छत्तीसगढ़ » राजनांदगांव

24-Sep-2020 8:42 PM

नांदगांव जिलाध्यक्ष यादव मिले हड़ताली कर्मियों से

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

राजनांदगांव, 24 सितंबर। राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम  के संविदा कर्मियों के अनवरत अनिश्चितकालीन हड़ताल को भाजपा ने भी समर्थन दिया है। राजनांदगांव जिलाध्यक्ष मधुसूदन यादव ने गुरुवार को हड़ताली कर्मचारियों का समर्थन करते हुए भाजपा द्वारा इस मुद्दे को जोरशोर से उठाने का आश्वासन दिया है।

 जिलाध्यक्ष यादव से मुलाकात के दौरान हड़ताली कर्मियों ने बताया कि करीब डेढ़ दशक से समूचे राज्य में करीब 14 हजार कर्मचारी अपनी सेवाएं दे रहे हैं। कोरोनाकाल में जानजोखिम में डालकर कर्मचारी पूरी निष्ठा के साथ काम कर रहे हैं। मौजूदा सरकार ने चुनाव के दौरान संविदाकर्मियों को नियमित करने का चुनावी घोषणापत्र में ऐलान किया था, लेकिन सत्ता में आने के बाद सरकार वादा भूल गई है।

भाजपा अध्यक्ष ने भी संविदाकर्मियों का समर्थन देते कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ने भी चुनाव से पहले कांग्रेस सरकार के सत्तासीन होने के 10 दिन के भीतर नियमित करने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि भाजपा संविदाकर्मियों के मांगों को पूरी तरह से जायज मानती है। जिलाध्यक्ष ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से संविदाकर्मियों को नियमित करने की मांग की।


24-Sep-2020 7:33 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

राजनांदगांव, 24 सितंबर। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कन्हैयालाल अग्रवाल के निधन पर महापौर हेमा सुदेश देशमुख की उपस्थिति में नगर निगम में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। यहां पार्षदों और अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा उनके तैलचित्र पर पुष्पांजलि व दो मिनट की मौन श्रद्धांजलि दी गई।

महापौर श्रीमती देशमुख ने कहा कि हमारे संस्कारधानी नगरी के लिए गौरव की बात है कि भारतमाता चौक निवासी कन्हैयालाल अग्रवाल स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। जिनका 101 वर्ष की आयु में निधन हो गया। किसान एवं मजदूर हित में किए गए आंदोलन में इन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इनकी व्यवस्थित दिनचर्या थी और अपने सभी कार्य समय पर करते थे। उनके स्वर्गवास होने से उनके परिवार सहित राजनांदगांव शहर की अपूरणीय क्षति हुई है। जिसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती।

सभा में सतीश मसीह, संतोष पिल्ले, गणेश पवार, शिव वर्मा, पूर्णिमा नागदेवे, सिद्धार्थ डोंगरे, एजाजुर रहमान, झम्मन देवांगन, सचिन टुरहाटे, इशाख खान सहित उपस्थितजनों द्वारा कन्हैयालाल अग्रवाल को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।

शोकसभा का संचालन संतोष पिल्ले ने किया। इस अवसर पर यूके रामटेके, सुदेश सिंह, यूएस वर्मा, भूपेश वाडेकर सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।


24-Sep-2020 7:33 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

राजनांदगांव, 24 सितंबर। छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन के प्रांताध्यक्ष राजेश चटर्जी एवं प्रांतीय महामंत्री सतीश ब्यौहरे ने बताया कि शासकीय सेवकों को समयमान वेतनमान स्वीकृत करने का आदेश 28 अप्रैल 2008 को जारी हुआ था। शिक्षा विभाग ने 4 अगस्त 2010 एवं ट्राइबल विभाग ने 22 फरवरी 2011 को शिक्षक संवर्गों के लिए स्वीकृति आदेश जारी किया था, लेकिन उक्त आदेश में सहायक शिक्षक के पदनाम का उल्लेख नहीं है। राज्य शासन ने 10 मार्च 2017 को सहायक शिक्षकों को 10 एवं 20 वर्ष सेवा पश्चात क्रमोन्नत वेतनमान देने का आदेश जारी किया है। जबकि छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन समयमान वेतनमान स्वीकृत करवाने प्रयासरत है, ताकि भविष्य में मिलने वाले प्रक्रियाधीन तृतीय समयमान वेतनमान में सहायक शिक्षकों को लाभ मिल सके।

फेडरेशन के दोनों पदाधिकारियों ने बताया कि छत्तीसगढ़ सिविल सेवा के सदस्यों को तृतीय समयमान वेतनमान स्वीकृति आदेश 8 अगस्त 2018 को राज्य शासन ने जारी किया। जिसमें सहायक शिक्षकों के साथ पुन: न्याय नहीं हुआ, तब सहायक शिक्षकों की निरंतर उपेक्षा एवं शिक्षकों के रूके हुए पदोन्नति की मांग को लेकर छत्तीसगढ़ प्रदेश शिक्षक फेडरेशन ने राज्यव्यापी नियाय पाती अभियान 20 अगस्त 20 से प्रारंभ किया।

अभियान के प्रथम चरण में राज्य के 28 जिलों से प्रभावित शिक्षकों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, शिक्षामंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम एवं प्रमुख सचिव शिक्षा विभाग डॉ. आलोक शुक्ला को हजारों की संख्या में पोस्टकार्ड लिखकर न्याय करने का आग्रह किया। द्वितीय चरण में जिला कलेक्टर के माध्यम से 9 सितंबर 20 को फेडरेशन के पदाधिकारियों ने ज्ञापन नियाय पाती सौंपा।

उन्होंने बताया कि फेडरेशन के आह्वान पर जारी नियाय पाती अभियान के आग्रह को संज्ञान में लेते शिक्षामंत्री डॉ. टेकाम ने सहायक शिक्षकों को तृतीय समयमान वेतनमान स्वीकृत करने निर्देश प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा विभाग को दिया है। फेडरेशन के पदाधिकारियों ने पदोन्नति के मामले में भी शिक्षामंत्री से त्वरित कार्रवाई की मांग की है।


24-Sep-2020 6:15 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
कलेक्टर टीके वर्मा ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्तरीय कार्यान्वयन समिति (डीएलआईसी) के तहत बैंक के प्रतिनिधियों की बैठक ली। उन्होंने कहा कि नीति आयोग के मापदंड के अनुसार वित्तीय समावेशन का पालन कराएं। इसके संबंध में उन्होंने बैंक के प्रतिनिधियों को वित्तीय समावेशन के लिए प्रशिक्षण हेतु वित्तीय साक्षरता शिविर लगाने के निर्देश दिए। 

बैठक में लीड बैंक के जिला प्रबंधक अजय त्रिपाठी ने बताया कि वित्तीय समावेशन एवं कौशल विकास में मुद्रा लोन के क्षेत्र में 2020-21 के लिए दिए गए लक्ष्य के विरूद्ध 17.33 प्रतिशत उपलब्धि रही। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत दिए गए लक्ष्य 10 हजार के विरूद्ध 93.18 प्रतिशत, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में दिए गए लक्ष्य 35 हजार के विरूद्ध 83.32 प्रतिशत, अटल पेंशन योजना में दिए गए लक्ष्य 2 हजार 200 के विरूद्ध 58.91 प्रतिशत रही। इस अवसर पर नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक सुनील गोवारकर एवं अन्य बैंकर्स उपस्थित थे।

जिला स्तरीय निगरानी समिति की बैठक आयोजित
कलेक्टर श्री वर्मा ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्तरीय निगरानी समिति (डीएमसी) की बैठक ली। इस अवसर पर नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक सुनील गोवारकर ने बताया कि नेशनल को-ऑपरेटिव डेव्हलपमेंट कॉपोरेशन भारत शासन द्वारा प्राप्त पत्र में जिले में कृषक उत्पादक संघ की स्थापना करने के लिए 4 विकासखंड या क्लस्टर का चिन्हांकन करने के लिए अनुरोध किया गया है। इस अवसर पर लीड बैंक के जिला प्रबंधक अजय त्रिपाठी एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

जिले में 86 नए पॉजिटिव, 48 डिस्चार्ज
बलौदाबाजार, 24 सितंबर। जिले में बुधवार को कोरोना के 86 नए मामलों की पहचान की गई है। इन्हें मिलाकर जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2667 हो गई है। वहीं जिले के विभिन्न अस्पतालों से 48 मरीजों को स्वस्थ होने पर छुट्टी दे दी गई। दो मौत भी बुधवार को दर्ज की गई है। पलारी विकासखण्ड के 44 वर्षीय पुरुष और बलौदाबाजार के 70 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। उन्हें कोरोना सहित अन्य जटिल बीमारियों की शिकायत थी। इस प्रकार मरने वालों की संख्या जिले में 31 हो गई है। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सोनवानी ने बताया कि 86 प्रकरणों में जिला अस्पताल बलौदाबाजार से 21, पलारी से 19, कसडोल से 15, बलौदाबाजार एवं भाटापारा से 9-9, बिलाईगढ़ से 8 और सिमगा से 5 मरीज शामिल हैं। जिले में 603 सैंपल कोरोना जांच के लिए गए। उन्होंने बताया कि अब तक कोरोना के 1,257 मरीज ठीक हो चुके हैं। सक्रिय मरीजों की संख्या अब 1,379 है, जिनका कोविड अस्पताल और होम आइसोलेशन में इलाज चल रहा है।


24-Sep-2020 6:14 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
कोरोना महामारी में बच्चों को सुरक्षित अपने घरों में रहते पढ़ाई से जोडऩे के लिए मोहला विकासखंड के सभी 16 संकुलों में मोहल्ला क्लास का संचालन नियमित तौर पर संचालित है। इसी कड़ी में दुगाटोला संकुल के समन्वयक मार्टिन मसीह और राजकुमार यादव के प्रयासों से दुगाटोला संकुल अंतर्गत सभी स्कूलों में मोहल्ला क्लास का संचालन सफलतापूर्वक किया जा रहा है। दुगाटोला संकुल के प्राथमिक शाला गिधाली में शाला के शिक्षक राजूलाल चौरे और शिक्षिका संगीता साहू के साथ में शिक्षा सारथी के रूप में यशोमति, देविका गावड़े, माध्यमिक शाला से श्री सहारे और चिकाटोला से भरत मरकाम, बोगाटोला से श्री वाल्दे, पद्दाटोला से श्री महाले के साथ-साथ संकुल के अन्य शिक्षकों द्वारा नियमित मोहल्ला क्लास लिया जा रहा है। मोहल्ला क्लास को सरपंच सचिन धुर्वे और ग्रामवासियों का भरपूर सहयोग मिल रहा है।

इसी प्रकार मोहला के अलकन्हार संकुल में मोहल्ला क्लास योजना गति पकड़ रही है। यहां संकुल समन्वयक पीला लाल देशमुख और शिक्षक सुनील शर्मा के कुशल मार्गदर्शन में संकुल के अधिकतर स्कूलों में मोहल्ला क्लास का संचालन शिक्षकों और शिक्षा सारथियों के सहयोग से किया जा रहा है।
 


24-Sep-2020 6:13 PM

राजनांदगांव, 24 सितंबर। देश सहित प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण भयावह रूप में फैल रहा है। इसको ध्यान में रखते महापौर हेमा देशमुख ने छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा 18 से 21 अक्टूबर तक आयोजित राज्य सेवा मुख्य परीक्षा 2019 की तिथि को आगे बढ़ाने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है।

महापौर श्रीमती देशमुख ने पत्र में लिखा है कि देश सहित छत्तीसगढ़ प्रदेश में कोरोना संक्रमण भयावह रूप से फैल रहा है। ऐसी स्थिति में परीक्षा होने पर कोरोना संक्रमण परेशानियों का कारण बन सकता है। लोक सेवा मुख्य परीक्षा में राजनांदगांव सहित पूरे प्रदेश के अभ्यर्थी शामिल होंगे तथा यह परीक्षा जिन शहरों में आयोजित है, वहां भी रोज सैकड़ों की संख्या में संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। 

अगर इन गंभीर परिस्थितियों में भी यह परीक्षा आयोजित होती है, तो संभावित भीड़ के कारण कोरोना संक्रमण का खतरा और बढ़ जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री बघेल से वैश्विक महामारी कोविड-19 के संक्रमण को देखते छत्तीसगढ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा मुख्य परीक्षा 2019 की घोषित तिथि में परिवर्तन कर आगे बढ़ाने का अनुरोध किया है।
 


24-Sep-2020 6:12 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
किसान विधेयक किसानों की आय को दोगुनी करने के साथ किसानों के स्वाभिमान को बढ़ाने वाला, उनकी अर्थव्यवस्था में वृद्धि करने वाला और निश्चिंतता से खेती किसानी करने का गारंटी देने वाला विधेयक है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा किसान के हित और कल्याण के लिए लाए गए तीनों विधेयक की भूरि-भूरी प्रशंसा करते पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दिनेश गांधी ने कहा कि देश में अब किसानी के विकास का रोडमैप प्रधानमंत्री मोदी ने प्रस्तुत कर दिया है। जिससे आने वाले समय में किसानों की आर्थिक उन्नति के मार्ग का पथ प्रशस्त हो गया है। विपक्ष का विरोध केवल राजनीतिक है, क्योंकि किसानों के कल्याण के लिए लाए गए विधेयक के सारे प्रावधान किसानों को विकास की मंजिल तक ले जाने वाली है।

श्री गांधी ने कहा कि इस बिल के अनुसार राज्य की सीमा के अंदर या फिर राज्य से बाहर, देश के किसी भी हिस्से पर किसान अपनी उपज का व्यापार कर सकेंगे। इसके लिए व्यवस्थाएं की जाएंगी। मंडियों के अलावा व्यापार क्षेत्र में फार्मगेट, वेयर हाउस, कोल्डस्टोरेज, प्रोसेसिंग यूनिटों पर भी किसानों को बिजनेस करने की आजादी होगी। इसी तरह यह  इस विधेयक द्वारा कृषि करार के माध्यम से बुवाई से पूर्व ही किसान को उपज के दाम निर्धारित करने और बुवाई से पूर्व किसान को मूल्य का आश्वासन देता है। किसान को अनुबंध में पूर्ण स्वतंत्रता रहेगी। वह अपनी इच्छा के अनुरूप दाम तय कर उपज बेचेगा। इससे किसान फसल के खराब होने की आशंका पर अपनी पूर्व में तय किए गए कीमत को प्राप्त कर सकेगा।
 


24-Sep-2020 3:20 PM

पार्टी विलय सप्ताह में दिखा नक्सल उपद्रव

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
21 से 27 सितंबर तक पार्टी विलय सप्ताह में नक्सलियों ने उपद्रव मचाते हुए  सडक़ निर्माण में लगी आधा दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया है। मोहला थाना के परवीडीह  और पारडी के बीच बन रहे पुल निर्माण में लगे वाहनों को बीती रात अज्ञात नक्सलियों ने आग लगा दी। बताया जा रहा है कि घटना को करीब डेढ़ दर्जन सशस्त नक्सलियों ने अंजाम दिया है। 

सूत्रों का कहना है कि टीपागढ़ दलम और मोहला एलओएस ने संयुक्त होकर वारदात की है। बताया जा रहा है कि पुलिया निर्माण के लिए लगी वाहनों में टिप्पर, मिक्चर मशीन, पोकलेन, हाईवा को भी आग लगा दी। लंबे समय बाद नक्सलियों की इस इलाके में उपस्थिति सामने आई है।
 
इस संबंध में एसपी डी. श्रवण ने ‘छत्तीसगढ़’ से कहा कि नक्सलियों के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया है। नक्सलियों की तलाश की जा रही है। बताया जा रहा है कि जगदलपुर की चावला कंट्रक्शन कंपनी द्वारा निर्माण कार्य किया जा रहा था। नए पुल निर्माण से लोगों की आवाजाही बढऩे के डर से नक्सलियों ने आगजनी की। 


24-Sep-2020 3:19 PM

नांदगांव में हुई कोविड-19 प्रोटोकाल के चलते अंतिम संस्कार

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
जिले के छुईखदान के रहने वाले राज्य पुलिस सेवा के डीएसपी  की राजधानी रायपुर में कोरोना उपचार के दौरान मृत्यु होने से कोविड-19 प्रोटोकॉल के चलते राजनांदगांव शहर में ही गुरुवार दोपहर को पुलिस और स्वास्थ्य अधिकारियों की मौजूदगी में अंत्येष्टि की गई। छुईखदान के रहने वाले लक्ष्मणराम चौहान रायपुर में ही पदस्थ थे। 1988 में बतौर उप निरीक्षक पुलिस महकमे में वह शामिल हुए। करीब 4 साल पहले राज्य सरकार ने डीएसपी पद पर पदोन्नति दी थी। 2016 बैच के डीएसपी स्व. चौहान एक वर्ष बाद सेवानिवृत्त होने वाले थे। इससे पहले उनकी तबियत बिगड़ गई। रायपुर में पदस्थ रहते हुए वह कोरोना पॉजिटिव हो गए। वह दूसरी शारीरिक बीमारियों से भी जूझ रहे थे। आज सुबह उनकी उपचार के दौरान निधन होने की खबर से महकमे में शोक की लहर दौड़ गई। 
 
इधर कोरोना से मृत्यु होने के कारण महकमे ने राजनांदगांव शहर में ही कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत उनकी अंत्येष्टि करने की तैयारी कर ली है। आज दोपहर बाद उनकी परिजनों की उपस्थिति में अंतिम संस्कार कर दिया गया। पनेका स्थित मुक्तिधाम में कोविड-19 के शर्तों के आधार पर  उनका दाह संस्कार किया गया। इस दौरान पुलिस जवानों ने गार्ड ऑफ आनर देते उन्हें सलामी दी। अंतिम संस्कार के दौरान बसंतपुर थाना प्रभारी व प्रशिक्षु डीएसपी रूचि वर्मा समेत अन्य पुलिस और स्वास्थ्य महकमे के कर्मी उपस्थित थे।


24-Sep-2020 2:43 PM

घुमका पुलिस ने 24 घंटे में सुलझाई गुत्थी

‘छत्तीसगढ़’  संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
घुमका क्षेत्र के खैरझिटी गांव में 22 सितंबर की सुबह हत्या के बाद लाश को जलाने की घटना का पुलिस ने पर्दाफाश कर लिया है। वारदात को मृतक के सगे भाई छोटे भाई ने अंजाम दिया था। पूरा मामला फसल बीमा और बोनस राशि  नहीं दिए जाने से जुड़ा हुआ है। पुलिस ने आरोपी के हवाले से बताया कि बड़े भाई द्वारा बीमा और बोनस की राशि को हजम करने के कारण छोटे भाई ने घटना को अंजाम दिया है।
 
मिली जानकारी के मुताबिक खैरझिटी गांव के दिनेश सिन्हा 42 वर्ष बीते 22 सितंबर को घर से खेत जाने निकला था। इसी बीच आरोपी घनश्याम सिन्हा भी खेत में पहुंच गया। पुलिस का कहना है कि मृतक और आरोपी समेत अन्य भाईयों की संपत्ति का बंटवारा नहीं हुआ था। आपसी सहमति से भाई अलग-अलग खेतों में खेती कर रहे थे, लेकिन मृतक के नाम पूरी संपत्ति होने के कारण फसल बीमा और बोनस की राशि व्यक्तिगत रूप से उसके खाते में जमा हो रही थी। इसी के चलते भाईयों में अक्सर पैसो को लेकर वाद-विवाद होता था। भाईयों को मृतक द्वारा रकम नहीं दी जा रही थी। इसी बात से नाराज होकर मृतक के छोटे भाई ने लोहे के दांतनुमा फावड़ा से हमला कर दिया। जिससे उसकी मौत हो गई। बाद में आरोपी ने मृतक को मिट्टी तेल डालकर जलाने की कोशिश की। घुमका पुलिस ने पारिवारिक तनाव के आधार पर जांच शुरू की। आरोपी के बर्ताव पर शक होने के बाद पुलिस ने सवाल-जवाब किए। पुलिस की कड़ी पूछताछ के सामने टूटते हुए आरोपी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया।


24-Sep-2020 2:37 PM

तीन दिन में दूसरी घटना, 4 का समर्पण, 3 फरार

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 24 सितंबर।
राजनांदगांव शहर में गैंगबाजों का फिर एक बार दबदबा बढऩे से सिलसिलेवार हत्या की वारदात होने से दहशत का माहौल बन गया है। 

बीती रात शहर के बसंतपुर स्थित नवीन कृषि उपज मंडी थोक सब्जी बाजार में एक युवक की सामूहिक रूप से मिलकर आधा दर्जन युवकों ने हत्या कर दी। घटना के बाद चार युवकों ने बकायदा पुलिस के समक्ष समर्पण कर दिया है, वहीं तीन आरोपी फरार हैं। 

मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात लगभग 12 बजे बसंतपुर वार्ड नं. 43 के रहने वाले गोल्डी मरकाम की मोहल्ले के ही आधा दर्जन युवकों ने मिलकर धारदार हथियार से हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि आरोपियों और मृतक के बीच अवैध कारोबार को लेकर मनमुटाव चल रहा था। मृतक और मुख्य आरोपी राजा निकोसे के बीच पहले गहरी दोस्ती थी। बाद में मतभेद के चलते दोनों के बीच आपसी दुश्मनी ठन गई। पिछले कुछ दिनों से मृतक लगातार आरोपियों के साथ मारपीट कर रहा था। 

मुख्य आरोपी राजा निकोसे का अपने साथियों पंकज यादव, विष्णु यादव, विकास वैष्णव, खेमू यादव तथा छीन यादव के साथ मृतक से आमना-सामना हो गया। दोनों में कहा-सुनी होते ही मृतक पर सभी ने ताबड़तोड़ धारदार हथियार से कई वार किए। जिसके चलते वह लहुलुहान हो गया। वहीं मृतक के साथ मौजूद कौरिनभाठा के प्रतीक ताम्रकार को भी आरोपियों ने वार कर घायल कर दिया। बताया जा रहा है कि मृतक को अस्पताल में जब लाया गया तब तक उसकी जान चली गई। वहीं साथी  प्रतीक का इलाज चल रहा है।

इधर बीते तीन दिन के भीतर हुए हत्या की दो हत्याओं से शहर में फिर से गैंगबाजों के सिर उठाने की चर्चा से लोग सहमे हुए हैं। 2015-16 में भी शहर के भीतर दुश्मनी भांजने के लिए गोलियां चली थी। पहले भी शहर में कुछ युवकों ने सामूहिक रूप से कत्ल की घटना को अंजाम दिया गया था। बीते 21 सितंबर को भी एक निगरानीशुदा बदमाश परवेज कुरैशी की कंचनबाग मेें आपसी रंजिश के चलते भी आधा दर्जन युवकों ने धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी थी। 

इस संबंध में बसंतपुर थाना प्रभारी व प्रशिक्षु डीएसपी रूचि वर्मा ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि फरार आरोपियों की खोजबीन की जा रही है। घटना की वजह आपसी रंजिश है। उधर हत्या से गुस्साए वार्ड के लोगों ने आरोपियों के वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। 

बताया जा रहा है कि आरोपियों को मारने की नियत से मृतक के परिवार के लोग भी हथियार बंद होकर पहुंचे थे। पुलिस की दखल से मामले को सम्हाला गया। 

मृतक के साथ मौजूद आरक्षक सस्पेंड
बीती रात हुई गोल्डी मरकाम की हत्या की घटना के दौरान मौके पर मौजूद बसंतपुर थाना में पदस्थ एक आरक्षक मुकेश कुर्रे को तत्काल एसपी डी. श्रवण ने निलंबित कर दिया है। सूत्रों का कहना है कि वारदात से पहले आरक्षक कुर्रे मृतक के साथ शराब का सेवन कर रहा था। इसी बीच मौके पर चाकू-छूरी चली। किसी तरह आरक्षक वहां से भागने में कामयाब हो गया। जिसके चलती उसकी जान बच गई। चर्चा है कि मृतक के साथ आरक्षक का रोज का उठना-बैठना था। मृतक भी कई अवैध कारोबार में शामिल था। बताया जा रहा है कि एसपी श्रवण ने आरक्षक के आचरण को सिविल सेवा अधिनियम के विपरीत मानते हुए निलंबित किया है। 


23-Sep-2020 10:28 PM

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

राजनांदगांव, 23 सितंबर। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कन्हैयालाल अग्रवाल के निधन पर जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण एवं शहर ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है।

जिला कांग्रेस प्रवक्ता रूपेश दुबे ने बताया कि जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के अध्यक्ष पदम सिंह कोठारी व शहर अध्यक्ष कुलबीर छाबड़ा ने श्रद्धा सुमन अर्पित करते कहा स्व. अग्रवाल अपने नीति व सिद्धांतों को नियमित दिनचर्या के साथ अपने प्रतिष्ठान के कर्मचारियों के प्रति प्रेम सहयोग के साथ जीवन की सादगी व सिद्धांत प्रासंगिक एवं अनुकरणीय है। उनके निधन से हम सबने एक मार्गदर्शक को खो दिया है, जिनकी पूर्ति कठिन है।

अध्यक्षद्वय समेत पूर्व सांसद करूणा शुक्ला, पूर्व मंत्री धनेश पाटिला, पंकज शर्मा, अरुण सिसोदिया, इंद्रशाह मंडावी, दलेश्वर साहू, भुनेश्वर बघेल, छन्नी साहू, शाहिद भाई, थानेश्वर पाटिला, हेमा देशमुख, कमलजीत पिंटू, विवेक वासनिक, हफीज खान, हरिनारायण धकेता, श्रीकिशन खंडेलवाल, अलालीराम यादव, नवाज खान, रमेश राठौर, जितेंद्र मुदलियार, दिनेश शर्मा, सुदेश देशमुख, नरेश डाकलिया, रमेश डाकलिया, प्रशांत तिवारी सहित कांग्रेस के सभी संगठन पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं ने भी शोक व्यक्त किया।

जिला भाजपा ने दी श्रद्धांजलि

जिला भाजपा ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कन्हैयालाल अग्रवाल के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। जिला भाजपा अध्यक्ष मधुसूदन यादव ने कहा कि कन्हैयालाल अग्रवाल का स्वतंत्रता दिलाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वह राजनांदगांव शिक्षा मंडल से भी लंबे समय तक जुड़े रहे। शिक्षा के क्षेत्र में उनका अविस्मरणीय योगदान रहा है। उनके निधन पर जिला भाजपा के वरिष्ठ नेता लीलाराम भोजवानी, खूबचंद पारख, अशोक शर्मा, संतोष अग्रवाल, सुरेश एच. लाल, विक्रांत सिंह, गीता साहू, नीलू शर्मा, अशोक चौधरी, भरत वर्मा, रमेश पटेल, तरुण लहरवानी,  अतुल रायजादा, सौरभ कोठारी आदि नेताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की है।

 

 

 


23-Sep-2020 10:25 PM

राजनांदगांव, 23 सितंबर। राष्ट्रीय पोषण माह के अवसर पर एकीकृत बाल विकास सेवा परियोजना द्वारा राजनांदगांव शहर में ऑनलाइन रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की गई। सामाजिक प्रथाएं एवं रूढिय़ां विषय पर आयोजित इस प्रतियोगिता में बेटियों के लिए जागरूकता का संदेश देती 200 से ज्यादा प्रविष्टियां प्राप्त हुई।

 

 

 


23-Sep-2020 7:21 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने मंगलवार को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में समय-सीमा की बैठक में कोरोना संक्रमण के प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करने तथा राज्य की प्राथमिकता वाली योजनाओं का उचित क्रियान्वयन करने के निर्देश दिए। 

कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि शहर में व्यवसायिक गतिविधियां होने से लोगों की आवाजाही बढ़ी है। इस स्थिति में कोरोना के प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करना जरूरी है। सोशल डिस्टेसिंग का पालन तथा मास्क लगाना अनिवार्य है। इसका पालन नहीं करने वाले पर लगातार कार्रवाई करें, जिन स्थानों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है, वहां प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए। होम आइसोलेशन में रहने वाले और उनके परिवार के सदस्य घर से बाहर नहीं निकले, इस पर कड़ी निगरानी रखी जाए। 

कलेक्टर ने परिस्थिति को देखते कहा कि कोरोना सैम्पल लेने में कमी नहीं आनी चाहिए। जब कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की पहचान होगी, तभी इन मरीजों को आइसोलेशन में रखकर संक्रमण की चेन तोड़ा जा सकता है। सभी अधिकारी अन्य कार्यों के साथ कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगातार कार्य करें।

कलेक्टर वर्मा ने गोधन न्याय योजना में सभी नोडल अधिकारियों को जिम्मेदारीपूर्वक कार्य करने कहा है। उन्होंने वर्मी कम्पोस्ट निर्माण में नाराजगी जाहिर करते कहा कि वर्मी बेड से कम्पोस्ट निकालना प्रारंभ होना चाहिए। प्रत्येक गौठान में निश्चित मापदंड के अनुरूप वर्मी कम्पोस्ट बनाने के निर्देश दिए। सभी एसडीएम को प्राथमिकता से इस कार्य की समीक्षा करने के निर्देश दिए। 

कलेक्टर वर्मा ने स्वास्थ्य विभाग के प्राथमिकता वाली कार्य गर्भवती महिलाओं का रजिस्टे्रशन, एएनसी चेकअप में आई कमी को देखकर बीएमओ के कार्य के प्रति गहरी नाराजगी जाहिर की और कहा कि सभी फील्ड में कार्य करने वाले एएनएम, मितानिन तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इस कार्य में गति लाए। इसके लिए अभियान चलाने की जरूरत है। इसके लिए प्रत्येक महीने किए जाने वाले कार्यों का रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। उन्होंने स्कूलों के लिए स्वीकृत निर्माण कार्य को जल्द ही प्रारंभ करने कहा है। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि होम आइसोलेशन की मॉनिटरिंग कड़ाई से होनी चाहिए। 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्तियों को चिन्हांकित करके समय पर उनके स्वास्थ्य का चेकअप करते रहें तथा दवाईयां उपलब्ध कराएं। 

इस अवसर पर अपर कलेक्टर हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर सीएल मार्कंडेय, एसडीएम राजनांदगांव मुकेश रावटे सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए अनुविभाग स्तरीय अधिकारी जुड़े रहे।
 


23-Sep-2020 7:19 PM

बच्चों की शिक्षा के प्रति जागरूक व अग्रणी रहे पालक

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
मोहला विकासखंड के ग्राम ठेलकादंड में संसदीय सचिव इंद्रशाह मंडावी द्वारा सामुदायिक भवन व प्राथमिक शाला के स्मार्ट क्लास का उद्घाटन किया गया। विधायक श्री मंडावी ने अपने उद्बोधन में ग्रामवासियों को शिक्षा के प्रति जागरूक एवं अग्रणी रहने की अपील की। 

विधायक ने शिक्षा की अहमियत समझाते पालकों से अपने बच्चों को अनिवार्यत: पढ़ाने की बात कही। गांव में वर्ष 2012 से लंबित पड़ी वर्षों पुरानी मांग, सामुदायिक भवन निर्माण को विधायक इंद्रशाह मंडावी के प्रयासों से पूर्ण किया जा सका है। जिससे ग्रामवासी काफी उत्साहित हैं। 

उल्लेखनीय है कि शाला में स्मार्ट टीवी द्वारा अध्यापन हेतु शिक्षक ओमप्रकाश कोवाची व यशवंत शाह मंडावी, उपसरपंच रूपत घावड़े, पूर्व सरपंच कृपाराम के संयुक्त प्रयासों से स्वयं के व्यय से प्राथमिक शाला ठेलकादंड में स्मार्ट टीवी लगाया गया है।  विधायक श्री मंडावी ने इसी प्राथमिक शाला ठेलकादंड में स्मार्ट क्लास का भी उद्घाटन किया है। 

इस अवसर पर विधायक श्री मंडावी के साथ समाजसेवी संजय जैन, जनपद अध्यक्ष लगनु चंद्रवंशी, सरपंच पूनम कोवाची, एबीईओ राजेन्द्र कुमार देवांगन, स्थानीय नेतागण अध्यक्ष मीना मांझी, युवा अजय राजपूत, सदानंद शेंडे, संकुल समन्वयक विष्णु निषाद, अरुण कौशिक, पीएस तरार, ग्राम पटेल व बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे। वही संजय जैन ने कहा कि विधायक मंडावी क्षेत्र के चहुमुंखी विकास के लिए समर्पित है और हम सभी को उन्हें पूरा सहयोग देना चाहिए।
 


23-Sep-2020 3:15 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
जिला किसान संघ ने बुधवार को संसद द्वारा पारित तीनों कृषि बिलों को वापस लेने समेत अन्य मांगों को लेकर जिला कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। किसानों ने आवाज बुलंद करते कहा कि किसान विरोधी तीनों बिलों के वापस व अन्य मांगें पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा।

किसानों ने तीनों कृषि विधेयकों पर आपत्ति करते कहा कि अध्यादेश कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य अध्यादेश 2020 से सीधे समर्थन मूल्य पर खरीदी एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली पूरी तरह ध्वस्त होगी। वहीं देश की खाद्य सुरक्षा भी संकट में आएगी। वहीं किसी भी पेनकार्ड धारक को किसान से सीधे खरीदी करने का प्रावधान किया जा रहा है। भुगतान या कोई विवाद की स्थिति में न्यायालय जाने का अधिकार खत्म किया जा रहा है। सरकार सफाई में कह रही है कि मंडी कानून को कुछ नहीं किया जा रहा है, बल्कि किसान के लिए अतिरिक्त सुविधा दी जा रही है, ताकि बिचौली के शोषण से बच सकें। मंडी में जाने पर 2 प्रतिशत मंडी शुल्क लगता है और अब मंडी के बाहर कोई शुल्क नहीं लगेगा, तो कौन व्यापारी मंडी में खरीदेगा और नियम के झंझट में फंसेगा। ऐसे में मंडी में करोबार नहीं होगा तो मंडियां बिना आदेश निकाले स्वयं ध्वस्त हो जाएगी।

इस अध्यादेश से किसानों को बिचौलियों से बचाने के नाम पर असुरक्षित किया जा रहा है। मंडी व्यवस्था ध्वस्त कर मंडी कार्यरत मजदूर व छोटे व्यापारियों का अहित कर कार्पोरेट को किसानों की खुली लूट करने की छूट दी जा रही है।

वहीं दूसरे अध्यादेश पर आपत्ति करते कहा कि आलू, प्याज, दलहन, तिलहन, तेल आवश्यक सूची से बाहर होंगे। यदि कोई चाहे कितनी भी मात्रा में इनका संग्रहण कर सकता है। एक प्रकार से धन कुबेरों, कारर्पोरेटो को जमाखोरी, मुनाफाखोरी का मुफ्त लाइसेंस सरकार देना चाहती है। वहीं तीसरे अध्यादेश पर भी आपत्ति जताई। 


23-Sep-2020 2:36 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
वैश्विक महामारी कोरोना की चपेट में आने से न्यायालयीन कामकाज के बंद होने से वकीलों की हालत खराब हो गई है। करीब छह माह से न्यायालयों में सिर्फ विशेष मामलों की सुनवाई की व्यवस्था होने से अधिवक्ताओं के सामने भरण-पोषण की समस्या खड़ी हो गई है। 

राजनंादगांव अधिवक्ता संघ ने बुधवार को कलेक्टर टीके वर्मा से मिलकर अपना दुखड़ा सुनाया। एक ज्ञापन सौंपते हुए वकीलों ने कहा कि मार्च 2020 से आज पर्यन्त न्यायालय के नियमित कार्य स्थगित हैं। जिसके चलते वकीलों के कामकाज पर विपरीत असर पड़ा है।  

कोविड-19 के कारण बंद पड़े न्यायालीन कामकाज से होने वाली आय से अधिवक्ताओं को हाथ धोना पड़ा है। लिहाजा अधिवक्ताओं के पास जीवकोपार्जन की दूसरी व्यवस्था नहीं होने से आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। परिवार का भरण पोषण करना दूभर होता चला जा रहा है। 

अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष मनोज चौधरी का कहना है कि राज्य सरकार से प्रतिमाह 10 हजार रुपए की आर्थिक सहायता देने की गुजारिश की गई है, ताकि परिवारों का भरण-पोषण हो सके। उन्होंने कहा कि  छह माह से आज पर्यन्त की अवधि के अनुसार एकमुश्त सभी वकीलों को सरकार 50-50 हजार रुपए की सहायता अतिरिक्त रूप से करें।
 
कलेक्टर के समक्ष वकीलों ने अपनी मौजूदा आर्थिक हालत को लेकर अन्य जानकारियां भी दी है। इस दौरान संघ  सचिव के के सिंह, शरद खंडेलवाल, संजीव श्रीवास्तव समेत अन्य शामिल थे।


23-Sep-2020 2:21 PM

धमधा में हड़ताली महिलाकर्मी की आत्मदाह की चेतावनी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंादोलनरत संविदाकर्मियों और सरकार के बीच चल रही निर्णायक लड़ाई के बीच राजनांदगांव जिले के एक संविदाकर्मी ने जहां बर्खास्तगी के विरोध में मुंडन कराया। वहीं दुर्ग जिले के धमधा में पदस्थ रहे एक महिला लैब टेक्निशियन ने राज्यपाल को पत्र लिखकर आत्मदाह करने की अनुमति मांगी है।
 
मिली जानकारी के मुताबिक डोंगरगांव के एनएचएम कर्मी ने बकायदा मुंडन कराकर अपना विरोध जताया है। बीते 19 सितंबर से राज्यभर के  एनएचएम कर्मी जिले एवं ब्लॉकवार अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। राज्य सरकार ने कर्मियों को तत्काल हड़ताल समाप्त कर कार्य में लौटने की चेतावनी दी है। चेतावनी को अनसुना करने पर सरकार ने बर्खास्तगी भी शुरू दी है। हालांकि कुछ दिनों में सरकार के फरमान से सहमे कर्मियों ने हड़ताल समाप्त कर दिया है। 

राजनांदगांव जिले में कल सामूहिक इस्तीफा देकर कर्मियों ने अपना इरादा जाहिर कर दिया है। वहीं प्रदेश सरकार का रूख भी हड़तालियों को लेकर काफी सख्त है। इसी कड़ी में डोंगरगांव में पदस्थ एक कर्मचारी ने मुंडन कराकर सरकार के निर्णय का खुलकर विरोध किया है। इसी तरह धमधा में पदस्थ लैब टेक्निशियन अरूणा बंदे ने अपनी पीड़ा को व्यक्त करते हुए राज्यपाल के नाम एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा है कि कम वेतन मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति लगातार खराब हो रही है। जिसके चलते नियमितीकरण की मांग पूरी तरह से उचित है। इसी मांग को लेकर एनएचएम कर्मी आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन सरकार मांग को पूरा करने के बजाय सभी को बर्खास्त कर रही है। इसी के चलते वह आत्महत्या करने की अनुमति मांगने मजबूर है। 


23-Sep-2020 1:59 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
डोंगरगांव से सटे एक पेपर मिल में बीती रात एक मजदूर की इलेक्ट्रॉनिक मशीन के वायर में फंसने से दर्दनाक मौत होने का मामला सामने आया है। बताया गया है कि रात्रिकालीन ड्यूटीरत एक 19 वर्षीय मजदूर की भारीभरकम मशीन में लगे वायर में फंसने से जान चली गई। घटना की पुष्टि करते अंबागढ़ चौकी एसडीओपी घनश्याम कामड़े ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि फैक्ट्री में काम करते मजदूर की मौत हुई है। मर्ग कायम कर जांच की जा रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक अमलीडीह गांव के रहने वाले त्रिभुवन पटेल धनलक्ष्मी पेपर मिल में बतौर मजदूर काम करता था। कल रात को कारखाने में काम करते हुए हाईड्रोपी मशीन के तार में मृतक उलझ गया। जिसके चलते उसकी मौत हो गई। 

बताया गया है कि कारखाना प्रबंधन ने मजदूर के साथ हुए हादसे की जानकारी पुलिस को नहीं दी, बल्कि घटना की खबर पुलिस को डोंगरगांव अस्पताल के जरिये मिली।  मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने घटना को लेकर  मर्ग कायम किया है। इसके बाद फैक्ट्री संचालक से भी पुलिस पूछताछ होगी।


23-Sep-2020 1:33 PM

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
राजनांदगांव, 23 सितंबर।
जिले के मानपुर के भीतरी इलाके में एक आदिवासी युवती के साथ गैंगरेप के मामले में मदनवाड़ा पुलिस ने तीन नाबालिग युवकों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने अपराधिक प्रकरण दर्ज करने के बाद तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

मिली जानकारी के मुताबिक बीते 17-18 सितंबर की रात को एक आदिवासी युवती के साथ तीन युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। बताया जाता है कि रेप के बाद युवती को एक स्कूल में कथित रूप से बंधक बनाकर भी आरोपियों ने कैद कर लिया था। इसके बाद मामले की जानकारी ग्रामीणों को लगी। युवती के साथ हुए दुराचार के मामले को लेकर कई आदिवासी समाज के प्रमुखों ने बैठक कर मामले को रफा-दफा करने की भी पीडि़त युवती पर दबाव बनाया।  चूंकि पीडि़ता के पिता एक बड़े आदिवासी नेता हैं। लिहाजा वह भी सामाजिक नेताओं के दबाव के सामने झुककर अपराधिक मामला दर्ज करने में रूचि नहीं ले रहे थे। आखिरकार प्रशासन ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए सीधे पीडि़ता के पिता से बात कर कानूनी कार्रवाई करने की सलाह दी। पीडि़ता के रजामंदी के बाद पुलिस ने तीन नाबालिगों को गिरफ्तार कर लिया है। नाबालिग होने के चलते तीनों को बाल संरक्षण सुधारगृह भेजा गया है।

इस संबंध में मानपुर डीएसपी रमेश येरेवार ने ‘छत्तीसगढ़’ को बताया कि नाबालिग आरोपियों को सुधार गृह भेज दिया गया है। मामले पर पुलिस विवेचना जारी है। उधर आदिवासी बाहुल्य मानपुर क्षेत्र में हुए इस गैंगरेप की घटना को दबाने के लिए 18 से अधिक गांव के ग्रामीणों और प्रमुखों ने बैठक में मामले को रफा-दफा कर लिया था। पुलिस कार्रवाई के बाद पीडि़ता के परिजनों को न्याय मिलने की उम्मीद जगी है।