाड़ दिया जाएगा और जब तक उनसे राजस्व नहीं मिलती तब तक इन टावरों को लगने नहीं दिया जाएगा।

रामाश्रय सिंह ने चौपाटी में मांसाहारी व्यंजन बिक्री का मामला उठाते हुए उसमें रोक लगाने की मांग की। चर्चा के दौरान नियमित नालियों की सफाई नहीं होने की शिकायत का जवाब देते हुए स्वच्छता सभापति राजेश चौधरी ने कहा कि नालियों की सफाई जेसीबी के द्वारा की जा रही है। अति वर्षा से शहर में जलभराव की स्थिति हुई। विभिन्न निर्माण कार्यों को लेकर उठाए गए सवालों का जवाब देते हुए लोक निर्माण समिति के सभापति यशवर्धन राव ने कहा कि सभी वार्डों में हो रहे निर्माण कार्यों की जानकारी 10 दिनों के अंदर उपलब्ध करा दी जाएगाी। उन्होंने यह भी कहा कि अनियमितता बतरने वालों के विरूद्ध भी कार्रवाई की जाएगी। ऐजेंडा में शामिल व्यवसायिक परिसर इतवारी बाजार में निर्माण हेतु तकनिकी स्वीकृति प्राप्त प्राक्कलन अनुसार 1228.26 लाख की पूनरीक्षित स्वीकृत। कॉजी हाउस संचालन हेतु उच्चत्तम दर 25.50 पर दीपक पनपालिया के प्रस्ताव पर स्वीकृति किया गया। संजय बाजार की दुकान क्रमां वाई- 25 चैन सुक खत्र्री को 1672770 पर तथा सिटी ग्राउण्ड के सामने स्थित प्रथम तल की दुकान क्रमांक एफ-1   को 7 लाख 51 हजार के उच्चत्तम दर को स्वीकृत किया गया। आगामी सामान्य सभा की बैठक 31 सितम्बर को आहूत किये जाने की घोषणा सभापति शेषनारायण तिवारी ने बैठक के दौरान किया। नगर में शौचालय निर्माण में हुई अनियमितता का मुद्द पार्षद रामाश्रय ने रखा था। जिस पर पुनर्निरीक्षण का निर्णय लिया गया  कार्रवाई के दौरान सत्ता पक्ष व विपक्ष के बीच नोक छोक चलता रहा। सामान्य सभा की बैठक में प्रदेश सरकार द्वारा नवनियुक्त मनोनित पार्षदगण भी शामिल हुए।    


Date : 13-Aug-2019

बैलाडीला क्षेत्र में फर्न ट्री पौधे के संरक्षण का प्रयास

छत्तीसगढ़ संवाददाता
जगदलपुर, 13 अगस्त।
फर्न ट्री की संख्या निरन्तर घट रही है। इस पौधे को काफी पुराना माना जाता है। विलुप्त होता यह पौध अब यहां सीमित दायरे में बचे हैं। भांसी बचेली एवं किरन्दुल इलाके में आज भी फ र्न ट्री के सैकड़ो पौधे मौजूद है। ऐसा माना जाता है फर्न ट्री डायनासोर  के जमाने के हैं। यह शाखाहारी डायनासोर का प्रिय भोजन हुआ करता था।  
नुकिले और लंबी पत्ती वाले फ र्न का वानस्पतिक नाम एस्पैरेगस स्प्रैंगरी है। जड़, तने व पत्ते वाले खूबसूरत फ र्न की एक खासियत है कि यह फू लविहीन होता है, पर सुंदर कोमल पत्तियां होती है। जानकारों के अनुसार यह पौधे डायनासोर युग में अधिक हुआ करती थी। अब विलुप्ति के कगार पर हैं। बस्तर के बैलाडिला पहाड़ी के क्षेत्र विशेष में इसके पौधे हैं। जिन्हें संरक्षित क्षेत्र बनाया गया है। माना जाता है कि बैलाडिला में भी शाकाहारी डायनासोर का रहवास था। क्योंकि शाकाहारी डायनासोर का मुख्य आहार फर्न की पत्तियां होती थी। माना जा रहा है कि बैलाडिला की तराई में विशेष जलवायु और तापमान के चलते आज भी हजारों साल से ये पौधे जीवित हैं।

पहाड़ी में लगातार लौह अयस्क खनन से इसके अस्तिव पर खतरा बढ़ गया है। हालांकि पर्यावरण मंत्रालय में निक्षेप 4 में अभी खनन पर रोक लगा दी है। इधर वन और एनएमडीसी भी इसके संरक्षण. संवर्धन की बात कह रहा है लेकिन पुख्ता इंतजाम का अभाव नजर आ रहा है। तेज बहाव वाले नाले से हो रहे कटाव भी पौधे के अस्तिव के लिए खतरा है। एनएमडीसी खदान के तराई क्षेत्र मे बचेली से करीब 20 किमी दूर डायनासोर जीवन काल के पौधे आज भी जीवित हैं। ऐसा माना जाता है कि ये फर्न ट्रीन शाकाहारी डायनासोर का आहार होता था। करीब 33 हेक्टेयर में क्षेत्र में 100 से अधिक फर्न ट्री के पौधे मौजूद है। फि लहाल यहां किसी तरह का खनन नहीं हो रहा है। लेकिन इलाका निक्षेप 4 के तहत आता है और यहां खनन के लिए अनुमति मांगी जा रही है। इससे पहले पर्यावरण मंत्रालय में नवंबर. दिसंबर में सर्वे के बाद अनुमति आवेदन को रद्द कर दिया था। यदि एनएमडीसी की ज्वाइंट कंपनी की आवेदन पर खनन की अनुमति मिलती है तो विलुप्त प्रजाति के फर्न ट्री के पौधों का आस्तिव खत्म हो जाएगा।

इनसे भी खतरा है पौधों को
बचेली रेंज के कंपार्टमेंट 3-4 में स्थित इस इलाके में 100 से अधिक फ र्न ट्री के पौधे हैं। जिनकी ऊंचाई पांच से 20 फ ीट तक है। इनकी उम्र हजारों साल बताई जाती है। इस क्षेत्र से एक नाला बहता है, जिसके कारण मिट्टी का कटाव भी हो रहा है।  फ र्न ट्री के ऊपर से विद्युत लाइन भी गुजर रही है। यह भी विलुप्त होते पौधे के लिए खतरनाक हो सकता है।

ज्वाइंट कंपनी चाहती खनन करना

जानकारी के अनुसार निक्षेप.चार में 570,10 हेक्टेयर क्षेत्र में खनन और करीब 99 हेक्टेयर आउट साइडिंग के लिए है। इसमें करीब 33 हेक्टेयर में फर्न ट्री हैं। जो की विलुप्त होती प्रजाति के पौधे है। इसे संरक्षित क्षेत्र भी घोषित किया गया। माना जा रहा है कि इसी के लिए पर्यावरण मंत्रालय यहां खनन की अनुमति देने से बच रही है। 

जबकि एनएमडीसी की ज्वाइंट कंपनी, वन और पर्यावरण मंत्रालय को क्लीयरेंस के लिए लगातार पत्राचार कर रहा है। 24 अक्टूबर 2016 को राज्य पर्यावरण विभाग के अधिकारी और मंत्रालय स्तर के अधिकारी स्थल अवलोकन कर समीक्षा कर चुके हैं। इसके बाद पर्यावरण मंत्रालय में 28 फरवरी 2017 को एनएमडीसी के प्रस्ताव को रिजेक्ट कर दिया। वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार फ र्न ट्री एरिया डिपाजिट-4 में है। जहां अभी खनन प्रतिबंधित है। पौधों के संरक्षण. संवर्धन के लिए लगातार काम हो रहे हैं। एरिया में मवेशी और लोगों को वहां जाने से रोकने फेंसिंग किया गया है। आगे भी इसकी सुरक्षा के लिए काम किया जाएगा। बचेली रेंज के कंपार्टमेंट 3 व 4 में फर्न ट्री के 100 से अधिक पौधे हैं। इसकी सुरक्षा के लिए वन विभाग कार्य कर रहा है। यहां खनन के लिए मांगी गई अनुमति को पर्यावरण मंत्रालय ने साल भर पहले निरस्त कर दिया है। विलुप्त प्रजाति के पौधे की सुरक्षा जरूरी है। 


Date : 13-Aug-2019

बैलाडिला क्षेत्र में फर्न ट्री पौधे के संरक्षण का प्रयास

जगदलपुर, 11 अगस्त। फर्न ट्री की संख्या निरन्तर घट रही है। इस पौधे को काफी पुराना माना जाता है। विलुप्त होता यह पौध अब यहां सीमित दायरे में बचे हैं। भांसी बचेली एवं किरन्दुल इलाके में आज भी फ र्न ट्री के सैकड़ो पौधे मौजूद है। ऐसा माना जाता है फर्न ट्री डायनासोर  के जमाने के हैं। यह शाखाहारी डायनासोर का प्रिय भोजन हुआ करता था।  

नुकिले और लंबी पत्ती वाले फ र्न का वानस्पतिक नाम एस्पैरेगस स्प्रैंगरी है। जड़, तने व पत्ते वाले खूबसूरत फ र्न की एक खासियत है कि यह फू लविहीन होता है, पर सुंदर कोमल पत्तियां होती है। जानकारों के अनुसार यह पौधे डायनासोर युग में अधिक हुआ करती थी। अब विलुप्ति के कगार पर हैं। बस्तर के बैलाडिला पहाड़ी के क्षेत्र विशेष में इसके पौधे हैं। जिन्हें संरक्षित क्षेत्र बनाया गया है। माना जाता है कि बैलाडिला में भी शाकाहारी डायनासोर का रहवास था। क्योंकि शाकाहारी डायनासोर का मुख्य आहार फर्न की पत्तियां होती थी। माना जा रहा है कि बैलाडिला की तराई में विशेष जलवायु और तापमान के चलते आज भी हजारों साल से ये पौधे जीवित हैं।

पहाड़ी में लगातार लौह अयस्क खनन से इसके अस्तिव पर खतरा बढ़ गया है। हालांकि पर्यावरण मंत्रालय में निक्षेप 4 में अभी खनन पर रोक लगा दी है। इधर वन और एनएमडीसी भी इसके संरक्षण. संवर्धन की बात कह रहा है लेकिन पुख्ता इंतजाम का अभाव नजर आ रहा है। तेज बहाव वाले नाले से हो रहे कटाव भी पौधे के अस्तिव के लिए खतरा है। एनएमडीसी खदान के तराई क्षेत्र मे बचेली से करीब 20 किमी दूर डायनासोर जीवन काल के पौधे आज भी जीवित हैं। ऐसा माना जाता है कि ये फर्न ट्रीन शाकाहारी डायनासोर का आहार होता था। करीब 33 हेक्टेयर में क्षेत्र में 100 से अधिक फर्न ट्री के पौधे मौजूद है। फि लहाल यहां किसी तरह का खनन नहीं हो रहा है। लेकिन इलाका निक्षेप 4 के तहत आता है और यहां खनन के लिए अनुमति मांगी जा रही है। इससे पहले पर्यावरण मंत्रालय में नवंबर. दिसंबर में सर्वे के बाद अनुमति आवेदन को रद्द कर दिया था। यदि एनएमडीसी की ज्वाइंट कंपनी की आवेदन पर खनन की अनुमति मिलती है तो विलुप्त प्रजाति के फर्न ट्री के पौधों का आस्तिव खत्म हो जाएगा।
इनसे भी खतरा है पौधों को
बचेली रेंज के कंपार्टमेंट 3-4 में स्थित इस इलाके में 100 से अधिक फ र्न ट्री के पौधे हैं। जिनकी ऊंचाई पांच से 20 फ ीट तक है। इनकी उम्र हजारों साल बताई जाती है। इस क्षेत्र से एक नाला बहता है, जिसके कारण मिट्टी का कटाव भी हो रहा है।  फ र्न ट्री के ऊपर से विद्युत लाइन भी गुजर रही है। यह भी विलुप्त होते पौधे के लिए खतरनाक हो सकता है।
ज्वाइंट कंपनी चाहती खनन करना
जानकारी के अनुसार निक्षेप.चार में 570,10 हेक्टेयर क्षेत्र में खनन और करीब 99 हेक्टेयर आउट साइडिंग के लिए है। इसमें करीब 33 हेक्टेयर में फर्न ट्री हैं। जो की विलुप्त होती प्रजाति के पौधे है। इसे संरक्षित क्षेत्र भी घोषित किया गया। माना जा रहा है कि इसी के लिए पर्यावरण मंत्रालय यहां खनन की अनुमति देने से बच रही है। 
जबकि एनएमडीसी की ज्वाइंट कंपनी, वन और पर्यावरण मंत्रालय को क्लीयरेंस के लिए लगातार पत्राचार कर रहा है। 24 अक्टूबर 2016 को राज्य पर्यावरण विभाग के अधिकारी और मंत्रालय स्तर के अधिकारी स्थल अवलोकन कर समीक्षा कर चुके हैं। इसके बाद पर्यावरण मंत्रालय में 28 फरवरी 2017 को एनएमडीसी के प्रस्ताव को रिजेक्ट कर दिया। वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार फ र्न ट्री एरिया डिपाजिट-4 में है। जहां अभी खनन प्रतिबंधित है। पौधों के संरक्षण. संवर्धन के लिए लगातार काम हो रहे हैं। एरिया में मवेशी और लोगों को वहां जाने से रोकने फेंसिंग किया गया है। आगे भी इसकी सुरक्षा के लिए काम किया जाएगा। बचेली रेंज के कंपार्टमेंट 3 व 4 में फर्न ट्री के 100 से अधिक पौधे हैं। इसकी सुरक्षा के लिए वन विभाग कार्य कर रहा है। यहां खनन के लिए मांगी गई अनुमति को पर्यावरण मंत्रालय ने साल भर पहले निरस्त कर दिया है। विलुप्त प्रजाति के पौधे की सुरक्षा जरूरी है।